इन्होने पढ़ा है मेरा जीवन...सो अब उसका हिस्सा हैं........

Monday, June 11, 2012

मेरे गीत

     "मेरे गीतों में"
मेरे ह्रदय  की भावनाएं हैं,
पूरी और अधूरी कामनाएं हैं...

बच्चों सी हँसी ठिठोली है
कुछ खट्टी मीठी बोली है...

रांझे-हीर सा प्यार है
मेरे मन का हरसिंगार है...

कविता  का सम्मान है
मेरा धर्म और ईमान है...

पंछियों की चहचहाहट है
तेरे आने की हल्की आहट  है...

आँखों  में कटती रात है
कभी खत्म ना हो वो बात है...

कभी टूटा कोई सपना है
जैसे रूठा कोई अपना है...

अतीत  का हर एक किस्सा  है
जीवन का अटूट हिस्सा है...

बस एक ज़रा सी फ़िक्र है
कि तुम और तुम्हारा ज़िक्र है
मेरे गीतों में....


-अनु 

45 comments:

  1. बस एक ज़रा सी फ़िक्र है
    कि तुम और तुम्हारा ज़िक्र है
    मेरे गीतों में....
    bahut khubsoorat!
    saath bana rahe- Lori

    ReplyDelete
  2. सब कुछ तो है गीतों में ..:-)

    ReplyDelete
  3. बस एक ज़रा सी फ़िक्र है
    कि तुम और तुम्हारा ज़िक्र है
    मेरे गीतों में....
    वाह ... बहुत खूब लिखा है ... आभार ।

    ReplyDelete
  4. आँखों में कटती रात है
    कभी खत्म ना हो वो बात है...
    चलता रहे यही सिलसिला ....
    सुनते रहें आपके मनभावन गीत ...

    ReplyDelete
  5. बहूत हि सुंदर गीत है..
    लाजवाब:-)

    ReplyDelete
  6. बहुत प्यारी रचना अनु जी
    बहुत सारे भाव संजोए हैं
    बच्चों की ठिठोली...
    हरसिंगार की महक...
    एक दूसरे के लिए फ़िक्र...
    सुंदर रचना !!

    सस्नेह

    ReplyDelete
  7. जब चारों और प्रेम ही प्रेम हो तो उनका जिक्र तो हर रचना शब्द में होना ही है ...
    लाजवाब रचना ...

    ReplyDelete
  8. गीतों में आपके जीवन के सारे रंग दिखते है . मनभावन गीत है जी , हम तो रसास्वादन करते हुए नहीं अघाते .

    ReplyDelete
  9. अतीत का हर एक किस्सा है
    जीवन का अटूट हिस्सा है...
    बस एक ज़रा सी फ़िक्र है
    कि तुम और तुम्हारा ज़िक्र है
    मेरे गीतों में....

    बेहतरीन अभिव्यक्ति की सुंदर रचना,,,,, ,

    MY RECENT POST,,,,काव्यान्जलि ...: ब्याह रचाने के लिये,,,,,

    ReplyDelete
  10. लाजवाब बेहद खुबसूरत !!!!

    ReplyDelete
  11. ...wonderful, Anu! May you write thousands like this...God bless you!

    ReplyDelete
  12. मेरे ह्रदय की भावनाएं हैं,
    पूरी और अधूरी कामनाएं हैं...

    बच्चों सी हँसी ठिठोली है
    कुछ खट्टी मीठी बोली है...

    गहन भाव लिये गीत ..

    ReplyDelete
  13. कविता में मन का आकाश समाया है । सुन्दर कविता ।

    ReplyDelete
  14. बस एक ज़रा सी फ़िक्र है
    कि तुम और तुम्हारा ज़िक्र है
    मेरे गीतों में....

    ReplyDelete
  15. दिनभर काम के थकान के बाद अभी आपके ब्लॉग तक आया तो मन खुश हुआ पढ़कर.

    ReplyDelete
  16. बस एक ज़रा सी फ़िक्र है
    कि तुम और तुम्हारा ज़िक्र है
    मेरे गीतों में....सुन्दर है

    ReplyDelete
  17. पंछियों की चहचहाहट है
    तेरे आने की हल्की आहट है...
    इंतज़ार हो तो ऐसा ही लगता है

    ReplyDelete
  18. आँखों में कटती रात है
    कभी खत्म ना हो वो बात ...sahi bat.....yhi to sukh hai milan ki rat ka...aur dil ki bat ka....

    ReplyDelete
  19. Brilliant and beautifully rhyming stanzas !

    ReplyDelete
  20. कविता का सम्मान है
    मेरा धर्म और ईमान है…
    beautiful! :-)

    ReplyDelete
  21. यही ज़िक्र तो जीने का आधार है

    ReplyDelete
  22. बहुत सुरीला गीत था..साभार.

    ReplyDelete
  23. कोमल भावनाओं का गीत. सुंदर रचना.

    ReplyDelete
  24. बस एक ज़रा सी फ़िक्र है
    कि तुम और तुम्हारा ज़िक्र है
    मेरे गीतों में....
    bahut khub anu :)

    ReplyDelete
  25. जब हो ही गया जिक्र है ,
    तो अब काहे की फिर है
    शुभकामनाये आप के गीत को .....:-)

    ReplyDelete
  26. कल 13/06/2012 को आपकी इस पोस्‍ट को नयी पुरानी हलचल पर लिंक किया जा रहा हैं.

    आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!


    '' छोटे बच्‍चों की बड़ी दुनिया ''

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया सदा..............

      Delete
  27. गीत को गीत बनाने वाले सारे तत्व मौजूद हैं आपके गीतों में...

    ReplyDelete
  28. पूरी एक दुनिया है आपके गीतों में.

    अति सुन्दर.


    विकल्प
    whynotvikalp.blogspot.in

    ReplyDelete
  29. बहुत कोमल अहसास हैं रचना में .
    अति सुन्दर .

    ReplyDelete
  30. बहुत ही अच्छी रचना मन के भावों की

    ReplyDelete
  31. पंछियों की चहचहाहट है
    तेरे आने की हल्की आहट है...

    वाह क्या बात है..बड़ी प्यारी सी कविता है..

    ReplyDelete
  32. फ़िक्र है कि होगा तेरा ज़िक्र जब जब ,
    नाम लबों पे दुनिया की होगा मेरा तब तब |

    ReplyDelete
  33. पहली बार आपके ब्लाग पर आने का मौका मिला..अच्छा लगा

    बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  34. आप की कविताए कमाल की और दिल को छुने वाली होती है

    हिन्दी दुनिया ब्लॉग (नया ब्लॉग)

    ReplyDelete
  35. बहुत सुंदर रचना....

    ReplyDelete
  36. गीत में समेटा मन का सारा संसार है
    ज़िक्र उनका न हो तो सब बेकार है :):)

    बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  37. वाह! वाह! बहुत सुंदर है आपका गीत....
    सादर बधाई।

    ReplyDelete
  38. लाजवाब गीत है आपका ..

    ReplyDelete

नए पुराने मौसम

मौसम अपने संक्रमण काल में है|धीरे धीरे बादलों में पानी जमा हो रहा है पर बरसने को तैयार नहीं...शायद उनकी आसमान से यारी छूट नहीं रही ! मोह...