एक ख्वाब-जलता हुआ सा.....

भास्कर भूमि में प्रकाशित  http://bhaskarbhumi.com/epaper/index.php?d=2012-06-11&id=8&city=Rajnandgaon

रात मैंने ख्वाब में
सूरज को देखा था.
जल उठा था मेरा ख्वाब,
मेरी बंद आँखों में...
मेरे आंसुओं की नमी भी 
बचा न सकी उसे जलने से....
अब कैसे बीनूं वो अधजले टुकड़े!!
कैसे सृजन करूँ एक नये ख्वाब का,
जिससे देख सकूँ 
एक चाँद अबकी बार....
एक पूरा चाँद....
जो भर दे शीतलता
मेरी धधकती आँखों में,
शांत कर दे उस आग को 
जो जला गया सूरज, मेरे सीने में...
इसके  पहले कि
इस धुएँ से मेरा दम घुट जाए...
काश!! मुझे नींद आ जाये....
और आ जाये चाँद 
मेरे ख़्वाबों में..
जी जाऊं मैं
     मेरे ख़्वाबों में......

-अनु 


Comments

  1. जी जाऊं मैं
    मेरे ख़्वाबों में......
    बहुत ही बढि़या प्रस्‍तुति ...आभार

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति..अनु । मै तो यही कहुँगी... नित नया सृजन करो ..ख्वाब का

    ReplyDelete
  3. काश!! मुझे नींद आ जाये....
    और आ जाये चाँद
    मेरे ख़्वाबों में..

    मन मोहक सुंदर अभिव्यक्ति ,,,,,

    MY RESENT POST,,,,,काव्यान्जलि ...: स्वागत गीत,,,,,

    ReplyDelete
  4. ओह सूरज की रौशनी जला गयी ख़्वाबों को ...
    जीवन में अति भी दुखदायी होती है ...
    मन को छू गयी ये तड़प ....!!
    बहुत सार्थक बात कही है ...अनु ...

    ReplyDelete
  5. नित नए ख्वाब बुनो नित नया चाँद..
    बहुत ही खूबसूरत प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  6. काश!! मुझे नींद आ जाये....
    और आ जाये चाँद
    मेरे ख़्वाबों में..
    जी जाऊं मैं
    मेरे ख़्वाबों में......

    ....बहुत खूब! लाज़वाब अहसास और उनकी प्रभावी अभिव्यक्ति..बधाई !

    ReplyDelete
  7. आ जाए चाँद ख्वाबों में ही सही ...
    जी लू कुछ पल नींदों में ही सही ...
    बहुत बढ़िया !

    ReplyDelete
  8. behad khoobsurat rachna..... hridaysparshi!

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (09-06-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बहुत शुक्रिया शास्त्री जी.

      Delete
  10. इसे पढ़ते हुए
    देखने लगा मैं भी
    एक ख्वाब
    कि ख्वाब मे
    एक और ख्वाब को
    सहेज लिया है मैंने :)

    बहुत ही अच्छा लिखा आपने।

    सादर

    ReplyDelete
  11. काश!! मुझे नींद आ जाये....
    और आ जाये चाँद
    मेरे ख़्वाबों में..
    जी जाऊं मैं...!!

    बस इससे ज्यादा कुछ नहीं....!!

    ReplyDelete
  12. शीतलता लेकर चाँद आये सृजन हो नए ख्वाब का... बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  13. ऊर्जा सूरज से और शीतलता चाँद से
    क्या बात है ... ख्वाब तो उभरेंगे ही

    ReplyDelete
  14. बड़ी प्यारी सी कविता है...

    ReplyDelete
  15. bahut bahut badhiya prastuti-----
    chand ki shitalta aapke spno ko apni chandni se nahla de
    inhi shubh kamnaon ke saath
    poonam

    ReplyDelete
  16. अनुजी मैं तो चाहूंगी ...हर रात एक नया चाँद आपके ख्वाबों में आये .......जिसकी छिटकी चान्दिनी ....अपनी सारी शीतलता उड़ेल दे आपके जीवन में ......और धत्ता बता दे सूरज को .....!!!!!!

    ReplyDelete
  17. चाँद की शीतलता, ह्रदय की उद्धिग्नता से पार पा ही लेगी .भाव प्रवणता को को एक आयाम देती रचना

    ReplyDelete
  18. बहुत ही सुंदर भावों से रची गई कविता का भाव अच्छा लगा । मेरे पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  19. अब कैसे बीनूं वो अधजले टुकड़े!!... और कैसे फिर से सपने देखने का साहस करूँ

    ReplyDelete
  20. हर बार की तरह शानदार प्रस्तुति

    ReplyDelete
  21. very soft n sweet creation...

    ReplyDelete
  22. अधजले टुकड़े समेट फिर से ख्वाब देखने का साहस करना
    एसे साहस को सलामः)

    ReplyDelete
  23. इसके पहले कि
    इस धुएँ से मेरा दम घुट जाए...
    काश!! मुझे नींद आ जाये....
    और आ जाये चाँद
    मेरे ख़्वाबों में..
    जी जाऊं मैं
    मेरे ख़्वाबों में......
    बहूत .बहूत सुंदर पंक्तीया..
    बहूत सुंदर रचना...

    ReplyDelete
  24. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति.. ..

    ReplyDelete
  25. हमेशा की तरह मृदु भावों की सहज अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  26. ख्यालो और एहसासों की कहानी की बहुत ही . हर पंक्ति खुद में अर्थ समेटे है.......

    ReplyDelete
  27. सूरज की तपिश जलाती ही नहीं अपितु जीवन भी तो देती है अनु जी।...
    और चाँद तो एक छलावा है। कभी पूरा वृत्त लिए- लोक लुभावन रूप में, कभी संतरे की फांक सी और कभी लुप्त।.......
    सुन्दर रचना।

    ReplyDelete
  28. awesome! जल उठा था मेरा ख्वाब....कैसे सृजन करूँ एक नये ख्वाब का....

    ReplyDelete
  29. ख़्वाबों और ख्यालों में बनते बिगड़ते सपने ..सूरज की तपिश , आंसूओं की नमी और चाँद की शीतलता .....सब कुछ प्रासंगिक है ...अब नींद आ जायेगी ,,,,!

    ReplyDelete
  30. एक पूरा चाँद....
    जो भर दे शीतलता
    मेरी धधकती आँखों में,
    शांत कर दे उस आग को

    बहुत सुंदर भावनाएं लिये अर्थपूर्ण कविता.

    बधाई.

    ReplyDelete
  31. मेरे आंसुओं की नमी भी
    बचा न सकी उसे जलने से....
    अब कैसे बीनूं वो अधजले टुकड़े!!
    कैसे सृजन करूँ एक नये ख्वाब का,
    जिससे देख सकूँ
    एक चाँद अबकी बार....


    VAKAI BAHUT HI SUNDAR AUR ANTARMAN KO CHHOONE WALI ABHIVYKTI LAGI .......ANU JI BADHAI SWEEKAREN

    ReplyDelete
  32. seedhi dil se nikli huyi shandaar kavita....

    ReplyDelete
  33. बेहतरीन प्रस्‍तुति
    (अरुन =arunsblog.in)

    ReplyDelete
  34. अब कैसे बीनूं वो अधजले टुकड़े!!
    कैसे सृजन करूँ एक नये ख्वाब का,

    jiwan ke bahu aayami tukade aur in tukadon men jite hum .
    kabhi naw bailgarhi par to kabhi baigarhi naw par ,sukh dukh ka
    yahi sang sath ,dubate utarate prashna aur usike sath hum aage pichhe,
    jiwan ki aapa dhapi ...........

    ReplyDelete
  35. सुंदर आत्‍ममुग्‍धता

    ReplyDelete
  36. क्या बात है...

    ReplyDelete
  37. बहुत सुंदर भावनाएं

    ReplyDelete
  38. सूरज या कि चांद-जो भी है,भीतर ही है!

    ReplyDelete
  39. सुन्दर कल्पना । कोमल चाह ।

    ReplyDelete
  40. अदभुत....अदभुत......!!

    ReplyDelete
  41. सुंदर चाह ..बहुत सुंदर..बधाई..

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

प्रेमपत्र

मेरी लिखी कहानी "स्नेहा" - 92.7 big fm पर नीलेश मिश्रा की जादुई आवाज़ में................

दैनिक जागरण के राष्ट्रीय संस्करण में मेरी किताब "इश्क तुम्हें हो जाएगा " की समीक्षा...............