इन्होने पढ़ा है मेरा जीवन...सो अब उसका हिस्सा हैं........

Thursday, September 27, 2012

ख्वाब तुम पलो पलो

तन्हा कदम उठते नहीं
साथ तुम चलो चलो

नींद आ रही मुझे
ख्वाब तुम पलो पलो

आशिक  मेरा हसीन है
चाँद  तुम जलो जलो

वो इस कदर करीब है
बर्फ़ तुम गलो गलो

देखते  हैं सब हमें
प्रेम तुम छलो छलो

जुदा कभी न होंगे हम
वक्त तुम टलो टलो

दूरियां सिमट गयीं
हसरतों फूलो फलो

नेह  दीप जलता रहे
उम्मीद तुम मिलो मिलो

अनु 



 

55 comments:

  1. इतने हसीं ख्याल हैं,
    जीते रहो! जीते रहो!!

    ReplyDelete
  2. aisi sundar kavitayen
    tum hamesha likho likho;;

    really enjoyed your poetry;;;
    nice..

    ReplyDelete
  3. वाह..बहुत ही सुन्दर .

    ReplyDelete
  4. कविताओं, सुनो सुनो
    अनु की बगिया में खिलो खिलो
    खुशबुओं संग मिलो मिलो
    :-)
    सस्नेह

    ReplyDelete
  5. aur aisi pyari kavita
    aap likho aur hum padhte rahein.............

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर अनु !
    ~प्रेम यूँ ही महकता रहे...
    गीत में सजता रहे...
    प्यारी अनु,
    तुम यूँ ही सदा खिलो खिलो...~:-)

    ReplyDelete
  7. बात यूँ ही कहती रहो
    फोन पर हेलो हेलो ,,,,,

    RECENT POST : गीत,

    ReplyDelete
  8. बहुत ही प्यारी नज़्म है। इसमें मन की हसरतें पूरी तरह गुंथी हुई हैं।

    ReplyDelete
  9. ख्वाब,प्रेम,विश्वास....मिश्रित भाव

    ReplyDelete
  10. नेह दीप जलता रहे
    उम्मीद तुम मिलो मिलो...बहुत सुन्दर...अनु..

    ReplyDelete
  11. हमसफर जो साथ है ॥
    रुको नहीं चलो चलो ॥

    ज़िंदगी में प्रीत है ॥
    मुस्कान तुम खिलो खिलो ॥

    मोम की ये रीत है ....
    जल के ही गलो गलो ...

    एक हवा के झोंखे सा ...तारो ताज़ा ...
    बहुत सुंदर ...

    ReplyDelete
  12. अद्भुत कलाम है,
    और भी खुलो खुलो ।
    तन्हाई में कभी
    ख़ुद से मिलो मिलो ।

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर,प्यारा ख्वाब
    पल -पले,,फुले-फले..
    :-) :-)

    ReplyDelete
  14. जुदा कभी न होंगे हम
    वक्त तुम टलो टलो
    हंसी खुशी टल ही जायेगा :)
    सुन्दर ...

    ReplyDelete
  15. वाह बहुत खूब !


    कुछ बहरे आज भी राज कर रहे है - ब्लॉग बुलेटिन ब्लॉग जगत मे क्या चल रहा है उस को ब्लॉग जगत की पोस्टों के माध्यम से ही आप तक हम पहुँचते है ... आज आपकी यह पोस्ट भी इस प्रयास मे हमारा साथ दे रही है ... आपको सादर आभार !

    ReplyDelete
  16. जागती आँखों से
    ख्वाब बुनो
    चाँद से खूबसूरत
    महबूब चुनो ....

    खूबसूरत खयाल और कोमल सी रचना

    ReplyDelete
  17. नेह दीप जलता रहे
    उम्मीद तुम मिलो मिलो


    सभी पंक्तियां लाजवाब ...

    ReplyDelete
  18. लाजवाब....हर एक पंक्ति अलग अहसास लिए हुए..बेहतरीन रचना |

    ReplyDelete
  19. नेह दीप जलता रहे , उम्मीद तुम मिलो मिलो !
    जलता रहे यह दीप , फलती फूलती रहे आशाएं !

    ReplyDelete
  20. दूरियां सिमट गयीं
    हसरतों फूलो फलो
    आमीन!!

    ReplyDelete
  21. सुन्दर रचना अनु जी

    ReplyDelete
  22. बढ़िया भाव -

    सुन्दर कथ्य -



    बढ़ता नन्हा कदम है, मातु-पिता जब संग ।

    लेकिन तन्हा कदम पर, तुम बिन लगती जंग ।
    तुम बिन लगती जंग, तंग करती है दूरी ।

    जीतूँ जीवन-जंग, उपस्थिति बड़ी जरुरी ।

    थामे कृष्णा हाथ, प्यार का ज्वर चढ़ जाए ।

    छलिये चलिए साथ, कभी आ बिना बुलाये ।।

    ReplyDelete
  23. दूरियां सिमट गयीं
    हसरतों फूलो फलो
    ऐसा ही हो जहां हर हसरत फलीभूत हो ...

    ReplyDelete
  24. उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    ReplyDelete
  25. शब्दों का खूबसूरत तालमेल

    ReplyDelete
  26. नेह दीप जलता रहे
    उम्मीद तुम मिलो मिलो

    बड़े ख़ूबसूरत ख्याल हैं...

    ReplyDelete
  27. वाह, बहुत बढ़िया. हर पंक्ति खूबसूरत.

    ReplyDelete
  28. आपकी ख्वाहिश पूरी हो ,

    ReplyDelete
  29. झूम रहे हैं मस्ती में
    मन तुम खिलो खिलो .

    निर्मल सुन्दरता .

    ReplyDelete
  30. दूरियां सिमट गयीं
    हसरतों फूलो फलो

    नेह दीप जलता रहे
    उम्मीद तुम मिलो मिलो

    बेहतरीन ।

    ReplyDelete
  31. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (29-09-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  32. बहुत सुन्दर अनुजी .....कोमल प्यारे फायेसे अहसास

    ReplyDelete
  33. इतने अद्भुत लेखन पर टिप्पणी क्या करें , समझ से परे ,और केवल उत्कृष्ट लिख दूं ,वो भी कमतर लगता है | आप लिखती नहीं ,बस भावों को बह जाने देती हैं | उन्हें दिशा और ढलान के सहारे छोड़ देती हैं और रचना अपने आप बन जाती है |

    ReplyDelete
  34. इतने हसीं ख़याल हैं
    अनु ! तुम लिखो लिखो ...-:)

    ReplyDelete
  35. .

    अनुजी
    कमाल करती हैं आप भी कई बार …
    :)

    बहुत ख़ूब रचना लिखी है-
    नींद आ रही मुझे
    ख्वाब तुम पलो पलो

    आशिक मेरा हसीन है
    चाँद तुम जलो जलो

    वो इस कदर करीब है
    बर्फ़ तुम गलो गलो

    जुदा कभी न होंगे हम
    वक्त तुम टलो टलो

    दूरियां सिमट गयीं
    हसरतों फूलो फलो


    आपकी पिछली पोस्ट ने जहां उदास कर दिया था , उसकी भरपाई हो गई
    :))

    बहुत बहुत शुभकामनाएं…
    राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  36. देखते हैं सब हमें
    प्रेम तुम छलो छलो

    जुदा कभी न होंगे हम
    वक्त तुम टलो टलो

    शानदार पंक्तियाँ

    सादर

    ReplyDelete
  37. बहुत सुंदर भाव और प्रस्तुति. कविता में एक मिठास है जिससे वह दिल को छू जाती है.

    ReplyDelete
  38. वाह, बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  39. शब्द कम थे ,
    मगर बात बहुत गहरी थी ,
    सोचने को शायद ,
    मेरी सोच कम पड़ गयी |

    बहुत कम शब्दों में बहुत अच्छा काव्य |

    ReplyDelete
  40. कविता के भाव, शब्द एवं मिठास इसमें आकर्षण पैदा करते हैं। मेरे नए पोस्ट पर आकर मुझे प्रोत्साहित करने के लिए आपका विशेष आभार।

    ReplyDelete
  41. जब भी समय मिले, मेरे नए ब्लाग पर जरूर आएं..
    http://tvstationlive.blogspot.in/2012/09/blog-post.html?spref=fb

    ReplyDelete
  42. दूरियां सिमट गयीं
    हसरतों फूलो फलो

    नेह दीप जलता रहे
    उम्मीद तुम मिलो मिलो



    सुंदर रचना अनु जी

    ReplyDelete
  43. Dil mera haseen hai
    kalam tum likho likho:)

    ReplyDelete

नए पुराने मौसम

मौसम अपने संक्रमण काल में है|धीरे धीरे बादलों में पानी जमा हो रहा है पर बरसने को तैयार नहीं...शायद उनकी आसमान से यारी छूट नहीं रही ! मोह...