इन्होने पढ़ा है मेरा जीवन...सो अब उसका हिस्सा हैं........

Wednesday, March 13, 2013

कहाँ तुम चले गए....

लहु बिखरा था समूचे आकाश में
दम तोडती थी शाम....
उस रक्तवर्णी शाम
तुमने भी तोड़े थे बंधन...
बंधन मोह माया के.
अस्त हुआ था सूरज !!
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
उस खालीपन में...
निर्वात में
जीवन संभव न था....
जीने की वजह खोजी
तो पाया एक तारा....
रात के सूने आकाश में टिमटिमाता
सबसे चमकीला तारा...
जो मुस्कुराता है मुझे देख कर !!

(पापा आप मुस्कुराते रहेंगे सदा हमारे दिलों में......अब आपकी याद ही हमारे जीवन का संबल है.)
                                          मेरे प्यारे पापा ..........  RIP 5/03/2013

अनु








55 comments:

  1. मेरी ओर से श्रद्धांजलि..उनकी आत्मा को शान्ति मिले ...

    ReplyDelete
  2. ...वो कहीं नहीं गए,
    हैं तुम्हारे ही इर्द-गिर्द
    तुम्हारे हँसने में ,हर सुख में
    वो मुस्कुराते रहेंगे यूँ ही !

    ReplyDelete
  3. पापा जी को विन्रम श्रद्धांजलि और नमन !!
    आप के हर पल में हमारा साथ रहे !!

    ReplyDelete
  4. विनम्र श्रद्धांजलि, भगवान आपको इस दुख की घड़ी का सामना करने की हिम्मत दें।

    ReplyDelete
  5. ....अब आपकी याद ही हमारे जीवन का संबल है.
    मन इसी विश्‍वास के साथ
    हर पल आगे कदम बढ़ाता है ...
    विनम श्रद्धांजलि

    सादर

    ReplyDelete
  6. अनु.... बहुत दुख हुआ जानकर! किसी अपने को खोने का दर्द.... :(( सोचकर ही दिल सिहर उठता है...
    निःशब्द हैं हम....
    विनम्र श्रद्धांजलि....
    ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे व परिवार में आप सभी को ये दुख सहने की शक्ति दे....!
    With you in grief...

    ReplyDelete
  7. mata pita chaaya hai jeevan ki .is waqt bas himmat se kaam lena anu ..

    ReplyDelete
  8. आँख नाम है ...मन मौन .....ये एक अजीब सा खालीपन है अनु .....जो कभी नहीं भरता ...
    ह्रदय से प्रार्थना करती हूँ उनकी आत्मा की शांति के लिए ....और ऐसे पल में तुम्हे शक्ति मिले इसे सहने की .....
    विनम्र श्रद्धांजली ....

    ReplyDelete
  9. अनु जी हमारी संवेदनाएं आपके साथ हैं |ईश्वर आपको इस दुःख की बेला में सम्बल प्रदान करे |

    ReplyDelete
  10. यही क्रूर नियति है पर उनकी यादें और आशीष सदा रहेंगे, सादर नमन.

    रामराम.

    ReplyDelete
  11. Anu Ji
    I am truly saddened to learn that your beloved father is no more. My heart goes out to you and the family. May Lord Almighty give you the fortitude,courage & strength to bear this massive loss. May his soul rest in peace. To be philosophical that is the way of life - life comes & life is snatched away and yet life goes on !

    Ram

    ReplyDelete
  12. समय को रोक पाना शायद किसी के बस में नहीं होता ... जिन्हें हम चाहते हैं वो ही साथ छोड़ के चले जाते हैं ... ये खालीपन कभी नहीं भरता ...
    ईश्वर से प्रार्थना है की आपके पिता को वो अपने चरणों में स्थान दे ... वो आपको शक्ति दे ...

    ReplyDelete
  13. पूरी ब्लॉग बुलेटिन टीम की ओर से बाबू जी को हार्दिक विनम्र श्रद्धांजली !


    आज की ब्लॉग बुलेटिन आज लिया गया था जलियाँवाला नरसंहार का बदला - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  14. वो रहेंगे सदा साथ तुम्हारे,
    मुस्कुराओगी जो तुम
    वो भी मुस्कुराएंगे
    यकीन करो.

    ReplyDelete
  15. अनु ,भैया कहते हैं-वो तुम्हारे और पास आ गये हैं..मैं भी वही महसूस करती हूँ, और तुम्हें भी वही कहती हूँ वे और ज्यादा पास आ गये हैं और उनकी मुस्कुराहट का खयाल रखना तो तुम्हें आता ही है ...

    ReplyDelete
  16. अनु दी, बहुत दुःख हुआ इस समाचार से .. ईश्वर आपको और आपके परिवार को संबल दे। हमारी सादर श्रद्धांजलि।।

    ReplyDelete
  17. अनु दी, बहुत दुःख हुआ इस समाचार से .. ईश्वर आपको और आपके परिवार को संबल दे। हमारी सादर श्रद्धांजलि।।

    ReplyDelete
  18. बाबू जी को हार्दिक विनम्र श्रद्धांजली !

    ReplyDelete
  19. अनु दी ...ईश्वर आपके पापा को शांति प्रदान करे ..भावभीनी श्रधान्जली ...

    ReplyDelete
  20. अंकल जी को विनम्र श्रद्धांजलि ...

    ReplyDelete
  21. अश्रुपूरित श्रद्धांजलि एवं नमन
    ईश्वर तुम्हे इस असहनीय दर्द को सहने की क्षमता प्रदान करे.
    मन बहुत ही दुखी है, यह दुखद खबर पढ़

    ReplyDelete
  22. विनम्र श्रद्धांजलि,ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे,,,

    Recent post: होरी नही सुहाय,

    ReplyDelete
  23. ......नमन, प्रणामांजलि उन्‍हें।

    ReplyDelete
  24. विनम्र श्रद्धांजलि ...अनु जी उनका साथ हमेशा महसूस होगा आपको ..........

    ReplyDelete
  25. यह प्रविष्टि कल के चर्चा मंच पर है
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  26. विनम्र भावभीनी श्रद्धांजलि ...
    ईश्वर उन्हें शान्ति प्रदान करें

    ReplyDelete
  27. आपके पिता श्री को विनम्र भावभीनी श्रद्धांजलि ...
    ईश्वर उन्हें शान्ति प्रदान करें---

    किसी को बेटी का गम किसी को बाप का गम
    औरो का देखा गम तो अपना भूल गया

    ReplyDelete
  28. विनम्र श्रद्धांजली ....

    ReplyDelete
  29. रुला दिया आपने तो...
    पापा जी को मेरी ओर से श्रद्धांजलि !

    ReplyDelete
  30. सादर श्रद्धांजली.

    ReplyDelete
  31. विन्रम श्रद्धांजलि और नमन

    ReplyDelete
  32. I lost my dad ten years back and I know what you and your family must be going through. Keeping you all in my prayers and holding good thoughts for you.

    ReplyDelete
  33. विन्रम श्रद्धांजलि एवम् सादर नमन

    ReplyDelete
  34. विनम्र श्रद्धांजलि श्रद्धेय बाबू जी को एवम् नमन

    ReplyDelete
  35. विनम्र श्रद्धांजलि . इश्वर संबल प्रदान करे इस घडी में आप सबको .

    ReplyDelete
  36. ''पापा ''... जो हर बिटिया के हीरो होते हैं .... हर मुश्किल आसान कर देने वाले ....पापा ..जो सब ठीक कर देते हैं ....जब चले जाते हैं .....तब भी अपने दिए हुए प्यार और सिखाई हुई बातों के बल पर हमेशा दिल में रहते हैं .... और बिटिया का गुरूर बन जाते हैं .....''पापा''.... आप मुझे हर रोज़ याद आते हैं ....

    ReplyDelete
  37. हमेशा आपके साथ हैं वो ,उनका स्नेहिल आशीर्वाद आपको सदा मिलता रहेगा । बस अपना और अपनों का ख्याल रखें ।

    ReplyDelete
  38. यह एक ऐसी पीड़ा है ...जो एक भुक्तभोगी बखूबी समझ सकता है ...इस कमी आजीवन खलती है ..फिर भी कहीं यह विश्वास की वे यही कहीं आसपास हैं..और उनका वृहद् हाथ हमारे शीश पर है ....एक सांत्वना बनाये रखता है .....इस दुःख की घड़ी में तुम्हारे साथ हूँ मैं ..अनु !

    ReplyDelete
  39. विनम्र श्रद्धांजलि...सादर नमन ... हौसला बनाये रखिये उनकी आत्मा की शांति आपकी मुस्कराहट में ही है...

    ReplyDelete

  40. दुखद !
    विनम्र श्रधांजलि।
    इश्वर आपको और आपके परिवार को इस अपूर्णीय क्षति को सहन करने की शक्ति दे . RIP

    ReplyDelete
  41. हार्दिक श्रद्धांजली !

    ReplyDelete
  42. बहुत दुःख हुआ इस समाचार से अनु..लेकिन इस मोह माया के बंधन को तोड़ कर एक दिन सभी को जाना है..ईश्वर दुख देता है तो सहने की शक्ति भी देता है.हिम्मत रखना..पापा जी को विनम्र श्रद्धांजलि...

    ReplyDelete
  43. इस दुखद घडी में मै भी आपके साथ हूँ अनु,
    पापा के खोने का दुःख क्या होता है मै महसूस कर सकती हूँ
    आपके दुःख को, ईश्वर उन्हें शांति दे !

    ReplyDelete
  44. पढकर दुख हुआ । ईश्वर इस दुख की घडी में आपको सहनशक्ति दे

    ReplyDelete
  45. anu jee ....himmat nahi hui thi facebook par comment karne ka .....bahut dukh hota hai jab hamen pyaar karnewaale aankhon se ojhal hote hain ...bhagwaan babuje ki aatma ko shanti de aur aapko dukh sahne ki shakti.....

    ReplyDelete
  46. विनम्र श्रद्धांजलि ||

    ReplyDelete
  47. बहुत बहुत बहुत दुःख हुआ, ये सुन कर। दो साल पहले मैं अपने बाबा को खो चुकी हूँ, इसलिए तुम्हारा दुःख भली भाँती समझ सकती हूँ।
    मेरी प्रार्थना तुम्हारे साथ है।

    ReplyDelete
  48. अनुजी, एसी रचना को शब्दों से प्रतिक्रिया नहीं दी जा सकती-

    ReplyDelete
  49. Anu ji sadar shradhanjli . Papa ji ki Atma ko prabhu Shanti pradan kren ......sangrhneey rachana ke liye aabhar bhi .,

    ReplyDelete
  50. never dreamed that this can happen to us, i used to feel proud that amma and daddy will always b there 4 all of us , but god had this in store for us. missing dad badly.ur poem was touching and made me cry. love u di.

    ReplyDelete

नए पुराने मौसम

मौसम अपने संक्रमण काल में है|धीरे धीरे बादलों में पानी जमा हो रहा है पर बरसने को तैयार नहीं...शायद उनकी आसमान से यारी छूट नहीं रही ! मोह...