बाबा की बिटिया


मैं अपने बाबा  की
दुलारी बेटी हूँ
 

मेरी आधी उम्र गुज़र गयी,  मगर उनके लिए अब भी छोटी हूँ...

बचपन से थामी उँगलियाँ
अब भी थाम रखी हैं...
पहले पकड़ उनकी थी...
अब मैंने  जकड रखी हैं.

तब उन्होंने सिखाया 
पैरों पर खड़ा होना ..
चलना...
अब मैं टोका करती  हूँ
कि  वो सम्हल कर  चलें..

तब उन्होंने मेरे खान-पान का खूब ख्याल रखा.
अब मैं ख्याल रखती हूँ
कि वो खूब न खाएं...

तब जब कभी मुझे चोट लगी तो
वो अस्पताल ले दौड़े ..
अब जब उन्हें अस्पताल ले दौड़ी
तो मुझे चोट लगी...

जब कभी उनका दिल दुखाया
तब खूब रोई...
और जब जब मैं रोई..
जानती हूँ,उनका दिल खूब दुखा .....


-अनु (the first poem i ever wrote)

Comments

  1. Beautiful poem and lovely picture. Is that you and your dad ? It is a perfect image of love !

    ReplyDelete
    Replies
    1. Oh I forgot today is fathers day. Best wishes to your dad !

      Delete
  2. अपने बाबा को यूँ ही संभाले रहना,
    गुजरती उम्र ज़्यादा तवज्जो मांगती है !

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर भावुक कविता फादर्स डे पर पर यह पहली कविता है तब तो और भी बढ़िया है. बधाई.

    ReplyDelete
  4. पिता -पुत्री का स्नेह ऐसा ही होता है..इन भावों के लिए ही जिन्दगी खुश होती है..

    ReplyDelete
  5. तब उन्होंने मेरे खान-पान का खूब ख्याल रखा.
    अब मैं ख्याल रखती हूँ
    की वो खूब न खाएं...

    आयु के साथ पिता-पुत्री का प्रेम बढ़ता है. खाने-पीने का अनुशासन भी आयु के अनुसार है :)) हैप्पी फादर्स डे.

    ReplyDelete
  6. तब उन्होंने सिखाया
    पैरों पर खड़ा होना ..
    चलना...
    अब मैं टोका करती हूँ
    की वो सम्हल कर चलें..

    बहुत बेहतरीन मन को भाउक करती रचना,,,,,

    RECENT POST ,,,,,पर याद छोड़ जायेगें,,,,,

    ReplyDelete
  7. अनु की यह अनुभूतियाँ, अन्तस की अनमोल |
    रानी बिटिया मन्त्र है, पिताश्री के बोल |
    पिताश्री के बोल, घोलते रस कानों में |
    कन्या करे किलोल, पिता की मुस्कानों में |
    जीवन का संघर्ष, बड़ा आसाँ हो जाए |
    बढे वर्ष दर वर्ष, हाथ बाबा का पाए ||

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार रविकर जी....
      पापा को पढ़वाती हूँ आपकी ये पंक्तियाँ...

      Delete
    2. इसे भी-
      http://dineshkidillagi.blogspot.in/2012/06/blog-post_9539.html

      सादर

      Delete
  8. अंदाज पसंद आया। पर यह बात समझ नहीं आई कि आपने लिखा आधी उम्र गुजर गई। आपको कैसे पता कि आपकी आधी उम्र गुजर गई है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. अंदाजा लगाया
      और कविता में फिट पाया............
      ;-)

      सादर

      Delete
  9. अत्यंत बेहतरीन रचना

    ReplyDelete
  10. पिता पुत्री का रिश्ता ही इतना प्यारा होता है कि मन भावुक हो उठा....बहुत सुन्दर....

    ReplyDelete
  11. वाह , अनु जी . पितृ दिवस पर बहुत सुन्दर और सार्थक रचना लिखी है .

    मात पिता भी बच्चों से यही उम्मीद रखते हैं की --

    जीवन के सब उपवन जब मुरझा जाएँ
    तब बड़े होकर बच्चे ही उनके काम आयें .

    ReplyDelete
  12. कितने सुंदर हृदय के उद्गार हैं ....कोमल हृदय की भावपूर्ण अभिव्यक्ति ....आंख नम कर गयी ....
    शुभकामनायें....!!

    ReplyDelete
  13. बाबा के चेहरे की कान्ति बता रही है की संतति के सर को अपने कंधे का सहारा वो अभी भी दे सकते है , इतना कुछ याद दिला दिया आपने . सुन्दर

    ReplyDelete
  14. थोडा समय,थोड़ी देखभाल और थोडा सा प्यार
    बस इसी का थोडा मिक्सचर और दुलार ....
    हर बेटी-बेटे से हर बाबा की है इतनी सी दरकार
    बदले में लो लाखों दुआएं बार-बार बार-बार ....
    स्नेह और आशीर्वाद !

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर .प्यारी सी रचना....
    और आपकी तस्वीर भी बहुत सुन्दर है....
    :-)

    ReplyDelete
  16. अनु जी , बहुत भावुक बातें है यह सब.यह सब महसूस करना फिर उसे शब्दों में रखना......सुन्दर...धन्यवाद.

    ReplyDelete
  17. बहुत प्यारी तस्वीर...बहुत प्यारी कविता...HAPPY FATHER'S DAY !!

    ReplyDelete
  18. बहुत बहुत शुभकामनाएं
    बाबा जी की उंगली पकड कर बड़ी हुईं है अब बाबा को जरूरत है आपके उंगली की।

    ReplyDelete
  19. पहले पकड़ उनकी थी...
    अब मैंने जकड रखी हैं.

    -अनु (the first poem i ever wrote)...:-)

    Anu ji - This is awesomeness...bahut sundar bhav!!

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर | उन्हें आपका स्नेह ,दुलार और आपको उनका आशीर्वाद सदैव ऐसे ही मिलता रहे |

    ReplyDelete
  21. पितृ दिवस पर बेहतरीन रचना।


    सादर

    ReplyDelete
  22. पापा के लिए ऐसी प्यारी बेटी पापा की ख़ुशी ...

    ReplyDelete
  23. भावुक करती रचना
    पितृ दिवस की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  24. very-very touching.... happy fathers day....

    ReplyDelete
  25. beautiful post again...happy father's day....anu di :)

    ReplyDelete
  26. बिटियाऎं ही तो हमेशा ही बाबा की होती ही हैं।

    ReplyDelete
  27. पहले पकड़ उनकी थी...
    अब मैंने जकड रखी हैं. ये ही जरुरी है

    ReplyDelete
  28. दुलारी सी बेटी ने बहुत प्यारी रचना लिखी है ... और मन की भावनाओं को सुंदरता से ढाला है ... शुभकामनायें

    ReplyDelete
  29. बहुत अच्छी रचना है। एकदम सहज। सीधी दिल से निकली,तभी दिल तक पहुंची।

    ReplyDelete
  30. **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    *****************************************************************
    बेहतरीन रचना

    केरा तबहिं न चेतिआ,
    जब ढिंग लागी बेर



    ♥ आपके ब्लॉग़ की चर्चा ब्लॉग4वार्ता पर ! ♥

    ♥ संडे सन्नाट, खबरें झन्नाट♥


    ♥ शुभकामनाएं ♥
    ब्लॉ.ललित शर्मा
    **************************************************
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**

    ReplyDelete
  31. पापा की बेटी हू मगर उनके लिए अब भी छोटी हूँ.
    हर बेटी के दिल की बात बताती

    ReplyDelete
  32. बहुत बेहतरीन रचना....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete
  33. saari betiyaa aisi hee hoti hai aur aise hi hote hai papa :-)

    ReplyDelete
  34. भावमय करते शब्‍दों का संगम ... आभार

    ReplyDelete
  35. This was precisely the reason i wanted a girl child. I know girls are always a Papa's child.
    BTW this was a very poignant poem, one for the archives. Thank you.

    ReplyDelete
  36. कितनी ही देर तक तो तस्वीर ही निहारती रही ....और क्या कहूँ..

    ReplyDelete
  37. Shekhran uncle always maintaied a lush and beautiful garden . Seen here , is his most beautiful and cherished flower ! Daughters r forever !

    ReplyDelete
  38. बड़ी प्यारी कविता है और फोटो भी |
    आशा

    ReplyDelete
  39. sach men bahut acchi abhiwayakti.....biten palon ki yaad dila di...anu jee...

    ReplyDelete
  40. So that was the first ever poem you wrote,Very good!
    Really touching!

    ReplyDelete
  41. chhote chhote shabdo me papa ke prati pyar shabdo me jatana ... achchha lga... aur sach me photo me bhi pyar ki kavita chhalak rahi hai... abhar!

    ReplyDelete
  42. Extremely beautiful !!
    God bless.

    ReplyDelete
  43. ishwr se yahi dua hai ki ye sath sada yunhi bana rahe...waqt ka kohra ise kabhi dhoomil n kar paaye...

    ReplyDelete
  44. मैं थोड़ा इमोशनल हो जाता हूँ ऐसी खूबसूरत बातें पढ़ के!

    ReplyDelete
  45. शिखा दी की बात मैं भी कहने वाला था..की कविता पढ़ के कितनी देर तो तस्वीर को देखते रहा, फिर कविता दुबारा पढ़ा!

    ReplyDelete
  46. Beautiful creation Anu ji.

    ReplyDelete
  47. मैं भी तस्वीर निहारता रह गया.. :) और फिर रचना पढ़ा तो मुझे भी अपने पापा की याद आ गयी...

    ReplyDelete
  48. now i know why dad is soooooooooooooo fond of u . lov u di

    ReplyDelete
  49. wow..and ur first ever effort is so beautiful..keep writing dear..:)

    ReplyDelete
  50. Is January mere papa chale gaye....apki kavita padh kar khoob royi hu aaj.....

    ReplyDelete
  51. .


    प्रिय अनु जी
    नमस्कार !

    जब कभी उनका दिल दुखाया
    तब खूब रोई...
    और जब जब मैं रोई..
    जानती हूँ,उनका दिल खूब दुखा .....

    बाबा का दिल अब मत दुखाना …

    बहुत भावमय ! वाऽऽह… !
    अच्छे भाव सुंदर शब्दों में ढल गए हैं …

    …आपकी लेखनी से और सुंदर रचनाओं का सृजन हो , यही कामना है …
    आदरणीय बाबा और बाबा की बिटिया के लिए शुभकामनाओं सहित…

    ReplyDelete
  52. जब कभी उनका दिल दुखाया
    तब खूब रोई...
    और जब जब मैं रोई..
    जानती हूँ,उनका दिल खूब दुखा ...आखिर रुला ही दिया

    ReplyDelete
  53. अनु mam ,
    वाकई बहुत सुन्दर , बहुत प्यारी और बहुत आसान (मुझे ज्यादा कठिन शब्द समझ नहीं आते )|

    "मेरी माँ ही मेरा सब कुछ नहीं हैं इस दुनिया में ,
    एक शख्स और है जिसने ख़ामोशी से मुझे प्यार किया |"

    -आकाश

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

प्रेमपत्र

मेरी लिखी कहानी "स्नेहा" - 92.7 big fm पर नीलेश मिश्रा की जादुई आवाज़ में................

दैनिक जागरण के राष्ट्रीय संस्करण में मेरी किताब "इश्क तुम्हें हो जाएगा " की समीक्षा...............