इन्होने पढ़ा है मेरा जीवन...सो अब उसका हिस्सा हैं........

Saturday, May 18, 2013

हैंडल विथ केयर

मैंने पहुंचाया था प्रेम तुम तक,
सम्हाल कर ,
एहतियात से पैक करके..
सभी आवश्यक निर्देशों के साथ
कि -
ये हिस्सा ऊपर (दिस साइड अप)
हैंडल विथ केयर
ब्रेकेबल
डु नॉट रोल और फोल्ड!!
मगर देखो न
आज छिन्न भिन्न है हमारा प्रेम...
बिखर गया कतरा कतरा
तुम्हारी लापरवाही से.

आज समझी कि
प्रेम के दिए जाने में कोई गलती नहीं
न ही प्रेम के किये जाने में है....
प्रेम को सही तरीके से स्वीकारा जाना,
इसे स्नेह से सहेजना भी ज़रूरी है.

रिश्तों के टूटने की जवाबदेही सिर्फ एक की नहीं...
सिर्फ मेरी नहीं...कतई नहीं !!!
~अनु ~



35 comments:

  1. प्रेम के दिए जाने में कोई गलती नहीं
    न ही प्रेम के किये जाने में है....
    प्रेम को सही तरीके से स्वीकारा जाना,
    इसे स्नेह से सहेजना भी ज़रूरी है.-बिलकुल सही कहा है आपने
    डैश बोर्ड पर पाता हूँ आपकी रचना, अनुशरण कर ब्लॉग को
    अनुशरण कर मेरे ब्लॉग को अनुभव करे मेरी अनुभूति को
    latest post वटवृक्ष

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    साझा करने के लिए आभार!

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  4. प्रेम के दिए जाने में कोई गलती नहीं
    न ही प्रेम के किये जाने में है....
    प्रेम को सही तरीके से स्वीकारा जाना,
    इसे स्नेह से सहेजना भी ज़रूरी है.........बहुत सही कहा.अनु..शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  5. आज समझी कि
    प्रेम के दिए जाने में कोई गलती नहीं
    न ही प्रेम के किये जाने में है....
    प्रेम को सही तरीके से स्वीकारा जाना,
    इसे स्नेह से सहेजना भी ज़रूरी है------.
    प्रेम के अहसास की अनुभूति
    सुंदर रचना
    उत्कृष्ट प्रस्तुति
    सादर


    आग्रह है पढ़ें "बूंद-"
    http://jyoti-khare.blogspot.in


    ReplyDelete
  6. आज समझी कि
    प्रेम के दिए जाने में कोई गलती नहीं
    न ही प्रेम के किये जाने में है....
    प्रेम को सही तरीके से स्वीकारा जाना,
    इसे स्नेह से सहेजना भी ज़रूरी है------.
    प्रेम के अहसास की अनुभूति
    सुंदर रचना
    उत्कृष्ट प्रस्तुति
    सादर


    आग्रह है पढ़ें "बूंद-"
    http://jyoti-khare.blogspot.in


    ReplyDelete
  7. kya bat hai bhot khub...............
    anmol aalfaz hai waaaaah

    ReplyDelete

  8. सेंसिटिव मेटर !
    कल्पना में भी प्यार के टूटने का अहसास दुःख देता है।

    ReplyDelete

  9. रिश्तों के टूटने की जवाबदेही सिर्फ एक की नहीं...
    सिर्फ मेरी नहीं...कतई नहीं
    कतई नहीं .........

    ReplyDelete
  10. sahi tarike se sweekar aur nibhne ki zoorurt hai

    ReplyDelete
  11. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन संभालिए महा ज्ञान - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  12. प्रेम के दिए जाने में कोई गलती नहीं
    न ही प्रेम के किये जाने में है....
    प्रेम को सही तरीके से स्वीकारा जाना,
    इसे स्नेह से सहेजना भी ज़रूरी है.

    रिश्तों के टूटने की जवाबदेही सिर्फ एक की नहीं...
    सिर्फ मेरी नहीं...कतई नहीं !!!

    मेरी भी नहीं.....
    सुन्दर...
    अति सुंदर....

    ReplyDelete
  13. रिश्तों में जवाबदेही ! बहरहाल मन को छू गया ..... सस्नेह :)

    ReplyDelete
  14. इतनी चमक कभी देखी जो न थी । अनपैक किया तो आँखें चुंधिया गई और हाथ से सरक गया तुम्हारा प्रेम ।
    एक बार और भेज दो अपना प्रेम । बहुत एहतियात बरतूंगा । और तो और अबकी आँखें मूंदे ही रहूँगा ,जिससे तुम्हारे प्रेम की चमक से आँखे फिर न चुंधिया जाएँ ।
    लेकिन मुझे पता है तुम अब ऐसा कुछ नहीं करोगी । 'फ़्रेजाइल' तो 'फ़्रेजाइल' ही होता है न ।

    ReplyDelete
  15. प्रेम को सही तरीके से स्वीकारा जाना,
    इसे स्नेह से सहेजना भी ज़रूरी है.

    बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  16. प्रेम को सही तरीके से स्वीकारा जाना,
    इसे स्नेह से सहेजना भी ज़रूरी है.

    निश्चय ही ...संवेदना के बिना प्रेम एक पल भी टिक नहीं सकता ....!!संवेदना है ...तो प्रेम अमर है ...!!
    सुन्दर बात अनु ...

    ReplyDelete
  17. आपने लिखा....हमने पढ़ा
    और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए कल 20/05/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया यशवंत....

      Delete
  18. प्रेम को सहेज कर रखना भी एक चुनौती भरा काम होता है. सुन्दर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  19. सुन्दर अंदाज की रचना ....

    ReplyDelete
  20. ये हिस्सा ऊपर (दिस साइड अप)
    हैंडल विथ केयर
    ब्रेकेबल
    डु नॉट रोल और फोल्ड!!
    मगर देखो न
    आज छिन्न भिन्न है हमारा प्रेम...
    बिखर गया कतरा कतरा
    तुम्हारी लापरवाही से.

    शायद प्रेम इन शर्तों से नहीं बंधा होता या कहलें की कायदे कानूनों को नही मानता. प्रेम तो बस होता है, क्यों, कब व कैसे? कहना ब्रह्माजी के बस का भी नही है.
    बहुत सुंदर रचना.

    रामराम.

    ReplyDelete
  21. बाखूबी बांधे हैं दिल के भाव ...
    और सच भी है रिश्ते एक तरफ से नहीं चल सकते ... उन्हें सहेजना पड़ता है सावधानी से ...

    ReplyDelete
  22. रिश्ते के टूटने में तो जवाबदेही दोनों की ही बनती है .... सुंदर रचना ।

    ReplyDelete
  23. प्रेम के दिए जाने में कोई गलती नहीं
    न ही प्रेम के किये जाने में है....
    प्रेम को सही तरीके से स्वीकारा जाना,
    इसे स्नेह से सहेजना भी ज़रूरी है.


    अच्छी रचना, बहुत सुंदर भाव

    ReplyDelete
  24. रिश्तों के टूटने की जवाबदेही सिर्फ एक की नहीं...
    सिर्फ मेरी नहीं...कतई नहीं !!!
    sahi hai sundar rachna ...

    ReplyDelete
  25. 'Love' well packaged with words and delivered....Liked the way you related "Handle with care', 'This side up':-)

    nice read

    ReplyDelete
  26. रिश्तों के टूटने की जवाबदेही सिर्फ एक की नहीं...सच कहा आपने
    सादर

    ReplyDelete
  27. आज समझी कि
    प्रेम के दिए जाने में कोई गलती नहीं
    न ही प्रेम के किये जाने में है....
    प्रेम को सही तरीके से स्वीकारा जाना,
    इसे स्नेह से सहेजना भी ज़रूरी है.

    Beautifull........

    ReplyDelete
  28. Badhiya Likha Hai Aapne...
    Rishte Kisi Ek Ki Wajah Se Kabhi Nhi Tut-te...Kyunki Bante Dono Taraf Ke Sahmti Se Hain...Haan,Alag-Alag Nazriye Me Baat Beshak Alag-Alag Ho Sakti Hai...

    ReplyDelete
  29. एक हाथ से ताली भी कहाँ बजती है.
    बहुत सुन्दर .

    ReplyDelete
  30. दिल से स्वीकारा होता तो समस्या ही नहीं होती स्वीकारने में ही कही कोई कमी रह गयी जिस कारण प्रेम बिखर गया ....बहुत गहरी बात कह डाली तुमने..

    ReplyDelete
  31. बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  32. फिर वही अनोखे भाव , अनुपम और अद्वितीय |

    सादर

    ReplyDelete

  33. प्रेम को सही तरीके से स्वीकारा जाना,
    इसे स्हेह से सहेजना भी जरूरी है

    आपने प्रेम को एक अलग रूप में व्यक्त कर एक नई सोच बनाई है ।

    डी पी

    ReplyDelete
  34. sahi bat kahi aapne anu jee sirph ak ke prayas se kuchh nahi hota ...sundar abhiwayakti ....

    ReplyDelete