जुदाई......

कभी कभी कोई रिश्ता ऐसे टूटता है मानों मुट्ठी से रेत फिसलती जाती हो.........लाख सम्हाले नहीं सम्हालता....और सारा कसूर इस दिल का होता है,जो प्यार करता है तो टूट कर और नफरत करता है तो भी पूरी शिद्दत से.....तभी दिल के ज़ख्म कभी भरते नहीं शायद.......


दिल में हो रंजिश अगर तो
              दूरियां बढ़ जाती हैं,
कैसे थामे हाथ उनके
               मुट्ठियाँ कस जाती हैं......

हो खलिश बाकी कोई तो
               कुछ न बाकी फिर रहा,
एक तिनके की चुभन भी
                आँख नम कर जाती है......

तेरे कूचे से जो लौटे
               दस्तक दोबारा दी नहीं,
गर उठायें फिर कदम तो
               बेड़ियाँ डल जाती हैं.........

चोट खायी एक दफा तो
               ज़ख्म फिर भरते नहीं
वक्त कितना भी गुज़रता
               इक  कसक  रह जाती है........

हों जुदा हम तुमसे या के
               राहें तुम ही मोड़ लो
टूटे जो रिश्ते अगर तो,
                चाहतें मर जातीं हैं.......


-अनु

Comments

  1. बहुत सुंदर अनु...दिल में उतर गई यह रचना...वाकई बहुत खूबसूरत अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  2. हों जुदा हम तुमसे या के
    राहें तुम ही मोड़ लो,
    टूटे जो रिश्ते अगर तो,
    चाहतें मर जातीं हैं.......
    वाह ..वाह बहुत अच्छी ...सच कहती हूँ अनु जी आप बहुत अच्छा लिखती है ...बधाई

    ReplyDelete
  3. एक तिनके की चुभन भी
    आँख नम कर जाती है......
    शक से दूर कही गयी एक बानगी.....
    जिसे सुन हर बार जाने क्यूँ आँखें नाम हुई जाती हैं......

    ReplyDelete
  4. हों जुदा हम तुमसे या के
    राहें तुम ही मोड़ लो,
    टूटे जो रिश्ते अगर तो,
    चाहतें मर जातीं हैं.......
    बहुत बढ़िया ग़ज़ल अश आर भी एक से बढ़के एक .

    ReplyDelete
  5. चाहत मर भी जाए ,पर रिश्ता न टूटे !

    कुछ रिश्ते ऐसे होते हैं जो चाहत से भी परे होते हैं,पर यह सब कर पाना आसान नहीं है !

    ReplyDelete
  6. हों जुदा हम तुमसे या के
    राहें तुम ही मोड़ लो,
    टूटे जो रिश्ते अगर तो,
    चाहतें मर जातीं हैं.......
    बहुत दर्द देता है, रिश्तों का टूटना...खूबसूरत रचना

    ReplyDelete
  7. तेरे कूचे से जो लौटे
    दस्तक दोबारा दी नहीं,
    गर उठायें फिर कदम तो
    बेड़ियाँ डल जाती हैं.........


    मोहब्बत का यही दस्तूर होता है ।
    बढ़िया रचना ।

    ReplyDelete
  8. दिल से निकल कर भाव शब्द बन गए ।
    खुबसूरत अंदाज ।।

    ReplyDelete
  9. "चोट खायी एक दफा तो
    ज़ख्म फिर भरते नहीं
    वक्त कितना भी गुज़रता
    इक कसक रह जाती है.."

    ..मर्मस्पर्शी रचना अनु जी..

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर !
    -------------
    मेरा रीसेंट पोस्ट
     भिखारी का धर्मसंकट

    ReplyDelete
  11. जुदाई से उत्पन्न दिल की कसक . निभाई शिद्दत से दुश्मनी , पर ना गई प्यार की महक . सुँदर है जी

    ReplyDelete
  12. कभी कभी ऐसा भी होता है।

    ReplyDelete
  13. चोट खायी एक दफा तो
    ज़ख्म फिर भरते नहीं
    वक्त कितना भी गुज़रता
    इक कसक रह जाती है........


    सच कहा है अनु. यह कसक आसानी से साथ नहीं छोडती.

    ReplyDelete
  14. जिन्दा हो तो रंजिश होना लाज़मी है...

    किसी रंजिश को हवा दो की मै जिंदा हूँ अभी...
    मुझको एहसास दिला दो की मै जिंदा हूँ अभी...

    ReplyDelete
  15. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    इंडिया दर्पण
    की ओर से शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  16. चोट खायी एक दफा तो
    ज़ख्म फिर भरते नहीं
    वक्त कितना भी गुज़रता
    इक कसक रह जाती है......

    ये सच है जख्मो के निशान रह जाते अहिं ... चोट लगने पे कसक रह जाती है ... बहुत खूब ...

    ReplyDelete
  17. हो खलिश बाकी कोई तो
    कुछ न बाकी फिर रहा,
    एक तिनके की चुभन भी
    आँख नम कर जाती है......
    और इस नमी में एक ख़ामोशी सिमट आती है

    ReplyDelete
  18. हो खलिश बाकी कोई तो
    कुछ न बाकी फिर रहाए
    एक तिनके की चुभन भी
    आँख नम कर जाती है

    कोमल भावनाओं की सुंदर अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  19. इसलिए बुजुर्ग कंवारों को सलाह देते हैं कि वे यह जान लें कि जिसे वह प्रेम समझ रहे हैं,वह सिर्फ आकर्षण तो नहीं है। और विवाहितों को यह कि जल्दबाज़ी में कोई ऐसा निर्णय न लें जिस पर भविष्य में कोई पछतावा हो।

    ReplyDelete
  20. यह भी है एक रंग, मानव संवेदनाओं का और आपकी कविता में यह और भी उभर कर सामने आया है!! बहुत ही भावभीनी रचना!!

    ReplyDelete
  21. सच, ज़ख्म नहीं भरते...!
    सुन्दर कविता!

    ReplyDelete
  22. जुदाई पीडादायक तो होती है, पर क्या करें ऐसा भी होता ही है।

    ReplyDelete
  23. जुदाई बहुत दुःख:दायी होती है!...भावों को बहुत सुन्दर शब्दों में ढाला है आपने!...आभार!

    ReplyDelete
  24. हो खलिश बाकी कोई तो
    कुछ न बाकी फिर रहाए
    एक तिनके की चुभन भी
    आँख नम कर जाती है
    बहुत ही अच्‍छा लिखा है आपने ...आभार ।

    ReplyDelete
  25. बहुत कुछ सिखाती समझाती हुई ये लाज़वाब पंक्तियाँ हैं.. :)

    ReplyDelete
  26. kitna pyaara likha hai aapne, Anu, iski koi baraabri nahi ho sakti!

    ReplyDelete
  27. दिल में हो रंजिश अगर तो
    दूरियां बढ़ जाती हैं,
    कैसे थामे हाथ उनके
    मुट्ठियाँ कस जाती हैं......

    बहुत ही सुन्दर अनुजी ...हर शेर छीलता हुआ .....दर्द से सराबोर !!!! हर शेर लाजवाब

    ReplyDelete
  28. हो खलिश बाकी कोई तो
    कुछ न बाकी फिर रहा,

    वाह !!!!!!

    शून्य ही बाकी रहा फिर
    जोड़ना क्या, क्या घटाना
    एक कोरा पृष्ठ बन कर
    जिंदगी रह जाती है.

    ReplyDelete
  29. निशब्द ......बस और कुछ नहीं .

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

प्रेमपत्र

मेरी लिखी कहानी "स्नेहा" - 92.7 big fm पर नीलेश मिश्रा की जादुई आवाज़ में................

दैनिक जागरण के राष्ट्रीय संस्करण में मेरी किताब "इश्क तुम्हें हो जाएगा " की समीक्षा...............