चुगलखोर पन्ने

डायरियां बड़ी चुगलखोर होतीं हैं................
जब आप लिखते हैं तो भावनाओं का ज्वार उठा होता है........और आप लिख डालते हैं वो सब कुछ जो शायद आप किसी से कह नहीं सकते......बस कलम चलती जाती हैं और दिल का खाका खिचता जाता है कोरे कागज़ पर.......
बड़ा आनंद आता है किसी पुरानी डायरी को पढ़ने में........फिर चाहे वो हमारी अपनी हो या हमारे किसी अपने की या फिर किसी अनजाने की/किसी पराये की.........
जैसे कि आप पढते हैं मेरी डायरी के पन्ने.......जबकि जानते  नहीं मुझे.....पहचानते भी नहीं.......और शायद जानना चाहते भी नहीं....मगर पढ़ तो लेते ही हैं.......मैंने भी पढ़ी हैं डायरियां चोरी से........जब जिसकी हाथ लगी........बड़े राज़ खोलते है ये पन्ने.....
कोई पराया शायद चाहता हो आपको दिलो जान से........या आपका कोई करीबी आपकी सूरत भी ना देखना चाहता हो......बड़ा रिस्क है डायरी पढ़ने में.


डायरियां समेटे रहतीं  हैं 
प्यार के पल/तकरार के पल...
पहली मुलाक़ात
या जुदाई की रात....
मोहब्ब्त के रंग 
और नफरत के ढंग....
इनमे होता है 
मनुहार/इकरार
करार/इंकार
या कभी 
स्वीकार और अंगीकार.....
या फिर कुछ नहीं.....
सब फरार........
डायरी होती है 
गिरगिट की तरह.....
रंग बदलती...
स्वांग रचती....
कभी ख्वाब बुनती
कभी किरचें चुनती.......
हर सफहा 
होता है दिल का आईना....
हर लफ्ज़ 
रूह की फरियाद..........


-अनु 


नोट- कभी किसी चाहने वाले की डायरी न पढ़ना......क्या पता कोई भरम ही  टूट  जाये.

Comments

  1. डायरी अर्थात् मन की तस्वीर....
    वह सहेजती है सब कुछ...
    तोड़ती कुछ भ्रम भी...

    बहुत सुंदर प्रस्तुति अनु जी
    सप्रेम

    ReplyDelete
  2. aekdam shi lokha hae aapne .bdhai.

    ReplyDelete
  3. ये अंत में बड़ी प्यारी सलाह दे गयी आपकी नोट:)
    कुछ भ्रम बने रहे यही अच्छा होता है!

    ReplyDelete
  4. डायरी होती है,सच्चा आइना !

    ReplyDelete
  5. नोट- कभी किसी चाहने वाले की डायरी न पढ़ना......क्या पता कोई भरम ही टूट जाये.

    शायद इसीलिए शिष्ठाचार वश कहते होंगे किसी की डायरी नहीं पढना !
    अच्छी लगी रचना !

    ReplyDelete
  6. हर लफ्ज़
    रूह की फरियाद.........
    बिल्‍कुल सच

    ReplyDelete
  7. हम्म डायरी मित्र भी है और चुगलखोर भी :).
    सुन्दर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  8. हर सफहा
    होता है दिल का आईना....
    हर लफ्ज़
    रूह की फरियाद..........

    ....बहुत ख़ूबसूरत पंक्तियां ....बेहतरीन रचना...

    ReplyDelete
  9. इसीलिए मैंने डायरी लिखना बन्द कर दिया ...

    ReplyDelete
  10. kyaa baat hai Anu...kitna kuchh kah dala hai aapne in chand lines mein...'reference' ne to bas kamaal hi kar diya...

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर भावपूर्ण अभिव्यक्ति, बेहतरीन रचना.
    कभी किसी चाहने वाले की डायरी न पढ़ना.........बिल्‍कुल सच

    ReplyDelete
  12. Diary is the best way to express our self... bohot aacha topic post kia...loved it...

    ReplyDelete
  13. मेरी डायरी ...किसी के हाँथ पड़ गई थी ...सब कह दिया उसने बस तबसे लिखा ही नहीं

    ReplyDelete
  14. हर सफहा
    होता है दिल का आईना....
    हर लफ्ज़
    रूह की फरियाद..........

    डायरी मन का पन्ना होती है,
    अति सुंदर भाव पुर्ण अभिव्यक्ति ,...

    ReplyDelete
  15. अब तो ब्लॉग को ही डायरी बना डाला है हमने....Smiles...

    ReplyDelete
  16. अगर किसी के हाथ न लगे तो डायरी से अच्छा मित्र कोई नहीं।
    बहुत बढि़या कविता।

    ReplyDelete
  17. डायरी तो आईना है ..
    यथारूप दिखाने की आदत है इसको शायद

    ReplyDelete
  18. चुगलखोर डायरी किसी को रिझाती है तो किसी को खिझाती है . आपकी सलाह एकदम खरे सोने की तरह .

    ReplyDelete
  19. बहुत बढ़िया । मेरे पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा ।धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  20. सुन्दर प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  21. bhaut hi khubsurat alfaazo me apne dayari ki baat kah di....

    ReplyDelete
  22. बहुत रिस्की है डायरी .....:)
    सुंदर प्रस्तुति ....!!
    शुभकामनायें .

    ReplyDelete
  23. हर सफहा होता है दिल का आईना,
    हर लफ्ज़ रूह की फरियाद!
    चुगलखोर कहाँ? सखी है वो, सबसे ख़ास... जिसे सबकुछ बता सकते हैं :)
    बहुत सुन्दर अनु जी,
    सादर|

    ReplyDelete
  24. डायरियों को पढ़ने का अपना ही आनंद होता है

    ReplyDelete
  25. कभी ख्वाब बुनती
    कभी किरचें चुनती.......

    वाह कितनी खूबसूरत बात कही है अनुजी ........जब दूसरे के मन का सच उजागर होता है ......तो कुछ ऐसा ही अहसास होता है ....!!!!!

    ReplyDelete
  26. लेकिन फिर भी डायरियां सच बोलती हैं....

    ReplyDelete
  27. बेहतरीन कविता और अंत मे आपने अच्छा सुझाव दिया है।

    सादर

    ReplyDelete
  28. सचमुच डायरी दिल का दस्तावेज होती है । बहुत सुन्दर कविता ।

    ReplyDelete
  29. डायरी लेखन एक कला है |अच्छी रचना |
    आशा

    ReplyDelete
  30. सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  31. अनकहे,अज्ञात के प्रति मनुष्य सदा से जिज्ञासु रहा है। औरों की डायरी के प्रति आकर्षण इसी का सहज परिणाम है। मैं इसीलिए लिखता ही नहीं। जानते रहो!

    ReplyDelete
  32. बहुत सुन्दर प्रस्तुति..
    :-)

    ReplyDelete
  33. डायरी होती है
    गिरगिट की तरह.....
    रंग बदलती...
    स्वांग रचती....
    कभी ख्वाब बुनती
    कभी किरचें चुनती.......
    हर सफहा
    होता है दिल का आईना....
    हर लफ्ज़
    रूह की फरियाद..........

    एकदम सच बात कही....

    ReplyDelete
  34. न जाने कितनी बार लिख के काटा था ,मिटाया था नाम उनका ,डायरी पे | नाम लिखते थे ,फिर उनपे उंगलियाँ फेरते थे | नाम से भी प्यार सा हो गया था ,उनके | एक बार डायरी लग गई उन्हीं के हाथ ,पर अफ़सोस वो उन कटे नामों को पढ़ न सके और मेरी ज़िन्दगी की डायरी में वो नाम कटा ही रह गया |

    ReplyDelete
    Replies
    1. वाह अमित जी............
      क्या एहसास हैं...........बहुत सुंदर और कोमल...
      सादर

      Delete
  35. डायरी का फायदा ये है...कि कभी भविष्य में आत्मकथा लिखने में मदद मिल जाएगी...हर जिंदगी की अपनी अलग कहानी है...

    ReplyDelete
  36. इस चुगलखोर से कभी नाता नहीं जोड़ा .... हाँ किसी की डायरी पढ़ी ज़रूर थी .... सच ही जीवन के अनछुए पहलू खोल देती है डायरी ....


    नोट- कभी किसी चाहने वाले की डायरी न पढ़ना......क्या पता कोई भरम ही टूट जाये.

    यह सलाह गांठ बांध ली है :):) वैसे अब भ्रम को बचा ही क्या है :):)

    ReplyDelete
  37. एक सच्ची धरोहर 'डायरी'............

    ReplyDelete
  38. राज राज ही रहे...
    सुंदर रचना... सचेत भी करती हुई....
    सादर।

    ReplyDelete
  39. Beautifully written ode to diary. The note loads the poem with further meaning, nearly insidious in intent!

    ReplyDelete
  40. सबसे गूढ़ बात तो आपने आखिरी में बताई...कभी किसी चाहने वाले की डायरी न पढ़ना......क्या पता कोई भरम ही टूट जाये..

    ReplyDelete
  41. बड़ी प्यारी पोस्ट. दूसरे की डायरी पढना अच्छी बात नहीं है.

    ReplyDelete
  42. आपके लिखने का अंदाज़ मुझे अच्छा लगा
    और लिखिए हम और पढेंगे आपकी open diary को

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

प्रेमपत्र

मेरी लिखी कहानी "स्नेहा" - 92.7 big fm पर नीलेश मिश्रा की जादुई आवाज़ में................

दैनिक जागरण के राष्ट्रीय संस्करण में मेरी किताब "इश्क तुम्हें हो जाएगा " की समीक्षा...............