रिहाई.


नागवार गुज़रा मुझे
उसका यूँ चले जाना....
चोट लगी, दिल पर 
और अहम् पर  भी ...
लहुलुहान से मन ने मन्नतें मांगी
रोया गिड़गिडाया मेरा आहत ह्रदय..
आंसू बहाते बहाते मंदिरों की सीढियां भी धो आया..
न सुनी उसने, न मेरे खुदा ने...
न वो आया, न खुदा आया...


कड़वा हो चला मन ,बहुत तिलमिलाया...
पीपल पर मन्नत के धागे बांधे
तांत्रिक-पंडित तंत्र-मंत्र सबकी राह पकड़ी..
टोने टोटके जादू जंतर सब फूंके..
मगर सब दिल को बहलाने के चोचले निकले..
न सुनी उसने, न मेरे खुदा ने...
न वो आया, न खुदा आया....


थक हार कर अनमने से मेरे मन ने भी
भुला दिया उसको...
भुला दिया उसके ता-उम्र साथ के वादे को
मुक्त कर दिया उसको मेरी यादों ने........
और मुझको भी मिली आज़ादी, मोहब्बत की उम्र कैद से .........
मुझे मेरे अच्छे व्यवहार के कारण
शायद जल्द रिहा कर दिया गया था.
अनु 

10/8/2011



Comments

  1. मुझे मेरे अच्छे व्यवहार के कारण
    शायद जल्द रिहा कर दिया गया था
    गहन भाव लिए ... उत्‍कृष्‍ट लेखन ...आभार ।

    ReplyDelete
  2. कड़वा हो चला मन ,बहुत तिलमिलाया...
    पीपल पर मन्नत के धागे बांधे
    तांत्रिक-पंडित तंत्र-मंत्र सबकी राह पकड़ी..
    टोने टोटके जादू जंतर सब फूंके..
    मगर सब दिल को बहलाने के चोचले निकले..
    न सुनी उसने, न मेरे खुदा ने...
    न वो आया, न खुदा आया.... तभी मुक्ति का बोध हुआ .... उम्र जैसे जैसे गुजरेगी सुकून मिलेगा और खुदा के न सुनने का सबब राहत देगा

    ReplyDelete
  3. सुन्दर ।

    प्रभावी प्रस्तुति ।।

    ReplyDelete
  4. मुक्त कर दिया उसको मेरी यादों ने........
    और मुझको भी मिली आज़ादी, मोहब्बत की उम्र कैद से .........
    मुझे मेरे अच्छे व्यवहार के कारण
    शायद जल्द रिहा कर दिया गया था.

    वाह!!!!!बहुत सुंदर रचना,अच्छी प्रस्तुति...बधाई

    MY RESENT POST ...काव्यान्जलि ...: तब मधुशाला हम जाते है,...

    ReplyDelete
  5. किसी को मुक्त कर देने से ज्यादा कोई दूसरा सुख नहीं होता ... धीरे धीरे अपनी मुक्ति का मार्ग भी ऐसे ही खुलता है ...

    ReplyDelete
  6. ये रिहाई बहुत जरुरी थी , जाने क्यूँ दिल ने उसकी बांट जोही थी,
    उसको तो वापस नहीं आना था लौटकर, फिर क्यूँ उसके बिना तेरी साँसें अधूरी थी....

    excellent ... no words for this poem... seedhe dil se connection hai iska... :)

    ReplyDelete
  7. मुक्त कर दिया उसको मेरी यादों ने........
    और मुझको भी मिली आज़ादी, मोहब्बत की उम्र कैद से .........

    यह समाज की जकड़न में मन की आजादी है...बहुत गहन भाव!

    ReplyDelete
  8. ना खुदा चाहिए ना विसाले सनम ., यादों को खुरच भ्रम से निकल आये हम . सुघड़ लेखन .

    ReplyDelete
  9. शायद मुक्त करना ही मुक्त हो जाना होता है...!
    सुन्दर अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  10. यादों से मुक्त कर दिया ---------बहुत ही सुन्दर भाव

    ReplyDelete
  11. वेदना कि पराकाष्ठा .....!!
    दर्द से बाहर निकलने की कोशिश है, लेकिन फिर भी ..दर्द बहुत है कविता में ....!!
    सुंदर रचना ...

    ReplyDelete
  12. इतनी आसान मोहब्बत में रिहाई नहीं होती,
    प्यार में दम हो तो रुसवाई नहीं होती !

    ReplyDelete
  13. ये रिहाई ब-मुश्किल मिलती है
    सुंदर कविता

    ReplyDelete
  14. उम्मीद का आखिरी सिरा भी जब छूट जाता है ....तो नाउम्मीदी एक और रास्ता खोल देती है

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत सुन्दर, बधाई.

      Delete
  15. कल 19/03/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बहुत शुक्रिया यशवंत....

      Delete
  16. Heart touching poetry sheer feeling possessive. Thanks for support ,respect for my blog.

    ReplyDelete
  17. गहरे भाव ... उत्तम रचना- बधाई.

    ReplyDelete
  18. hello anu ji

    wow sunder post , nice nlog .........gulabi si mahak thumhare naam jaisi .........:) yah blog jyada pasand aaya ......orignal hamesha kohinoor hota hai ..........:) nice to see your this look .............lovely ....fall in love with ur blog's roses ...:)))))))))))

    ReplyDelete
  19. सामाजिक कुप्रथाओ के नाम पर किसी का जीवन बर्बाद करना बहुत ग़लत है...बहुत भावपूर्ण अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  20. गहरे भाव् लिये रचना के लिए बधाई |
    आशा

    ReplyDelete
  21. थक हार कर अनमने से मेरे मन ने भी
    भुला दिया उसको...
    भुला दिया उसके ता-उम्र साथ के वादे को
    मुक्त कर दिया उसको मेरी यादों ने........
    और मुझको भी मिली आजादी, मोहब्बत की उम्र कैद से .........

    नई भावभूमि पर लिखी गई बिल्कुल नई तरह की कविता।

    ReplyDelete
  22. जब मुश्किल से गिरिफ्तार होता तो इतनी आसानी से कोई रिहा कहाँ होता

    ReplyDelete
  23. न वो आया, न खुदा आया...
    gahan abhivyakti Anu ji.
    Shubhkaamnayen.
    Saadar

    ReplyDelete
  24. मुहब्बत की उम्र क़ैद से आज़ादी मिल जाये तो बात ही क्या है .... लोग न जाने क्यों घटती संवेदनाओं पर ही सारी उम्र बिता देते हैं ... नयी राह बनती अच्छी रचना

    ReplyDelete
  25. मुक्त कोई हुआ... आज़ादी किसी को मिली.... वाह! सुन्दर प्रयोग!
    बढ़िया रचना हेतु सादर बधाई स्वीकारें...

    ReplyDelete
  26. इस राह में कई मोड़ हैं कोई आएगा कोई जायेगा...
    तुम्हें जिसने दिल से भुला दिया उस भूलने की दुआ करो...

    रिश्तों से चिपकने में नहीं...उन्हें स्वतन्त्र छोड़ देने में ही उसकी सार्थकता है...

    ReplyDelete
  27. नो कमेंट्स :)

    सादर
    आकाश

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

प्रेमपत्र

मेरी लिखी कहानी "स्नेहा" - 92.7 big fm पर नीलेश मिश्रा की जादुई आवाज़ में................

दैनिक जागरण के राष्ट्रीय संस्करण में मेरी किताब "इश्क तुम्हें हो जाएगा " की समीक्षा...............