सच को ठगता झूठ

published in bhaskar bhoomi http://bhaskarbhumi.com/epaper/index.php?d=2012-06-07&id=8&city=Rajnandgaon


जग में फैले कितने झूठ
शहद में लिपटे कड़वे झूठ
सच्चे झूठ,झूठे झूठ
सच को झुठलाते मीठे झूठ


झूठ सफेद और काले झूठ
करते गडबड झाले झूठ 
छोटा झूठ,बड़ा झूठ 
खुद को सच कहकर अड़ा झूठ....


झूठ भरा है रिश्तों में
ये निभते जैसे किश्तों में....
झूठ पला है अपनों में
झूठ ही दिखता सपनों में...


झूठ बोलते नन्हें बच्चे
तो बड़े बड़े भी कहाँ के सच्चे??
सावन की अब बारिश झूठी
मन में पलती ख्वाहिश झूठी


झूठों का अम्बार लगा है
झूठ ने सच को खूब ठगा है
जग में पलता,मुटियाता झूठ
सच की मैयत में गाता झूठ........


-अनु 





Comments

  1. जाने सच किस कोने में बैठा है होठों पर पपड़ी लिए
    झूठ की मशालें इतनी जल गयीं कि सच के फफोले डराने लगे

    ReplyDelete
  2. झूठ का विस्तृत साम्राज्य चित्रित करती कविता में सत्य के प्रति अपार आस्था देख रहे हैं हम...!

    ReplyDelete
  3. वाह ... बेहतरीन लिखा है आपने
    कल 06/06/2012 को आपकी इस पोस्‍ट को नयी पुरानी हलचल पर लिंक किया जा रहा हैं.

    आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!


    '' क्‍या क्‍या छूट गया ''

    ReplyDelete
  4. झूठ बोलते नन्हें बच्चे
    तो बड़े बड़े भी कहाँ के सच्चे??

    बड़ों ने ही तो बच्चों को सिखाया है झूठ बोलना

    ReplyDelete
  5. सच्चे के सच को... झुठलाता झूठ
    सच की मैयत में गाता झूठ........!

    खूबसूरत झूठ का...सच्चा झूठ ....

    शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  6. सत्य सिर्फ एक और झूठ अनेक...!

    ReplyDelete
  7. Bahut sundar kavita. Yes it is very true - there is untruth everywhere. Lies have engulfed every strata of society.

    ReplyDelete
  8. झूठ सच में झूठ ही या ... या सच के दबाव ने उसे झूठा करार दिया ...
    झूठ की माया ...

    ReplyDelete
  9. जग में पलता,मुटियाता झूठ
    सच की मैयत में गाता झूठ........

    ....बहुत खूब ! इतने झूठ, इससे तो एक सत्य ही ठीक है...

    ReplyDelete
  10. सच्चों में हैं झूठाधीश ,.....बढ़िया रचना .

    ReplyDelete
  11. सच को ठगता झूठ
    जग में फैले कितने झूठ

    शहद में लिपटे कड़वे झूठ
    सच्चे झूठ,झूठे झूठ
    सच को झुठलाते मीठे झूठ


    बधाई इस प्रस्तुति के लिए नै पुरानी हल चल को बधाई ..

    ReplyDelete
  12. सच को ठगता झूठ
    जग में फैले कितने झूठ

    शहद में लिपटे कड़वे झूठ
    सच्चे झूठ,झूठे झूठ
    सच को झुठलाते मीठे झूठ


    बधाई इस प्रस्तुति के लिए नै पुरानी हल चल को बधाई ..

    ReplyDelete
  13. झूठ का खूबसूरत सच्चा झूठ ....
    मन मोहक सुंदर अभिव्यक्ति ,,,,,

    MY RESENT POST,,,,,काव्यान्जलि ...: स्वागत गीत,,,,,

    ReplyDelete
  14. झूठों का अम्बार लगा है
    झूठ ने सच को खूब ठगा है
    जग में पलता,मुटियाता झूठ
    सच की मैयत में गाता झूठ........

    झूठ का बोलबाला और झूठ ने सच का दम घोट डाला ..... सत्य को कहती झूठ पर सच्ची रचना ....

    ReplyDelete
  15. झूठों का अम्बार लगा है
    झूठ ने सच को खूब ठगा है
    जग में पलता,मुटियाता झूठ
    सच की मैयत में गाता झूठ........

    4 बार पढ़ने के बाद भी मन अभी भरा नहीं है।

    झूठ के आयामों को बेहद खूबसूरती से शब्दों मे पिरोया है आपने।


    सादर

    ReplyDelete
  16. सच लिखा है |बहुत दुखद है ...किन्तु .......कटु सत्य है ...झूठ और फरेब हावी है रिश्तों पर ....!!

    ReplyDelete
  17. सच की संख्या हमेशा कम होती है !

    ReplyDelete
  18. सुन्दर भाव अनु...भले ही झूठपर भीड़ बहुत हो पर सच अकेला भी कम नहीं है........ .सस्नेह

    ReplyDelete
  19. झूठ बोलते नन्हें बच्चे
    तो बड़े बड़े भी कहाँ के सच्चे??

    बच्चे भी तो बड़ों से ही सीखते है.....!

    ReplyDelete
  20. झूठ के बीच सच को रहना सीखना पड़ता है .

    ReplyDelete
  21. यह झूठ गीत का लय और ताल तो हमें भी इसके गीत गाने को विवश करता है।

    ReplyDelete
  22. इसे पढ़कर देवानंद और हेमा मालिनी जी के एक गाने की याद आ गई...
    पलभर के लिए कोई तो प्यार कर ले झूठा ही सहीः)

    ReplyDelete
  23. झूठ के बोलबाले के बीच भी सत्य की सार्थकता का यकीन दिलाती एक सार्थक रचना!

    ReplyDelete
  24. एक झूठ होता है झूठमूठ का झूठ , वो बड़ा प्यारा होता है | इसे किसी अपने को सताने के लिए बोला जाता है | सताए जाने वाला जानता है कि झूठ झूठमूठ का ही है ,फिर भी अपने उनका मन रखने के लिए झूठ को सच मान लेता है |

    ReplyDelete
  25. bahut hi sahi kaha aapne ----------aaj jhuth ke aage sach bauna ho gaya hai lekin jahan bhi sach hai sir utha kar hai

    ReplyDelete
  26. झूठ फिर भी झूठ है और सच सच... सुन्दर प्रस्तुति... आभार

    ReplyDelete
  27. झूठों का अम्बार लगा है
    झूठ ने सच को खूब ठगा है
    जग में पलता,मुटियाता झूठ
    सच की मैयत में गाता झूठ........
    एक जबरदस्त सच
    पर कभी-कभी सच ही सच को झुठला देता है
    आज-कल के राजनीतिज्ञों के समान
    सादर

    ReplyDelete
  28. Jhoot jhoot hi hota hai.. sach se wah darta hi hai..
    bahut badiya prastuti..

    ReplyDelete
  29. बेहतरीन सुन्दर रचना
    (अरुन =arunsblog.in)

    ReplyDelete
  30. झूठों का अम्बार लगा है
    झूठ ने सच को खूब ठगा है
    जग में पलता,मुटियाता झूठ
    सच की मैयत में गाता झूठ....

    ...
    सच की याद दिलाता झूठ... सुंदर !

    ReplyDelete
  31. सुन्दर गीत है .गुनगुनाने को दिल करता है.

    ReplyDelete
  32. सुंदर सच्ची रचना....

    सत्य जुता है जिस गाड़ी में
    करे सवारी उस पर झूठ

    सादर

    ReplyDelete
  33. झूठ बोलते नन्हें बच्चे
    तो बड़े बड़े भी कहाँ के सच्चे??
    सावन की अब बारिश झूठी
    मन में पलती ख्वाहिश झूठी.. bikul sacchi abhivaykti....

    ReplyDelete
  34. झूठों का अम्बार लगा है
    झूठ ने सच को खूब ठगा है
    जग में पलता,मुटियाता झूठ
    सच की मैयत में गाता झूठ.

    झूठे का बोलबाला और सच्चे का नहीं कोई रखवाला .....
    बहुत सुंदर रचना ... बधाई

    ReplyDelete
  35. सच कहा .....झूट का ही बोलवाला है

    ReplyDelete
  36. Sab kuch jhut mere hishab se sabhi kabhi n kabhi jhut jarur bolte hain . Jhut ke upar likha huaa aapka ak ak shabad bolta huaa nazar aata hai ki ab to sab kuch jhuta hi hai...

    ReplyDelete
  37. अब तो झूठ और सच में अंतर करना भी मुश्किल हो गया है ,सच झूठ लगने लगता है और झूठ सच !

    ReplyDelete
  38. झूठ बोलना पाप है, पर सभी ये पाप करते. ऐसे ही दुनिया चलती है... अच्छी रचना, बधाई.

    ReplyDelete
  39. सावन की अब बारिश झूठी
    मन में पलती ख्वाहिश झूठी
    ...wah Anu kyaa khoob likha hai!
    Bahut sunder..(sach main:))

    ReplyDelete
  40. सावन की अब बारिश झूठी
    मन में पलती ख्वाहिश झूठी
    ...wah Anu kyaa khoob likha hai!
    Bahut khoob (sach mein:))

    ReplyDelete
  41. बहुत खूब...बहुत सुन्दर प्रस्तुति....
    आज का आगरा

    ReplyDelete
  42. सुन्दर प्रस्तुति... आभार

    ReplyDelete
  43. hakikat se rubru karaati ek bahut hi khubsurat rachana.......aaj ke yug me jhuthh ka hi bolbala h aur logo ne iske sath sahaj hi jeena bhi sikh liya h.......aashcharyajanak !बहुत सुन्दर प्रस्तुति....

    ReplyDelete
  44. सच कि मैय्यत में गाता झूठ.

    सटीक और उम्दा पंक्ति.


    विकल्प
    whynotvikalp.blogspot.in

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

प्रेमपत्र

मेरी लिखी कहानी "स्नेहा" - 92.7 big fm पर नीलेश मिश्रा की जादुई आवाज़ में................

दैनिक जागरण के राष्ट्रीय संस्करण में मेरी किताब "इश्क तुम्हें हो जाएगा " की समीक्षा...............