ज़िक्र


अपनी एक पुरानी डायरी मिल गयी मुझे आज ....
बदरंग से पन्नों पर दिखाई पड़ा अपना  ही माज़ी..खोजने  लगी तुम्हें वहाँ..

याद आया कि जिस सफ़हे पर ज़िक्र होता तुम्हारा..उसे मोड़ दिया करती थी.
मगर ये क्या...हर सफहा ही मुड़ा पाया...
कभी  चाँद का  ज़िक्र
कभी  तेरी  किसी  मांग का ज़िक्र...

कभी तेरे रूठने को लिखा 
कभी तेरे मान जाने का ज़िक्र...

कभी तेरी खुशबू पर लिखी शायरी
कभी तेरे लम्स का ज़िक्र..

कभी तेरी हँसी लिख डाली 
कभी तेरी उदासी  का ज़िक्र...

कभी तेरी याद का रोना
कभी किसी मीठी बात का ज़िक्र...

कभी सेहरा की धूप लिखी
कभी रूमानी शाम का ज़िक्र...

फिर ख्याल आया उस रोज का ..जब तुम चल दिये थे...ना जाने क्या कह कर या शायद कुछ कहा भी ना था...
मगर वो मुड़ा पन्ना  दिखा नहीं मुझे !!
शायद नहीं किया होगा मैंने, 
तेरे चले जाने का ज़िक्र.....
-अनु 

Comments

  1. पुरानी हर चीज़ कुछ न कुछ छुपाये हुए है, बहरहाल आपने उसे बहुत सार्थक ढंग से प्रस्तुत किया है.

    ReplyDelete
  2. जीवन मुड़े पन्नों से भरा होता है, कुछ अपने मोड़े कुछ किसी अन्य के.हर मुदा पन्ना वापसी की प्रतीक्षा करता है.
    घुघूतीबासूती

    ReplyDelete
  3. जीवन मुड़े पन्नों से भरा होता है, कुछ अपने मोड़े कुछ किसी अन्य के.हर मुदा पन्ना वापसी की प्रतीक्षा करता है.
    घुघूतीबासूती

    ReplyDelete
  4. अनु जी, पढ़ कर अच्छा लगा-

    ReplyDelete
  5. bada sahej ke rkha tha aap ne,smrition ke upvn se chuni gyee chand panktiya anubhution ko jiwant kr hi diya,

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर रचना
    क्या कहने

    ReplyDelete
  7. अंतिम पंक्तियां बेहद प्रभावी ... उत्‍कृष्‍ट अभिव्‍यक्ति ..आभार

    ReplyDelete
  8. एक और लाजवाब रचना....|

    ReplyDelete
  9. ज़िक्र होता है जब क़यामत का ...तेरे जलवों की बात होती है ....
    या ..
    वो उसे याद करे जिसने भुलाया हो कभी हमने उनको न भुलाया न कभी याद किया ...
    bahut pyari rachna Anu ..

    ReplyDelete
  10. जब तू कभी दिल से गया ही नहीं
    फिर कैसे करें तेरे चले जाने जिक्र ....
    लाज़वाब रचना अनु जी

    ReplyDelete
  11. जो चीजें तकलीफ देती है उन्हें हम नहीं सहेजना चाहते...शायद इसलिए वह पन्ना नहीं था|
    सुंदर रचना
    सस्नेह

    ReplyDelete
  12. मगर ये क्या...हर सफहा ही मुड़ा पाया...
    कभी चाँद का ज़िक्र
    कभी तेरी किसी मांग का ज़िक्र...

    कभी तेरे रूठने को लिखा
    कभी तेरे मान जाने का ज़िक्र...

    कभी तेरी खुशबू पर लिखी शायरी
    कभी तेरे लम्स का ज़िक्र..
    बहुत ही खूबसूरत कविता |

    ReplyDelete
  13. कुछ जिक्र न ही किये जाएँ तो बेहतर..

    ReplyDelete
  14. कभी तेरी खुशबू पर लिखी शायरी
    कभी तेरे लम्स का ज़िक्र..
    आपके मुड़े पन्नों में भी इतनी खूबसूरत रचनाएँ मिल जाती है अनु जी !
    इन पंक्तियों में " लम्स " का अर्थ समझ नहीं आया. कृपया टिप्पणी में शामिल करें.

    ReplyDelete
    Replies
    1. सुबीर जी,लम्स याने स्पर्श.
      आभार.

      Delete
  15. जिन्हें हम भूलना चाहे वो अक्सर याद आते है,,,,,बहाना चाहे कोई भी हो,,,,,

    RECENT POST - मेरे सपनो का भारत

    ReplyDelete
  16. बहुत भावपूर्ण प्रस्तुति.... सही में पुरानी यादों के अशरार डायरी के पन्नों पर ही नहीं दिल पर लिख जाते हैं.

    ReplyDelete
  17. जाने का ज़िक्र शायद धरोहर नहीं बनाना चाहती थीं ....इसीलिए मुड़ा पन्ना नहीं मिला ... बहुत खूबसूरत ज़िक्र

    ReplyDelete
  18. निर्झर लहरों में
    यादों के लहक जाने का जिक्र..

    ReplyDelete
  19. बिना मुड़े पन्ने के साथ खूबसूरत मोड़....

    ReplyDelete
  20. जीवन के सफ़र के कई मुकाम ...कई रूप ....
    सुंदर ढंग से ढाला आपने शब्दों में ....

    ReplyDelete
  21. gahare bhaav , pyaar ka sundar ehsaas liye huye

    ReplyDelete
  22. पेज पर दोनों रचनाएं अच्छी लगीं

    ReplyDelete
  23. हर मुड़े पन्ने की इबारत किसी का जिक्र करती . सुन्दर

    ReplyDelete
  24. मगर वो मुड़ा पन्ना दिखा नहीं मुझे !!
    शायद नहीं किया होगा मैंने,
    तेरे चले जाने का ज़िक्र.....
    वाह अनुजी दिल जैसे यकबयक उछलकर मुँह को आ गया .....एक हूक सो उठी और ठहर गयी ....वहीँ ..अब भी रुकी हुई है ....

    ReplyDelete
  25. purani yaaden .....atit ki dharohar hoti hai ......nice prastuti....

    ReplyDelete
  26. एक खास जिक्र खास अंदाज में..बढ़िया पोस्ट..अच्छी लगी रचना..नमस्कार जी

    ReplyDelete
  27. ohh...old memories...its so soothing to read you :)

    ReplyDelete
  28. ज़िक्र ज़िक्र ज़िक्र ... हर सू उनका ही ज़िक्र ...
    वो अलग ही कहाँ थे हमसे ...

    ReplyDelete
  29. Too good, I loved the way you punched in the last line :)

    ReplyDelete
  30. An awsome piece of work Anu ji...woww...xcllnt...too good...beautiful...amazing..breathtaking...extraordinary...impressive...marvelous... miraculous... spectacular, startling... striking, stunning, stupefying, stupendous, wonderful, wondrous

    ReplyDelete
  31. thanks Mahi :-) for strengthening my word power,with so many adjectives :-)

    ReplyDelete
  32. आपकी प्रस्तुति अच्छी लगी। मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है।

    ReplyDelete
  33. जिंदगी के सफ़र में मिलना-बिछुड़ना लगा ही रहता है. हम तो बस खट्टी-मीठी यादें ही सहेज कर रखते हैं.

    ReplyDelete
  34. ज़िक्र का बहुत अच्छा ज़िक्र किया है दीदी !


    सादर

    ReplyDelete
  35. वाह जी बहुत खूब

    ReplyDelete
  36. मगर वो मुड़ा पन्ना दिखा नहीं मुझे !!
    शायद नहीं किया होगा मैंने,
    तेरे चले जाने का ज़िक्र.....

    It brought tears in my eyes :(

    ReplyDelete
  37. ऐसा लगता है पढ़ नहीं रहा हूँ , एक एक शब्द खुद-ब-खुद दिल को टटोल टटोल कर कचोट रहे हैं | लाजवाब .....|

    ReplyDelete
  38. सारे सलाम उस आखिरी पन्ने की ख़ामोशी के नाम ....... सस्नेह !

    ReplyDelete
  39. ..every time I read you Anu it feels as if this is the ultimate..it can not be improved upon, but your next poem fails me!
    Another milestone!!

    ReplyDelete
  40. " जिसे ले गयी है अभी हवा वो वरक था दिल कि किताब का ..."
    सुन्दर !

    ReplyDelete
  41. jab jab tanha hote hain to dil kabhi-kabhi uska jikra karne ko betaab ho jaya karta hai. beautiful words.

    ReplyDelete
  42. याद आया कि जिस सफ़हे पर ज़िक्र होता तुम्हारा..उसे मोड़ दिया करती थी.
    मगर ये क्या...हर सफहा ही मुड़ा पाया...

    कई अहसासों से महकती हुयी कविता..... बहुत सुन्दर ...

    <3 <3
    सादर

    ReplyDelete
  43. कभी कविताओं का ज़िक्र, कभी कहानियों का ज़िक्र....
    आपके ब्लॉग पर पोस्ट किया गया हर एक लेख...
    कई अहसासों का ज़िक्र करता है...सुंदर कविता

    ReplyDelete
  44. सुन्दर!
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  45. जो बातें सबसे खास हों, वे डायरी तक पहुँचेंगी कैसे!

    ReplyDelete
  46. अनु जी, सच में आपके द्वारा किया गया हर ज़िक्र बेहद सराहनीय है..... बधाई
    http://swapnilsaundarya.blogspot.in
    www.SwapnilsWorldOfWords.blogspot.com
    http://www.swapniljewels.blogspot.com

    ReplyDelete
  47. कुछ इतनी ही थी शायद मेरी यादों की दुनिया ,
    डायरी तेरे आने से शुरू थी , तेरे जाने पे खत्म |
    -आकाश

    वाकई बहुत ही खूबसूरत |
    समझ नहीं आ रहा कि आपकी ज्यादा तारीफ करूँ या जिनके page से आपका link पाया उनकी |
    शायद दोनों ने ही अपनी अपनी बात बखूबी कही है |

    ReplyDelete
  48. jaanti ho anu.........likhne to kuch aur aayi thi...........pr...dhundhte dhundhte.....ye mil gyi........bas...fir ...khaamosh si ho gyi..............behad khoo surat.........

    ReplyDelete
  49. aur ye wala wo comment jo likhne aayi thi..............facebook pe bhi bheja he...pr wahaan pe kuch ajeeb sa aa rhaa tha sochaa ..yahaan likh dun......

    are baap re....aap wahii anu he naaa......hmmmm..sach btaau ..mere shitaan ne aaj ujhe mohlat de dii..mahraaj adhiraaz aaj jaldi so gye ...jaise hi online aayi..aapa naam dekha..anulata.....soch me pr gyi...fb pe kon he is naam se jo mujhe jaanta he...vaise mujhe kam hi log jaante hain....baahr ki duniya me bhi ..aur is antrjaal ki duniya me bhi..............achnak se yaad..ye kahin wo anu to nhi...........jhat se blog chek kiyaa..........sach kahun.....aaj tak thik se naam dekha hi nhi..kyunki expressn aur anu..bas..yhii pehchaan rkhti thi.............hmmm..aaj tasllli se blog bhi dekhaa................aur muhn se yhii niklaaa......are baap re...aapki rchnaaye itnii achii se publish ho chuki hain..aur main bdhaayi bhi nhi de paaayi..so yahiin bdhaayi de rhii hun...............bahut bahut bdhyaaai.............

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

प्रेमपत्र

मेरी लिखी कहानी "स्नेहा" - 92.7 big fm पर नीलेश मिश्रा की जादुई आवाज़ में................

दैनिक जागरण के राष्ट्रीय संस्करण में मेरी किताब "इश्क तुम्हें हो जाएगा " की समीक्षा...............