इन्होने पढ़ा है मेरा जीवन...सो अब उसका हिस्सा हैं........

Wednesday, March 28, 2012

मैं आकाश हूँ....

देखा है क्या तुमने
अनंत आकाश की ओर ? 
जो मानो धरती को खुद में
समेट लेना चाहता है...
गर्वान्वित...अडिग.....विस्तृत....


वो मैं हूँ...

सूरज की  किरणों से उज्जवल
कभी बूंदों का हार पहने..
सजा कभी इन्द्रधनुषी रंगों से
दुल्हन सा रूप धरे  ! 


रात को देखना मुझे...
तारों की जगमग बारात लिए,
चाँद का अनुपम टीका लगाये
वाह ! कैसी सजधज है..

मगर कभी सुन कर देखना
उस विस्तार में छिपी नीरवता को..
महसूस करना 
वो एकाकीपन....
देखना मुझे-
इस चाँद-सूरज और तारों के बिना


एक स्याह चादर के सिवा
मै कुछ नहीं...


-अनु 



41 comments:

  1. kabhi poornima me damakta kabhi amavasya me syaah aavaran audhe rakhta bas yahi ambar ka jeevan chakra hai ..bahut sundarta se bhaavon ko prastut kiya hai.

    ReplyDelete
    Replies
    1. bahut sundar abhivyakti anu ji ,yah jeevan ka chakra hai , paripurn , bahut se bindu halchal macha gaye dil me .bahut gahan baat chodi hai aapne ,badhai

      Delete
  2. एक स्याह चादर के सिवा
    मै कुछ नहीं...
    sahi bat sab me hi mai chipa rhta hai....very nice.

    ReplyDelete
  3. क्षमा करें महोदय / महोदया -
    तुरंती का अनर्गल अर्थ न निकालें ।


    काश यही आकाश का, एकाकी एहसास ।

    बरसे स्वाती बूंद सा, बुझे पपीहा प्यास ।।

    ReplyDelete
  4. मन की नीरवता भरे पुरे संसार में भी अकेलेपन का अहसास कराती है . सुगढ़ .

    ReplyDelete
  5. वाह !!!!! बहुत सुंदर रचना,बेहतरीन भाव अभिव्यक्ति,

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: तुम्हारा चेहरा,

    ReplyDelete
  6. एक स्याह चादर के सिवा
    मै कुछ नहीं...
    एहसास की बेहतरीन रचना

    ReplyDelete
  7. एक स्याह चादर के सिवा
    मै कुछ नहीं...
    फिर भी आकाश जीवन के आधार पांच तत्त्वों में से एक है ।
    सुन्दर रचना ।

    ReplyDelete
  8. मगर कभी सुन कर देखना
    उस विस्तार में छिपी नीरवता को..
    महसूस करना
    वो एकाकीपन....

    महसूस कर रही हूँ ....

    ReplyDelete
  9. आसमान की शून्यता महसूस कर स्वयं अपने लिए एकाकीपन का एहसास...

    मगर कभी सुन कर देखना
    उस विस्तार में छिपी नीरवता को..
    महसूस करना
    वो एकाकीपन....
    देखना मुझे-
    इस चाँद-सूरज और तारों के बिना

    शायद हमारा जीवन भी ऐसे ही... बहुत भावपूर्ण, बधाई.

    ReplyDelete
  10. सुंदर बिम्ब प्रयोग।

    ReplyDelete
  11. सूरज की किरणों से उज्जवल
    कभी बूंदों का हार पहने..
    सजा कभी इन्द्रधनुषी रंगों से
    दुल्हन सा रूप धरे !


    रात को देखना मुझे...
    तारों की जगमग बारात लिए,
    चाँद का अनुपम टीका लगाये
    वाह ! कैसी सजधज है..

    बहुत ही अच्छी अभिव्यक्ति, इस रचना के लिए आभार

    ReplyDelete
  12. मगर कभी सुन कर देखना
    उस विस्तार में छिपी नीरवता को..
    महसूस करना
    वो एकाकीपन....

    Gahri abhivykti....

    ReplyDelete
  13. सब कुछ होते हुए भी ...एक खालीपन ..एक शून्य ....और उसका विस्तार ...जहाँ मन नितांत अकेला..बोझिल...हारा ...

    बहुत ही भावुक कर देने वाली रचना अनुजी !

    ReplyDelete
  14. जो सबको दिखता है,
    वही सच नहीं होता,
    ज़श्न-ए-महफ़िल में भी
    तन्हाई का आलम
    कम नहीं होता !

    ReplyDelete
  15. स्याह चादर अनंत विस्तार जगमगाते तारे - क्या नहीं मिलता , बस सोचकर देखना है .
    ---- नीरवता से परे

    ReplyDelete
  16. bahut acchhe bimbo k prayog se nari ki mehatta aur uske man ki tanhayi ko bakhubi bayan kiya hai. jabardast tal-mail.

    ReplyDelete
  17. अनुपम भाव संयोजन लिए उत्‍कृष्‍ट अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  18. मगर कभी सुन कर देखना
    उस विस्तार में छिपी नीरवता को..
    महसूस करना
    वो एकाकीपन....

    बेहतरीन

    अनुजी आपकी ब्लॉग पे पहली बार आना हुआ है! आपकी रचनाये पसंद आई!

    ReplyDelete
  19. मगर कभी सुन कर देखना
    उस विस्तार में छिपी नीरवता को..
    महसूस करना
    वो एकाकीपन....

    बेहतरीन

    अनुजी आपकी ब्लॉग पे पहली बार आना हुआ है! आपकी रचनाये पसंद आई!

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया....आशा है भविष्य में भी निराशा नहीं होगी :-)

      Delete
  20. मगर कभी सुन कर देखना
    उस विस्तार में छिपी नीरवता को..
    महसूस करना
    वो एकाकीपन......बहुत सुन्दर अहसास ..अनु

    ReplyDelete
  21. सुंदरता से गूँथे भाव... बढ़िया रचना।
    सादर।

    ReplyDelete
  22. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति भी है,
    आज चर्चा मंच पर ||

    शुक्रवारीय चर्चा मंच ||

    charchamanch.blogspot.com

    ReplyDelete
  23. Ek syah chader ke siva kuch bhi nahi ...

    Excellent .... really really good expressions ...

    ReplyDelete
  24. .....बहुत सुन्दर अहसास

    ReplyDelete
  25. मगर कभी सुन कर देखना
    उस विस्तार में छिपी नीरवता को..
    महसूस करना
    वो एकाकीपन....
    देखना मुझे-
    इस चाँद-सूरज और तारों के बिना
    एक स्याह चादर के सिवा
    मै कुछ नहीं...
    ALWAYS I AM JEALOUS OF YOU BECAUSE OF YOUR SO NICE FEELINGS AND EMOTIONS
    AND SO BEAUTIFUL POST .PLEASE REWRITE COMMENT IT HAS GONE SOME WHRER.
    EXTREMELY SORRY.

    ReplyDelete
  26. बहुत सुंदर रचना ....अनु जी ..
    एक समर्पण का एहसास .....जैसे कहती हो ...तुम हो तो सब है .....तुम्हारे बिना ,मैं कुछ भी नहीं ....!!

    ReplyDelete
  27. bahut hi sunder likha hai Anu!!

    ReplyDelete
  28. अनुजी बहुत ही भावुक कर देने वाली रचना अकेलेपन का अहसास कराती है

    ReplyDelete
  29. जैसे समाज में व्यक्ति अपने अस्तित्व को सापेक्षिक देखता है,आसमां के लिए चांद-तारे भी वैसे ही हैं। एक का लालित्य भी दस की मौजूदगी में ही होता है।

    ReplyDelete
  30. रात को देखना मुझे...
    तारों की जगमग बारात लिए,
    चाँद का अनुपम टीका लगाये
    kids like this view in night.

    ReplyDelete
  31. ऐसा थोड़ी न होता है , तो फिर मैं कौन हूँ ??
    :)
    सुन्दर रचना |

    सादर
    -आकाश

    ReplyDelete
  32. अच्‍छी परि‍कल्‍पना है

    ReplyDelete

नए पुराने मौसम

मौसम अपने संक्रमण काल में है|धीरे धीरे बादलों में पानी जमा हो रहा है पर बरसने को तैयार नहीं...शायद उनकी आसमान से यारी छूट नहीं रही ! मोह...