इन्होने पढ़ा है मेरा जीवन...सो अब उसका हिस्सा हैं........

Sunday, April 1, 2012

सिलसिला

बात निकलेगी तो फिर दूर तलक जायेगी ....................इसी उम्मीद पर शायद लोग गज़ल लिखा करते हैं.......


मोहब्बत में शिकवा गिला छोड़ दे अपने दिल से मेरा सिलसिला जोड़ दे
जो राहें मेरे दर को आती न हों उन राहों का रुख तू अभी मोड़ दे....
जाना चाहे न दिल बिन तेरे अब कहीं मेरे साए पे साया तेरा ओढ़ दे...
मेरी साँसों की रफ़्तार मद्धम हुई इन रगों में तू अपना लहू छोड़ दे..
वो कहते हैं तुम, अब के तुम न रहे अपने माज़ी को शिद्दत से झकझोर दे...
चल न पायेंगे हम बिन तेरे एक कदम अपनी यादों पे तू फिर ज़रा जोर दे...
अपने दिल से मेरा सिलसिला जोड़ दे .....

अनुलता




51 comments:

  1. बहुत बढ़िया ....रामनवमी की शुभ कामनाएं !!!

    ReplyDelete
  2. कथ्य समान्य पर भाव सुन्दर हैं ,किसी एक भाषा को संजोने का प्रयास करें ,साहित्य में प्रखरता आयेगी .. शुभकामनायें /

    ReplyDelete
  3. शुभकामनायें ||

    ReplyDelete
  4. जुड जायेंगे वो सिलसिले,टूटे तार भी
    प्यार का एहसास फिर से जगेगा,उम्मीद है !

    ReplyDelete
  5. चल न पायेंगे हम बिन तेरे एक कदम
    अपनी यादों पे तू फिर ज़रा जोर दे...
    वाह... बहुत खूबसूरत...

    ReplyDelete
  6. अब बात जब निकल ही गयी है तो दूर तक तो जाएगी ही...

    अपने माज़ी को शिद्दत से झकझोड़ दे...बहुत खूब...

    ReplyDelete
  7. सिलसिला जुड़ चुका है।

    ReplyDelete
  8. बहुत खूब .... झकझोड़ की जगह झकझोर ज्यादा उपयुक्त शब्द है ...

    ReplyDelete
  9. शुक्रिया दी.....सही कर दिया :-)

    ReplyDelete
  10. चल न पायेंगे हम बिन तेरे एक कदम
    अपनी यादों पे तू फिर ज़रा जोर दे...

    bebak nd sahaj prastuti bahut acchi lagi....

    ReplyDelete
  11. सुन्दर गीत जैसा...!!

    ReplyDelete
  12. bahut badhia rachna ....
    shubhkamnayen ...Anu ji ...

    ReplyDelete
  13. prayaas rat rahen ghazal aur bhi behtreen likh sakti ho kalam ki dhaar sundar hai.bahut umda bhaavabhivyakti.

    ReplyDelete
  14. अब बात निकली है तो दूर तलक जाएगी ही ,इतनी शिद्दत से पुकारा जो है . सुँदर .

    ReplyDelete
  15. बहुत ही सुन्दर और सुखद रचना |अनु जी बधाई |

    ReplyDelete
  16. मेरी साँसों की रफ़्तार मद्धम हुई
    इन रगों में तू अपना लहू छोड़ दे..

    बेहतरीन पंक्तियाँ


    सादर

    ReplyDelete
  17. अति सुन्दर भाव.....

    ReplyDelete
  18. वो कहते हैं के तुम अब तुम न रहे
    अपने माज़ी को शिद्दत से झकझोर दे...waah

    ReplyDelete
  19. बात तो दूर तक चली गई..सिलसिला जुड़ गया...बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति अनु..

    ReplyDelete
  20. मेरी साँसों की रफ़्तार मद्धम हुई
    इन रगों में तू अपना लहू छोड़ दे..
    बहुत बढ़िया रचना,सुंदर भाव ,....

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: मै तेरा घर बसाने आई हूँ...

    ReplyDelete
  21. चल न पायेंगे हम बिन तेरे एक कदम
    अपनी यादों पे तू फिर ज़रा जोर दे...

    सुन्दर भाव !

    ReplyDelete
  22. चल न पायेंगे हम बिन तेरे एक कदम
    अपनी यादों पे तू फिर ज़रा जोर दे...

    बहुत बढ़िया .
    सुन्दर ग़ज़ल .

    ReplyDelete
  23. वाह ...बहुत खूब ।

    ReplyDelete
  24. चल न पायेंगे हम बिन तेरे एक कदम
    अपनी यादों पे तू फिर ज़रा जोर दे...
    बिलकुल यही सारभूत है :)

    ReplyDelete
  25. बहुत ही बढ़िया गजल है....
    लाजवाब....

    ReplyDelete
  26. wah bahut khoob likha hai apne ...badhai ke sath abhar bhi.

    ReplyDelete
  27. सभी शेर बहुत सुन्दर, दाद स्वीकारें.

    ReplyDelete
  28. सोचा बहुत,कि न पछतावा हो
    तय हुआ ना अभी,क्या करें न करें

    ReplyDelete
  29. आपके ब्लॉग पर आगमन का स्वागत तथा शुभकामनाओं के लिए आभार.
    बहुत सुन्दर सृजन , बधाई.

    ReplyDelete
  30. बहुत खूब... सुंदर नज़्म...
    सादर।

    ReplyDelete
  31. कल 06/04/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया यशवंत...

      Delete
  32. मेरी साँसों की रफ़्तार मद्धम हुई
    इन रगों में तू अपना लहू छोड़ दे..

    वो कहते हैं के तुम अब तुम न रहे
    अपने माज़ी को शिद्दत से झकझोर दे...

    वाह बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  33. अपने दिल से मेरा सिलसिला जोड़ दे .....

    "फिर चाहे ये दुनिया मुझको छोड़ दे....!!"

    सुन्दर....!!

    ReplyDelete
  34. जाना चाहे न दिल बिन तेरे अब कहीं
    मेरे साए पे साया तेरा ओढ़ दे...

    वाह, खूबसूरत लाइनें व बहुत प्यारी नज्म अनु ।

    ReplyDelete
  35. चल न पायेंगे हम बिन तेरे एक कदम
    अपनी यादों पे तू फिर ज़रा जोर दे,bahut umda gazal

    ReplyDelete
  36. हमेशा की तरह ही एक और बेहतरीन प्रस्तुति....बहुत ही बढ़िया अनु जी.

    ReplyDelete
  37. मेरी साँसों की रफ़्तार मद्धम हुई
    इन रगों में तू अपना लहू छोड़ दे

    bahut khub

    ReplyDelete
  38. अति सुन्दर अनु जी. पढ़ के मज़ा आया.

    निहार

    ReplyDelete
  39. bahut khub behna .kitna khoobsoorat kaha hai aapne.

    ReplyDelete

नए पुराने मौसम

मौसम अपने संक्रमण काल में है|धीरे धीरे बादलों में पानी जमा हो रहा है पर बरसने को तैयार नहीं...शायद उनकी आसमान से यारी छूट नहीं रही ! मोह...