इन्होने पढ़ा है मेरा जीवन...सो अब उसका हिस्सा हैं........

Friday, September 7, 2012

कठिन है बिटिया की माँ होना....

एक पतंग के मानिंद
है आशाएं
मेरी लाडली की...
कोमल और चंचल ...

रंगबिरंगी
विस्तृत नभ में ऊँचा उड़ती
इन्द्रधनुषी रंगों से 
अपना जीवन
रंग देने को छटपटाती सी...

थाम रखी है,
उसकी डोर मैंने
कस कर !
समाज के पेंचो से 
बचाती फिर रही हूँ..
कभी ढील देती ,
कभी तानती हुई ...

काँच के महीन टुकड़ों से 
मांजा बनाती हूँ...
कभी  खुद लहुलुहान होकर भी
घिसती हूँ डोर पर,
कि कहीं  
पड़ कर कमज़ोर
कट ना जाये
पतंग ...

हौले से
थामे  रहती हूँ छोर,
कि कहीं टूट ना जाये
उसकी आस की डोर...........

-अनु 

63 comments:

  1. happy daughter s day on 2 5 th september//

    nice one .

    ReplyDelete
  2. वाह, बहुत सुन्दर.

    ReplyDelete
  3. सच में !
    मगर आशंका और भय आजकल बेटे और बेटी , दोनों के प्रति ही समान है !

    ReplyDelete
  4. सच कहा!
    एक माँ ही बेटी को अधिक जानती है और समझती भी है.

    ReplyDelete
  5. gahan abhivyakti"kahi toot n jaye aas ki dor.....

    ReplyDelete
  6. चीलों कौवों से भरा, यह सारा आकाश |
    पंख जटायू के कटे, खुश रावण के दास |
    खुश रावण के दास, खींचिए लक्ष्मण रेखा |
    खुद पर हो विश्वास, कीजिए अपना देखा |
    अनुभव से दो सीख, अभी तो उड़ना मीलों |
    आत्म-शक्ति भरपूर, दूर हट जाओ चीलों ||

    ReplyDelete
  7. उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    ReplyDelete
  8. काँच के महीन टुकड़ों से
    मांजा बनाती हूँ...
    कभी खुद लहुलुहान होकर भी
    घिसती हूँ डोर पर,
    कि कहीं
    पड़ कर कमज़ोर
    कट ना जाये
    पतंग ...

    हौले से
    थामे रहती हूँ छोर,
    कि कहीं टूट ना जाये
    उसकी आस की डोर...........
    गहन भाव लिए उत्‍कृष्‍ट लेखन ...आभार

    ReplyDelete
  9. काँच के महीन टुकड़ों से
    मांजा बनाती हूँ...
    कभी खुद लहुलुहान होकर भी
    घिसती हूँ डोर पर.....
    .............................................................
    बेटियाँ भले ही अपने होने का पता बाप का देती है...पर रहती हैं माँ के दिल में..... ताउम्र...
    और माँ के दिल से निकली इन्द्रधनुषी रंगों की मासूम वेदना.....
    बहुत सुन्दर अनुजी....हमें आपसे काफी उम्मीदें हैं....

    ReplyDelete
    Replies
    1. आशा और प्रयास रहेगा कि पाठकों को नाउमीद न करूँ कभी.
      शुक्रिया राहुल.

      Delete
  10. कभी कभी ही ऐसी रचनाएं पढने को मिलती हैं
    बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  11. वाह: बहुत गहन बात..अनु..

    ReplyDelete
  12. गहन चिंतन लिए हुये है आपकी आज की यह कविता ... आभार !


    मुझ से मत जलो - ब्लॉग बुलेटिन ब्लॉग जगत मे क्या चल रहा है उस को ब्लॉग जगत की पोस्टों के माध्यम से ही आप तक हम पहुँचते है ... आज आपकी यह पोस्ट भी इस प्रयास मे हमारा साथ दे रही है ... आपको सादर आभार !

    ReplyDelete
  13. सच बहुत कठिन परिस्थिति होती है और हर बेटी की माँ इस दौर से गुजरती है .... सुंदर रचना

    ReplyDelete
  14. एक माँ की चेतना और अंतर्द्वंद की खुबसूरत अभिव्यक्ति !!!

    ReplyDelete
  15. एक और बेहतरीन रचना के लिए बधाइयाँ !

    ReplyDelete
  16. काँच के महीन टुकड़ों से
    मांजा बनाती हूँ...
    कभी खुद लहुलुहान होकर भी
    घिसती हूँ डोर पर,
    कि कहीं
    पड़ कर कमज़ोर
    कट ना जाये
    पतंग ...

    बेहतरीन रचना

    ReplyDelete
  17. बात तो सही है। पर बेटे को भी मां समझती है। भले ही बेटे कहते रहें कि मां आपको समझ नहीं आता। आप नहीं समझोगी.....वगैरह वगैरह..

    ReplyDelete
  18. कोमल, नाज़ुक कली को काँटों से बचाकर रखना... सचमुच बहुत कठिन है बिटिया की माँ होना... ममता से भरे सुन्दर अहसास

    ReplyDelete
  19. माँ का दायित्व दोनों के लिए समान है ... बढ़ती आयु में जितना मित्रवात साथ और सुरक्षा बेटियों को चाहिए, उतनी ही बेटों को

    ReplyDelete
  20. माँ जितनी ही गहरी आपकी कविता ! बधाई स्वीकारें !!

    ReplyDelete
  21. बेटी की माँ की सर्वथा उपयुक्त अभिव्यक्ति . सटीक शब्द चित्र ,

    ReplyDelete
  22. बहुत सुन्दर.
    घुघूतीबासूती

    ReplyDelete
  23. काँच के महीन टुकड़ों से
    मांजा बनाती हूँ...
    कभी खुद लहुलुहान होकर भी
    घिसती हूँ डोर पर,
    कि कहीं
    पड़ कर कमज़ोर
    कट ना जाये
    पतंग ...

    har maa ki chinta....har ladki ka dar.....you so beautifully expressed...loved it anu ji :)

    ReplyDelete
  24. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (08-09-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  25. Beautiful, deep and touchy :)

    ReplyDelete
  26. Waah,Bahoot badhiya lekhan aur sundar prastuti:)

    ReplyDelete
  27. बहुत सुन्दर ममत्व के
    कोमल अहसास अपनी बच्चियों के लिए..
    बेहतरीन रचना..
    :-)

    ReplyDelete
  28. गहन चिंतन लिए हुये कविता ,आभार !!

    ReplyDelete
  29. सुन्दर सुकोमल अहसास .
    बढ़िया रचना .

    ReplyDelete
  30. sahi kaha...meri mammi bhi aksar yahi kehti he...

    ReplyDelete
  31. बहुत सटीक बात कही है...बेटे-बेटी दोनों के लिए फिट...बेटियों के लिए ज्यादाः)
    सस्नेह

    ReplyDelete
  32. बहुत सुन्दर पोस्ट ,काबिले तारीफ ।
    मेरे नए पोस्ट - "क्या आप इंटरनेट पर मशहूर होना चाहते है?" को अवश्य पढ़े ।धन्यवाद ।
    मेरा ब्लॉग पता है - harshprachar.blogspot.com

    ReplyDelete
  33. beti umang hai , tarang hai , jivan ki sabse khubsurat rang hai

    ReplyDelete
  34. बहुत ही बढ़िया गहन प्रस्तुति,,,,
    RECENT POST,तुम जो मुस्करा दो,

    ReplyDelete
  35. गहन, विचारनीय, संग्रहनीय... एक बहुत ही उम्दा रचना अनु जी.
    विशेष आभार इस पाठन के लिए..
    सादर
    मधुरेश

    ReplyDelete
  36. गहन सम्वेदना से सजी एक अच्छी कविता |

    ReplyDelete
  37. gambheer baat kahati ...sundar rachna ...

    ReplyDelete
  38. हौले से
    थामे रहती हूँ छोर,
    कि कहीं टूट ना जाये
    उसकी आस की डोर.

    सुन्दर अहसास ....

    ReplyDelete
  39. एक मां के भावों को बहुत गहनता से पिरोया है।

    ReplyDelete
  40. आजकल पिता जी भी बहुत संवेदनशील हो गए हैं !

    ReplyDelete
  41. मै भी एक प्यारी बिटिया की माँ हूँ
    कुछ कुछ ऐसे ही भाव रखती हूँ लेकिन हम दोनों माँ बेटी कम,
    मित्र ज्यादा है !सुंदर रचना अनु,आभार टिप्पणी के लिये...आपकी रचनाओं को पढना
    हमेशा सुखद लगता है समय अभाव के कारण कई बार आपकी पोस्ट पर
    नहीं पहुँच पाती हूँ कुछ मत समझना प्लीज !

    ReplyDelete
  42. बहुत सुन्दर... बहुत सुन्दर ... बहुत सुन्दर......

    i must say.. this the best poen written by you...
    loved it sooo much.... <3 <3 <3

    regards

    ReplyDelete
  43. काँच के महीन टुकड़ों से
    मांजा बनाती हूँ...
    कभी खुद लहुलुहान होकर भी

    घिसती हूँ डोर पर,
    कि कहीं
    पड़ कर कमज़ोर
    कट ना जाये
    पतंग ...

    सही में इतना आसान नहीं बेटी की माँ होना....

    ReplyDelete
  44. di....sach may maa ka dil aisa hi hota hai.....apne is rishtay ko dor aur patang may aise dhala hai ki kya batau......

    ReplyDelete
  45. बहुत खूब..
    यहीं तो जिंदगी है..पतंग रूपी आज़ादी साथ मे जिम्मेदारी भी लाती है |

    सादर |

    ReplyDelete
  46. काँच के महीन टुकड़ों से
    मांजा बनाती हूँ...
    कभी खुद लहुलुहान होकर भी
    घिसती हूँ डोर पर,
    कि कहीं
    पड़ कर कमज़ोर
    कट ना जाये
    पतंग ...

    MARMIK RACHANA HETU ABHAR ANU JI

    ReplyDelete
  47. mujhe to bete ki maa hona kathin lagta hai.....

    ReplyDelete
  48. माँ ...बेटी की हो या बेटे की ....डगर कठिन हैं दोनों के लिए ही
    सोच सोच का अन्तर है इस मुश्किल दौर में

    ReplyDelete
  49. समाज के पेंचो से
    बचाती फिर रही हूँ..
    कभी ढील देती ,
    कभी तानती हुई ...

    बहुत बहुत ख़ूबसूरत कविता..

    ReplyDelete
  50. sach hai bada mushkil hai betiyon ki maa hona....

    ReplyDelete
  51. बेटियाँ तो ऐसा नाज़ुक सा एहसास हैं जैसे मासूम सी तितली फूल पर बैठी हो .... यही आपकी सोच के बारे में भी कहना है ..... सस्नेह -:)

    ReplyDelete
  52. "समाज के पेंचो से
    बचाती फिर रही हूँ..
    कभी ढील देती ,
    कभी तानती हुई ..."

    सचमुच! कठिन है बेटियों कि माँ होना ...

    ReplyDelete
  53. आप ज्यादा अच्छे से समझ सकती हैं , लेकिन मैं भी महसूस कर पाया आपकी बात |

    सादर

    ReplyDelete

नए पुराने मौसम

मौसम अपने संक्रमण काल में है|धीरे धीरे बादलों में पानी जमा हो रहा है पर बरसने को तैयार नहीं...शायद उनकी आसमान से यारी छूट नहीं रही ! मोह...