इन्होने पढ़ा है मेरा जीवन...सो अब उसका हिस्सा हैं........

Friday, May 10, 2013

लाल स्कार्फ वाली लड़की


वो देखता रहता उस पनीली आँखों वाली लडकी को,रेत के घरौंदे बनाते और बिगाड़ते.....उसे मोहब्बत हो चली थी थी इस अनजान,अजीब सी लडकी से...जो अक्सर लाल स्कार्फ बांधे रहती.....कभी कभी काला भी...

बरसों से समंदर किनारे रहते रहते इस मछुआरे को पहले कभी न इश्क हुआ था न कभी  ऐसी कोई लडकी दिखी थी.जाने कहाँ से आयी थी वो लडकी इस वीरान से टापू में....देखने में भली लगती थी मगर कुछ विक्षिप्त सी,खुद से बेपरवाह सी...(जाने लहरें उसे बहा कर लाई हैं  या किसी मछली के पेट से निकली राजकुमारी है वो...मछुआरा अपनी सोच के साथ बहा चला जाता था..)
लडकी को देखते रहना हर शाम का नियम था उसका.वो बिना कुछ कहे लड़की को समझने की नाकाम कोशिश करता था.
एक रोज़ वो लडकी के करीब पहुंचा....लडकी भी उसकी उपस्थिति से अभ्यस्त हो चुकी थी सो उसने कोई प्रतिक्रिया नहीं की....बस अपना घरौंदा बनाती रही.....तोड़ देने के लिए...
तुम इतने  सुन्दर घरौंदे  क्यूँ बनाती हो ???और फिर उन्हें यूँ रेत में मिला देती हो??
कोई मिटाने के लिए भी बनाता है भला?? और ये लाल काला स्कार्फ क्यूँ बदलती हो??? एक साथ सारे सवाल दाग दिए उसने,मानों कहीं एक सवाल के बाद लडकी कोई रोक न लगा दे उसके बोलने पर.

बिना अपना चेहरा उठाये वो लड़की  बोली ,जब मैं घरौंदे बनाती हूँ तब प्रेम में होती हूँ और तब ये लाल स्कार्फ पहन लेती हूँ,घर के बनते ही मैं नफरत हो जाती हूँ और काला स्कार्फ पहन लेती हूँ और फिर मुझे घरौंदा तोडना अच्छा लगता है.
उसकी आवाज़ जैसे किसी शंख के भीतर से निकली ध्वनि हो.... 
खुद को सम्मोहित होने से रोकते हुए लड़के ने कहा-
तो तुम्हारे भीतर दो व्यक्तित्व हैं...एक भला एक बुरा !! आखिर कैसे जी लेती हो ये दोहरा जीवन?
लड़की ने पहली दफा पलकें ऊपर उठायी......सागर की गहराई मानों कम पड़ गयी उसकी आखों के आगे...और चेहरे की लुनाई मानों कोई तराशा हुआ सीप....
सच कहा तुमने मछुआरे....थक गयी हूँ ये दोहरा जीवन जीते जीते....कहो क्या तुम जियोगे मेरा एक जीवन???
लड़के की हाँ और न को सुने बिना ही उसने काला स्कार्फ लड़के की गर्दन में लपेट दिया और कहा अब इस घरोंदे को तुम तोड़ो.....मेरे भीतर की बुरे को तुम जियो.....
भीगी आँखों से लड़के ने घरौंदा तोड़ दिया और लड़की के गालों पर भी लुढ़क आये आँसू......
इसके पहले कभी एक सीप में दो मोती उसने न सुने न देखे थे  .

अब तो ये नियम बन गया...लडकी साहिल से दूर सुन्दर घरौंदा बनाती,लहरों से बचाती और फिर खुद लड़के से तोड़ डालने को कहती फिर जाने क्यूँ उन दोनों की आँखों से आँसू निकल आते...
लडकी के साथ एक सुन्दर सपनों का घर बनाने का ख्वाब देखने वाले लड़के के लिए ये एक यातना से कम न था,मगर बावली लडकी से इश्क की कीमत तो उसको चुकानी ही थी.
लड़का कहता तुम्हें घर तोडना ही है तो साहिल के नज़दीक क्यूँ नहीं बनाती,लहरें खुद-ब-खुद बहा ले जायेंगी,मगर लडकी कहाँ सुनती,कहती तुम तो हो तोड़ने के लिए,सागर की लहर ही तो हो न तुम......और उसका ये अनोखा क्रूर खेल चलता रहता.
लड़का थक गया उसे मनाते,समझाते......मगर वो नहीं मानी...लड़के ने खुद ही सोच लिया कि शायद किसी पहले प्यार की नाकामी ने ही उसको पागल बना दिया होगा,और अब उसके दिल में प्यार के लिए कोई गुंजाइश न थी....हाँ,मगर वो हर शाम सागर किनारे  इंतज़ार करती मछुआरे का और उसकी कश्ती किनारे लगते ही वो घरौंदा बनाने जुट जाती.
उस शाम सूरज ढल गया,मछुआरा नहीं लौटा.लड़की साहिल पर इंतज़ार करती रही और तारे निकल आये मगर कोई कश्ती किनारे नहीं लगी.
उस रोज़ समंदर लील गया था लड़के को...कौन जाने लहरों ने उसे डुबोया या उसने खुद जल समाधी ली !!
लड़की तो पहले ही बावली थी....
वो अब भी घरौंदे बनाती थी साहिल से दूर.......मगर घरौंदा बनते ही एक लहर जाने कहाँ से अपने तटबंध तोड़ती वहां तक आती और साथ ले जाती घरौंदा,और लड़की के दो बूँद आँसू भी.
लोग कहते हैं इसके पहले न समंदर इतना खारा था न ही सीप के भीतर मोती निकला करते थे.

~अनु ~




47 comments:

  1. या ....." कोरे मन की सच्ची कल्पना "

    ReplyDelete
  2. बहुत ही मार्मिक कहानी॥

    ReplyDelete
  3. लाल स्कार्फ और काले स्कार्फ की असलियत ने तो एक झटका ही दे दिया..
    सुन्दर कहानी

    ReplyDelete
  4. बिछोह हमेशा सच क्यों लगता है

    ReplyDelete
  5. अभी तक कहानी को अपने अंदर उतारने की कोशिश कर रहा हूँ.. शायद बाद में कह पाऊँ कुछ!!

    ReplyDelete
  6. मोती का सृजन खारे पानी में होता है...प्रेम की कीमत भी विछोह में ज्ञात होती है...

    ReplyDelete
  7. kore mn ki kalpna ....bahut acchi hai ...touching hai anu jee ....

    ReplyDelete
  8. I got goosebumps while reading it.. very fragile n beautiful..

    ReplyDelete
  9. बहुत ही संवेदनात्मक और सुंदर, शुभकामनाएं.

    रामराम

    ReplyDelete
  10. creativity at its best.....lovely post Anu... :)

    ReplyDelete
  11. bahut sundar kahani hai di........with touching feelings and lines....

    ReplyDelete
  12. रोचकता से बुनी गयी कहानी ....

    ReplyDelete
  13. YESASO AUR KALPNA KA SAJIV CHITRAN ...BAHUT ACHHA

    ReplyDelete
  14. लोग कहते हैं इसके पहले न समंदर इतना खारा था न ही सीप के भीतर मोती निकला करते थे.
    अमृता का काला गुलाब और सुर्ख गुलाब याद आ गया .....बहुत खूबसूरत ....इसलिए भी कि समंदर से प्रेम है मुझे ....उसका खारापन अजीज ...उसकी गहराई दिल के करीब है ...बहुत सुंदर बयाँ किया है आपने ......

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  16. तो उस लड़की की आसुओं से सागर इतना खारा है !
    बहुत ही रोचक लगी कहानी !

    ReplyDelete
  17. bahut sundar Rachna...ek ek shabd me feeling ...

    ReplyDelete
  18. अधिकांश BLOG पढ़ा.................कविताएँ अधिक अच्छी लगीं...............शेष यथासमय..........

    ReplyDelete
  19. नहीं....यह काल्पनिक कथा नहीं है ...सच्ची है। बिल्कुल सच्ची। धरती कितने मन से घरौंदे बनाती है .....फिर न जाने कितनी लहरें आती हैं उन्हें तोड़ देने के लिये। धरती की आँख से भी आँसू निकलते हैं ...और समन्दर खारा होता रहता है। लोगों को पता है कि लहरें इन घरौंदों को क्यों तोड़ देती हैं ...पर वे लापरवाह हैं उन्हें तो यह सब एक खेल लगता है।

    ReplyDelete
  20. बहुत कुछ कहती है ये कहानी ... अपने आप में खारा पन जीवन में लिए समुन्दर भी तो जीता है ... उसके आंसू भी तो हो सकते हैं ये ...

    ReplyDelete
  21. हकीकत सी लगती कहानी... ह्रदय स्पर्शी...

    ReplyDelete
  22. Bichhad Jaane Ki Har Baar Kahani Banti Hai Pr Shayad Milne Ki Nhi...

    Prabhawi Lekhan.
    Sadar

    ReplyDelete
  23. बहुत बढ़िया लिखा है..

    ReplyDelete
  24. कुछ नहीं बोलते हुए बहुत कुछ बोल गयी वो लड़की, लड़की का घरौन्दा और स्कार्फ
    सुन्दर लेखन, मार्मिक ....
    सादर!

    ReplyDelete
  25. बहुत मर्मस्पर्शी कहानी...

    ReplyDelete
  26. With only a few modifictions the story could be converted into a beautiful SF love story! Nice one!

    ReplyDelete
  27. bhavnaon ke umadte sailabon ko chhua hai aapne aur is chhoti magar khoobsurat rachna se apratyaksh kathasaar jo diya hai, vo pathak k liye chhod diya hai, mujhe kahani ki ye shaily achchhi lagi....!

    ReplyDelete
  28. bahut sundar rachna aur is chhoti si kahani ki ye shaily bhi bahut achchhi lagi, jahan na failaav hai na sankuchan....jiske arth aapne pathkon par chhod diye hain..........!!

    ReplyDelete
  29. anu ji..yun to kam hi aana hota hai ...par yahan jab bhi aati hoon...stbdh reh jati hoon padhkar...aap kalam se bakhoobhi dastak detey ho :)

    ReplyDelete
  30. bhut sundar khani
    aankhe nm kar di waaaaah bhot umda

    ReplyDelete
  31. दिल से निकले जज़्बात दिल तो छू ही लेंगे !
    आह! कहूँ कि वाह !

    ReplyDelete
  32. दिल को छू गई उस लड़की की बातें. सुंदर भावनात्मक कहानी. बधाई.

    ReplyDelete
  33. बेहतरीन तरीके से लिखी हुई ....

    ReplyDelete
  34. बेहद कोमल भाव ..... सस्नेह :)

    ReplyDelete
  35. वाह बहुत खूब ...

    ReplyDelete

नए पुराने मौसम

मौसम अपने संक्रमण काल में है|धीरे धीरे बादलों में पानी जमा हो रहा है पर बरसने को तैयार नहीं...शायद उनकी आसमान से यारी छूट नहीं रही ! मोह...