इन्होने पढ़ा है मेरा जीवन...सो अब उसका हिस्सा हैं........

Saturday, May 25, 2013

नदी

नदी
मांग रही है  मुझ से
मेरे आँसू
कि वो समंदर होना चाहती है
बिना समंदर से मिले.
नदी एक स्त्री है
हर स्त्री की तरह घायल
अपने जख्म खुद चाटती हुई...
जानती है जुटा लेगी
पर्याप्त खारापन
कई और स्त्रियों के साथ मिल कर,
जो बहा रहीं हैं अपने स्वेद और अश्रु

बाहरी आवरण के भीतर
सब की सब स्त्रियाँ खारी हैं
कि सबके दुःख और दर्द एक से है !!

निष्कंप बहती रही नदी
जब स्त्रियाँ डूबी नदी में,
और तट पर लगे वृक्ष कांप उठे
पुष्प वर्षा हुई!!

~अनु ~

45 comments:

  1. bahut khoob ,dard ka bira safar

    ReplyDelete
  2. वाह..अद्भुत परिकल्पना ...नदी को आंसुओं की चाहत ...सागर से खारेपन के लिए ...बहुत खूब .

    ReplyDelete
  3. कई बार पढ़ने के बाद भी कमेंट करने के लिए मेरे शब्द मन मुताबिक नहीं मिल रहे .......

    ReplyDelete
  4. बाहरी आवरण के भीतर
    सब की सब स्त्रियाँ खारी हैं
    कि सबके दुःख और दर्द एक से है !! waaki men ..par wo aurten jiski manzil ak jaisee ho warna kuchh aurton ki wajah se kai bar sharmshar hona padta hai anu jee.....

    ReplyDelete
  5. sach hi tho hai.....sabke dukh dard ek jaise...last kuch lines tho bas keher dha rahi hain....aur kuch likh nahi paa rahi....

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन भाव सुंदर प्रस्तुति ,,,

    RECENT POST : बेटियाँ,

    ReplyDelete
  7. बार -बार पढ़ा ....बहुत लाजवाब

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर दमदार प्रस्तुति के लिए धन्यवाद ...

    ReplyDelete
  9. सुन्दर भाव बढ़िया प्रस्तुति !
    अनुशरण कर मेरे ब्लॉग को अनुभव करे मेरी अनुभूति को
    latest post: बादल तू जल्दी आना रे!
    latest postअनुभूति : विविधा

    ReplyDelete
  10. बेहतरीन भाव सुंदर प्रस्तुति ,,,

    ReplyDelete
  11. बाहरी आवरण के भीतर
    सब की सब स्त्रियाँ खारी हैं
    कि सबके दुःख और दर्द एक से है !!

    बेहद खूबसूरत बिंब लिया आपने, इस पीडा को अभिव्यक्त करने के लिये, बहुत शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  12. निष्कंप बहती रही नदी
    जब स्त्रियाँ डूबी नदी में,
    और तट पर लगे वृक्ष कांप उठे
    पुष्प वर्षा हुई!!……………सच्चाई प्रस्तुत करती रचना

    ReplyDelete
  13. बहुत ही खूबसूरत ...मार्मिक

    ReplyDelete
  14. पीड़ा को छुपाये रहना नारी के ही बस की बात है।

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर और गहन भाव हैं अनु ...!!

    ReplyDelete
  16. नदी
    मांग रही है मुझ से
    मेरे आँसू
    कि वो समंदर होना चाहती है
    बिना समंदर से मिले.
    अप्रतिम......

    सादर

    ReplyDelete
  17. अत्यंत भावपूर्ण।
    नारी सशक्तिकरण की आवश्यकता है।

    ReplyDelete
  18. सब की सब स्त्रियाँ खारी हैं
    कि सबके दुःख और दर्द एक से है !!

    स्त्रियों का दर्द सब जगह एक सा है. सुंदर भाव लिये सुंदर कविता.

    ReplyDelete
  19. सुबह ब्लॉग पर आया था पर समझ नहीं आया क्या लिखें ,फेसबुक पर आ गए और यहाँ आये तो आदरणीय चाची जी की टिप्पणी उसी रचना पर तब समझ गए कि बिना लिखे काम नहीं चलना है ........बहुत ही उम्दा लिखतीं हैं आप । विचारों की पोटली कहाँ से लाती हैं ।

    ReplyDelete
  20. बहुत खूब लिखा आपने गहन अभिव्यक्ति विचारों की | साधू |

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    ReplyDelete
  21. टिप्पणी कर पाने में असमर्थ ।
    सहजता से बस इतना कह सकता हूँ "उत्कृष्ट भाव" ।

    ReplyDelete
  22. बाहरी आवरण के भीतर
    सब की सब स्त्रियाँ खारी हैं ...समंदर की तरह .... इसीलिए सब समेट लेती हैं अपने अंदर ।

    ReplyDelete
  23. बाहरी आवरण के भीतर
    सब की सब स्त्रियाँ खारी हैं
    कि सबके दुःख और दर्द एक से है !!
    बेहद गहन भाव .... उत्‍कृष्‍ट अभिव्‍यक्ति

    सादर

    ReplyDelete
  24. गहरी बातें सहज ही कह देती हैं आप शब्दों के माध्यम से ...
    बहुत प्रभावी रचना है ..

    ReplyDelete
  25. अनु जी : पुन: एक बार आप ने जादू की छड़ी घुमाई है... बिग्गेस्ट माइनोरिटी पर कितना कुछ लिखा जाता रहा है—एक बार फिर एकदम तर्रोताज़ा इडियम लिए आप ने अपनी बात रखी है-------नदी एक स्त्री है
    हर स्त्री की तरह घायल
    अपने जख्म खुद चाटती हुई...
    ------- यह बहुत ही असह्य चित्र है. अधिक तो इस लिए क्यों की पुरुष होने की गिल्ट इसे ऐसे फ्रेम में प्रस्तुत करती है की देखते न बने...
    आप की कलम को सलाम.

    ReplyDelete
  26. स्त्री मन की व्यथा को उजागर करने में सफल रचना |
    सुन्दर रचना |

    ReplyDelete
  27. बाहरी आवरण के भीतर
    सब की सब स्त्रियाँ खारी हैं
    कि सबके दुःख और दर्द एक से है !!

    in shabdo ke liye kya kahun...
    aap behtareen ho.....

    ReplyDelete
  28. बहुत सुन्दर प्रभावी प्रस्तुति..अनु

    ReplyDelete
  29. पानी नदी समन्दर के जरिए आपने जो कविता व्यक्त की है वह अतुलनीय है। मैनें अब तक जो श्रेस्ठ कविताएँ पढी हैं निसन्देह ये उनमे से एक है। आपकी आज्ञा हो तो मैं इसे अपने संगह में रखूँ।

    ReplyDelete
  30. बहुत ही गहन भाव लिए हुए... बेहतरीन रचना अनु .

    ReplyDelete
  31. निष्कंप बहती रही नदी
    जब स्त्रियाँ डूबी नदी में,
    और तट पर लगे वृक्ष कांप उठे
    पुष्प वर्षा हुई!!------

    वाह नदी को नदी की ही अनुभूति में डुबो दिया
    गजब की रचना
    सादर

    ReplyDelete
  32. सच में समुन्दर सी खारी हैं सारी स्त्रियाँ .

    ReplyDelete
  33. इमोशनल अत्याचार .....सुन्दर

    ReplyDelete
  34. very nice personification of river into a woman.....

    ReplyDelete
  35. अद्भुत प्रतीकों के प्रयोग ने रचना को आसमान की ऊँचाइयों पर पहुँचा दिया है. बधाई......

    ReplyDelete
  36. बाहरी आवरण के भीतर
    सब की सब स्त्रियाँ खारी हैं
    कि सबके दुःख और दर्द एक से है !!
    बहुत सुन्दर ....bilkul sahi kaha hai !

    ReplyDelete
  37. सभी स्त्रियाँ खारी है अपने स्वेद व अश्रुओं के साथ ...अच्छा लिखा है ।

    ReplyDelete
  38. कि सबके दुःख और दर्द एक से है !!

    ............सुंदर भाव लिये सुंदर कविता.

    ReplyDelete
  39. 'बाहरी आवरण के भीतर
    सब की सब स्त्रियाँ खारी हैं
    कि सबके दुःख और दर्द एक से है !!'

    so true!
    Beautifully written!

    ReplyDelete

नए पुराने मौसम

मौसम अपने संक्रमण काल में है|धीरे धीरे बादलों में पानी जमा हो रहा है पर बरसने को तैयार नहीं...शायद उनकी आसमान से यारी छूट नहीं रही ! मोह...