अजनबी ,जो साथ चल रहा है....

कहते हैं हर रिश्ता मोहब्बत पर टिका होता है .....मगर कुछ रिश्तों की आदत पड़ जाती है........फिर उनमे प्यार हो न हो वे टूटते नहीं.......एक दूसरे की कोई खास ज़रूरत बेशक न हो मगर इक-दूजे बिना काम भी नहीं चलता.......बेशक ढेरों शिकायतें हो एक दूसरे से,मगर हैं संग संग.........
साथ रहने की कोई मजबूरी नहीं फिर भी साथ हैं,साथ की आदत जो है !!!!! 
कहीं ये आदत ही तो प्यार नहीं????
   
  कैसा अजीब शख्स है वो,  
        पुकारता है मुझे
          मेरे नाम से   
     और कहता है कि
      पहचानता नहीं !
        जानती हूँ कि
     वो जानता है मुझे,
    और ये भी सच है कि
      पहचानता नहीं...
          तभी तो 
     बेपरवाह है मुझसे
   कोई फ़िक्र नहीं मेरी...
         कहती हूँ
    छोड़ दे मेरा साथ...
          मगर
    ये बात भी मेरी
     वो कमबख्त
     मानता नहीं...                          

(भीतर ही भीतर डरती भी  हूँ कि कहीं मान न ले...)
       -अनु                                       

Comments

  1. सचमुच ऐसा होता है, कभी -कभी कुछ रिश्तों की आदत पड़ जाती है. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  2. इस रचना को कई अर्थो में एन्जॉय किया जा सकता है, मैं मानता हूँ की हो नहो यह अजनबी हमारा ही एक रूप हो -क्योंकि स्वयं से अधिक अनजानापन और किस से है हमारा...? सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  3. ये बात भी मेरी वो कमबख्त मानता नहीं...

    बहुत अच्छी प्रस्तुति,,,

    MY RECENT POST काव्यान्जलि ...: बहुत बहुत आभार ,,

    ReplyDelete
  4. Harek cheez hai apni zagah thikane par......it feels comfy and secured , if certains things , relations stay , as and how they were ! kai dino se shikayat nahi zamane se....! :)

    ReplyDelete
  5. Harek cheez hai apni zagah thikane par......it feels comfy and secured , if certains things , relations stay , as and how they were ! kai dino se shikayat nahi zamane se....! :)

    ReplyDelete
  6. साथ रहने की आदत पड़ चुकी है...फिर क्यूँकर मानेगा वो...

    ReplyDelete
  7. बहुत ही भावपूर्ण, हृदयस्पर्शी रचना !

    ReplyDelete
  8. very well expressed--even those close to us do not know us well.

    ReplyDelete
  9. ऐसे रिश्ते प्यार के रिश्ते ही होते हैं ... बस हमारा ईगो मानने कों तैयार नहीं होता ...
    सच के करीब है ये रचना ..

    ReplyDelete
  10. सुन्दर रचना अनु जी

    ReplyDelete
  11. वाह बहुत खूब ... आभार

    ReplyDelete
  12. यह कविता ऐसे है जैसे कोई फूल की पत्तियाँ तोड़ता हुआ कह रहा हो- he loves me....he loves me not....he loves me....he....और वह सिलसिला उस पंखुड़ी पर खत्म होता है जो कह डालती है- Hold. Love is the last word.

    ReplyDelete
  13. लगता तो है की यही प्यार है...
    आपकी बाते और रचना दोनों ही बहुत
    प्यारी है...बहुत सुन्दर......
    :-)

    ReplyDelete
  14. रिश्ते भी जिंदगी की तरह बड़े पेचीदे होते हैं .
    समझने की कोशिश भी करें तो कहाँ समझ आते हैं .

    ReplyDelete
  15. जानती हूँ कि
    वो जानता है मुझे,
    और ये भी सच है कि
    पहचानता नहीं...

    जानने और पहचानने के दरमियान कहीं कुछ तो है तभी तो 'भीतर ही भीतर डरती भी हूँ कि कहीं मान न ले'
    बहुत सुन्दर भावनात्मक रचना

    ReplyDelete
  16. वाह अनामिका ।।
    बधाई ।
    यही नाम होगा ।।

    ReplyDelete
  17. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (01-07-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बहुत बहुत शुक्रिया शास्त्री जी.

      Delete
  18. रिश्तों की प्रमेय हल करना जटिल कार्य है . जो साथ रहते है उनमे भावनात्मक बंधन तो होता ही है भले ही वो अभिव्यक्त ना करें .शायद वो भी जानते है की आप ना जाने के लिए ही उन्हें जाने को बोलती हो .

    ReplyDelete
  19. दिल है कि मानता ही नहीं....

    ReplyDelete
  20. बेपरवाह है मुझसे
    कोई फ़िक्र नहीं मेरी...
    कहती हूँ
    छोड़ दे मेरा साथ...
    मगर
    ये बात भी मेरी
    वो कमबख्त
    मानता नहीं...

    रिश्तों की प्रमेय

    ReplyDelete
  21. अपने अपने अंदाज़ हैं ...
    शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  22. मन की कोमल .. सुंदर अभिव्यक्ति ....!!
    शुभकामनायें अनु ...!

    ReplyDelete
  23. ... दि‍ल है कि‍ मानता नही ☺

    ReplyDelete
  24. रिश्तों की अजीब कश्मकश पर बड़ी प्यारी
    सुंदर भाव रचे है रचना में,

    ReplyDelete
  25. बहुत प्यारी रचना अंतिम लाइन ने तो मन मोह लिया

    ReplyDelete
  26. यही तो अनामी रिश्तों की संजीदगी होती है।

    ReplyDelete
  27. शयद सभी की जिंदगी में ऐसा ही कोई अनाम जुड़ जाता है।
    अच्छी कविता।

    ReplyDelete
  28. भीतर भीतर ही डरती हूँ कि कहीं मान न ले ... :):)

    बहुत खूबसूरत रचना

    ReplyDelete
  29. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति है.
    आभार इस प्रस्तुति के लिए
    और मेरे ब्लॉग पर आने के लिए भी.

    ReplyDelete
  30. अनु जी को सुंदर रचना के लिये बधाई....

    उहापोह मन में उठे, यही प्रेम संकेत
    ज्यों ज्यों मुट्ठी बाँधिये, त्यों त्यों फिसले रेत.

    ReplyDelete
  31. सुंदर रचना... वाह!
    रेखाएँ सब भिन्न हैं, भिन्न सभी हैं हाथ।
    जगत भले ये छोड़ दे, पर ना किस्मत साथ॥

    सादर।

    ReplyDelete
  32. फिकर नहीं...आपकी यह बात अक्भी मानी नहीं जायेगी :)
    बहुत सुन्दर कविता है.

    ReplyDelete
  33. सुन्दर भावपूर्ण कविता ...

    ReplyDelete
  34. डरता तो भीतर ही भीतर वह भी है |
    बहुत भाव पूर्ण अभिवयक्ति |

    ReplyDelete
  35. ये कैसा प्यार अनु जी ?.... जानता है पर पहचानता नहीं...... परन्तु समर्पण पूरा. ....
    चाहत दोनों ओर से बराबर है....... प्यार की ये अदा पसंद आई. सुन्दर ! आभार !!

    ReplyDelete
  36. भावनाओं से पूर्ण सुन्दर अभिव्यक्ति |

    ReplyDelete
  37. जटिल रिश्तों की सुंदर अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  38. मगर
    ये बात भी मेरी
    वो कमबख्त
    मानता नहीं...

    कमाल की पंक्तियाँ है.. सुन्दर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  39. wah annu ji khubsurat bhav.....badhai ho.

    ReplyDelete
  40. awsome di, beautifully told dil ki baat

    ReplyDelete
  41. यह डर ...साथ-साथ चलते हैं

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

प्रेमपत्र

मेरी लिखी कहानी "स्नेहा" - 92.7 big fm पर नीलेश मिश्रा की जादुई आवाज़ में................

दैनिक जागरण के राष्ट्रीय संस्करण में मेरी किताब "इश्क तुम्हें हो जाएगा " की समीक्षा...............