प्रेम का रसायन......

जंगली फूलों सी लड़की
मुझे तेरी खुशबू बेहद पसंद है
उसने कहा था...

"मुझे तेरा कोलोन ज़रा नहीं भाता"
बनावटी खुशबु वाले उस लड़के से
मोहब्बत करती
लडकी ने मन ही मन सोचा....

(इश्क के नाकाम होने की क्या यही वजह होगी ??)


लड़का प्रेम में था
उस महुए के फूल जैसी लडकी के.
वो उसे पी जाना चाहता था शराब की तरह
लडकी को इनकार था  खुद के सड़ जाने से....

लड़का उसे चुन कर
हथेली में समेट लेना चाहता था
हुंह.....वो छुअन !
लड़की सहेजना चाहती थी
अपने चम्पई रंग को.

लड़का मुस्कुराता उसकी हर बात पर,
लड़की खोजती रही
एक वजह-
उसके यूँ बेवजह मुस्कुराने की....


(इश्क के नाकाम होने की वजहें बड़ी बेवजह सी होतीं हैं.....)

अनु





Comments

  1. संगीन जुर्म की वजह तलाशती सुन्दर रचना ...

    ReplyDelete
  2. सादर अभिवादन अनु जी!
    मुझे लगता है आपका शोध,अपने विषय 'प्रेम' पर इनदिनों बहुत गति में है क्योंकि आपकी कई रचनाएं इसी श्रंखला में आईं हैं।
    इतनी सार्थक और सराहनीय रचना के लिए बधाई!

    ReplyDelete
    Replies
    1. इश्क के नाकाम होने की वजहें बड़ी बेवजह सी होतीं हैं.....ये अहंकार नामक दीमक है जो तिल को ताड़ बना देता है और इश्क़ की पवित्र पुस्तक के पन्ने चट कर डालता है वरना इश्क़ नाकाम होकर ही/भी मुक़ाम प्राप्त माना जाता है............कोमल भाव ।

      Delete
  3. waah baate ishq ki bewajah ....bahut sahi khaaskar yah panktiyaan लड़का उसे चुन कर
    हथेली में समेट लेना चाहता था
    हुंह.....वो छुअन !
    लड़की सहेजना चाहती थी
    अपने चम्पई रंग को.......well done anu :)

    ReplyDelete
  4. prem ras me bhingi vjah aur vjud se judi sarthak prastuti _NEW POST- :KHUDGARZ ZAMANA HOGA ""PANV KI JUTI:

    ReplyDelete
  5. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवारीय चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुन्दर और सार्थक प्रेम की प्रस्तुति,सादर धन्यबाद.

    ReplyDelete
  7. सुन्दर उपमा सुन्दर प्रस्तुति
    new postक्षणिकाएँ

    ReplyDelete
  8. aapki ye rachna bhi bahut sundar hai .......

    ReplyDelete
  9. वाकई कुछ वजह बेहद बेवजह होती हैं..
    बढ़िया शोध किया है.:)

    ReplyDelete
  10. इश्क यूं ही नाकाम नहीं होते ... शायद कुछ ओर वजह भी होगी ...
    पर हो यही वजह तो भी क्या ... दिल पे किसी का बस तो नहीं होता ...

    ReplyDelete
  11. इश्क के नाकाम होने की वजहें बड़ी बेवजह सी होतीं हैं...………सच कहा ………सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  12. वाह ... बहुत खूब कहा आपने ...
    आभार सहित

    सादर

    ReplyDelete
  13. लड़का मुस्कुराता उसकी हर बात पर,
    लड़की खोजती रही
    एक वजह-
    उसके यूँ बेवजह मुस्कुराने की....

    बेहतरीन..

    ReplyDelete
  14. sundar premabhivykti, aap ki kavitayeprem anusandhan ki prayogshala banti ja rahi hai,vaharhal sundar bhavo se aachhadit sundar prastuti

    ReplyDelete
  15. लड़की खोजती रही
    एक वजह -
    उसके यूँ बेवजह मुस्कुराने की -

    बेवजह ये ख़ोज ही शायद इश्क है .... बहुत सुन्दर रचना .

    ReplyDelete
  16. Anatomy of love. Very interesting and a lovely read.

    ReplyDelete
  17. Brilliant! I wonder how you come up with such beautiful lines. Awestruck.

    ReplyDelete
  18. एक वजह,,,
    बे वजह मुस्कुराने की.....
    क्या बात है..
    आनन्द आ गया

    ReplyDelete
  19. kya khoob likha hai,...
    Prem shayad kuch inhi jurmo ki vajah se badnaam hai...

    ReplyDelete
  20. इश्क का रसायन तो बढ़िया है.
    बस हमारे ही केमिस्ट्री में अंक कम आये थे। :)

    ReplyDelete
  21. लड़का मुस्कुराता उसकी हर बात पर,
    लड़की खोजती रही
    एक वजह-
    उसके यूँ बेवजह मुस्कुराने की....बेहतरीन पंक्तियाँ,,,,

    Recent Post: कुछ तरस खाइये

    ReplyDelete
  22. बहुत खूबसूरत! आपने बहुत सुन्दर ढंग से चित्र उकेरा है।

    ReplyDelete
  23. इश्क के फलसफे की कविता

    ReplyDelete
  24. बहुत खूब सूरत कविता --


    ''इस जमाने के दरमियां हम थे, प्‍यार की तलाश में''
    ''इश्‍क मिला, बहुत किया पर, जंगली घास सा नजर आया''
    -कुं. संजय सिंह जादौन

    ReplyDelete
  25. बहुत खूब सूरत कविता --


    ''इस जमाने के दरमियां हम थे, प्‍यार की तलाश में''
    ''इश्‍क मिला, बहुत किया पर, जंगली घास सा नजर आया''
    -कुं. संजय सिंह जादौन

    ReplyDelete
  26. di.....very different one...thouroughly njoyed reading it....best one is
    लड़का प्रेम में था
    उस महुए के फूल जैसी लडकी के.
    वो उसे पी जाना चाहता था शराब की तरह
    लडकी को इनकार था खुद के सड़ जाने से....

    ReplyDelete
  27. us ladaki ko to phir bhi uske muskuraane ke karan ka abhas tha par ladke ko to pata bhi nahi ki usne kya kho diya

    ReplyDelete
  28. इश्क के नाकाम होने की वजहें बड़ी बेवजह सी होतीं हैं....सच्ची बात
    सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  29. ये वजहें, बेवजह नहीं होतीं, इनमें बहुत बड़ी बात छिपी है, जिसे अक्सर अनदेखा कर दिया जाता है मामूली समझकर. बहुत अच्छी है कविता.

    ReplyDelete
  30. Awsome as usual... anu ji aapne ne baat karne ki baat kahi aur koi pata b nhi diya :) my mail id is shrqahmad10@gmail.com, pls drop me your mail id.

    ReplyDelete
  31. शब्द बोल पड़े हैं. बधाई
    मॉडरेटर --
    www.kahekabeer.blogspot.in

    ReplyDelete
  32. कुछ बातों की वजह ढूँढने की ज़रूरत नहीं होती...
    बेवजह वजहें ही वजह बन जातीं हैं.... :-)
    <3

    ReplyDelete
  33. लड़की मानव-लगन से जुड़ी हुई है। मानव-शरीर उस लड़के से नहीं।

    ReplyDelete
  34. समझदारी बड़ी चीज़ है-अभी सोच लिया लड़की ने बर्बादी से बच गई!

    ReplyDelete
  35. वाह अनु जी , क्या बात है कविता में कि मन को छू गई ।

    ReplyDelete
  36. मन को गुदगुदाती एक प्यारी सी कविता |सादर जयकृष्ण राय तुषार |

    ReplyDelete
  37. इश्क के नाकाम होने की वजहें बड़ी बेवजह सी होतीं हैं.. Very well said !

    ReplyDelete
  38. भावपूर्ण मर्मस्पर्शी रचना .....!!

    ReplyDelete
  39. वाह, बहुत खूब. सुन्दर शब्द चयन

    ReplyDelete
  40. खूबसूरत शब्द अनु जी . प्रेम में बेमतलब बातें से टकरार कर लेना कभी कभी बहुत प्यारा भी लगता है सुलह होने के बाद :)

    बहुत प्यारी लगी कविता.

    ReplyDelete
  41. प्रेम के रासायनिक नुस्खे लाज़वाब लगे. दिलों को जोड़ने में दिल से दिमाग तक केमिकल लोचा रहता ही है.

    भावपूर्ण प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  42. इश्क के नाकाम होने की वज़ह कई बार इतनी छोटी होती है कि समझ भी नहीं आता कि हुआ क्या... असली गंध को इत्र की खुशबू कैसे भाए? बहुत अच्छी रचना, बधाई.

    ReplyDelete
  43. प्यार के नाकाम होने की वजह कभी कभी बेवजह होती है...
    सुन्दर उपमा के साथ सुन्दर
    भावपूर्ण रचना...

    ReplyDelete
  44. जमीन से जुडी लडकी को कृत्रिमता तो भाने से रही ।
    सुंदर प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
  45. इश्क़ अक्सर बे-वजह हो जाता है

    ReplyDelete
  46. इश्क़ अक्सर बे-वजह हो जाता है

    ReplyDelete
  47. बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  48. महाशिवरात्रि की शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  49. भावपूर्ण रचना.!!

    ReplyDelete
  50. बड़ी वाजिब सी वजह हैं इश्क के नाकाम होने की ... अच्छी प्रस्तुति!

    ReplyDelete
  51. प्रेम ग़ज़ब गांठ है

    ReplyDelete
  52. अह्हह्ह ..!!!! इश्क कब बा-वजह होता है ...होता है जब भी बेवजह होता है ....जो कामयाब हो जाये ..वो इश्क भी फिर कहाँ होता है ....!!!~!~!!
    चंद पंक्तियों में आपने एक पूरा बयाँ कर दिया ...प्रेम का पूरा रसायन .....अच्छा लगा :)

    ReplyDelete
  53. वो (नज़रों से ) क़त्ल भी कर दें तो कोइ बात नहीं
    हम आह (मुस्करा के) भी भर दें तो गुनाहगार हुए ////

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

प्रेमपत्र

मेरी लिखी कहानी "स्नेहा" - 92.7 big fm पर नीलेश मिश्रा की जादुई आवाज़ में................

दैनिक जागरण के राष्ट्रीय संस्करण में मेरी किताब "इश्क तुम्हें हो जाएगा " की समीक्षा...............