उसने कहा था.....

हर रात कहता,
दर्दे-जुदाई है                                                           
नींद नहीं आती.............
और सुबह सुनाता कोई ख्वाब 
जिसमे वो होता ...मैं होती.....
झूठा कहीं का!!!!!
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
मेरे दिल के हर राज़
जान लेता. 
शायद दिल के ताले की चाभी है उसके पास...
"मास्टर की"  कहता खुद को...
तभी हो जाता, हर किसी दिल पर फिट!
चोर कहीं का!!!!!
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
वो मेरा है
वो चाँद है
सभी को लगता, 
कि वो मेरा है......
चालबाज़ कहीं का!!!!!
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
कहता था 
तुम अलग हो...
सबसे जुदा हो.
तभी रहती हूँ तन्हाइयों में,
सबसे जुदा........
कभी सच भी कहता था वो!!!!!!


-अनु 







Comments

  1. Simple words yet elegantly expressed

    ReplyDelete
  2. खट्टी-मीठी प्रेम chemistry प्रस्तुत करती सुन्दर रचना...

    ReplyDelete
  3. बहुत खूब .. नया अंदाज़.. नई शैली

    ReplyDelete
  4. झूठा, चोर , चालबाज बताने के बाद सच को स्वीकार किया...अब आपको क्या कहूँ अनु :))

    ReplyDelete
  5. सच्चा कहीं का :-)
    मस्त !

    ReplyDelete
  6. kabhi kabhi mann '+' "-" hota rahta hai...achhe shabd diye bhawo ko...

    ReplyDelete
  7. छलिया का मनमोहक चित्रण ....
    बहुत सुंदर अभिव्यक्ती ...

    ReplyDelete
  8. मुग्ध करता कवित्व...! सच्ची!

    ReplyDelete
  9. कि वो मेरा है......
    चालबाज़ कहीं का!!!!!
    sach me anu jee maza aa gaya padhkar.....aakhir chalchalkar usne aapke dil par sikka jama hi liya......

    ReplyDelete
  10. ऐसी बातों में सच का समावेश तो होता ही है। क्षणिकाओं ने गहरा अर्थ समेटा हुआ है।

    ReplyDelete
  11. कहता था
    तुम अलग हो...
    सबसे जुदा हो.
    तभी रहती हूँ तन्हाइयों में,
    सबसे जुदा........
    कभी सच भी कहता था वो!!!!!!.... चलो कुछ तो सच्चाई हुई

    ReplyDelete
  12. सभी क्षणिकाएं गजब की अनुभूति दे रही हैं .... बहुत खूब

    ReplyDelete
  13. शीर्षक देखा तो सोचा की गुलेरी जी की प्रसिद्ध कहानी "उसने कहा था" के बारे में कुछ लिखा होगा . उसने जो भी कहा पुरे मनोयोग से कहा इसीलिए तो अंत में सफल रहा , छलिया ही सही . मन प्रफुल्लित हुआ .

    ReplyDelete
  14. ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
    वो मेरा है
    वो चाँद है
    सभी को लगता,
    कि वो मेरा है......
    चालबाज़ कहीं का!!!

    वाह!!!!!!बहुत सुंदर रचना,अच्छी प्रस्तुति........

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: यदि मै तुमसे कहूँ.....

    ReplyDelete
  15. प्रेम का नटखट सा किन्तु मीठा अहसास...वाह: अनु नया तेवर...बहुत खूब.....

    ReplyDelete
  16. शायद! वो सच्चा ही हो....
    शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  17. ऐसा सच ... जिसपे यकीन करना ज़रा मुश्किल था ... पर सच तो था

    ReplyDelete
  18. वाह, वाह!...वाह, वाह!....
    वो मेरा है
    वो चाँद है
    सभी को लगता,
    कि वो मेरा है......
    चालबाज़ कहीं का!
    ...वह तो ऐसा ही है!....सुन्दर रचना!...आभार!

    ReplyDelete
  19. झूठा,चोर,चालबाज़....
    फिर भी सच्चा है..
    तभी तो तेरा है...!!
    बहुत सुन्दर....

    ReplyDelete
  20. वो मेरा है
    वो चाँद है
    सभी को लगता,
    कि वो मेरा है......
    चालबाज़ कहीं का!!!!

    :)))))

    वाह!क्या लाइन्स हैं!


    सादर

    ReplyDelete
  21. "वो मेरा है
    वो चाँद है
    सभी को लगता,
    कि वो मेरा है......
    चालबाज़ कहीं का!!"

    वाह ! !, चालबाज़ भाव...सुन्दर...

    ReplyDelete
  22. one can keep this reading again and again and then again .....

    ReplyDelete
  23. बहुत खूब !!!!!! बहुत सुन्दर !!!!!!!!अनुजी .....

    ReplyDelete
  24. माशाअल्लाह... क्या खूब कहा...
    हर रात कहता,
    दर्दे-जुदाई है
    नींद नहीं आती.............
    और सुबह सुनाता कोई ख्वाब
    जिसमे वो होता ...मैं होती.....
    झूठा कहीं का!!!!!

    सभी क्षणिकाएं बहुत कोमल, मधुर और प्रेमपूर्ण. बधाई अनु जी.

    ReplyDelete
  25. दिल को छूते अहसास वाली खूबसूरत लाइनें ।

    ReplyDelete
  26. बहुत सुंदर क्षणिकाएँ.

    ReplyDelete
  27. सुंदर शब्दमालिका।
    अनछुए भाव।

    ReplyDelete
  28. अच्छी प्रस्तुति ....

    ReplyDelete
  29. अलग सा एक्सप्रेशन ....
    शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  30. कहता था
    तुम अलग हो...
    सबसे जुदा हो.
    तभी रहती हूँ तन्हाइयों में,
    सबसे जुदा........
    कभी सच भी कहता था वो!

    बहुत ही भावपूर्ण प्रस्तुति । मेरे पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  31. वह सब कुछ है...उसे कोई भी नाम दो उसे सब स्वीकार है...पाजी कहो तब भी वह राजी है...

    ReplyDelete
  32. Just how many more times do I read them Anu? Each time I end up wishing to read once again! I'm flabbergasted..and at a loss of words to appreciate..

    ReplyDelete
  33. Apki rachna achchi lagi aur yeh jooth nahi hai :)

    ReplyDelete
  34. झूठा कहीं का!!!!!
    ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
    चोर कहीं का!!!!!
    ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
    चालबाज़ कहीं का!!!!!
    ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
    कामयाबी इन्हें ही क्यों मिलती है ?
    ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

    ReplyDelete
  35. wah! padh kar bahut accha laga..........

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

प्रेमपत्र

मेरी लिखी कहानी "स्नेहा" - 92.7 big fm पर नीलेश मिश्रा की जादुई आवाज़ में................

दैनिक जागरण के राष्ट्रीय संस्करण में मेरी किताब "इश्क तुम्हें हो जाएगा " की समीक्षा...............