फरेब

बड़े बुसूक से दुनिया फरेब देती है....बड़े ख़ुलूस से हम ऐतबार करते हैं.......


क्यूँ आसान है किसी पर यकीं करना...
क्यूँ आसान है किसी को फरेब देना...
क्यूँ आसान नहीं किसी फरेब को सह जाना?????


जाने क्यूँ मिल जाते है फरेबी आसानी से..
जाने क्यूँ मिल जाते हैं हम फरेबियों को....
जाने क्यूँ नहीं मिलते सच्चे लोग सच्चों को?????

















उसने अपनी
दोनों बंद मुट्ठियाँ
मेरे आगे रख दीं ...
कि चुन लूँ मैं 
कोई एक.
मैंने एक पर हाथ रखा..
उसमें थी
एक तितली...
जो मुट्ठी खुलते ही उड़ गयी...
खो देने के एहसास से घबरा कर 
मैंने जिद्द की,
और दूसरी मुट्ठी भी मांग ली.
पर उसमें  तो रेत निकली..
जो फिसल गई ...
कुछ हाथ ना आया मेरे.....
तब समझी,
कुछ देने की
नियत जो नहीं थी
उस फरेबी की ...
-अनु 



Comments

  1. सच कहा आपने फरेबी तो अक्सर मिल जाते है पर अच्छे लोग खोजने पर भी नहीं मिलते हैं |

    ReplyDelete
  2. क्यूँ आसान है किसी पर यकीं करना...
    क्यूँ आसान है किसी को फरेब देना...
    क्यूँ आसान नहीं किसी फरेब को सह जाना?????...

    आसान हो न हो , फरेब सह ही जाते हैं ....

    एक बात कहूँ , कभी कभी रेत ही ज़िन्दगी होती है.... मुट्ठी से फिसलती रेत दृढ़ मनोबल दे जाती है , फुर्र से उड़ गई तितली आकाश तक पहुँचने का संकेत

    ReplyDelete
  3. जाने क्यूँ नहीं मिलते सच्चे लोग सच्चों को?????
    मेरा मानना है की सच्चे लोग आपके आस पास ही होते हैं ,
    वो ढेर में नहीं गिने चुने होते हैं ..बस हम उन्हें पहचानना भूल जाते हैं ..

    ReplyDelete
  4. ये दुनिया ही फरेबी है..जरा सम्भल कर..अनु.. ...

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर गहन अभिव्यक्ति अनुजी

    ReplyDelete
  6. उस फरेबी के झांसे में फंसना भी तो बड़ा भाता है..अच्छा लिखा है..

    ReplyDelete
  7. बहुत ही बढिया प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete
  8. क्यूँ आसान है किसी पर यकीं करना...
    क्यूँ आसान है किसी को फरेब देना...
    क्यूँ आसान नहीं किसी फरेब को सह जाना?????

    हर बार मिला फरेब फिर भी यकीन करते रहे
    ज़िंदगी भर बस यूं ही हम चलते रहे ....

    मुट्ठी मे कम से कम तितली और दूसरी में रेत तो थी ... कितनी बार तो खाली मुट्ठी भी होती है ...

    बहुत खूबसूरती से लिखा है मन के भावों को ... अभी भी मुट्ठी से रेत फिसलती देख रही हूँ

    ReplyDelete
  9. Emotional fools always get this treatment.

    ReplyDelete
    Replies
    1. hey blue bird.....
      hope u are not talking about me!!!
      or its u???
      :-)

      Delete
  10. कई बार इन्सान फरेबी को पहचानते हुए भी मृग मरीचिका के पीछे भागता है , जज्बात तो इसी का नाम है . अभिनव प्रयोग .

    ReplyDelete
  11. bahut sundar kavita,,,,,, arthpurn!

    ReplyDelete
  12. सच्चे लोग नहीं मिलते सच्चों को...
    सच है, फ़रेब हर तरफ मिल जाता है...
    फिर भी, सच्चाई बनी रहती है, बस ये विश्वास कभी न टूटे!

    ReplyDelete
  13. वाह क्या बात है
    अरुन (arunsblog.in)

    ReplyDelete
  14. फरेबी और फरेब ..आसान हैं इसलिए मिल जाये हैं.सचाई मुश्किल जरुर है पर नामुमकिन
    बहुत अच्छे भाव .

    ReplyDelete
  15. बहुत सुंदर रचना...गहन भावों को कितनी सरलता से संप्रेषित कर दिया है....

    ReplyDelete
  16. बहुत सुंदर गहन भावों की प्रस्तुति,..बेहतरीन रचना

    ReplyDelete
  17. ओह कितनी अर्थपूर्ण सुंदर रचना !

    ReplyDelete
  18. जिसके पास जो है वो वही दे सकता है ....उसके पास जो था ,.....उसने सब आपको दिया ....तितली भी ....रेत भी .....आपने दोनों मुट्ठी मांगीं ...उसने दोनों दे दीं......
    अपेक्षाओं से भरा जीवन बड़ा कठिन है ....!!
    सुंदर बात कहती कविता ....
    बहुत अच्छी लगी !

    ReplyDelete
    Replies
    1. Sidha saccha sach ... jiske paas jo hai , vahi to de sakta hai ! Hum neem se aam ki aasha kartey hai ....and then cry foul ! :)

      Delete
  19. लाजवाब
    निःशब्द करती रचना..
    बेहतरीन प्रस्तुति......

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर भाव
    उड़ाते हुए तितली का एहसास तो दे ही गया वो फरेबी ...

    ReplyDelete
  21. ये फ़रेब का बाज़ार कब तक चलेगा? कब तक उनकी मुट्ठी गरम रहेगी?

    ReplyDelete
  22. ye duniya hai hi tilasmi.....!

    ReplyDelete
  23. गर उन्हें खुशी मिलती है मुझसे फरेब कर,
    तो यूं भी सही ,बस खुश रहें वे ,
    इसी में खुशी मेरी |

    ReplyDelete
  24. अच्छों को अच्छे मिलें ,मिले नीच को नीच ,

    पानी से पानी मिले ,मिले कीच से कीच .

    बढ़िया रचना है चलो कुछ मिला ही है फरेब सही ,ये अपने नसीब की बात है .

    कृपया यहाँ भी पधारें -
    डिमैन्शा : राष्ट्रीय परिदृश्य ,एक विहंगावलोकन

    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.in/
    सोमवार, 30 अप्रैल 2012

    जल्दी तैयार हो सकती मोटापे और एनेरेक्सिया के इलाज़ में सहायक दवा

    ReplyDelete
  25. एहसासों से भावुकता का जन्म होता है ......
    शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  26. बहुत ही अच्छी.... जबरदस्त अभिवयक्ति.....वाह!

    ReplyDelete
  27. बहुत सुन्दर भाव बढ़िया रचना है .

    ReplyDelete
  28. प्रासंगिक भाव.... सचेत रहना ज़रूरी

    ReplyDelete
  29. मेरे गुरुदेव के.पी. सक्सेना कहा करते थे कि बंद मुट्ठी पर शर्त नहीं लगाते... इसमें से हमेशा वही निकलता है जिसकी हमें उम्मीद नहीं होती...इसे फरेब नहीं कहना चाहिए.. हाँ कुछ लोग जानकर भी फरेब खाते हैं.. ये एक अलग दीवानगी होती है.. बहुत ही अच्छी कविता!!

    ReplyDelete
  30. बहुत खूब...देने वाले की नियत ही सही नहीं थी...तो मिलता क्या...ऊपर वाला भी कुछ ऐसे ही फरेब खेलता है...

    ReplyDelete
  31. बहुत ही सारगर्भित रचना । मेरे पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  32. फ़रेबी तो मिलेंगे ही...
    आवश्यकता है फ़रेब को समझ कर उनसे बचने की...
    नेकी पर चलें और बदी से बचें...

    रचना भाव को संप्रेषित करने में सफल है!!!

    ReplyDelete
  33. कुछ देने की नियत ही नहीं थी , वरना मुट्ठियाँ बंद क्यूँ थी !
    वाह !

    ReplyDelete
  34. :) अच्छी लगी कविता!!

    ReplyDelete
  35. Bahut badhiya, Anu ji! Sach kaha aapne, kuch logo ki fitrat hi aisi hoti hai -- dhokha aur fareb karna...

    ReplyDelete
  36. har galat cheej asaan hoti hai ..aur har achhi cheej kathin yaa kathinta se uplabdh hoti hai.. makan banaane me jindagi khatam ho jaati hai ..todne vala minute nahi lagaata ... aapki rachna ke ye bhaav behtreen ..umda

    ReplyDelete
  37. जाने क्यूँ मिल जाते है फरेबी आसानी से..
    जाने क्यूँ मिल जाते हैं हम फरेबियों को....
    जाने क्यूँ नहीं मिलते सच्चे लोग सच्चों को?????


    पता नहीं उस फरेबी की देने की नियत नहीं थी .... या किसी के सहेजने की नियत नहीं थी ...
    दिल के जज्बातों कों शब्द दिये हैं ...

    ReplyDelete
  38. अनु जी पहले तो क्षमा की व्यस्तता के चलते अपने blog 'उद्गम' पर की गयी आपकी सराहना का उत्तर बहुत देर से दे रहा हूँ और आपके इस बेशकीमती blog पर भी बहुत दिनों बाद आना हो पाया !!

    और अब आके लग रहा है ऐसी भी क्या व्यस्तता -- अगर मैं कुछ और देर करता तो ऐसी कई बेहेतरीन कृतियाँ छूट जातीं मुझसे |

    निरंतर ऐसे ही विस्मित करते रहिये...बधाइयाँ...!!

    ReplyDelete
  39. गज़ब......
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  40. too good
    न थाम सके हाथ ...न पकड़ सके दामन
    बड़े करीब से उठकर कोई चला गया..

    ReplyDelete
  41. आज 11/09/2012 को आपकी यह पोस्ट (विभा रानी श्रीवास्तव जी की प्रस्तुति मे ) http://nayi-purani-halchal.blogspot.com पर पर लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!

    ReplyDelete
  42. nicee lines di.....sach hai farebi jaldi milte hai....

    ReplyDelete
  43. पानी भी बह गया
    रेत भी झड़ गई
    और फिर एक
    कविता बन गई
    सादर

    ReplyDelete
  44. यही तो है जिंदगी..प्रान तत्व तितली सा उड़ जाता है, रेत ही रेत शेष रहता है। कोई किसी को धोखा नहीं देता बस हम धोखे खाते रहते हैं।

    ReplyDelete
  45. यही तो है जिंदगी..प्रान तत्व तितली सा उड़ जाता है, रेत ही रेत शेष रहता है। कोई किसी को धोखा नहीं देता बस हम धोखे खाते रहते हैं।

    ReplyDelete
  46. सही बात, नियत होनी चाहिए ... बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
  47. ...अच्छा होता कि कुछ लेने की ही उम्मीद न की जाती...।

    ReplyDelete
  48. मृगतृष्णा कह लो या मृगमारीचिका ,यही जीवन है ...... सस्नेह :)

    ReplyDelete
  49. एक फरेबी का धोखा ...जिंदगी और मजबूती देता है .....एक नया संकल्प कुछ कर दिखाने का

    ReplyDelete
  50. kash ye jindagi ret ya titli ke badle kuchh "hari dub" jaisee hoti. ek halka ahsaas to de jaaati sukoon ke saath:)

    ReplyDelete
  51. जिंदगी हमें बिना मांगे बहुत कुछ देती है हम कभी डाटा का शुक्रिया अदा नहीं करते, याचक बने रहते हैं. दोष दाता को देते हैं.

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

प्रेमपत्र

मेरी लिखी कहानी "स्नेहा" - 92.7 big fm पर नीलेश मिश्रा की जादुई आवाज़ में................

दैनिक जागरण के राष्ट्रीय संस्करण में मेरी किताब "इश्क तुम्हें हो जाएगा " की समीक्षा...............