इन्होने पढ़ा है मेरा जीवन...सो अब उसका हिस्सा हैं........

Thursday, July 5, 2012

बरसो तो कुछ यूँ बरसो.......

सुनो  बरखा...
भिगो दो मुझे.....
मेरा अंतस.................
कोई जान न पाए...
पहचान न पाए मेरे अश्रुओं की धार को..

धो डालो मेरा मन..
मेरे घाव....
मन निर्मल,स्वच्छ कर दो..
तुम दवा बन बरसो....

भिगो दो हर उस ह्रदय को
जिस पर नेह की बूँद
न टपकी हो अब तक....
बदरा तुम
प्रेम बन बरसो...

तर कर दो हर अतृप्त आत्मा को...
कोई प्यासा न रहे
इस निर्मम जग में,
तुम चाह बन बरसो..

बरसो उस बंजर भूमि में
जो दरक गयी है...
जिसके हिस्से के बदरा
कहीं और बरस गए थे पिछले बरस
तुम दुआ बन बरसो....

बरसो उन सूखे पत्तों पर....
जो गिर पड़े है नीर के अभाव में...
बरसो उन शाखों पर जो
ठूंठ  हो गयीं है
तुम्हारे वियोग में,
तुम आस बन बरसो....

बरसो...
खूब बरसो....
सब कुछ हरा कर दो
हर नाउम्मीद पर
किसी उम्मीद की  तरह बरसो...


अनु 

53 comments:

  1. आज तो आपकी कविता बिलकुल बरस पड़ी है.भाव तभी सच्चे फूटते हैं जब दिल टूटते हैं.यह आवाहन दुतरफा है,उम्मीद है कि सुनवाई होगी !

    ReplyDelete
  2. शनिवार 07/07/2012 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. आपके सुझावों का स्वागत है . धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. इसी उम्मीद से ताका करते है नयन आसमान को..सुन्दर...

    ReplyDelete
  4. भिगो दो हर उस ह्रदय को
    जिस पर नेह की बूँद
    न टपकी हो अब तक....
    बदरा तुम
    प्रेम बन बरसो...

    सुन्दर भाव !

    ReplyDelete
  5. बरसो...
    खूब बरसो....
    सब कुछ हरा कर दो
    हर नाउम्मीद पर
    किसी उम्मीद की तरह बरसो...

    लेकिन बरसो तो सही ..... बादलों के लिए दिल्ली दूर लग रही ही ..... खूबसूरत भाव लिए सुंदर रचना

    ReplyDelete
  6. उत्कृष्ट प्रस्तुति |
    शुभकामनायें ||

    बरसो तो कुछ यूँ बरसो,
    तन मन बरसो तक भीग रहे |

    ReplyDelete
  7. अब इतनी प्यारी मनुहार भला मेघा कैसे ना माने , यहाँ तो अमृत रस फुहार गिर रही है, सर्व जन सुखाय रचना

    ReplyDelete
  8. बरसो...
    खूब बरसो....
    सब कुछ हरा कर दो
    हर नाउम्मीद पर
    किसी उम्मीद की तरह बरसो...
    जरुर बरसेंगे. इतनी मनुहार के बाद उन्हें बरसना ही होगा... बहुत सुन्दर मनभावन प्रस्तुति... शुभकामनायें

    ReplyDelete
  9. tum ne kaha aur kal he shuru ho gaye!

    ReplyDelete
  10. जाने कितनी रातें सूखी , दिन सूखे , दिल सूखे , आहटें सूखी .......... बरसो घनघोर घटाओं के संग , हर्षित स्वर तो गूंजे

    ReplyDelete
  11. waah bahut sundar bhav anu ji .....badra baras gaye .........badhai :))
    barda jor se barso

    ReplyDelete
  12. बरसो...
    खूब बरसो....
    सब कुछ हरा कर दो
    हर नाउम्मीद पर
    किसी उम्मीद की तरह बरसो.....अब तो बरस ही रहे है यहाँ भी..सुन्दर प्रस्तुति..अनु..

    ReplyDelete
  13. बरसो...
    खूब बरसो....
    सब कुछ हरा कर दो
    हर नाउम्मीद पर
    किसी उम्मीद की तरह बरसो...
    अनुपम भाव ... बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ...आभार

    ReplyDelete
  14. "अब के सावन में शरारत ये मेरे साथ हुई
    मेरा घर छोड़ के कुल शहर में बरसात हुई"
    ..very beautifully penned Anu:) Congrats, and welcome on Indiblogger:)

    ReplyDelete
  15. बरसो...
    खूब बरसो....
    सब कुछ हरा कर दो
    हर नाउम्मीद पर
    किसी उम्मीद की तरह बरसो...

    आपका आदेश मान कर आज लखनऊ मे बादल अच्छी तरह बरस रहे हैं। :)

    सादर

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर अब तो बरसेगा बादल जरुर...
    :-)

    ReplyDelete
  17. saavan ki fuhaaron ke beech aapki post ne bhi sab kuchh hara-hara kar kar diya....badhaai

    ReplyDelete
  18. बरसो...
    खूब बरसो....
    सब कुछ हरा कर दो
    हर नाउम्मीद पर
    किसी उम्मीद की तरह बरसो...

    इतनी शिद्दत है तो बरसना ही पडेगा

    ReplyDelete
  19. wah.bahut sunder barso - jam kar barso

    ReplyDelete
  20. आपकी मनुहार सुन ली गई...
    जम कर बारिश हुई...
    बहुत दिनों बाद ठंढक मिली !!!

    ReplyDelete
  21. हर नाउम्मीद पर उम्मीद की तरह बरसो ...
    बहुत सुंदर अनु ..

    ReplyDelete
  22. waah sundar bhaav Anu ...dekho baras hii gayi ...!!

    ReplyDelete
  23. बरसो री वर्षा!
    घुघूतीबासूती

    ReplyDelete
  24. जब गरमी प्रचंड हो जाती है तो ऐसे ही ख़्याल मन में आते हैं।

    ReplyDelete
  25. पर्वत की जुबां फूटी...

    एक शोर उठा पानी

    मंजर पर गिरा मंजर....

    पानी पे गिरा पानी

    बहुत सुन्दर और बढ़िया अनुजी....................

    ReplyDelete
  26. सुन्दर अति सुन्दर ! क्या बात
    (अरुन शर्मा=arunsblog.in)

    ReplyDelete
  27. तर कर दो हर तृप्त आत्मा को...
    कोई प्यासा न रहे
    इस निर्मम जग में
    तुम चाह बन कर बरसो...
    बहुत सुन्दर रचना ।

    ReplyDelete
  28. बरसो...
    खूब बरसो....
    सब कुछ हरा कर दो
    हर नाउम्मीद पर
    किसी उम्मीद की तरह बरसो...

    Awesome !...Loving the expression...

    .

    ReplyDelete
  29. बहुत सुन्दर आवाहन देखों कब बरसते है ये निष्ठुर बदरा..
    बहुत बढ़िया प्रस्तुति

    ReplyDelete
  30. भिगो दो हर उस ह्रदय को
    जिस पर नेह की बूँद
    न टपकी हो अब तक....
    बदरा तुम
    प्रेम बन बरसो...

    lo ji aaj to neh hi neh hai har jagah boondon k roop me.
    waise ek baat kahun...aaj tak jitna maine apko padha ye baat aapke lekhan(jeewan) se mail nahi khaati....(ha.ha.ha.)


    बरसो उन सूखे पत्तों पर....
    जो गिर पड़े है नीर के अभाव में...
    बरसो उन शाखों पर जो
    ठूंठ हो गयीं है
    तुम्हारे वियोग में,
    तुम आस बन बरसो....

    bhaav-vihwal kar dene wali panktiyan.

    bahut khoobsurat nazm....shayad isi ka asar hai ki aaj hamare faridabad (haryana) me barish ho gayi. :-)

    ReplyDelete
  31. बहुत सुन्दर अनु जी.....प्रेम, दया, करुणा, ममता बरसाती प्यारी सी दुआ!

    ReplyDelete
  32. कल से पहले तो हम भी यही दुआ कर रहे थे, और देखिये किस तरह से बादल बरसे हैं दिल्ली में :)

    कविता शानदार है, एज ओल्वैज :)

    ReplyDelete
  33. सुंदर भाव रचे है रचना में.
    बहुत सुंदर ...

    ReplyDelete
  34. सुंदर, बहुत खूब !!
    मैं तो अभी मुंबई में हूँ और ऐसा प्रतीत होता है कि यहाँ बादलों ने आपकी कविता पढ़ ली है :)

    ReplyDelete
  35. बेहद सुन्दर रचना. ह्रदय में उतर गयी. आभार.

    ReplyDelete
  36. wah, bahut sahaj aur sundar kavita

    ReplyDelete
  37. बहुत ही खुबसूरत सावन में भीगी पंक्तिया....

    ReplyDelete
  38. A beautiful poem coming straight from the core of the heart.....morever it has a feeling for the well being of each and all.
    (Thru mobile)

    ReplyDelete
  39. आपकी भी बात मान ली है ..बारिश ने

    ReplyDelete
  40. अनु जी, बहुत सुंदर भाव और उनकी प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  41. Very nice and soft lines.. congratz...

    ReplyDelete
  42. स्वागत हैं इस बरखा का ...

    ReplyDelete
  43. बहुत ही सुन्दर रचना वर्षा के स्वागत की,बधाई अनु

    ReplyDelete
  44. बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  45. beautiful!!!!!

    hug from Brasil!! ( abraço do Brasil )

    ReplyDelete
  46. अब बरस जाओ भाई , plzzzzz, :)
    अच्छी कविता |
    उम्मीद की तरह बरसो ज्यादा पसंद आया |

    सादर

    ReplyDelete

नए पुराने मौसम

मौसम अपने संक्रमण काल में है|धीरे धीरे बादलों में पानी जमा हो रहा है पर बरसने को तैयार नहीं...शायद उनकी आसमान से यारी छूट नहीं रही ! मोह...