नियति

मैं एक राह का पत्थर
उस कठिन पथ पर पड़ा
जीवन भर ठोकरें खाता
बनता रहा,
लोगों की राह का रोड़ा....

थी विशाल अट्टालिका
जिसका मैं अंश था
चोट खाकर 
यूँ टूट कर बिखरा
और राह में जा पड़ा....

मेरे कोने थे नुकीले
चुभते राहगीरों को
वे मुझसे होते आहत.. 
मुझे कोसते
और मारते ठोकरें....

ऐसे ही तिरस्कृत होता, 
बिना उफ़ किये 
मार मौसम  की सहता रहा...
गुम हुई वो नोकें..
निःशब्द मैं बहता रहा..

बरसों की वितृष्णा से
मैं थक  चुका था...
पर नियति में मेरी
कुछ और बदा था...

ऐसी ही एक ठोकर...
ले गयी मुझे
एक पीपल की छाँव में
थका हुआ मैं मानो ..
सो गया  ईश्वर के पाँव में..

तभी कुछ  भोले पथिक आये-
वक्त की मार झेल चुके
मेरे कोमल चमकदार तन पर,
सिन्दूर  और पुष्प  चढ़ाये...
आस्था जताई,गुण गाये....

विस्मित हूँ मैं ....
वो साधारण  राह का पत्थर
आज सबका भगवान कहलाए !!!
-अनु 


Comments

  1. बड़े-बड़े शहरों में ऐसा ही होता है...बड़े-बड़े बाबा ऐसे ही बन जाते हैं...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप शायद ठीक हैं...मगर मैंने जिस भाव से रचना लिखी है वो ये कि आस्था पत्थर को भगवान बनाती है....मगर पत्थर भी जब पैना था तब न पूजा गया....जब तकलीफें सह कर चिकना हुआ तब उसको धिक्कारना बंद किया गया.....शांत और सरल हुआ तब पूजा गया ...

      सादर.

      Delete
    2. बिलकुल सही फ़रमाया...मै भाव को समझ रहा था...पर अपनी बीमारी ही एवें चेपने की है...कृपया इसे अन्यथा ना लें...बहुत खूब रचना और भाव हैं...चित्र ने आपकी भावना को और भी अच्छे से अभिव्यक्त कर दिया है...

      Delete
  2. विस्मित हूँ मैं ....
    वो साधारण राह का पत्थर
    आज सबका भगवान कहलाए !!!

    अनुपम भाव लिए सुंदर रचना...बेहतरीन पोस्ट .

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: आँसुओं की कीमत,....

    ReplyDelete
  3. यह आस्था ही है जो पत्थर को भगवान बनाती है ...सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  4. बरसों की वितृष्णा से
    मैं थक चुका था...
    पर नियति में मेरी
    कुछ और बदा था.......waah bahut sunder ...sarthak rachna ke liye hardik badhai

    ReplyDelete
  5. किसी का विश्वास जीतने के लिए विभिन्न अगम परिस्थितियों से जूझना पड़ता है . नियति बनाने में परिश्रम का भी संयोग होता है . बहुत सुन्दर .

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर भाव...
    चिकना पत्थर मतलब विनम्रता का प्रतीक
    विनम्रता को मान मिलता ही है...

    ReplyDelete
  7. ..पत्थर भी भगवान है,
    समय अगर बलवान है !

    और यह भी कि कष्ट सहकर हम मज़बूत बनते हैं !

    ReplyDelete
  8. वो साधारण राह का पत्थर
    आज सबका भगवान कहलाए !!!
    सब बाबाओं की माया है .. सार्थक चिंतन की रचना

    ReplyDelete
  9. बेहद शानदार प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  10. बहुत बेहतरीन सफर साधारण पत्थर से भगवन होने तक का|
    आभार

    ReplyDelete
  11. बेहतर होगा यदि पत्थर को भगवान के रूप मे पूजने की बजाय हम प्रकृति रूपी भगवान को पूजें।

    जो मुझे पता है उसके अनुसार--भगवान [भ=भूमि ,ग =गगन,व =वायु ,। (आ की मात्रा)=अग्नि,न =नीर] प्रकृति के पाँच मूल तत्वों का नाम है जिसके सान्निध्य मे हम हमेशा रहते हैं।

    सादर

    ReplyDelete
  12. श्रद्धानत जहां हो जाए मन वहीँ भगवान की स्थापना हो जाती है!
    पत्थर की नियति के माध्यम से सुन्दर बात कही कविता में!

    ReplyDelete
  13. बरसों की वितृष्णा से
    मैं थक चुका था...
    पर नियति में मेरी
    कुछ और बदा था...

    ऐसी ही एक ठोकर...
    ले गयी मुझे
    एक पीपल की छाँव में
    थका हुआ मैं मानो ..
    सो गया ईश्वर के पाँव में..

    तभी कुछ भोले पथिक आये-
    वक्त की मार झेल चुके
    मेरे कोमल चमकदार तन पर,
    सिन्दूर और पुष्प चढ़ाये...
    आस्था जताई,गुण गाये....

    विस्मित हूँ मैं ....
    वो साधारण राह का पत्थर
    आज सबका भगवान कहलाए !!!... होनी यूँ अंजाम देती है

    ReplyDelete
  14. अनु जी ,
    सदा की तरह बहुत सुंदर रचना रची है आपने ...
    बधाई स्वीकारें !
    "मैं रास्ते में पड़ा पत्थर हूँ " इस पर कुछ समय पहले
    मैंने भी अपने एहसास लिखे थे ..अगर समय मिले तो यहाँ देखें.....
    http://ashokakela.blogspot.in/2011/11/blog-post_30.html
    आभार!
    खुश रहें!

    ReplyDelete
  15. बहुत बेहतरीन....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete
  16. विस्मित हूँ मैं ....
    वो साधारण राह का पत्थर
    आज सबका भगवान कहलाए !!!............वाह राह के एक छोटे से पत्थर में भी शब्दों के माध्यम से जान डालती एक खूबसूरत रचना | बहुत सुन्दर शब्द संयोजन :)

    ReplyDelete
  17. सुंदर रचना
    बेहतरीन पोस्ट

    ReplyDelete
  18. पत्थर की आत्मकथा हमारे जीवन से कितना मेल खाती है। हमें अनचाहे बहुत कुछ मिल जाता है और जिसकी हमें चाह है वह बस चाह बन के रह जाता है।
    सुंदर अभिव्यक्‍ति!

    ReplyDelete
  19. आस्था की बात है जो पत्थर को भी भगवान बनादेते हैं...... अनु..बहुत..खूबसूरत रचना

    ReplyDelete
  20. सही है। इस देश में अधिकतर फुटपाथी मंदिर ऐसे ही विकसित हुए हैं।

    ReplyDelete
  21. ऐसी ही एक ठोकर...
    ले गयी मुझे
    एक पीपल की छाँव में
    थका हुआ मैं मानो ..
    सो गया ईश्वर के पाँव में..
    बहुत सुंदर रचना है अनु जी,
    मनुष्य का अहंकार भी इस पत्थर जैसा ही है जब तक सख्त है किसी को भी पसंद नहीं आता !
    अहंकार जब पिघलकर बाष्प बनता है उस विराट के साथ एकाकार होता है !
    अच्छी लगी रचना !

    ReplyDelete
  22. तभी कुछ भोले पथिक आये-
    वक्त की मार झेल चुके
    मेरे कोमल चमकदार तन पर,
    सिन्दूर और पुष्प चढ़ाये...
    आस्था जताई,गुण गाये....

    विस्मित हूँ मैं ....
    वो साधारण राह का पत्थर
    आज सबका भगवान कहलाए !!!

    ठोकरें खाकर पत्थर भगवान हो जाता है लेकिन आदमी , आदमी भी नहीं बन पाता।

    ReplyDelete
  23. प्रेम की सरल भावना ही ऐसी है कि हम पेड़ से प्रेम करते हैं क्योंकि वह पेड़ है. हम पत्थर से प्रेम करते हैं कि क्योंकि वह पत्थर है. बहुत सुंदर रचना.

    ReplyDelete
  24. शायद इसी को किस्मत कहते हैं इसलिए जो जब मिले स्वीकार करना चाहिए चाहे ठोकर ही क्यों हो ...

    ReplyDelete
  25. प्रेम और आस्था ..हमेशा एक दूसरे के पूरक रहे हैं ......और नियति इनकी रचैता....
    ...वह चाहे तो पत्थर को ईशवर बनादे ....नियति के इसी अचम्भे को परिभाषित करती सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  26. कविता के भाव बहुत सुन्दर हैं ।
    हालाँकि आजकल कुछ रास्ते के पत्थर भगवान बनकर दुनिया को बेवक़ूफ़ भी बना रहे हैं । :)

    ReplyDelete
  27. .

    होता है…
    कई बार भाटे भी भगवान बन जाते हैं…

    :)
    पत्थर की आत्मकथा के रूप में यह कविता अच्छी लगी…

    ReplyDelete
  28. भाव बहुत सुन्दर हैं .

    ReplyDelete
  29. अच्छी व्यंग्य रचना है अनु जी ,यहाँ भगवान बनना और बनाना सबसे आसान है !

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

प्रेमपत्र

मेरी लिखी कहानी "स्नेहा" - 92.7 big fm पर नीलेश मिश्रा की जादुई आवाज़ में................

दैनिक जागरण के राष्ट्रीय संस्करण में मेरी किताब "इश्क तुम्हें हो जाएगा " की समीक्षा...............