जगा देना मुझे गर.....

गहरा रही है उदासी
थकन हद से ज्यादा
जी है उकताया सा
पलकें नींद से बोझिल....

अब बस सो जाना चाहती हूँ...
एक लंबी सी नींद.

तुम जगा देना मुझे
गर बीत जाय ये पतझर
और फूटें गुलाबी कोंपलें इन ठूँठों पर....

तुम  जगा देना मुझे
जब  समंदर खारा न रहे
और बुझा लूँ मैं प्यास,मोती खोजते खोजते....

तुम जगा देना मुझे
जिस रोज आसमां कुछ नीचा हो जाय
और चूम सकूँ मैं चाँद का चेहरा....

तुम जगा देना मुझे
गर मैं छू सकूँ तारे, बस हाथ बढ़ा कर
और तोड़ कर सारे बिखरा दूँ आँगन में अपने..

जाने क्यूँ इन दिनों हरसिंगार भी झरता नहीं.....


जगा देना मुझे
इस युग के बीतते ही.....
-अनु
"मधुरिमा" दैनिक भास्कर में प्रकाशित16/१/२०१३
http://epaper.bhaskar.com/magazine/madhurima/213/16012013/mpcg/1/

Comments

  1. कोई जरुरत नहीं है सोने की ..जागो...जागो कि आसमान बस आने ही वाला है मुट्ठी में :).
    बहुत सुन्दर लिखा है..

    ReplyDelete
  2. jahan pr jhil me dhoya tha chehra, vhan pani abhi tak gunguna hai,panktion ke sath aapki samvednaon ka swagat,bahut accha, तुम जगा देना मुझे
    जब समंदर खारा न रहे
    और बुझा लूँ मैं प्यास,मोती खोजते खोजते....

    तुम जगा देना मुझे
    जिस रोज आसमां कुछ नीचा हो जाय
    और चूम सकूँ मैं चाँद का चेहरा....

    तुम जगा देना मुझे
    गर मैं छू सकूँ तारे, बस हाथ बढ़ा कर
    और तोड़ कर सारे बिखरा दूँ आँगन में अपने..

    जाने क्यूँ इन दिनों हरसिंगार भी झरता नहीं.....

    ReplyDelete
  3. जय माँ |
    शुभकामनायें ||

    ReplyDelete
  4. अनु सिर्फ मुस्कुरा दो ...हर तरफ जैसा आलम चाहती हो ......बन जायेगा ....सच्ची !!!!

    ReplyDelete
  5. अनु दी,, सरस जी ठीक कह रही है...
    बहुत ही अच्छी रचना..
    मन के भावो की कोमल अभिव्यक्ति..
    :-)

    ReplyDelete
  6. जैसी कामना है वह पूरी होने ही वाली है.
    कहीं पलकें न झपक जाएँ
    :)
    सस्नेह


    ReplyDelete
  7. यह युग ही अपना होगा ....
    चलो बसंत लायें
    एक फूल लगायें
    एक नदी बनायें
    सबके मन में आशा के दीप जलाएं ......... सोना मत

    ReplyDelete
  8. जहाँ चाह वहाँ राह. सोने से पहले ये सारे कम निपटा लीजिये .

    ReplyDelete
  9. waah bahut acchi chahat ....jarur puri hogi ....

    ReplyDelete

  10. क्या अनु आप भी .........
    अभी तो मस्ती के दिन बस ,शुरू ही होने वाले हैं !!

    ReplyDelete
  11. सुन्दर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  12. वैसे ये जगाने का काम किसे सौंपा है ? :):)

    खूबसूरत खयाल

    ReplyDelete
    Replies
    1. सारे सोये पड़े हैं दी......
      ऊपर वाला ही सुलाता है वही जगायेगा :-)

      Delete
  13. बहुत उम्दा है यह रचना !

    ReplyDelete
  14. जाग दर्द -ए -इश्क जाग
    दिल को बेकरार कर
    छेड़ दे खुशियों का राग :)

    ReplyDelete
  15. तुम जगा देना मुझे
    गर मैं छू सकूँ तारे, बस हाथ बढ़ा कर
    और तोड़ कर सारे बिखरा दूँ आँगन में अपने..

    बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  16. वाह ... बहुत खूब

    सादर

    ReplyDelete
  17. जाने क्यूँ इन दिनों हरसिंगार भी झरता नहीं.. uff usne bhi neeyat kharab kar lee apne foolon par ...moh nahi chhod paa raha ...sundar anu bahut sundar

    ReplyDelete
  18. बहुत कठिन शर्तें रखी हैं जगाने की . :)

    ReplyDelete
  19. तुम जगा देना मुझे
    गर मैं छू सकूँ तारे, बस हाथ बढ़ा कर
    और तोड़ कर सारे बिखरा दूँ आँगन में अपने.....बहुत खुबसूरत भाव अनु..शुभकामनाएं..

    ReplyDelete
  20. जिस युग की आपने कामना की है..ईश्वर करे वह इसी क्षण आ जाए ... बहुत सुन्दर कविता!

    ReplyDelete
  21. वाह! बहुत उत्कृष्ट भावाभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  22. एक ऐसी ख्वाहिश जिसे नकारने को जी न चाहे, खासकर ऐसे गुजारिश की गयी हो तब तो बिलकुल ही नहीं..
    अनु बहन... बहुत ही प्यारी कविता!!

    ReplyDelete
  23. जाने क्यूँ इन दिनों हरसिंगार भी झरता नहीं.....

    हरसिंगार न झरे, तो डाली पकड़ कर जोर से हिला देना चाहिए
    ये तो हमारे वश में है न .............Jokes apart beautifull poem !!

    ReplyDelete
  24. तुम्ही ने सुलाया ,
    तुम्ही को है जगाना ,
    बंद आँखों में भी हो तुम ,
    इनके खुलने पर भी ,
    तुम्ही को है पाना |

    ReplyDelete
  25. नहीं सोने देंगे इतनी गहरी नींद में,
    जगा देंगे थोड़े से आराम के बाद ....बहुत सुन्दर भाव अनु जी

    ReplyDelete
  26. अच्छी रचना....

    ReplyDelete
  27. बेहतरीन...बेहतरीन..बेहतरीन...

    ReplyDelete
  28. बहुत ही खुबसूरत ख्यालो से रची रचना......

    ReplyDelete
  29. तुम जगा देना मुझे
    जिस रोज आसमां कुछ नीचा हो जाय
    और चूम सकूँ मैं चाँद का चेहरा....

    AWSOME...asalways :)

    ReplyDelete
  30. विजयदशमी की बहुत बहुत शुभकामनाएं

    बढिया, बहुत सुंदर
    क्या बात

    ReplyDelete
  31. विजय दशमी की शुभ कामनाएं ...

    ReplyDelete
  32. सुंदर प्रस्तुति...भावपूर्ण
    happy dushahra:)

    ReplyDelete
  33. तुम जगा देना मुझे
    जिस रोज आसमां कुछ नीचा हो जाय
    और चूम सकूँ मैं चाँद का चेहरा....

    इस चाहत को क्या नाम दूं, समझ में नही आता । बहुत ही सुंदर भाव। मेरे पोस्ट पर आपका इंतजार है।

    ReplyDelete
  34. मुझे तो यह याद आ रहा है...

    हजारों ख्वाहिशें ऐसी कि हर ख्वाहिश पे दम निकले
    बहुत निकले मेरे अरमां मगर फिर भी कम निकले।

    ReplyDelete
  35. अनुजी उदासी और थकान को मारो गोली ... बिंदास जिओ और सब कुछ अपनी आँखों से देखो की केसे समुन्दर मीठा हो रहा है और कैसे आसमां निचे आ गया है और कैसे आप तारों को तोड़ रहे हो।

    .. सुन्दर प्रस्तुती :)

    ReplyDelete
  36. काश ऐसा ही हो कि वह स्वर्णिम क्षण आये शीघ्र ही, और बाकी सारी पुरानी बातें बस स्वप्न सी लगे.. ऐसे कि जैसे अभी अभी ही तो जगे हैं... एक नवजीवन में, नव-अनुभूति में..
    हमेशा की तरह सुन्दर गहन अभिव्यक्ति,
    सादर
    मधुरेश

    ReplyDelete
  37. म जगा देना मुझे
    गर बीत जाय ये पतझर
    और फूटें गुलाबी कोंपलें इन ठूँठों पर....

    तुम जगा देना मुझे
    जब समंदर खारा न रहे
    और बुझा लूँ मैं प्यास,मोती खोजते खोजते....

    तुम जगा देना मुझे
    जिस रोज आसमां कुछ नीचा हो जाय
    और चूम सकूँ मैं चाँद का चेहरा....

    अत्यंत सुन्दर अभिव्यक्ति, आफरीन!!

    ReplyDelete
  38. तुम जगा देना मुझे
    जिस रोज आसमां कुछ नीचा हो जाय
    और चूम सकूँ मैं चाँद का चेहरा....

    बहुत ही सुंदर भाव। मेरे पोस्ट पर आपका इंतजार है।

    ReplyDelete
  39. उम्मीद करता हूँ , ये नींद ज्यादा लंबी न हो |

    तूने उम्र तो कुछ दिन की ही अता की और ,
    ख्वाहिशों से सारा आकाश भर दिया |

    सादर
    आकाश

    ReplyDelete
  40. बहुत सुन्दर अभिभूत कर गई ये पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  41. ब्लॉग बुलेटिन की ११०० वीं बुलेटिन, एक और एक ग्यारह सौ - ११०० वीं बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  42. मत सोओ, कि कोशिश ख़ुद को करनी पड़ेगी !

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

प्रेमपत्र

मेरी लिखी कहानी "स्नेहा" - 92.7 big fm पर नीलेश मिश्रा की जादुई आवाज़ में................

दैनिक जागरण के राष्ट्रीय संस्करण में मेरी किताब "इश्क तुम्हें हो जाएगा " की समीक्षा...............