इन्होने पढ़ा है मेरा जीवन...सो अब उसका हिस्सा हैं........

Friday, September 14, 2012

प्रेमपत्र

ये मेरा
आखरी प्रेम पत्र है..
अब कभी नहीं लिखूंगी तुम्हें कोई खत....
इसलिए इस आखरी खत को
भर देना चाहती हूँ एहसासों से,
महका देना चाहती हूँ अपनी साँसों से
अरसे से जज़्ब किये जज्बातों से..
रंग देना चाहती हूँ हर लफ्ज़
मोहबत के रंग से..
इकरार के हर ढंग से.
भिगो देना चाहती हूँ खत
अपने आंसुओं से

क्योंकि ये मेरा आखरी प्रेम पत्र है.....
अब के बाद कोई पत्र नहीं...
कोई प्रेम नहीं (ऐसा मैंने कब कहा !!)

तोड़  दूँगी कलम
इसे लिखने के बाद
तुमसे  वास्ता न रखना
मौत की सजा से कम है क्या?

पत्र लिखूं / न लिखूं 
तुमसे  कहूँ/ न कहूँ
प्रेम तो रहेगा ......
तुम खत पढो/ न पढ़ो..
सहेजो/ फाड़ दो.....
प्रेम तो रहेगा ही......
मानो या न मानो....

-अनु

66 comments:

  1. तोड़ दूँगी कलम
    इसे लिखने के बाद
    तुमसे वास्ता न रखना
    मौत की सजा से कम है क्या?

    लाजवाब !

    हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    सादर

    ReplyDelete
  2. प्रेम पत्र भले ही आखिरी हो , इससे प्रेम तो खत्म नहीं होता ... भावुक सी रचना

    ReplyDelete
  3. प्रेम में आखिरी जैसा कुछ भी नहीं होता ।

    ReplyDelete
  4. ..abhi na jaao chhod kar, ki dil abhi bharaa nahin...
    As beautiful as always, Anu!
    Regards!

    ReplyDelete
  5. पत्र लिखूं / न लिखूं
    तुमसे कहूँ/ न कहूँ
    प्रेम तो रहेगा ......
    तुम खत पढो/ न पढ़ो..
    सहेजो/ फाड़ दो.....
    प्रेम तो रहेगा ही......
    मानो या न मानो....
    प्यारा प्रेमपत्र भावनाओं से भीगा .....

    ReplyDelete
  6. प्रेम तो रहेगा ही......

    सच है ....बहुत सुंदर पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  7. भावमय करते शब्‍दों का संगम ... उत्‍कृष्‍ट अभिव्‍यक्ति

    ReplyDelete

  8. प्रेम पत्र :)))))))))))))) सुनते एक मुस्कान कौतुहल से भरी सबकुछ पढ़ लेना चाहती है

    ReplyDelete
  9. Anu ji..This is very beautiful and exquisitely.Simply loved it. Reminded of "Yeh mera prem patra padhkar" from Sangam.....Raj Kapoor Vijayanthimala 1961.....

    ReplyDelete
  10. प्रेम तो रहेगा ही......
    मानो या न मानो....
    तुमसे वास्ता न रखना
    मौत की सजा से कम है क्या?..
    बहुत सुन्दर...जवाब नहीं इन अहसासों का...
    हिंदी दिवस की शुभकामनाये...

    ReplyDelete
  11. बढ़िया है , अपनी ही कलम से खुद का फैसला. प्रेम तो ब्रह्माण्ड में घुला है .

    ReplyDelete
  12. प्रेम तो रहेगा ही......
    मानो या न मानो....
    तुमसे वास्ता न रखना
    मौत की सजा से कम है क्या?..
    बहुत सुन्दर...जवाब नहीं इन अहसासों का.

    भाषा सरल,सहज यह कविता,
    भावाव्यक्ति है अति सुन्दर।
    यह सच है सबके यौवन में,
    ऐसी कविता सबके अन्दर।
    कब लिख जाती कैसे लिखती,
    हमें न मालुम होता अकसर।

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर भाव..

    ReplyDelete
  14. रंग देना चाहती हूँ हर लफ्ज़...
    ...............................................
    प्रेम पत्र लिखने से पहले सजा अपने लिए
    आंसुओं में भींगना...एहसास में भटकना
    प्रेम पत्र लिखने के बाद की सजा दोनों के लिए
    ..कि सजा मौत की....
    वाकई बहुत ही दिलचस्प सी बातें..
    मन को लम्स करती बातें ....

    ReplyDelete
  15. बहुत सुंदर पंक्तियाँ.

    ReplyDelete
  16. मजाल किसी कि जो न माने :)
    मन की तह तक जाती पंक्तियाँ.

    ReplyDelete
  17. vehad khoobshurat andaj me khat likhne ki khata ki gyee hai,"dil ki divaro ko darakne dijiye,chupa hoga gr koe khud b khud dikh jayga......"

    ReplyDelete
  18. bahut sundar chitra aur utni hi sundar rachna ...!!

    ReplyDelete
  19. भावमय करती रचना..
    तुमसे कोई वास्ता हो न हो
    प्रेम का अहसास रहेगा ही..
    :-)

    ReplyDelete
  20. प्रेम कभी खत्म नहीं होता/ना ही हो सकता...

    ReplyDelete
  21. हां प्रेम तो रहेगा .....वो साथ रहे या ना रहे ....कुछ अधूरा सा कुछ पूरा सा

    ReplyDelete
  22. जब अँखिया ही पाती बन जाएँ तब प्रेम पाती की क्या ज़रुरत |

    ReplyDelete
  23. हिंदी दिवस की शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  24. बहुत सुंदर



    क्योंकि ये मेरा आखरी प्रेम पत्र है.....
    अब के बाद कोई पत्र नहीं...
    कोई प्रेम नहीं (ऐसा मैंने कब कहा !!)

    ReplyDelete
  25. किस पंक्ति पर ऊँगली रखूँ....पूरी की पूरी रचना ही दिल में उतर गयी ...वाह अनुजी ..जितनी तारीफ करूँ कम है...

    ReplyDelete
  26. किस पंक्ति पर ऊँगली रखूँ....पूरी की पूरी रचना ही दिल में उतर गयी ...वाह अनुजी ..जितनी तारीफ करूँ कम है...

    ReplyDelete
  27. प्रेम तो प्रेम है वो किसी पत्र का मोहताज नहीं..बहुत सुन्दर अनु..

    ReplyDelete
  28. प्रेम बना रहे ,पत्र तो जो न लिखे जाएँ वो ज्यादा असर करते हैं ....सस्नेह -:)

    ReplyDelete
  29. प्रेम की ऐसी गहराई को देखकर यह आखरी पत्र तो कहीं से नही लगता |
    बहुत हीं उम्दा भाव...|

    हिन्दी दिवस की हार्दिक बधाई |
    सादर |

    ReplyDelete
  30. अब के बाद कोई पत्र नहीं...
    कोई प्रेम नहीं (ऐसा मैंने कब कहा !!)
    bahut sunder :)

    ReplyDelete
  31. प्रेम ही बना रहना चाहिए ...और वह रहेगा ही !
    मान लिया हमने भी !

    ReplyDelete
  32. ख़त लिखो, ना लिखो ..ख़त पढो, ना पढो..प्रेम अगर है तो वो यथावत रहेगा .

    ReplyDelete
  33. http://vyakhyaa.blogspot.in/2012/09/blog-post_15.html

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार रश्मि दी...
      आपने चुना तो हमने खुद को हीरा समझ लिया :-)

      Delete
    2. waah anu ji atmik sundar prem aur alag andaaj , aapki rachna ka yah pahalu lagta hamen behad khas :))

      Delete
    3. तमन्ना नही अब किसी और मूरत
      की मुझे । एक तू ही काफ़ी है मंदिर मे
      सज़ाने के लिए ॥ जमाने भर को हमसे
      नफ़रत है, तो क्या गम है । एक तू
      ही काफ़ी है मुझे मौहब्बत सिखाने
      के लिए ॥

      Delete
    4. तमन्ना नही अब किसी और मूरत
      की मुझे । एक तू ही काफ़ी है मंदिर मे
      सज़ाने के लिए ॥ जमाने भर को हमसे
      नफ़रत है, तो क्या गम है । एक तू
      ही काफ़ी है मुझे मौहब्बत सिखाने
      के लिए ॥

      Delete

  34. पत्र लिखूं / न लिखूं
    तुमसे कहूँ/ न कहूँ
    प्रेम तो रहेगा ......
    तुम खत पढो/ न पढ़ो..
    सहेजो/ फाड़ दो.....
    प्रेम तो रहेगा ही......
    मानो या न मानो....

    kitni sahaj si abhiyvaykti...:)
    prem ka pravah ...:D

    ReplyDelete
  35. प्रेमपत्र
    ये मेरा
    आखरी प्रेम पत्र है..
    अब कभी नहीं लिखूंगी तुम्हें कोई खत....
    इसलिए इस आखरी खत को
    भर देना चाहती हूँ एहसासों से,
    महका देना चाहती हूँ अपनी साँसों से
    अरसे से जज़्ब किये जज्बातों से..
    रंग देना चाहती हूँ हर लफ्ज़
    मोहबत के रंग से..
    इकरार के हर ढंग से.
    भिगो देना चाहती हूँ खत
    अपने आंसुओं से
    यह एक बहुत ही सुन्दर ,अद्भुत और बेजोड़ कविता लगी आभार |लेकिन खत आखिरी न हो .......

    ReplyDelete
  36. वाह... अनु
    सबके दिल की बात...
    वैसे तो हमेशा आपके ब्‍लॉग पर आती हूं पर चुपके से पढ कर चली जाती हूं. लेकिन आपके इस खास पोस्‍ट ने मुझे जाने न दिया...

    ReplyDelete
  37. prem me hota hai sada dena hi dena
    sochte bhi nahin kuch badle me hai lena
    bhale hi hoga ye akhari patr
    par jante hai karoge duaein din rena.


    https://udaari.blogspot.in

    ReplyDelete
  38. बेहद सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  39. बहुत सुंदर अनु !
    मुझे मेरी लिखी पंक्तियाँ याद गयीं... जो मुझे बेहद अज़ीज़ हैं..
    ~तुमसे बिछड़ कर कुछ मर गया था मुझमें...
    जो मर गया था...उसमें ज़िंदा तुम आज भी हो..~

    ReplyDelete
  40. प्रेम तो रहेगा ही...... बहुत सुन्दर,अद्भुत बेजोड़ कविता!!!!

    ReplyDelete
  41. The dilemma you presented here is beautiful. Love is still there, there is no regret of losing it but a simple wish of writing the last letter. One of the most beautiful hindi poems I have read in recent times. Loved the first paragraph starting from ahasas...

    ReplyDelete
  42. प्रेम अमर है दुनयि में,
    प्रेम कभी नही मरता है।

    बहुत ही भाव-प्रवण कविता। मेरे पोस्ट पर आकर आपने मेरा उत्साहवर्धन किया, इसके लिए आपका आभारी हूं। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  43. प्रेम तो रहेगा ......
    तुम खत पढो/ न पढ़ो..
    सहेजो/ फाड़ दो.....
    प्रेम तो रहेगा ही......
    मानो या न मानो....hmm sach ...koi padhe ya n padhe .fitrat prem ki badal nahi sakti ..bahut sahi likha tumne anu ...

    ReplyDelete
  44. अनु जी,
    प्रेमपत्र पढ़ा..... एक बार फिर दुखती रग पर किसी ने हाथ रख दिया .... और आँखों को एक बार फिर मैं रोकने में नाकामयाब रहा।
    जीवंत रचना ....
    प्रेम पत्र पढ़ने के बाद बरबस मुझे आखिरी पत्र की याद उभऱ आई...

    ( आखरी पत्र )
    http://pravinydv.blogspot.in/2012/02/blog-post.html?showComment=1330602333008

    ReplyDelete
  45. full of emotions!! very well written

    ReplyDelete
  46. इसे पढकर पता नहीं क्यूँ , मुझे गुलज़ार साब कि वो नज्म याद आ रही थी -
    वो खत भिजवा दो , मेरा वो सामान लौटा दो |

    सादर

    ReplyDelete
  47. प्रेम तो रहेगा ही ...... जा भी कैसे सकता है .... क्योंकि शायद प्रेम किया नहीं जाता हो जाता है ...... जो पल - पल सारी जिन्दगी मौन रह कर साथ चलता है । फिर वो भले आखिरी प्रेम पत्र हो ....... पर मन तो हमेशा लिखता ही रहेगा ये गीत ... संगीत ......
    बेहद कोमल , सलोनी सी रचना .

    ReplyDelete
  48. प्रेम तो रहेगा ही ...... जा भी कैसे सकता है .... क्योंकि शायद प्रेम किया नहीं जाता हो जाता है ...... जो पल - पल सारी जिन्दगी मौन रह कर साथ चलता है । फिर वो भले आखिरी प्रेम पत्र हो ....... पर मन तो हमेशा लिखता ही रहेगा ये गीत ... संगीत ......
    बेहद कोमल , सलोनी सी रचना .

    ReplyDelete
  49. samvedanao ki sundar abhivyakti... prem nivedan ki parakshtha... adbhutt .. dimaag ko jhanjhanaa denewali panktiyan... sadar

    ReplyDelete
  50. sundar abhivakti... prem nivedan ki parakashtha... samvedanao ka uttam prakatikaran... adbhut ... dimag ko jhanjhanaa denewali panktiyaan

    ReplyDelete
  51. samvedanao ki sundar abhivyakti... prem nivedan ki parakshtha... adbhutt .. dimaag ko jhanjhanaa denewali panktiyan... sadar

    ReplyDelete
  52. Earn handsome income by doing ur current job
    call +91-9918610504

    ReplyDelete
  53. अंतिम अनुच्छेद सचमुच सुंदर है, सारगर्भित और मर्मस्पर्शी ...

    ReplyDelete
  54. Man ki khichatani,prem karta hai manmani,dil pe jor hai bhala kiska,karta rahta hai ye nadani...prem ke gandh se otprot love letter.

    ReplyDelete
  55. अनु जी आप बहुत बहुत सुंदर लिखती हैं | बहुत ही कमाल | इतने दिन आपके ब्लॉग से क्यूँ नहीं जुडी अफ़सोस है | परिकल्पना का शुक्रिया

    ReplyDelete
  56. अब के बाद कोई पत्र नहीं...
    कोई प्रेम नहीं (ऐसा मैंने कब कहा !!)

    ReplyDelete
  57. माफ करना अनू जी मैँ भटकता हुआ आपके ब्लोग पे आ गया
    आपने जो भी लिखा है उसके एक एक शब्द किसी की याद दिला गये
    शुक्रिया इतने सुन्दर शब्दोँ के लिए

    ReplyDelete