इन्होने पढ़ा है मेरा जीवन...सो अब उसका हिस्सा हैं........

Sunday, March 25, 2012

प्यार क्या है ??

 












- प्यार इन्द्रधनुष है-
    जब है तो रंगीन
    लुभावना...   
    मगर रहता कहाँ है टिक कर???


-प्यार बेर है-
   कभी खट्टा
  कभी मीठा
  अकसर कीड़े वाला
  तभी ना शबरी ने चख चख कर खिलाए !!!


-प्यार नारियल है-
  जितना भीतर जाएँ
  उतना मीठा और नर्म...
  मगर बाहर से सख्त इतना कि भीतर जाएँ कैसे????


-प्यार भगवान है-
   मानों तो है,
   न मानों तो नहीं....
  दिखता मगर किसी को नहीं है.........


५-प्यार लॉटरी है-
   कभी लगी
   तो कभी नहीं...
   यहाँ सारी गणनाएं फेल हैं.


६-प्यार एब्स्ट्रेक्ट पेंटिंग है-
   जिसने किया वही समझा
   बाकियों के लिए अर्थहीन/बकवास...
   और कुछ समय बाद, जिसने किया  उसके लिए भी अर्थहीन.....


-प्यार ताजमहल है-
   खूबसूरत
   आलीशान
   भीतर की मुर्दानगी दिखती कहाँ....


  -अनु 
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~



49 comments:

  1. प्यार जीवन है, इर्द-गिर्द महकता है..दिखता नहीं..

    ReplyDelete
  2. तुरंती पर एडवांस में क्षमा


    बरसात होनी चाहिए, छटा इन्द्रधनुषी जताए ।

    मुलाक़ात होनी चाहिए, बेर-बेर क्यों बेर खाए ।

    इक जुगाड़ होना चाहिए, नारियल पानी पिलाए ।

    अपरम्पार होना चाहिए, तभी जाकर प्यार भाये ।

    सौभाग्य होना चाहिए, लाटरी जो निकल आये ।

    रंगीन सपने चाहिए, प्रभु तब पेंटिंग बनाए ।

    खूबसूरती है साथ में, ताज फिर क्यूँकर बनाए ।।

    ReplyDelete
  3. मनो तो भगवन ....
    न मनो तो पत्थर ...
    प्रेम से पेज ...बहुत सुंदर भाव ...
    शुभकामनायें अनु जी .

    ReplyDelete
  4. प्यार एब्स्ट्रेक्ट पेंटिंग है-
    जिसने किया वही समझा
    बाकियों के लिए अर्थहीन/बकवास...
    और कुछ समय बाद, जिसने किया उसके लिए भी अर्थहीन.....

    सभी क्षणिकाएं एक से बढ़ कर एक ... यह सबसे ज्यादा पसंद आई ...

    ReplyDelete
  5. प्यार के विभिन्न जायकों को शब्द देने में बहुत मेहनत की है आपने...!!!

    ReplyDelete
  6. गहरे विश्लेषित हुआ, सागर यहाँ अथाह।
    जो डूबा वो पा गया, देव दरश की राह॥

    ReplyDelete
  7. नवरात्र के ४दिन की आपको बहुत बहुत सुभकामनाये माँ आपके सपनो को साकार करे
    आप ने अपना कीमती वकत निकल के मेरे ब्लॉग पे आये इस के लिए तहे दिल से मैं आपका शुकर गुजर हु आपका बहुत बहुत धन्यवाद्
    मेरी एक नई मेरा बचपन
    कुछ अनकही बाते ? , व्यंग्य: मेरा बचपन:
    http://vangaydinesh.blogspot.in/2012/03/blog-post_23.html
    दिनेश पारीक

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर विश्लेषण किया है आपने !!

    ReplyDelete
  9. इंद्रधनुष ,कभी बेर , श्रीफल
    यह प्यार कभी भगवान है.
    लाटरी, एब्स्ट्रेक्ट पेंटिंग
    कभी ताज आलीशान है.

    सुंदर परिभाषायें......

    ReplyDelete
  10. प्यार में जो भी मिले उसे पी यार
    पी सकते है इसको तभी करो प्यार.........

    ReplyDelete
  11. प्यार लॉटरी है-
    कभी लगी
    तो कभी नहीं...
    यहाँ सारी गणनाएं फेल हैं.
    :))))))

    good one...

    pyaar tends to infinity.... ha ha

    ReplyDelete
  12. प्यार की सुन्दर परिभाषाएं .
    तीसरी सबसे बढ़िया लगी .

    ReplyDelete
  13. वाह ...बहुत खूब ।

    ReplyDelete
  14. अनु जी आप ने प्यार के सुन्दर राह मिला दी ! सतरंगी इन्द्रधनुषी ! बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
  15. प्यार ताजमहल है-
    खूबसूरत
    आलीशान
    भीतर की मुर्दानगी दिखती कहाँ....


    beautiful masha-allah

    ReplyDelete
  16. खेद है,इन कविताओं में सब है-सिवाए प्रेम के।

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रेम को छिपकर रहने की आदत है राधारमण जी! खोजने से ही मिल पाता है ...

      Delete
  17. सभी क्षणिकायें अच्छी लगीं...भिन्न-भिन्न रंग बिखेरती हुईं।
    सल्फ़ी का पेड़ लगा दिया है, जाकर देख लिजियेगा।
    मैं तो समझा था आपका नाम एक्स्प्रेशन जी है, मैने आपको इसी नाम से संबोधित किया है। यहाँ आकर पता चला कि आप का अनु है और आपके अन्दर परमाणु की शक्ति है। रहस्य मुझे आकर्षित करते हैं...सो आपके प्रोफ़ाइल फोटो और नाम ने आकर्षित किया।
    लेकिन कितने भोलेपन से कह दिया आपने कि "इन्होने पढ़ा है मेरा जीवन...सो अब उसका हिस्सा हैं........"
    हूँ.... ऊँ.... मैं यहाँ पर आकर अटक गया हूँ। यह ..."इसे" पढ़ लेना इतना सरल है क्या? हर्फ़ से आगे ...हर्फ़ के अलावा ....बहुत कुछ है ...."अकल्ट".....इसकी लिपि बड़ी दुर्बोध है....ख़ुद को भी कहाँ समझ में आती है?
    ...और फिर जीवन का हिस्सा बन पाना...यह तो और भी मुश्किल है ....नहीं ...मुझे कुछ सोचना होगा .....अभी इतनी ज़ल्दी कोई निर्णय नहीं ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. take your time :-)
      पहले अपने ब्लॉग को सल्फी से उतारें...हमारे कमेन्ट खाए जा रहा है...
      सादर.

      Delete
  18. प्यार के बारे में १), २) और ५) नंबर वाली अवधारणाओं से सहमत नहीं.

    ..प्यार के बारे में एक ही बात जानता हूँ कि यह लेन-देन का व्यापार नहीं है,यह स्वतः स्फूर्त होता है.सच्चा प्यार केवल आनंद देता है,कुछ चाहता या मांगता नहीं !

    ReplyDelete
  19. प्यार ही प्यार बेशुमार . प्यार के इतने रंग ,आपकी लेखनी के संग .सुँदर

    ReplyDelete
  20. प्यार भगवान है-
    मानों तो है,
    न मानों तो नहीं....
    दिखता मगर किसी को नहीं है.........sach me

    ReplyDelete
  21. प्यार के विभिन्न रूप आपने दिखाए।
    अंत में प्यार तो प्याए है ....

    ReplyDelete
  22. हूँ....प्यार की इतनी परिभाषाएँ पढ़कर दंग हूँ|
    ४,५,६ बहुत अच्छी लगी|

    ReplyDelete
  23. This one made me read it again..and then one more time ...Smile inducing creation :)

    ReplyDelete
  24. प्यार हो जाये तो किस्मत.....
    मिल जाये तो अदावत
    न मिले तो हिमाकत

    ReplyDelete
  25. kyaa baat hai, Anu!! Ghazab!
    No.1,6 and 7 are The Best though..:)

    ReplyDelete
  26. मासूम से प्यार के इतने रूप ....वैसे प्यार को प्यार ही रहने दो कोई नाम न दो ......-:)

    ReplyDelete
  27. प्यार एक एहसास हैं ....अपने ही भीतर का ||

    ReplyDelete
  28. प्यार तो बस प्यार है अनु जी..दुनिया का सबसे खूबसूरत अहसास..आपने प्यार की बहुत ही सुन्दर परिभाषाएं दी हैं..

    ReplyDelete
  29. Pyar aapke shabdo main hai... bahut sundar, Anuji :)

    ReplyDelete
  30. प्यार बेर है-
    कभी खट्टा
    कभी मीठा
    अकसर कीड़े वाला
    तभी ना शबरी ने चख चख कर खिलाए !!!

    सबसे खूबसूरत और सबसे गहरी |

    सादर
    -आकाश

    ReplyDelete
  31. pyaar ko koi naam n do ...:) bahut sundar lagi yah prem panktiyaan

    ReplyDelete
  32. is arthheen abstract painting me kab samjhenge:))

    pyar ki shaandar paribhashayen:)

    ReplyDelete
  33. pyari pyari pyar bhari baat kahin behad sunder..... :-)

    ReplyDelete
  34. बहुत ही खूबसूरती से प्यार के रंगों को व्यक्त किया है अनु......

    ReplyDelete
  35. अजब है गज़ब है इसीलिए तो प्यार है
    बहुत अच्छी हैं सारी क्षणिकाएं.

    ReplyDelete
  36. प्यार सिर्फ प्यार है .....
    चाहे जिस रूप में मिले ...
    उसकी दरकार है .....:)

    ReplyDelete
  37. सभी परिभाषाएं एक से बढ़ कर एक | मेरे लिए तो प्यार बस एक की आँखों में दूसरे के लिए थोड़ी नमी सी है |

    ReplyDelete

नए पुराने मौसम

मौसम अपने संक्रमण काल में है|धीरे धीरे बादलों में पानी जमा हो रहा है पर बरसने को तैयार नहीं...शायद उनकी आसमान से यारी छूट नहीं रही ! मोह...