इन्होने पढ़ा है मेरा जीवन...सो अब उसका हिस्सा हैं........

Sunday, September 23, 2012

चिता

जल रही थी चिता
धू-धू करती
बिना संदल की लकड़ी या घी के....
हवा में राख उड़ रही थी
कुछ अधजले टुकड़े भी....
आस पास मेरे सिवा कोई न था...
वो जगह श्मशान भी नहीं थी शायद...
हां वातावरण बोझिल था
और धूआँ दमघोटू.
मौत तो आखिर मौत है
चाहे वो रिश्ते की क्यूँ न हो....

लौट रही हूँ,
प्रेम  की अंतिम यात्रा से...
तुम्हारे सारे खत जला कर.....

बाकी  है बस
एहसासों और यादों का पिंडदान.

दिल को थोड़ा आराम है अब
हां ,आँख जाने क्यूँ नम हो आयी है...
उसे रिवाजों की परवाह होगी शायद.....

अनु

59 comments:

  1. बाकी है बस
    एहसासों और यादों का पिंडदान.
    ..................................................
    एक रास्ता और भी था
    ख़त को गंगा या गंगा जैसी किसी नदी में प्रवाहित कर दिया जाता
    रचना अति उत्तम

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहते पानी में आग कैसे लगाती :-)

      Delete
  2. दिल को छू गई ये रचना आपकी प्रिय अनु ये अंतिम दो पंक्तियाँ ही सम्पूर्णता है इस रचना की बधाई आपको

    ReplyDelete
  3. प्रेम की सुन्दर अभिव्यक्ति ........

    ReplyDelete
  4. ...प्रेम की तपिश बरकरार है अभी ।

    ReplyDelete
  5. दिल को थोड़ा आराम है अब
    हां ,आँख जाने क्यूँ नम हो आयी है...
    उसे रिवाजों की परवाह होगी शायद.....very nice..

    ReplyDelete
  6. with full of expressions, nice presentation, "aakhiri khwahish" aur"beti vytha"

    ReplyDelete
  7. खतों की चिता । क्‍या विचार है।

    ReplyDelete
  8. जब किसी बेवफ़ा की आख़िरी निशानी के भी नामो-निशां मिटा देते हैं, तो असीम चैन मिलता है।

    ReplyDelete
  9. bahut marmik anu ji


    बाकी है बस
    एहसासों और यादों का पिंडदान.

    दिल को थोड़ा आराम है अब
    हां ,आँख जाने क्यूँ नम हो आयी है...
    उसे रिवाजों की परवाह होगी शायद.....
    yah aisi aag hai jo bujhne ke baad bhi dhadhakti rahati hai sine me .......jara si hawa ka jhokha aakar rakh ko uda jata hai aur chingari mrut aatma me bhi llaga deta hai

    ReplyDelete
  10. रिश्तो की मौत..एहसासों और यादों का पिंडदान.क्या खूब..अनु..

    ReplyDelete
  11. प्रेम का अंतिम संस्कार .... खातों को जला कर .... लेकिन यादें फिर भी पीछा नहीं छोड़तीं ... आँखों की नमी महसूस हो रही है ।

    ReplyDelete
  12. बहुत ही मर्मस्पर्शी कविता |

    ReplyDelete
  13. बाकी है बस
    एहसासों और यादों का पिंडदान... एहसास अपने,और अपनी यादों के सिवा कुछ है नहीं,फिर भी कर ही दूंगी

    ReplyDelete
  14. try deceiving ur heart , ur eyes will always disagree. Well conceived and delivered feelings !

    ReplyDelete
  15. try deceiving ur heart , ur eyes will always disagree. Well conceived and delivered feelings !

    ReplyDelete
  16. aaj bahut lambe samay ke baad yaha aana hua....aapki rachna padhkar mera aana sarthak hua.....kai acchi rachnao ko padhne se vanchit rah gai pichhle dino....aabhar

    ReplyDelete
  17. दिल को थोड़ा आराम है अब
    हां ,आँख जाने क्यूँ नम हो आयी है...
    उसे रिवाजों की परवाह होगी शायद.....
    शब्‍द मन को छूते हुए ... बहुत ही अच्‍छा लिखा है आपने

    आभार

    ReplyDelete
  18. ?kya jajbaton ka samundar hai aapka hriday:)waah

    ReplyDelete
  19. उफ़..अच्छा नहीं प्रेम का यूँ दफ़न होना..

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर रचना ।

    ReplyDelete
  21. पिंडदान के बाद भी यादें आती रहती है,,,,,

    RECENT POST समय ठहर उस क्षण,है जाता

    ReplyDelete

  22. पोस्ट दिल को छू गयी.......कितने खुबसूरत जज्बात डाल दिए हैं आपने..........बहुत खूब
    आँख से अब नहीं दिख रहा है जहाँ ,आज क्या हो रहा है मेरे संग यहाँ .
    माँ का रोना नहीं अब मैं सुन पा रहा ,कान मेरे ये दोनों क्यों बहरें हुए.

    उम्र भर जिसको अपना मैं कहता रहा ,दूर जानो को बह मुझसे बहता रहा.
    आग होती है क्या आज मालूम चला,जल रहा हूँ मैं चुपचाप ठहरे हुए.

    शाम ज्यों धीरे धीरे सी ढलने लगी, छोंड तनहा मुझे भीड़ चलने लगी.
    अब तो तन है धुंआ और मन है धुंआ ,आज बदल धुएँ के क्यों गहरे हुए..

    जिस समय जिस्म का पूरा जलना हुआ,उस समय खुद से फिर मेरा मिलना हुआ
    एक मुद्दत हुयी मुझको कैदी बने,मैनें जाना नहीं कब से पहरें हुए

    ReplyDelete
  23. उफ़...बहुत मार्मिक अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  24. बाकी है बस
    एहसासों और यादों का पिंडदान.
    मार्मिक ....

    ReplyDelete
  25. बहुत खूबसूरत ......हां ,आँख जाने क्यूँ नम हो आयी है...
    उसे रिवाजों की परवाह होगी शायद..... .....बहुत ही मार्मिक अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  26. पहले से ही उलझा मन और भी उलझ गया ......

    ReplyDelete
  27. पत्र फाड़ने से प्रेम कैसे मर जाएगा ...यादें और गहराती जायेंगी ...
    बहुत उदासी भरी रचना ...!!वेदना मन छू गयी ...!!

    ReplyDelete
  28. बहुत ही संवेदनशील रचना..

    ReplyDelete
  29. बहुत सुँदर ,अंत बहुत ही सुँदर .विरह वेदना को रस्मों की कब परवाह है .

    ReplyDelete
  30. लौट रही हूँ,
    प्रेम की अंतिम यात्रा से...
    तुम्हारे सारे खत जला कर.....

    बाकी है बस
    एहसासों और यादों का पिंडदान.

    teekhee .....bahut teekhee abhivykti ...sadar abhar.

    ReplyDelete
  31. dard hi dard bass.....khat chahe jala do....yadon ka kya ??
    very nicee one di

    ReplyDelete
  32. वाह बेहद दर्द भरी रचना ........प्यार में हमेशा एक दिल टूटता और रोता क्यों है ?

    ReplyDelete
  33. बाकी है बस
    एहसासों और यादों का पिंडदान ........
    :'(

    ReplyDelete
  34. सचं में पिंडदान बहुत मुशिक्ल होता है

    ReplyDelete
  35. तेरे खतों को आज भी संजो कर रखा है ,
    जाते-जाते इन्ही में जलकर राख हो जाउंगी |

    बहुत सुन्दर रचना |
    -आकाश

    ReplyDelete
  36. अति सुन्दर....यादों के अन्दर दबी अग्नि फिर प्रदीप्त हो गयी है. बहुत अछि लगी आपकी यह कविता.

    निहार रंजन

    ReplyDelete
  37. एहसासों और यादों का पिंडदान..वाह!

    ReplyDelete
  38. एक सूनापन, एक उदासी..
    ++++++++++++++++++++++++++++
    आत्मसमर्पण

    ReplyDelete
  39. प्रतीकों के अनुकूल संयोजन ने कविता के कथ्य को हस्तामलकवत् बना दिया है।

    ReplyDelete
  40. हृदय को नम कर गई आपकी यह रचना... निसंदेह रिश्तों की मौत भीतर तक तोड़ देती है इंसान को.
    आभार
    शालिनी

    ReplyDelete
  41. प्रेम की ऐसी परिणति वेदना दे जाती है.. ऐसा न हो बस..
    बहरहाल, सुन्दर अभिव्यक्ति अनु दी!
    सादर
    मधुरेश

    ReplyDelete
  42. दिल को थोड़ा आराम है अब
    हां ,आँख जाने क्यूँ नम हो आयी है...
    उसे रिवाजों की परवाह होगी शायद.....

    ..सच सबकुछ खत्म कहाँ होता है किसी कोने में कोई आवाज दुबकी रह ही जाती है ...
    मनोभावों की गहन प्रस्तुति

    ReplyDelete
  43. "दिल को थोड़ा आराम है अब
    हां ,आँख जाने क्यूँ नम हो आयी है...
    उसे रिवाजों की परवाह होगी शायद....."

    कसक और भावुक भावों से सजी एक बेहतरीन रचना |

    ReplyDelete
  44. लौट रही हूँ,
    प्रेम की अंतिम यात्रा से...
    तुम्हारे सारे खत जला कर.....

    बाकी है बस
    एहसासों और यादों का पिंडदान.

    Amazing.

    New post

    Kyun???

    https://udaari.blogspot.in

    ReplyDelete
  45. mera hirday pighal raha hai aapki yah rachna padhkar
    behad marmsprashi...
    rishton ki maut hona khud ke marne se jyda peedadayk hoti hai shayd...

    ReplyDelete
  46. mere pas shabd nhi hai .apki kavita padhne ke bad .....kyonki main bhi inhi paristhiyon se gujar raha hoon. par prem ki antim yatra ke bad bhi pind dan ka sahas nhi kar pa rha hoon . .........sadar naman !

    ReplyDelete
  47. दिल को छू गयी अनु...
    ~यादें...कभी मरतीं नहीं हैं...
    ता-उम्र हमारे अंदर साँस लेतीं रहती हैं...
    कभी हमें जलाती हैं....
    कभी सर्द एहसास से सराबोर कर जातीं हैं...~

    ReplyDelete
  48. .
    आँख जाने क्यूँ नम हो आयी है...
    उसे रिवाजों की परवाह होगी शायद.....

    आऽऽह… ! करुण रस चू रहा है अनुजी आपकी कविता से …

    मार्मिक अभिव्यक्ति !


    शुभकामनाओं सहित…
    राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  49. read it late but worth reading , beautifully xpressed. hum to tarif bhi mamuli se shabdo me kar sakte hai, aap khubsorat lafsh samajh kar read kar liya kare

    ReplyDelete
  50. kitni khoobsurti se aap mannav ke man ki bhaavnaao ko shabdo mei vyakt kar deti hai di ..bahut bahut bahut hi khoobsurat rachna .. kitni ajeeb baat hai na ek kaavya hi aisi jagah hai jahan dard par bhi hum log wah wah karte hain !!!

    ReplyDelete