इन्होने पढ़ा है मेरा जीवन...सो अब उसका हिस्सा हैं........

Friday, October 26, 2012

कोई भी इंसा मुझे बुरा नहीं लगता.

दिल की उलझन ने जन्म दिया कुछ अटपटे और बेतरतीब  ख्यालों को....उन ख्यालों को करीने से रखा तो लगा कुछ गज़ल सी बनी......काफिया रदीफ कहाँ है पता नहीं ....हाँ,एहसास जस के तस रखें हैं.....आप भी महसूस करें...

मौसम का मिजाज़  खरा नहीं लगता
सावन भी इन दिनों हरा नहीं लगता.

एक प्यास हलक को सुखाये हुए है
पीकर दरिया  मन भरा नहीं लगता.

चमकता है सब चाँद तारे के मानिंद
सोने का ये दिल  खरा नहीं लगता.

आदत सी पड़ चुकी है हैवानों की मुझे
कि कोई भी इंसा मुझे बुरा नहीं लगता.


अपने ही घर के लोग अंजान बन गए
कोई  पहचाना एक चेहरा नहीं लगता

सुनता नहीं है वो मेरी,जाने क्यों इन दिनों
कहते  जिसे तुम खुदा,बहरा नहीं लगता.


अनु    

63 comments:

  1. एक प्यास हलक को सुखाये हुए है
    पीकर दरिया भी मन भरा नहीं लगता.

    चमकता है सब चाँद तारे के मानिंद
    सोने का ये दिल क्यूँ खरा नहीं लगता.
    वाह ... बहुत ही बढिया

    ReplyDelete
  2. आदत सी पड़ चुकी है हैवानों की मुझे
    कि कोई भी इंसा मुझे बुरा नहीं लगता.


    it was best

    ReplyDelete
    Replies
    1. Awesome lines have been written by you. I liked that. (Y)

      Delete
  3. चमकता है सब चाँद तारे के मानिंद
    सोने का ये दिल क्यूँ खरा नहीं लगता...
    ..........................................................
    बेहतरीन प्रस्तुति.. हर बार की तरह

    ReplyDelete
  4. भावों का बढ़िया प्रगटीकरण |
    गजल की जरुरत क्या है पता नहीं-
    भाव और बहाव मौजूद है-
    बधाईयाँ

    ReplyDelete
  5. आदत सी पड़ चुकी है हैवानों की मुझे
    कि कोई भी इंसा मुझे बुरा नहीं लगता.

    bahut sahi kaha aapne achhi rachna .....

    ReplyDelete
  6. वाह,,,, बहुत उम्दा,,

    मै मुद्दतों जिया हूँ किसी दोस्त के बगैर,
    अब तुम भी साथ छोड़ने को कह रहे हो,खैर,,,,

    RECENT POST...: विजयादशमी,,,

    ReplyDelete
  7. काफिया रदीफ़ की जरूरत नहीं
    खूबसूरत एहसास ही पढ़ना अच्छा लगता हैः)
    सस्नेह

    ReplyDelete
  8. सही में ....खूबसूरत है इस दिल के एहसास

    ReplyDelete
  9. आदत सी पड़ चुकी है हैवानों की मुझे
    कि कोई भी इंसा मुझे बुरा नहीं लगता....बहुत खूब !

    ReplyDelete
  10. Wah ji...kya baat hai...har sher umda aapke vicharon sa...

    Sundar bhavabhivyakti...

    ReplyDelete
  11. आदत सी पड़ चुकी है हैवानों की मुझे
    कि कोई भी इंसा मुझे बुरा नहीं लगता
    बहुत खूब !
    कोई भी इंसा मुझे भी बुरा नहीं लगता !!

    ReplyDelete
  12. बहुत खूबसूरती से भावों को उतारा है ....

    ReplyDelete
  13. वाह:वाह: दिल से निकली आवाज़ !
    खुश रहो !

    ReplyDelete
  14. बहुत खूब शानदार ,

    ReplyDelete
  15. मौसम का मिजाज़ खरा नहीं लगता
    सावन भी इन दिनों हरा नहीं लगता.
    sach hai ...

    ReplyDelete
  16. वाह वाह वाह ………लाजवाब प्रस्तुति।

    ReplyDelete

  17. अपने ही घर के लोग अंजान बन गए
    कोई एक भी पहचाना चेहरा नहीं लगता ...
    ....
    किससे कहें अपना दर्द
    कोई दोस्त सच्चा नहीं लगता

    ReplyDelete
  18. बहन की शायरी पर दंग होकर क्या कहूँ लोगों,
    नदी जज़्बात की है ये कोई सहरा नहीं लगता!

    ReplyDelete
  19. khoobsoorat baat jajbo se bhari hui...very nice

    ReplyDelete
  20. अपने ही घर के लोग अंजान बन गए
    कोई एक भी पहचाना चेहरा नहीं लगता ....bahut khoob.

    ReplyDelete
  21. सुन्दर भाव लिए ग़ज़ल .

    ReplyDelete
  22. ग़ज़ल तो मुझे मुकम्मल लगी . अपनी बात कहने में स्पष्ट . सुन्दर

    ReplyDelete
  23. एक प्यास हलक को सुखाये हुए है
    पीकर दरिया भी मन भरा नहीं लगता.-----बहुत खूब अनु जी

    ReplyDelete
  24. सादर अभिवादन!
    --
    बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (27-10-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  25. भावों को व्यक्त करती सुंदर अभिव्यक्ति | बहुत खूब अनु जी |

    ReplyDelete
  26. सुन्दर भावाभिव्यक्ति |

    ReplyDelete
  27. होता है जब परेशां,
    हर आदमी मुझे
    दिखता है एक-सा
    कोई जुदा नहीं लगता!

    ReplyDelete
  28. आहा ||||
    क्या खूब गजल लिखा है...
    लाजवाब...
    :-)

    ReplyDelete
  29. बहुत सुंदर रचना
    क्या कहने

    ReplyDelete
  30. आदत सी पड़ चुकी है हैवानों की मुझे
    कि कोई भी इंसा मुझे बुरा नहीं लगता.

    सब अपने है, फिर भी कोई अपना नहीं लगता!!

    गहराई से भरी है ये रचना !!

    पोस्ट
    चार दिन ज़िन्दगी के .........
    बस यूँ ही चलते जाना है !!!

    ReplyDelete
  31. बेहतरीन ग़ज़ल.....समसामयिक माहौल की बानगी सी लगी आपकी रचना

    ReplyDelete
  32. अपने ही घर के लोग अंजान बन गए
    कोई एक भी पहचाना चेहरा नहीं लगता

    सुनता नहीं है वो मेरी,जाने क्यों इन दिनों
    कहते हो जिसे तुम खुदा,बहरा नहीं लगता...

    लाजवाब उम्दा .... इसी पर एक शेर लिख रहा हूँ पढियेगा ...

    तुम मिले नही की तुम्हारे आगे खो गया मैं कहीं "रोहित"
    फ़र्से ख़ाक पर खो जाऊं तो ये सदमा गहरा नहीं लगता.

    ReplyDelete
  33. आदत सी पड़ चुकी है हैवानों की मुझे
    कि कोई भी इंसा मुझे बुरा नहीं लगता.
    गज़ब लिखा है !

    ReplyDelete
  34. आदत सी पड़ चुकी है हैवानों की मुझे
    कि कोई भी इंसा मुझे बुरा नहीं लगता.waah bahut khub anu ..bahut sundar gajal

    ReplyDelete
  35. आदत सी पड़ चुकी है हैवानों की मुझे
    कि कोई भी इंसा मुझे बुरा नहीं लगता.
    wah kya kahane Anu ji bahut hi sundar gajal ,,.... sadar abhar

    ReplyDelete
  36. कल 28/10/2012 को आपकी यह खूबसूरत पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  37. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  38. आदत सी पड़ चुकी है हैवानों की मुझे
    कि कोई भी इंसा मुझे बुरा नहीं लगता.......... bahut khoob

    ReplyDelete
  39. मन के अप्रतिम भावों को दर्शाती आपकी यह कविता अच्छी लगी। मेरी कामना है कि आप सर्वदा सृजनरत रहें। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  40. ye aaj kay zamane ka sach hai na di......aisa hi lagta hai....apno kay beech bhi anjan....

    ReplyDelete
  41. अपने ही घर के लोग अंजान बन गए
    कोई एक भी पहचाना चेहरा नहीं लगता

    सुनता नहीं है वो मेरी,जाने क्यों इन दिनों
    कहते हो जिसे तुम खुदा,बहरा नहीं लगता...

    खुबसूरत ग़ज़ल....एक शेर अर्ज़ है...

    आइना देख के तसल्ली हुई
    मुझको इस घर में जानता है कोई...

    ReplyDelete
  42. आदत सी पड़ चुकी है हैवानों की मुझे
    कि कोई भी इंसा मुझे बुरा नहीं लगता....बहुत खूब बहुत सुन्दर भाव अनु.

    ReplyDelete
  43. सुनता नहीं है वो मेरी,जाने क्यों इन दिनों
    कहते हो जिसे तुम खुदा,बहरा नहीं लगता.
    - वाह !

    ReplyDelete
  44. खूबसूरत... उनवान वाला शेर गज़ब..!!

    ReplyDelete
  45. मौसम का मिजाज़ खरा नहीं लगता
    सावन भी इन दिनों हरा नहीं लगता.badi sunder pangtiyan.....

    ReplyDelete
  46. लाजवाब!
    इस सुंदर प्रस्तुति के लिए आभार!

    ReplyDelete
  47. बेहतरीन ग़ज़ल अनु जी. एक पर एक शेर हैं सारे. सच में ज़िन्दगी के कुछ प्यास ऐसे हैं जो अनबुझे ही रहते हैं.

    ReplyDelete
  48. पूरी कविता पढ्ने के बाद भी,
    ना जाने क्यों मन भरा नहीं लगता... :)

    ReplyDelete
  49. bahut badhiya koshish hai ji...kafiya,radeef ko kya karna jab dil ki baat seedhi dil se connect ho jaye to.

    ReplyDelete
  50. खूबसूरत गज़ल । अनु जी आपकी रचनाएं बहुत दिल से लिखीं जातीं हैं ।

    ReplyDelete
  51. पुनः आपकी यह बेहतरीन रचना बुधवार 31/10/2012 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    ReplyDelete
  52. शुक्रिया यशोदा.

    ReplyDelete
  53. आदत सी पड़ चुकी है हैवानों की मुझे
    कि कोई भी इंसा मुझे बुरा नहीं लगता.

    सही कहा खूब कहा ।

    ReplyDelete
  54. खूबसूरत गज़ल ।

    ReplyDelete

नए पुराने मौसम

मौसम अपने संक्रमण काल में है|धीरे धीरे बादलों में पानी जमा हो रहा है पर बरसने को तैयार नहीं...शायद उनकी आसमान से यारी छूट नहीं रही ! मोह...