इन्होने पढ़ा है मेरा जीवन...सो अब उसका हिस्सा हैं........

Saturday, May 4, 2013

मेरे कमरे का मौसम.....

मेरे कमरे में
दीवारें नहीं हैं.
बस खिड़कियाँ हैं,
खिड़कियाँ ही खिड़कियाँ ....
हर खिड़की एक मौसम की ओर खुलती
किसी खिड़की  से आतीं बारिश की मीठी बूँदें
तो किसी से जाड़े की कच्ची धूप भीतर झांकती
या कभी भीतर आकर धुंध मेरा अंतर्मन भिगोती....
एक खिड़की पर बसंत झूला करता है
(और उसकी ओट में छिपे रहते मन के सभी ज़र्द पत्ते )
फाल्गुन की खिड़की से दहकता पलाश भीतर आता
सोख लेता मन के सीलेपन को...

सारे मौसम एक साथ होते हैं जब ,
सब खिड़कियाँ बंद होतीं हैं और
मेरे कमरे में
तुम होते हो !

अहा !!
तुम, मैं और तुम्हारा बारामासी प्रेम !!!

~अनु ~


57 comments:

  1. फाल्गुन की खिड़की से दहकता पलाश भीतर आता
    सोख लेता मन के सीलेपन को
    ------------------------------
    अंतर्मन भिगोती नायाब पोस्ट ...

    ReplyDelete
  2. बारामासी प्रेम और सदाबहार कमरा .... :)

    ReplyDelete

  3. मौसम तो परिवर्तनशील है आते जाते है - बारामासी प्रेम के इन्तेजार में .
    डैश बोर्ड पर पाता हूँ आपकी रचना, अनुशरण कर ब्लॉग को
    अनुशरण कर मेरे ब्लॉग को अनुभव करे मेरी अनुभूति को
    lateast post मैं कौन हूँ ?
    latest post परम्परा

    ReplyDelete
  4. :)... बारामासी प्रेम !!!

    ReplyDelete
  5. सारे मौसम एक साथ होते हैं जब ,
    सब खिड़कियाँ बंद होतीं हैं और
    मेरे कमरे में
    तुम होते हो !

    बहुत उम्दा, बेहतरीन अभिव्यक्ति,,,

    RECENT POST: दीदार होता है,

    ReplyDelete
  6. सारे मौसम एक साथ होते हैं जब ,
    सब खिड़कियाँ बंद होतीं हैं और
    मेरे कमरे में
    तुम होते हो !

    अहा !!
    तुम, मैं और तुम्हारा बारामासी प्रेम !!!

    सुंदर बहुत ही सुंदर, ऐसा तो प्रियतम (परमात्मा) के ध्यान में ही संभव है. श्रेष्ठतम रचना.

    रामराम

    ReplyDelete
    Replies
    1. कितने ज्ञानी मेरे ताऊ! ..जय हो। :)

      Delete
  7. वाह ....मन से निकली भावनाएं .....

    ReplyDelete
  8. बरसाती प्रेम की लाजबाब प्रस्तुति ....बधाई हो

    ReplyDelete
  9. अहा... बारहमासी बहार का मौसम... बहुत सुन्दर...शुभकामनायें अनुजी

    ReplyDelete
  10. सारे मौसम एक साथ होते हैं जब ,
    सब खिड़कियाँ बंद होतीं हैं और
    मेरे कमरे में
    तुम होते हो !
    वाह ... बहुत खूब अनुपम भाव संयोजन
    आभार

    ReplyDelete
  11. वाह खूबसूरत अहसास

    ReplyDelete
  12. बहुत ही सुन्दर कविता का सृजन.

    ReplyDelete
  13. क्या इसके बाद भी किसी और मौसम की दरकार है ...:)

    ReplyDelete
  14. gazb .........no words to say ......

    ReplyDelete
  15. wah di jes awesome....4 bar padha...man hi nahi bharta..... its really nice

    ReplyDelete
  16. तुम और तुम्हारा बारह मासी प्रेम जो अपने आप में सारे मौसम हैं... बहुत खूब सुंदर प्रस्तुति....!!

    ReplyDelete
  17. जैसे भी दिल बहले......
    शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  18. वाह, कितना कोमल एहसास!

    ReplyDelete
  19. बेहतरीन कविता



    सादर

    ReplyDelete
  20. बारामासी प्रेम !!! :)
    kya gajab ki baat kahi aapne ..
    bahut khub

    ReplyDelete
  21. वाह ..
    बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  22. सब मौसम एक साथ कमरे में हो और बारामासी प्रेम भी पर चाबी खोजाए ..

    ReplyDelete
  23. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (05-05-2013) के चर्चा मंच 1235 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    ReplyDelete
  24. आये हाय ये बारहमासी प्रेम ..:):)

    ReplyDelete
  25. सारे मौसम एक साथ होते हैं जब ,
    सब खिड़कियाँ बंद होतीं हैं और
    मेरे कमरे में
    तुम होते हो !

    अहा !!
    तुम, मैं और तुम्हारा बारामासी प्रेम !!!दिल खुश किया आपने :)

    ReplyDelete
  26. सारे मौसमों का 'लव-शेक' आप यूँ ही सदा पीती रहे । बहुत खूबसूरत से भाव और पंक्तियाँ भी ।

    ReplyDelete
  27. सारे मौसम एक साथ होते हैं जब ,
    सब खिड़कियाँ बंद होतीं हैं और
    मेरे कमरे में
    तुम होते हो !.... सही कहा आपने अनु .... सारे मौसम एक साथ.. भई वाह!

    ReplyDelete
  28. बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति अनु दी!

    ReplyDelete
  29. अनु जी : कुछ मेजिशियन/जाद्गर ऐसे प्रतिभाशाली होते है की रोज एक शो करे तब भी अपना मेजिक रिपीट न करे... हर बार कुछ नया...!! और दर्शको में एक अपेक्षा बांध जाए : इस बार क्या दिखायेगा..? --- आप की रचनाओं का बिलकुल वैसा है-- हर बार एक नया इडियम. एक नया विश्व.एक नया एंगल...!! इस रचना में -------मेरे कमरे में
    दीवारें नहीं हैं.
    बस खिड़कियाँ हैं,
    खिड़कियाँ ही खिड़कियाँ ....
    ----- यह कह कर आप ने कितनी अदभुत संकल्पना दे दी है....!! वाह--- पाठक अपनी अकाल के अनुसार इस रचना को एन्जॉय कर सकता है...जैसी जिस की पात्रता...!! बहुत बहुत धन्यवाद----

    ReplyDelete
  30. there's a whole world inside our room..
    only the owner can feel that :)

    ReplyDelete
  31. बहुत ही सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति भी .....!!

    ReplyDelete
  32. प्यार का अहसास तमाम अपेक्षाओं से परे एक अलग दुनिया बसाता है.

    मन के भावों का सटीक चित्रण इस सुंदर प्रस्तुति में. शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  33. मन का मौसम -हर क्षण नूतन !

    ReplyDelete
  34. वाह ...क्या बात है अनु !!
    मंगल कामनाएं !

    ReplyDelete
  35. प्रेम ..... बारह महीने .... ख़ूबसूरत .... अत्यंत ख़ूबसूरत

    ReplyDelete
  36. अद्भुत एहसास .... तुम्हारे होने से सारे मौसम एक साथ ही आ जाते हैं और बिना दीवारों के कमरे की खिड़कियाँ भी बंद हो जाती हैं :):) और बारहमासी प्रेम तो गज़ब की अनुभूति :):) बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  37. 1. फाल्गुन की खिड़की से दहकता पलाश भीतर आता
    सोख लेता मन के सीलेपन को...


    2. अहा !!
    तुम, मैं और तुम्हारा बारामासी प्रेम !!!


    अच्छा इज़हार अनु जी !

    ReplyDelete
  38. अहा !!
    तुम, मैं और तुम्हारा बारामासी प्रेम !!!
    यह एक पंक्‍ति काफी है जज्‍बात-ए-बयां को

    ReplyDelete
  39. such a cute poem...:) tumhara baramasi prem ...indeed!!
    http://boseaparna.blogspot.in/

    ReplyDelete
  40. बहुत खूब ... इस बारामासी प्यार का मौसम हो तो दूसरे मौसम की क्या जरूरत ...

    ReplyDelete
  41. बहुत सुंदर रचना
    क्या बात

    ReplyDelete
  42. मौसम सारे मन के ही तो !

    ReplyDelete
  43. तुम् मेरे पास होते हो गोया,
    जब कोई दूसरा नहीं होता!!
    अब क्या कहूँ.. कुछ कहना भी इंटरफेयर करने सा लगेगा!! <3

    ReplyDelete
  44. ख़ूबसूरत इज़हार ,अहा !!
    तुम, मैं और तुम्हारा बारामासी प्रेम !!!

    ReplyDelete
  45. प्रेम की गजब अनुभूति वह भी बारहमासी
    बहुत सुन्दर रचना
    बधाई

    ReplyDelete
  46. किसी ख़ास के साथ होने से ही साथ होते है सारे मौसम..
    बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  47. AApki kavitayein padh dil prassan ho jata hai :) iss ghum mai v khusi hai.

    ReplyDelete
  48. बना रहे
    घना रहे

    ReplyDelete
  49. सारे मौसम एक ही कमरे में बंद मिलें...तो क्या ही कहना!
    बहुत ख़ूबसूरत रचना अनु!
    <3

    ReplyDelete
  50. हमेशा की तरह निशब्द :)

    सादर

    ReplyDelete

नए पुराने मौसम

मौसम अपने संक्रमण काल में है|धीरे धीरे बादलों में पानी जमा हो रहा है पर बरसने को तैयार नहीं...शायद उनकी आसमान से यारी छूट नहीं रही ! मोह...