क्या है मेरे पास
सिवा मेरे सपनों के...
बिछा दिये हैं मैंने, 
सभी तुम्हारे क़दमों में
ज़रा आहिस्ता चलना
कहीं कुचल  ना जाएँ..

ये प्यार का पागलपन ही तो है जो इतनी हिम्मत देता है कि आप अपने अनमोल सपने किसी के क़दमों में डाल देते हैं, फिर इन्तेज़ार करते हैं कि वो उन्हें उठा कर आपकी पलकों पर सजा दे या यूँ ही गुजर जाये उन पर से, मानों कुछ हुआ ही न हो........
फिर चाहे आप बटोरते रहें किरचें सारी उम्र.........बेमकसद............क्यूंकि उन किरचों को जोड़ कर सपने दोबारा बनाने का हौसला कहाँ बचता है!!! बस  कर बैठते हैं अपनी उंगलियां लहुलुहान......और फिर उस खून से लिखी जाती हैं डायरियां..........रंगे जाते हैं पन्ने........शायद यूँ ही होता है नज्मो/ग़ज़लों/कविताओं का सृजन.............
रोशनाई से लिखी इबारतों में कहाँ वो कशिश होती है...........

                                     हम क्या बनाएँ  बीती बातों का फ़साना
                                                    आखिर  कब लौटा है कोई गुज़रा ज़माना...
 

                                      -अनु

                                          


Comments

  1. रोशनाई से लिखी इबारतों में कहाँ वो कशिश होती है.....मन की गहराई तक उतरी यह बात ....

    ReplyDelete
  2. सपने उतने ही देखें
    जो अपनी छोटी आँखों में समां जाएँ,
    किरचें बनकर न बिखर जाएँ !

    ReplyDelete
  3. apne sapno ko aise hi kisi anjaan k liye kurbaan kar dena bhi bevkoofi hai....

    ReplyDelete
  4. हाथ की भी छाप है, दो लोग बैठे हैं ।
    ध्यान दे देखो जरा, किस कद्र ऐंठे हैं ।

    खून क्यूँ बहता, कर कद्र सपनों की,
    आती हुई दीखे, पदचाप अपनों की ।।

    ReplyDelete
  5. "वियोगी होगा पहला कवि , आह से उपजा होगा गान".. बढ़िया चिंतन

    ReplyDelete
  6. भावुक कर दिया..

    ReplyDelete
  7. जो सपने देखने का हौसला रखते हैं , वे हर बार सपना देखते हैं .... लहुलुहान सपनों से ही आदर्श इमारत बनती है

    ReplyDelete
  8. waah anu ji ghayal hi jane aghyal ki gati ............jamane gujarne ke baad bhi
    ashq na bahe .sapno ko hawa dete rahen .......gujara jamana vapis nahi aata , ///////.............:))))) man ko phir se ghayal kar diya

    ReplyDelete
  9. विना दर्द के जीना भी कोई जीना है..

    ReplyDelete
  10. "क्या है मेरे पास .....................सिवा मेरे सपनों के.
    बिछा दिये हैं मैंने, सभी तुम्हारे क़दमों में.....
    ज़रा आहिस्ता चलना..कहीं कुचल ना जाएँ.."
    क्या नाज़ुक अहसास हैं ! बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
  11. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
    Replies
    1. thanks reena.....i got ur compliment dear..by mistake the content has been removed..
      :-)
      anu

      Delete
  12. भावमय करते शब्‍दों का संगम ... आभार ।

    ReplyDelete
  13. आप अपने अनमोल सपने किसी के क़दमों में डाल देते हैं, फिर इन्तेज़ार करते हैं कि वो उन्हें उठा कर आपकी पलकों पर सजा दे या यूँ ही गुजर जाये उन पर से, मानों कुछ हुआ ही न हो........

    यही तो बात है..फिर बिखरे किरचें समेटने का क्या फायदा...

    ReplyDelete
  14. किरचों से लहूलुहान उँगलियाँ की पीड़ा का अहसास डायरी की दिशा में ले जाता है. शायद यही दिशा पीड़ा को कम करती महसूस होती है. सुंदर रचना.

    ReplyDelete
  15. आपकी पोस्ट कल 22/3/2012 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    http://charchamanch.blogspot.com
    चर्चा - 826:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया दिलबाग जी.
      आभार आपका.

      Delete
  16. बहुत सुंदर भाव अभिव्यक्ति,बेहतरीन सटीक रचना,......

    my resent post


    काव्यान्जलि ...: अभिनन्दन पत्र............ ५० वीं पोस्ट.

    ReplyDelete
  17. बस एक शब्द ... अद्भुत!!

    ReplyDelete
  18. जब होता है सपनों का खून
    तब उससे कविता उभरती है..!

    ReplyDelete
  19. "स्वप्न" ? गीत हैं और कवि ?
    घायल एक परिंदा है
    नस नस में है रक्त विचरता
    गीत तभी तो ज़िंदा है

    ReplyDelete
  20. ज़रा आहिस्ता चलना..कहीं कुचल ना जाएँ..

    क्या बात है.... वाह!

    ReplyDelete
  21. भावनाओं का सागर आपकी लिखाई में झलकता है.... हर कविता सामने एक चित्र खड़ा कर देती है.... जीवन का...

    बहुत भावुक रचना.....

    ReplyDelete
  22. pain is the part of life .sad but nicely said di

    ReplyDelete
  23. हम क्या बनाएँ बीती बातों का फ़साना
    आखिर कब लौटा है कोई गुज़रा ज़माना...
    पूरी पोस्ट की जान हैं ये पंक्तियाँ |

    सादर
    -आकाश

    ReplyDelete
  24. सपने की टूटी किरचें कब जुडती हैं ...
    भावुक कर दिया इस रचना ने !

    ReplyDelete
  25. dard ko roop deti rachana ....lajavab..

    ReplyDelete
  26. शायद....सपने होते ही हैं....पलकों पर चुभने के लिए ! जो सच हो जाएँ...वो सपने कहाँ...

    ReplyDelete
  27. सही बात है गुज़रा हुआ ज़माना आता नहीं दोबारा... लेकिन ये भी सच है ना है सबसे मधुर वो गीत जिसे हम दर्द के सुर में गाते हैं...

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

प्रेमपत्र

मेरी लिखी कहानी "स्नेहा" - 92.7 big fm पर नीलेश मिश्रा की जादुई आवाज़ में................

दैनिक जागरण के राष्ट्रीय संस्करण में मेरी किताब "इश्क तुम्हें हो जाएगा " की समीक्षा...............