इन्होने पढ़ा है मेरा जीवन...सो अब उसका हिस्सा हैं........

Monday, March 12, 2012

चुभन.....


कुछ दरका सा
भीतर मेरे,
तड़का हो जैसे
शीशा.
चुभती किरचन-
बढती टीस
लहुलुहान  अंतर्मन.......
और  आहत सा ये   जीवन !


डगमग सा अस्तित्व मेरा
है स्तब्ध खड़ा...
अपने न होने से
मानो मुंह औंधे गिरा..


ये प्रश्न मेरे न होने का
तब हुआ खड़ा......
जब मन  का पंछी नील गगन में उड़ा ज़रा....
- तब पर कतरे मेरे अपनों ने
डैनो पर  जिन्हें बिठा मैं खूब उडी थी .....


एहसास चुभन का 
तब जाकर हुआ बड़ा..
जब आस लगी आगे बढ़ने की.......
- तब डाली बेड़ियाँ पैरों में उनने 
जिनको ढो काँधे पे,  मैं मील चली थी .....


आभास घुटन का  हुआ बड़ा 
जब हलक से निकले  स्वर विरोध के
- तब कटी जुबां उन हाथों से
जिनको जीवन के गीत दिए थे .....


सो अब समझी
  जब ज़ख्म मिले ,
क्यों दरका कुछ  भीतर मेरे...
  क्यों दर्द हुआ....


-अनु 




28 comments:

  1. सो अब समझी
    जब ज़ख्म मिले ,
    क्यों दरका कुछ भीतर मेरे...
    क्यों दर्द हुआ....marmik abhiwyakti.

    ReplyDelete
  2. yahi samaj ka dastoor hai...par yaad rakhiye pankhon se nahin hauslon se udan hoti hai...shandaar prastuti..sadar badhayee aaur amantran ke sath

    ReplyDelete
  3. आभास घुटन का हुआ बड़ा
    जब हलक से निकले स्वर विरोध के
    तब कटी जुबां उन हाथों से
    जिनको जीवन के गीत दिए थे .....वाह !!!!!!!बहुत खूब
    बहुत बढ़िया प्रस्तुति,भावपूर्ण सुंदर रचना,...

    RESENT POST...काव्यान्जलि ...: बसंती रंग छा गया,...

    ReplyDelete
  4. अति मार्मिक प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  5. दवा आज तक जिनसे पाई, वही दर्द जब देते हैं ।

    गर्दन पर उस्तुरा फेर दें , क्यूँकर पहले सेते हैं ?

    बकरे की माँ खैर मनाती, आज कहाँ पर बैठी है --

    गैरों से क्या करूँ शिकायत, अपने अपयश लेते हैं ।

    दिनेश की टिप्पणी : आपका लिंक
    dineshkidillagi.blogspot.com

    ReplyDelete
  6. सो अब समझी
    जब ज़ख्म मिले ,
    क्यों दरका कुछ भीतर मेरे...
    क्यों दर्द हुआ..
    बहुत अच्छी प्रस्तुति संवेदनशील हृदयस्पर्शी मन के भावों को बहुत गहराई से लिखा है

    ReplyDelete
  7. भावपूर्ण सुंदर रचना...

    ReplyDelete
  8. बगैर मुश्किलों के कौन आगे बढ़ा है! धुन पक्की हो,तो भावना पर जीवटता की जीत होती है।

    ReplyDelete
  9. डगमग सा अस्तित्व मेरा
    है स्तब्ध खड़ा...
    अपने न होने से
    मानो मुंह औंधे गिरा..

    very touching..

    .

    ReplyDelete
  10. सो अब समझी
    जब ज़ख्म मिले ,
    क्यों दरका कुछ भीतर मेरे...
    क्यों दर्द हुआ....
    bahtere kaaran hain....

    ReplyDelete
  11. जब ज़ख्म मिले ,
    क्यों दरका कुछ
    भीतर मेरे...
    क्यों दर्द हुआ....

    :))... aakhir samajh me aa hi gaya...
    dil ko chhuti hui rachna... bhavuk!

    ReplyDelete
  12. वाह ...बहुत ही बढि़या।

    ReplyDelete
  13. जल्दी कहाँ समझ में आता है...जब समझ में आता है तो यही कि सचमुच हम हैं ही नहीं, सारा दर्द इसी अहंकार के टूटने का होता है...अनु जी, आपकी टिप्पणी स्पैम में खो गयी हो सके, तो पुनः लिखें.

    ReplyDelete
  14. आह! टीसती हुई मार्मिक प्रस्तुति ...!

    ReplyDelete
  15. आह! टीसती हुई मार्मिक प्रस्तुति ...!

    ReplyDelete
  16. बहुत बढ़िया प्रस्तुति,भावपूर्ण सुंदर रचना

    ReplyDelete
  17. एक एक शब्द मार्मिक ....दिल से लिखा है

    ReplyDelete
  18. प्रवाहमयी ,मार्मिक और सुन्दर लिखा है..

    ReplyDelete
  19. यह चुभन भी कितनी मन को पीड़ित करती है ... मार्मिक प्रस्तुति

    ReplyDelete
  20. जब मन का पंछी नील गगन में उड़ा ज़रा....
    - तब पर कतरे मेरे अपनों ने
    डैनो पर जिन्हें बिठा मैं खूब उडी थी .....


    "चुभन ही बस अब बाकी है ,
    उड़ने की फितरत कहाँ रही,
    आंसू भी अब तो सूख गए,
    रोने की आदत कहाँ रही...."

    दिल को छू जाने वाली इस रचना ने मेरी आँखों को भिगो दिया.......

    ReplyDelete
  21. अपनों के दिये ज़ख़्म भरते भी कहाँ हैं ...रिसते रहते हैं...जीवन के अंतिम क्षण में तो और भी रिसने लगते हैं.....पर दुनिया की रीत यही है ....

    ReplyDelete
  22. kya kahe , aapne to dard ko jubaan de di .

    ReplyDelete
  23. सो अब समझी
    जब ज़ख्म मिले ,
    क्यों दरका कुछ भीतर मेरे...
    क्यों दर्द हुआ....
    प्रवाहमयी ,मार्मिक और सुन्दर

    ReplyDelete
  24. मन भीग गया इसे पढ़ के ...

    ReplyDelete
  25. तब पर कतरे मेरे अपनों ने
    डैनो पर जिन्हें बिठा मैं खूब उडी थी .....

    अंतरस्परशी रचना...
    सादर।

    ReplyDelete
  26. एक सच्चाई का चित्रण , जो शायद सबके साथ किसी न किसी रूप में घटती ही है |
    रोज आईने के सामने , टेढ़े-मेढे मुंह बनाकर
    दिल के जख्मों पे मरहम लगाता हूँ |

    सादर
    -आकाश

    ReplyDelete