इन्होने पढ़ा है मेरा जीवन...सो अब उसका हिस्सा हैं........

Thursday, April 5, 2012

नहीं मरना मुझे ..........

कुछ नया नहीं है डायरी के इस पन्ने में.........हर इंसान की जीवन की डायरी में ये पन्ना ज़रूर होता है.........मोटे मोटे अक्षरों से लिखा........कि मुझे मौत अच्छी नहीं लगती..........


किसे अच्छी लगती है?????
मगर यहाँ मै बता रहीं हूँ वो बातें  जिनकी वजह से मुझे मौत पसंद नहीं.....
मुझे मौत नापसंद है क्यूंकि मुझे उजाले पसंद है....(खिला हो इन्द्रधनुष हमेशा )
और उजालों में कम से कम साया तो साथ होता है........
मुझे मौत बुरी लगती है क्यूंकि मुझे बोलना पसंद है........मौत के  सन्नाटे से नफरत है मुझे......
नफरत है मुझे मौत से क्योंकि मुझे
दौडना पसंद है..................................हरे हरे मैदानों में.
हंसना पसंद है..................................बेवजह.
रंग पसंद है..........
फरिश्तों के पास सुना सिर्फ काला सफ़ेद रंग होता है.
मुझे नहीं चाहिए मौत, क्योंकि मुझे चाहिए
रिश्तों के बंधन
नातों के बंधन
स्नेह के बंधन
साँसों के बंधन
तुम्हारी बाहों के बंधन......
और जानती हूँ मौत मुझे मुक्त कर देगी सभी बंधनों से...................
मुझे  नहीं चाहिए मौत................आज नहीं,कल नहीं...................कभी भी नहीं....................

नोट- अब चाहती हूँ कोई ना कोई कहे-  "अरे मरें तुम्हारे दुश्मन..."

39 comments:

  1. your poem is just an lively optimism...

    ReplyDelete
  2. जो चाहें ..वोही मिलें !
    शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  3. aapki ye jijivasha hamesha bani rahe aur aapki zindgi hamesha khushiyon sang chalti rahe yahi meri shbhkamnaye..aapka note padhklar bahut hasi aayi...aapke note mein vyakt panktiyan to nahin kah sakti par itna kahungi...aapke dushman bhi aapke dost ban jaye...:)

    ReplyDelete
    Replies
    1. मिष्ठी लिखा ही इसलिए था....कोई दुश्मन है ही नहीं हमारा :-)

      Delete
  4. कोई ना कोई तो बोलेगा ही की आपके दुश्मन मरे . मै बोलता हूँ " मृत्युमा अमृतं गमय"

    ReplyDelete
  5. अरे मरें तुम्हारे दुश्मन... :)

    ReplyDelete
  6. जिंदगी जिंदादिली का नाम है,मुर्दा दिल का खाक जिया करते हैं.

    ReplyDelete
  7. जिंदगी जिंदादिली का नाम है, मुर्दादिल क्या खाक जिया करते हैं.

    ReplyDelete
  8. मौत
    आयेगी एक दिन
    उससे कहाँ भागोगे..
    कौन ...
    रोक पाया है उसे
    वह आयेगी ...
    एक दिन जरुर आयेगी..
    यदि हमारी मर्जी का
    हो जाता सब कुछ
    हम कभी जी नही पाते...
    सदा एक दूसरे को सताते..
    क्यूँकि बंधनों का टूटना
    बहुत दुखदायी होता है।

    -परमजीत सिहँ-

    ReplyDelete
  9. A good poem.....
    we like all the colors of happiness,joy ,family and relationships... but one day will come for everyone.... enjoy the colors and be ready for that.....

    little complicated for me as i am a follower of "Shri madbhagwadgeeta"

    but loved it as its really lively poem.....

    :)

    ReplyDelete
  10. जीने के लिये इसी ज़ज्बे की ज़रूरत होती है...

    ReplyDelete
  11. बहुत संवेदनशील रचना,बहुत ही सुंदरप्रस्तुति
    आप को सुगना फाऊंडेशन मेघलासिया,"राजपुरोहित समाज" आज का आगरा और एक्टिवे लाइफ
    ,एक ब्लॉग सबका ब्लॉग परिवार की तरफ से सभी को भगवन महावीर जयंती, भगवन हनुमान जयंती और गुड फ्राइडे के पावन पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं ॥
    आपका

    सवाई सिंह{आगरा }

    ReplyDelete
  12. जिन्दगी जीने के लिए है,मरने के लिए नही,....
    बढ़िया रचना,बहुत सुंदर भाव प्रस्तुति,बेहतरीन पोस्ट,...

    MY RECENT POST...फुहार....: दो क्षणिकाऐ,...

    ReplyDelete
  13. सबको एक दिन मरना ही है। पर मरें तो जीकर मरें।

    ReplyDelete
  14. मौत है तभी तो जीवन का हर लम्हा सुंदर है .....
    badhiya lagi rachna ....

    ReplyDelete
  15. jeene ke liye saahas ki jarurat hoti hae or aap sakshat prman haen aapse mera nivedan hae ki aap meri aek purani post "maut"avashya padhen .

    ReplyDelete
  16. जिंदगी जिंदाबाद..

    ReplyDelete
  17. तुम्हारी इस सोच को अमरत्व मिले

    ReplyDelete
  18. जीवन और मौत एक सिक्के के दो पहलु हैं..जब मौत है तभी तो जीवन है...

    ReplyDelete
  19. कविता में संदेश है और वह संदेश प्रेरक है।

    ReplyDelete
  20. एक दिन सबको मरना ही है पर "अरे मरें तुम्हारे दुश्मन..."

    ReplyDelete
  21. अभी तो जी भर के जीना है
    दोस्तों की संगत मे :)

    आपकी हर पोस्ट को पढ़ने का अपना ही आनंद है।


    सादर

    ReplyDelete
  22. जिन्दादिली रहे तो ज़िंदगी है ।

    ReplyDelete
  23. बहुत सुंदर । मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  24. मौत किसे अच्छी लगती है, आपने सही लिखा है. but इस पर हिंदी फिल्म "मुकद्दर का सिकंदर" का यह गाना याद आता है-'....जिंदगी तो बेवफा है एक दिन ठुकराएगी, मौत महबूबा है जो साथ लेकर जायेगी....'

    ReplyDelete
  25. jeevan hai to ji bhar ke jiyenge ----------bahut sundar

    ReplyDelete
  26. मौत हर कठिनाइयों का अंत है, जीवन है तो सुख दुःख है. मृत्यु के बाद क्या होता कौन जाने. फिर भी मौत से भाग तो सकता नहीं कोई पर जब आएगी तब देखी जायेगी. जब तक जीवित हैं जिंदादिली से जीवन जियो. मौत रुक जाना है और रुकना पसंद नहीं. बहुत अच्छी और संदेशप्रद अभिव्यक्ति. बधाई.

    ReplyDelete
  27. प्रेम और स्नेह से बड़ा कोई बंधन नहीं है...जब तक ये रहेगा...कोई क्यों मरना चाहेगा...इस बंधन को बनाये रखिये...

    ReplyDelete
  28. जीवन से भरी ...सोच ...
    सुंदर रचना ...!!

    ReplyDelete
  29. ज़िंदगी की तरफ सकारात्मक दृष्टिकोण .... सुंदर भाव भरी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  30. ये जज़्बा बना रहे..बेहद खूबसूरत ख़याल.. !!

    ReplyDelete
  31. बस यही जज्बा और उम्मीद ही तो चहिये जीने के लिए...... खुबसूरत प्रस्तुती......

    ReplyDelete
  32. सकारात्मक सोच जिंदगी की दिशा बदल देती है
    सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  33. Wah Khoob ! Bahut sundar pharmaish !

    ReplyDelete
  34. अपनी क्या चाहत और उसका मायने क्या ? जिंदगी जो भी सौगात मे देती है, सब कुबूल है, खुशी-खुशी कुबूल है । मौत भी तो जिंदगी की ही एक सौगात है, तो फिर इससे क्या डरना या क्या नापसंदगी । यदि जिंदगी को खूबसूरत मानते हो तो मौत भी तो एक खूबसूरत पड़ाव ही होता है, वसर्ते अपने वक्त पर ही हो ।

    ReplyDelete
  35. जीवन में मृत्यु का होना ही दुखद लगता है, लेकिन कोई बचाव भी तो नहीं, "यद्गत्वा न निवर्तंते तद्धामम परमं ममः ...

    ReplyDelete

नए पुराने मौसम

मौसम अपने संक्रमण काल में है|धीरे धीरे बादलों में पानी जमा हो रहा है पर बरसने को तैयार नहीं...शायद उनकी आसमान से यारी छूट नहीं रही ! मोह...