सपनों का सौदागर


मेरी यह रचना दैनिक भास्कर-मधुरिमा में प्रकाशित की गयी हैं.21/12/2011

गुलाबी सर्दी की दोपहर को
आँगन में बैठी
 
ऊँघ रही थी..
दरवाज़े पर आहट हुई..
देखा कोई लंबी दाढ़ी वाला
...
बूढा सा राहगीर...
कहने लगा सपने लाया हूँ...
लोगी क्या
??
मुझे हैरानी हुई..
सपनों का सौदागर !!!
उत्सुकतावश पूछ बैठी
कहो क्या मोल है
?
मुस्कुरा कर वो बोला
अनमोल सपनों का भला क्या मोल !!!

मुफ्त ही बाँट रहा हूँ.
मैंने  कुछ सकुचा के पूछा..
सुखद से सुखद स्वप्न भी मुफ्त
???
उसने जवाब दिया  
हाँ....हर स्वप्न मुफ्त
,
क्यूँकि किसी के भी  
पूरा होने का कोई बंधन नहीं..

कोई शर्त नहीं..
फिर उनका क्या मोल ??
जो चाहे देखो.....

-अनु 

Comments

  1. सपने तो अनमोल होते ही है इनको देखने वाली आँखों पर निर्भर करता है की वो कैसे इनको साकार करने के लिए अपने स्वामी को उत्प्रेरित करती है और सपनो के अनमोलता नई उचाई देती है . ले लीजिये विविधता पूर्ण सपने और स्वप्नदर्शी बनिए .

    ReplyDelete
  2. कल 19/07/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. चलिए,आज ही आजमाता हूँ नया नुस्खा !

    ReplyDelete
  4. स्वप्न या ख्वाब अपनी मर्जी के तो मोल कैसा ...
    देखते हैं हम भी :)
    छपने की बधाई !

    ReplyDelete
  5. सपने तो सपने होते है चाहे छोटा हो या बड़ा होते अनमोल है ..बहुत सुन्दर अनु..शुभकामनाएं..

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर ...बिलकुल नया ख़याल लगा .......अगर यह सपने ही किस के दोबारा उठकर जीने की वजह बन जाते हैं...तो वाकई अनमोल हैं

    ReplyDelete
  7. jo bandhan mukt ho vo to vaise hi anmol hai.

    sunder abhivyakti.

    ReplyDelete
  8. अरे ये तो सैन्टा कलॉज़ के ख्वाब हैं... मोल नहीं अनमोल हैं .......पहले मुफ्त मे मिल जायेंगे फिर इन्हें पूरा करने के लिये अथक परिश्रम करना होगा ...तभी धुन के पक्के होते है सपने देख्ने वाले....
    सुंदर रचना शुभकामनायें अनु.

    ReplyDelete
  9. पूरा होने का कोई बंधन नहीं..
    कोई शर्त नहीं..
    इस लिए अनमोल स्वप्न है .... बहुत खूब

    ReplyDelete
  10. वाह अनु जी अच्छी रचना हैं मधुरिमा में छपने के लिए बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  11. सपने में भी अगर सपनों का सौदागर आ जाए....तो उसे खाली हाथ वापस नहीं भेजना..! उससे सपने लेकर उसकी झोली भी भर देना...और अपनी भी... :-))
    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति अनु जी !

    ReplyDelete
  12. वाह ... बहुत खूब ... आभार

    ReplyDelete
  13. मधुरिमा में प्रका‍शन के लिए बधाई ... यूँ ही लेखनी का जादू चलता रहे

    ReplyDelete
  14. आज से हम भी जुड़ गये आपके दिल के कनेक्शन में ,
    पढने आपके जब्बात को आयेंगे आपके ब्लॉग सेक्शन में.
    आमिर आपका प्रशंशक बनकर देता है शुभकामना ,
    आपका ब्लॉग हमे तो लगता आपके दिल का आइना.

    All the Best Annu.............




    मोहब्बत नामा
    मास्टर्स टेक टिप्स

    ReplyDelete
  15. A vida sem sonhos perde a alegria..

    abraço do Brasil!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. this is Portuguese which means-

      life without dreams lose the joy ....
      Hug from Brasil.
      :-)

      Delete
  16. सपने देखने तो जरुर चाहिए आखिर वे अनमोल जो हैं..
    सुन्दर रचना.
    छपने की बधाई :)

    ReplyDelete
  17. अनमोल सपने .... पूरे हुए तो वाह , न हुए तो चलो सपनों ने दिल तो बहलाया

    ReplyDelete
  18. सपने देखने में क्या बुरा है..
    मिले तो अपना नहीं तो सपना.
    बहुत बहुत प्यारी और सुन्दर रचना..:-)

    ReplyDelete
  19. पूरा होने का कोई बंधन नहीं
    कोई शर्त नहीं
    फिर उनका क्या मोल
    जो चाहे देख लो...

    वाह! ऐसे तो कभी सोचा ही नहीं था!!

    ReplyDelete
  20. जबरदस्त-प्रस्तुति



    मन-भावन सपने सजे, मजे दार हैं मित्र ।

    वैसे तो अनमोल हैं, लेकिन बात विचित्र ।

    लेकिन बात विचित्र, मुफ्त बांटे सौदागर ।

    तरह तरह के भेद, छाँट लो बढ़िया सादर ।

    दिवास्वप्न हैं व्यर्थ, बिछाओ प्रेम-विछावन ।

    ले लो गहरी नींद, देख सपने मनभावन ।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत सुन्दर रविकर जी...
      आपके दिए चार चाँद की तो सदा प्रतीक्षा रहती है मेरी रचनाओं को :-)

      Delete
  21. what fun if there is no guaranty ?

    ReplyDelete
  22. वाह ..
    वहां पे मैं होती तो ..
    ढेर सारे अच्‍छे सपने ले लेती उससे ..
    ताकि सपने में भी कभी बुरे हालात न आए ..

    समग्र गत्‍यात्‍मक ज्‍योतिष

    ReplyDelete
  23. वाह . बहुत खूब .
    जिंदगी में आधी खुशियाँ तो सपनों में ही मिलती हैं . :)

    ReplyDelete
  24. बिना सपनों के जिंदगी व्यर्थ है
    स्वप्न आपको आपके अंदर जिंदा रखती है ....
    उत्कृष्ट सोच से सजी रचना ..
    सादर !!

    ReplyDelete
  25. सपने सचमुच अनमोल होते हैं!

    ReplyDelete
  26. सपने बुने जाते है
    सपने देखे जाते है
    सुनता आया था
    सपने बेचे भी जाते है
    आज पता चल गया !

    ReplyDelete
  27. अनमोल सपनों का भला क्या मोल
    सपने तो सचमुच अनमोल होते है,,,,,,

    RECENT POST ...: आई देश में आंधियाँ....

    ReplyDelete
  28. Really nice poem Annu ji. Thanx for sharing with us.

    ReplyDelete
  29. जब तक मात्र ख्वाब हैं तब तक ही ख्वाब हैं और अनमोल हैं यदि कोई पूरा हुआ तो फिर हकीकत बन जाता है ... भूत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  30. अजी आपका इशारा कहीं सोनिया के पूडल मोहना की तरफ तो नहीं है मेरा मतलब गोदिया पपी सपने यह अंडर परफोरमर भी बहुत बेचा किए .
    अनु जी बहुत अच्छा लिखा है ,
    बहुत ठीक किया है ,

    ReplyDelete
  31. कहते हैं न...
    सपना कभी न अपना :)

    ReplyDelete
  32. सपनों में कल्पनाएँ होती हैं और कल्पनाएँ तो भविष्य का रफ स्केच होती हैं | सपने खूब और खूब देखने चाहिए , लेकिन यह किसी के बस में कहाँ | यह तो बस बादल की तरह तैरते तैरते कब आँखों में आ बसते हैं , पता नहीं चलता | सपनों जैसा ही नर्म एहसास कराती आपकी एक और उत्कृष्ट रचना |

    ReplyDelete
  33. This poem is fresh and I wish somebody sells me lovely dreams. Beautiful to the core. :)

    Congratulations on being published, though it is very late:)

    ReplyDelete
  34. Replies
    1. मुफ्त में जो मिले उसे कौन छोड़ता है :-)
      क्या पता कोई पूरा हो जाए...

      Delete
  35. उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।



    आइये पाठक गण स्वागत है ।।

    लिंक किये गए किसी भी पोस्ट की समालोचना लिखिए ।

    यह समालोचना सम्बंधित पोस्ट की लिंक पर लगा दी जाएगी 11 AM पर ।।

    ReplyDelete
  36. बेहद सुन्दरता से वर्णन किया है
    (अरुन शर्मा = arunsblog.in)

    ReplyDelete
  37. really di , if u buy kindly get one for me . lovely poem .

    ReplyDelete
    Replies
    1. its free dear...u can get as many as u want.
      :-) and hope they all come true.
      <3

      Delete
  38. बहुत सुंदर कविता। हम स्वप्न भी तोल मोल कर देखने लगे हैं।

    ReplyDelete
  39. Sapne hi to insaan ko jinda rakhti hain..
    bahut hi sundar rachna..

    ReplyDelete
  40. यह तो विज्ञान गल्प कविता (साईंस फिक्शन पोएट्री ) हो गयी -क्या पता ऐसी जुगतें भविष्य में मिलने लगें को लोगों को उनके मनचाहे सपने दिन में दिखा सकें -सपने पूरे ही हो जायं इसकी कोई गारंटी कभी नहीं रही .... :-)

    ReplyDelete
  41. सही कहा वाकई anmol sapno ka koi mol nahi . sundar prastuti .badhai anu जी.

    ReplyDelete
  42. are waah ...bahut acchi abhiwayakti.... tere bin pr aapka intjaar ....

    ReplyDelete
  43. दिवास्वप्न मत देखिए, करके आँखें बन्द।
    मन से पूरे कीजिए, किये हुए अनुबन्ध।।

    ReplyDelete
  44. स्वप्न बादल
    नेह की सरिता को सींचा
    स्वप्न की
    नियति समन्दर

    ReplyDelete
  45. .हर स्वप्न मुफ्त ,
    क्यूँकि किसी के भी
    पूरा होने का कोई बंधन नहीं..
    कोई शर्त नहीं..
    फिर उनका क्या मोल ??
    जो चाहे देखो.....

    .....वाह! लाज़वाब अभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  46. बेहद खूबसूरत ,बहुत बढ़िया प्रस्तुति!आभार .
    सादर
    आपका सवाई
    ऐसे नबंरो पर कॉल ना करे. पढ़ें और शेयर

    ReplyDelete
  47. सपने तो सुहाने होंगे ही, उनके पूरा होने की शर्त जो नहीं है... :)

    ReplyDelete
  48. कृपया अपने ब्लॉग से टिप्पणी-नियंत्रण हटा लें...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बिना छाने चाय भी कहाँ पीते हैं गायत्री जी...
      बेफिक्र रहें....हर टिप्पणी जो मेरी रचना पर की गयी है बाकयेदा पब्लिश होगी...चाहे कड़क निंदा ही क्यूँ न हो :-)

      सादर

      Delete
  49. बहुत ही अच्छी.... जबरदस्त अभिवयक्ति....

    ReplyDelete
  50. फैशन के इस दौर में गारंटी की इच्छा ना करें.
    उम्दा!
    आशीष
    --
    इन लव विद.......डैथ!!!

    ReplyDelete
  51. wow...great thought....thankyou for being on my blog :)

    ReplyDelete
  52. सुन्दर,किन्तु अपूर्ण का भाव देती रचना.

    ReplyDelete
  53. बहुत ही ज्यादा सुन्दर , (और यहाँ तो हमारे आपके शीर्षक भी मिल गए)
    :)

    सादर

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

प्रेमपत्र

मेरी लिखी कहानी "स्नेहा" - 92.7 big fm पर नीलेश मिश्रा की जादुई आवाज़ में................

दैनिक जागरण के राष्ट्रीय संस्करण में मेरी किताब "इश्क तुम्हें हो जाएगा " की समीक्षा...............