वो पूरे चाँद सा चेहरा

जिसे मैं छू सकती थी

हाथ बढ़ा कर कभी भी....

और महसूस कर सकती थी

अपनी उँगलियों पर

उन गालों की नरमाई,

नर्म जैसे बादल !

और वो मुस्कराहट

खनकती हंसीं......

जैसे किसी ने खोल दी हो

अपनी अशर्फियों भरी पोटली

या बिखर गयें हो किसी के हाथ से पूजा के फूल....

वो कोमल स्पर्श, आवाज़ की खनक और स्नेह की सौंधी महक का एहसास अब भी जिंदा है.....

बस बिखेर रही हूँ आज

ढेर सा हरसिंगार

तुम्हारी तस्वीर के आगे.

अनु

(दुःख कभी बीतता नहीं....दिन बीतते हैं, और दुःख शायद उनकी परतों के नीचे कहीं पलता रहता है ख़ामोशी से.....)
अंजलि दीदी के जन्मदिन पर ...उनको याद करते हुए !!
4/4/2013

Comments

  1. ऐसी यादें कभी मिटती नही हैं । बारिश की बूँदों से सुगबुगाते बीज की तरह जरा से बहाने पर ही अंकुरित हो उठतीं हैं । अपनी अंजली दीदी को बहुत ही भरे हृदय से याद किया है आपने अनु ।

    ReplyDelete
  2. आपकी लिखी रचना शनिवार 05 अप्रेल 2014 को लिंक की जाएगी...............
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. यादें जरा सा कुरेदने पर सहज ही प्रस्फुटित हो जाती हैं.आँखों की नमी और भरा ह्रदय कुछ न कहते हुए भी बहुत कुछ कह जाती हैं.

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर प्रस्तुति.
    इस पोस्ट की चर्चा, शनिवार, दिनांक :- 05/04/2014 को "कभी उफ़ नहीं की
    " :चर्चा मंच :चर्चा अंक:1573
    पर.

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका शुक्रिया राजीव जी

      Delete
  5. दर्द की थाह पाना मुश्किल है .....यह तो वह नासूर है ..जो जितना पुराना ..उतना हरा

    ReplyDelete
  6. एहसास जिन्दा रहते हैं हमेशा , और उनमे शामिल पल ,व्यक्ति सब कुछ !

    ReplyDelete
  7. samay aage badhta hai par ahsas hmesha jiwant rahta hai .......

    ReplyDelete
  8. सच है यादें कभी मिटती नहीं,अगर ये मिट जाय तो जिन्दगी में सिर्फ सूनापन ही रह जायगा..बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  9. आपकी अंजलि दीदी को मेरी भी शुभकामनायें !!
    बढ़िया तो आपकी रचना होती ही है :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. मुकेश जी , दीदी अब हमारे साथ नहीं हैं....वरना उनकी तस्वीर के आगे फूल न बिखेरती :-(

      Delete
  10. यादें हैं , कहाँ जाएँगी .. घड़ी घड़ी सताएंगी.

    ReplyDelete
  11. गहन भाव लिए रचना |यादें ही तो जीवन का सहारा होती हैं |
    आशा

    ReplyDelete
  12. सुन्दर श्रद्धांजलि

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर....

    ReplyDelete
  14. भावपूर्ण एहसास को हम भी महसूस कर सकते है.

    ReplyDelete
  15. अनु जी , बहुत सुन्दर भाव ! , धन्यवाद I.A.S.I.H ( हिंदी जानकारियाँ )
    हिंदी ब्लॉग जगत में एक नए ब्लॉग की शुरुवात हुई है कृपया आप सब से विनती है कि एक बार अवश्य पधारें , व अपना सुझाव जरूर रक्खें , धन्यवाद ! ~ ज़िन्दगी मेरे साथ - बोलो बिंदास ! ~ ( एक ऐसा ब्लॉग -जो जिंदगी से जुड़ी हर समस्या का समाधान बताता है )

    ReplyDelete
  16. यादों का बंधन अच्छा लगा..!!!

    ReplyDelete
  17. क्या बात है। लाजवाब रचना।

    ReplyDelete
  18. My floral tributes!!
    /
    This is the tenth attempt to finally comment here!!

    ReplyDelete
  19. रिश्ते फूल हो जाते हैं
    याद जब बहुत आते हैं

    श्रद्धा सुमन दीदी के लिये हमारे भी !

    ReplyDelete
  20. दिल को छूती हुई रचना... उआदों के झरोखे खुले रहते हैं ... शब्द फूल बन के बिखर जाते हैं ...

    ReplyDelete
  21. आह! भावपूर्ण यादें हैं ..

    ReplyDelete
  22. मर्मस्पर्शी...

    ReplyDelete
  23. ये यादें भी कहाँ अकेले रहने देती हैं ... चुपके से आ जाती हैं बीते दिनों को साथ लेकर ...
    दीदी को श्रद्धा सुमन ...!

    ReplyDelete
  24. अंजली दीदी भी महसूस करती होगी इस स्नेह को, भले ही जीवन नष्ट हो ऊर्जा कहाँ नष्ट होती है ?
    भावभरी रचना मन को छू गयी अनु, आने में देर हुयी !

    ReplyDelete
  25. वाह... लाजवाब प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@भजन-जय जय जय हे दुर्गे देवी

    ReplyDelete
  26. हरसिंगार की महक पहुंची होगी तुम्हारी अंजलि दीदी तक और उन्होंने अंजुरी भर भर कर कर लिया होगा आत्मसात . खूबसूरत भाव सुमन .

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

प्रेमपत्र

मेरी लिखी कहानी "स्नेहा" - 92.7 big fm पर नीलेश मिश्रा की जादुई आवाज़ में................

दैनिक जागरण के राष्ट्रीय संस्करण में मेरी किताब "इश्क तुम्हें हो जाएगा " की समीक्षा...............