बेनकाब

कभी पढ़ा है क्या तुमने
अंधेरों को..
देख सके हो कभी
स्याह कागज़ पर उकेरे 
कोई शब्द???

सुना है क्या तुमने कभी 
सन्नाटे को?
जब कोई नहीं दूर दूर तक...
तब पहुंची  है क्या 
कोई आवाज़
तुम तक ??

महसूस किया  है किसी को
किसी बियाबान में...
आबादी से कोसों दूर...
खुद को पाया है
किसी के करीब???


अगर हाँ ,तो फिर 
तुम  अवश्य जान गए होगे 
कि तुम कौन हो...
क्या वजूद है तुम्हारा..
क्या सच है तुम्हारा...

बनावटीपन और चकाचौंध से परे
बेनकाब अपने चेहरे को 
पहचानते हो क्या???

कहो !!
क्या खुश हो तुम
"स्वयं" से मिल कर ???


-अनु 

Comments

  1. बहुत ही बेहतरीन रचना अनु जी, खुद से पहचान करवाती..

    ReplyDelete
  2. बनावटी दुनिया को जैसे जानते नही,
    मतलब निकल गया, पहचानते नही,,

    RECENT POST...: दोहे,,,,

    ReplyDelete
  3. कहो !!
    क्या खुश हो तुम
    "स्वयं" से मिल कर ???

    इस बात ने तो सोचने पर मजबूर कर दिया...
    खुद से मिलकर आलोचक बनने की हिम्मत हम कर पाते हैं क्या...शायद नहीं...

    ReplyDelete
  4. स्वयं से मिलना निश्चित सुखमय होगा!

    ReplyDelete
  5. सबसे ज़रूरी पहचान तो अपनी ही है और वह होती है निपट अकेले और अँधेरे में !

    ReplyDelete
  6. अनु जी, भावविभोर करने वाली रचना...

    ReplyDelete
  7. बहुत खूब ....
    शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  8. प्रशसनीय.... मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  9. बनावटीपन और चकाचौंध से परे बेनकाब स्वयं से मिलकर सचमुच बहुत सुख मिलता है. बेहतरीन प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  10. ख़ुद से मिलना ही सबसे दुष्कर होता है। और अगर मानम उससे मिल ले तो फिर बहुत सी समस्याएं सुलझ जाएं।

    ReplyDelete
  11. जो खुद से मिलने को बचता रहता है वह सहजता से कभी दूसरो से भी नहीं मिल पाता
    संस्कृत में कहा ही गया है -आत्मवत सर्वभूतेषु समाचरेत!
    अच्छे विचार बोध की कविता

    ReplyDelete
  12. Very thoughtful composition,today most people do not have time to do what you are-they are more like robots

    ReplyDelete
  13. आत्मावलोकन मानुष के लिए हमेशा से हितकारी रहा है , और शायद अजन्मा की तरफ बढ़ने के रास्ते में पहला कदम भी ..

    ReplyDelete
  14. बढ़िया सवाल --तलाश अभी जारी है !

    ReplyDelete
  15. बढ़िया प्रस्तुती |
    शुभकामनायें ||

    ReplyDelete
  16. तुमने अंधेरों को नहीं पढ़ा अगर
    नहीं सुना समझा नदी का प्रलाप .... तो तुम ! क्या व्याख्या करूँ

    ReplyDelete
  17. i used google translate to enjoy your poem... :)

    ReplyDelete
  18. खुद को समझना ही सब से महत्वपूर्ण है.

    सुंदर भावपूर्ण कविता.

    ReplyDelete
  19. खुद को जानना खुद को पहचानना बहुत मुश्किल होता है अगर एक बार खुद को जान लिया तो सारी मुश्किल का ही हल होजाए...लेकिन खुद को जानना भी जरुरी है.. गहन प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  20. गहन भाव पूर्ण अभिव्यक्ति |
    आशा

    ReplyDelete
  21. अच्छी लगी यह कविता।
    एक तो खुद से मिलना ही मुश्किल दूजे मिलने के बाद खुश हो पाना कितना कठिन है यह सब!

    ReplyDelete
  22. खुद से मिलना यक़ीनन सुखमय होगा.....
    बहुत सुन्दर गहरे भाव लिए रचना...
    :-)

    ReplyDelete
  23. खुद से मिल लिए तो क्या बाकी रहा फिर सब सहज है.

    ReplyDelete
  24. खुद के भीतर झांक सके तो मनुष्य सम्पूर्ण हो जाये....
    सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  25. बहुत ही गहरे और सुन्दर भावो को रचना में सजाया है आपने.....

    ReplyDelete
  26. अति उत्तम अनु जी, खुद से मिलने की तलाश में ही पूरी जिंदगी गुजर जाती है हमारी, मेरी तलाश तो अभी जारी है..

    ReplyDelete
  27. बहुत ही मार्मिक एवं सारगर्भित प्रस्तुति। मेरे नए पोस्ट "अतीत से वर्तमान तक का सफर" पर आपका स्वागत है। धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  28. Very nice post.....
    Aabhar!
    Mere blog pr padhare.

    ReplyDelete
  29. स्वयं से मुलाकात बहुत कठिन हैं ...बहुत खूब ....सादर

    ReplyDelete
  30. स्वयं से मिलना कहाँ हो पाता है ,यही तो मुश्किल है | दार्शनिक रचना |

    ReplyDelete
  31. Your poems make me wonder..They have such deep meanings..
    You write so well :)

    ReplyDelete
  32. बहुत सुन्दर अनु जी.आखिरी अंतरा न हो तो...?

    ReplyDelete
  33. बेहतरीन रचना.

    ReplyDelete
  34. बेहतरीन रचना.

    ReplyDelete
  35. :) :) सुन्दर!!

    ReplyDelete
  36. अगर कोई खुद से मिलकर खुश या दुखी हो जाये तो ये पक्का है कि अभी खुद से नहीं मिला।

    ReplyDelete
  37. अँधेरे में ,रौशनी की चमक ....

    ReplyDelete
  38. आपके ब्लॉग पर हमारीवाणी कोड नहीं लगा हुआ है, जिसके कारण आपकी पोस्ट हमारीवाणी पर समय पर प्रकाशित नहीं हो पाती है. कृपया लोगिन करके कोड प्राप्त करें और अपने पर ब्लॉग लगा लें, इसके उपरांत जब भी नई पोस्ट लिखें तब तुरंत ही हमारीवाणी क्लिक कोड से उत्पन्न लोगो पर क्लिक करें, इससे आपकी पोस्ट तुरंत ही हमारीवाणी पर प्रकाशित हो जाएगी. क्लिक कोड पर अधिक जानकारी के लिए निम्नलिखित लिंक पर क्लिक करें.

    http://www.hamarivani.com/news_details.php?news=41

    टीम हमारीवाणी

    ReplyDelete
  39. वाह ... भावमय करते शब्‍द बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति..आभार

    ReplyDelete
  40. i want to copy n paste the comment u left on my blog:
    "just saw ur blog n fell in love.." :-)

    ReplyDelete
  41. बहुत गहन और सुन्दर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  42. क्या वजूद है तुम्हारा..
    क्या सच है तुम्हारा...
    स्वयम को खोजना ...फिर परखना ....और सँवारना ...यही जीवन प्रक्रिया है ....!!
    सुंदर रचना ...
    शुभकामनायें अनु ..

    ReplyDelete
  43. I want to choose the right words..
    saying "Beautifully compressed in a dazzling way" would be substandard. Great lines... Loved it.

    Sniel

    ReplyDelete
  44. बनावटीपन और चकाचौंध से परे
    बेनकाब अपने चेहरे को
    पहचानते हो क्या???
    ..these wonderful lines correspond amazingly to the concluding lines of my "Bonsai"!
    A very thoughtful poem indeed, Anu! Thank you!

    ReplyDelete
  45. wah nice thoughts.

    तारों के उस पार एक दुनिया है
    महसूस करते दिलो के तार
    धड़कन सुनना होगा चुपचाप
    सुनाई देगी एक जैसी पदचाप

    ReplyDelete
  46. nice poem...self revealation ...not easy in this hectic life with so much expectation...nevertheless quality post

    ReplyDelete
  47. दुखी हूँ , मैं अभी भी स्वयं से नहीं मिल पाया | :(

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

प्रेमपत्र

मेरी लिखी कहानी "स्नेहा" - 92.7 big fm पर नीलेश मिश्रा की जादुई आवाज़ में................

दैनिक जागरण के राष्ट्रीय संस्करण में मेरी किताब "इश्क तुम्हें हो जाएगा " की समीक्षा...............