Posts

Showing posts from June, 2014

याद गुज़री.......

सरसराती ,फन उठाती
बिन बुलाये ,
अनचाही  एक
याद गुज़री.....
जाने कब की
बीती बितायी
बासी पड़ी
एक बात गुज़री...
ले गयी वो
चैन मन का
आंसुओं में
रात गुज़री.....

भीगे भीगे ख्वाब सारे
भीगे थे हर सू नज़ारे
बादलों में भीगती
बारात गुज़री.....
महके गुलाबी
कागजों में
झूठी एक
सौगात गुज़री....

बंद करके
रख दिए थे
मैंने माज़ी के दरीचे
सेंध करके
छुप-छुपाती
याद वो बलात गुज़री....
सच का चेहरा
मुझको दिखाती
आइना ले साथ गुज़री !

सरसराती फनफनाती
विष भरी
एक याद गुज़री...............

~अनुलता~




झील

गुनगुना रही थी झील
एक बंदिश राग भैरवी की
कि पानी में झलक रहा था अक्स
उसके ललाट की बिंदी का |

उसके डूबे हुए तलवों ने
पवित्र कर दिया था पानी
कि घुल रही थी पायलों की चांदी
धीरे धीरे.....

झील की सतह पर
उँगलियों से अपनी
वो लिखती रही
प्रेम !!

पढ़ा था झील ने ,
और उसको
फ़रिश्ता करार दिया |

~अनुलता~