इन्होने पढ़ा है मेरा जीवन...सो अब उसका हिस्सा हैं........

Saturday, February 23, 2013

my dreams 'n' expressions

आज मेरा ये ब्लॉग एक साल का हो गया.....
घुटनों घुटनों सरकते आज अपने पैरों पर चल रहा है...डगमगाते क़दमों से ही सही :-)

ब्लॉग की पहली पोस्ट की पहली पंक्तियाँ यूँ थीं-

आपके सामने है मेरे दिल का एक पन्ना ....
धीरे धीरे सारी किताब पढ़  लेंगे...तब जान भी जायेंगे मुझे....कभी  चाहेगे...कभी नकारेंगे... यही तो जिंदगी है...


ख़ुशी इस बात की है कि आप सभी ने मुझे बेहद स्नेह दिया और दिल से स्वीकार किया.
इस एक बरस में मैंने अपनी नयी पुरानी सभी रचनाएं पाठकों के सुपुर्द कर दीं.सभी ने सराहा तो आत्मविश्वास और बढ़ा.
अभी एक रोज़ मैंने रश्मि प्रभा जी से कहा कि अपनी कविताओं में मेरा विश्वास आपकी वजह से ही है दी....तब उनका जवाब था अनु -
कविता व्यक्ति विशेष का एक अस्तित्व है ... उसे हम आशीष देते हैं,पर यदि वह सीखता भी है तो यह उसके ही व्यक्तित्व का कमाल है.
आभारी हूँ रश्मि दी का , जिन्होंने सदा मेरा आत्मविश्वास बढ़ाया.

यहाँ मैनें अपने दिल की बातें लिखीं,कुछ इसका उसका कहा भी लिख डाला,कभी प्रेम लिखा कभी आँसू....कभी वसंत कभी पतझर.छंद लिखे,छंद मुक्त लिखा....कभी नज़्म लिखी,कोई शेर कहा...यहाँ तक की कहानियाँ भी लिख डालीं.
एक कहानी "केतकी" की समीक्षा के लिए मनोज जी और सलिल दादा की आभारी हूँ.

मेरा ब्लॉग 331 पाठक/रचनाकार फोलो करते हैं ,जिनके द्वारा की गयी टिप्पणियां मुझे ख़ास होने का एहसास कराती हैं.अब तक 5840 टिप्पणियां हैं.जिनमे स्नेह है,मार्ग दर्शन है,सीख है.
अब तक 122 रचनाएं पब्लिश कर चुकी हूँ,और 33,875 से ज्यादा विज़िटर्स blog देख चुके हैं.अलेक्सा रैंक पहुंची 47039 तक,इंडी रैंक हुई 82....
ये सारे डाटा मुझे बच्चों को सफलता पर मिलने वाली चॉकलेट की तरह लगते हैं :-) क्या करूँ...उम्र बढ़ती है मगर नादानियां जाती नहीं.
जब पहली बार नयी पुरानी हलचल में मेरी रचना को स्थान मिला था तो मैंने जाने किन किन लोगों को फोन करके बताया था.वैसे ही आभारी हूँ चर्चा मंच,blogवार्ता,ब्लॉग बुलेटिन,वटवृक्ष की भी.

ये सब एक सपने सा लगता है.....मेरा मानना है कि मैं कितना भी अच्छा लिखती मगर सुधि पाठकों का प्रतिसाद न मिलता तो कभी प्रसन्नता और संतुष्टि नहीं मिलती.
आभारी हूँ सभी पाठकों का.
जिनसे आशीर्वाद और मार्गदर्शन मिला-(ये उम्र में बड़े हो ये ज़रूरी नहीं :-)
आदरणीय संगीता स्वरुप दी,सलिल वर्मा जी,महेश्वरी कनेरी जी,मनोज जी,ऋता जी,अनुपमा त्रिपाठी जी,संतोष त्रिवेदी जी,रूपचन्द्र शास्त्री जी,रविकर जी,संध्या शर्मा जी,मोनिका जी,डॉक्टर दराल,विभा जी,गिरिजा कुलश्रेष्ठ जी,कविता रावत जी,दिगंबर नसवा जी,सरस दरबारी जी,कैलाश शर्मा जी,धीरेन्द्र जी,अर्चना दी,सतीश सक्सेना जी,सुमन जी,जयकृष्ण राय तुषार जी,ओंकार जी,अमित अग्रवाल(अमित आग),महेंद्र श्रीवास्तव जी, अशोक सलूजा जी,साधना जी,जेन्नी जी,राजेश कुमारी जी,

और जिनसे  मित्रवत स्नेह और मान पाया  उनकी भी आभारी हूँ.
यशवंत माथुर,सदा(सीमा सिंघल)आशीष जी,अरुण,देवेन्द्र पाण्डेय,अमित और निवेदिता,शिखा वार्ष्णेय,रश्मि रविजा,सोनल रस्तोगी,वंदना गुप्ता,पारुल,माहि,यशोदा,निहार रंजन,मदनमोहन सक्सेना जी,दीपिका रानी,नीलिमा शर्मा,आराधना (मुक्ति),मीनाक्षी मिश्रा,संध्या जैन.रोहितास,राहुल-दिल से,सुषमा-आहुति,रीना मौर्य,शेखर सुमन,मधुरेश,मोनाली,आकाश मिश्रा,शालिनी,रेवा, अंजू चौधरी,रचना दिक्षित जी, अमृता तन्मय जी,अनिता आनिया,काजल कुमार,दिलबाग विर्क जी,राधारमण जी,निशा महाराणा,पूनम,राजू पटेल जी,शशि पुरवार.शिवम मिश्र,अंकुर जैन.

हो सकता है किसी  नाम का ज़िक्र  मुझसे छूट गया हो तो माफ़ करें......ज़िक्र न होना, मोहब्बत में कमी हो ऐसा तो नहीं कहता :-)
इनके अलावा मेरे माता पिता और परिवार जनों का सदा प्रोत्साहन रहा.जिनमें पल्लवी,डॉ.अर्चना आर्य ,नीलम वर्मा,रश्मि कौशल बवेजा बाकायदा अपनी उपस्थिति भी दर्ज कराते रहे.
ब्लॉग लिखने की वजह से मुझे संपादकों के संपर्क में आने का मौका मिला और 3 कविता संग्रहों में मेरी कवितायें छपीं
१- ह्रदय तारों का स्पंदन (सत्यम शिवम् )
2-खामोश ख़ामोशी और हम (रश्मि प्रभा जी.)
3-शब्दों के अरण्य में (रश्मि प्रभा जी/हिन्द युग्म)
इसके अलावा पत्र पत्रिकाओं में रचनाएं प्रकाशित होती रही हैं.

आशा है आप सभी का स्नेह और मार्गदर्शन मुझे सदा मिलता रहेगा.......आपके बिना मेरे भीतर के रचनाकार का अस्तित्व अधूरा है.
ह्रदय से आभार.
आपकी अनु
(अनुलता राज नायर)

125 comments:

  1. एक साल पूरा करने पर हार्दिक बधाई. इसी तरह लिखती रहिए

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया....स्नेह बना रहे.

      Delete
  2. di...apko dhero badhai aur shubkamnayein....bhagwan kare aap aise hi agee badhti rahein aur is choti behna ka bhi margdarshan karein........with lots of luv from mini to mini

    ReplyDelete
  3. आज ब्लॉग एक साल का हो गया , शुभकामनायें |
    आप शुरुआत से ही मेरी फेवरेट रही हैं |
    बस ऐसे ही सुन्दर भाव पढ़ने को मिलते रहें , यही कामना है | :)

    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया आकाश...
      तुम्हारी वजह से बहुत स्पेशल फील करती हूँ.
      स्नेह.

      Delete
  4. बहुत बधाइयाँ अनु जी. आज आपका एक सदस्य और बढ़ गया मेरे रूप. और अधिक सफलता की कामना के साथ,
    सादर
    नीरज'नीर'

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया नीरज जी...
      आपका तोहफा दिल खुश कर गया.
      :-)

      Delete
  5. बधाइयाँ जी बधाइयाँ ... यह तो सिर्फ शुरुआत है ... अभी तो पूरा सफर बाकी है ... हार्दिक शुभकामनायें स्वीकार करें !

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया शिवम्...
      स्नेह बनाये रखिये.

      Delete
  6. आपकी इन उपलब्धियों पर ...बहुत-बहुत बधाई एवं अनंत शुभकामनाएँ आप यूँ ही प्रगतिपथ पर अग्रसर रहें
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया सीमा..
      तुम्हारे साथ की आभारी हूँ.

      Delete
  7. बधाई और शुभकामनायें सतत लेखन के लिए . भावों को शब्द मिलते रहे वो महत्वपूर्ण है बाकि सब गौड़ .

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया आशीष जी...
      मार्गदर्शन मिलता रहे बस.

      Delete
  8. ढेरों बधाइयां आदरेया अनु जी,वर्ष के इतने सफल सफर के लिए।
    ईश्वर आपको साहित्यिक सफलता के शिखर पर पहुंचाए।
    आपके मार्गदर्शन की सादर आकांक्षी हूं।
    शुभकामनाएं

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया वंदना.
      स्नेह बनाये रखिये.

      Delete
  9. आपको बहुत-बहुत बधाई...
    बहुत-बहुत शुभकामनाएँ...
    आपकी लेखनी अनवरत चलती रहे ...
    एक बार फिर से बहुत- बहुत बधाई..और शुभकामनाएँ...
    :-)

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया रीना.

      Delete
  10. badhaai bahut bahut anu .yun hi likhti raho ...yadi shubhkaamna hai :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया रंजू...
      आपका स्नेह और मार्गदर्शन मिलता रहे .

      Delete
  11. बहुत बहुत बधाई ....शुभकामनायें

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया मोनिका जी.

      Delete
  12. हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनाये.

    ReplyDelete
  13. अरे ! यह बच्चा तो बड़ा सुपरफास्ट रहा .... घुटनो घुटनों कहाँ सरका ????? खड़ा होते ही दौड़ने लगा .... ब्लॉग के एक वर्ष होने की बधाई और शुभकामनायें .... लेखन अनवरत चलता रहे ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया दी...
      दौड़ता कैसे नहीं....आपकी उंगली जो पकड़ रखी थी....
      स्नेह बनाये रखिये.

      Delete
  14. एक साल की उपलब्धियाँ कम नहीं आप इसी तरह सफ़लता के मुकाम पाती रहें हमारी शुभकामनायें आपके साथ हैं ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया वंदना....
      आपकी उत्कृष्ट रचनाओं से सीखती रही हूँ.

      Delete
  15. बहुत बहुत बधाई अनु जी! आपकी लेखनी यूँ ही चलती रहे निरंतर और हम कविता प्रेमियों को आपकी कविताओं की खुराक मिलती रहे:)

    शुभकामनाओं सहित,
    निहार

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बहुत शुक्रिया..
      स्नेह बना रहे.

      Delete
  16. बधाई दिल से ....
    पर मेरा चॉकलेट कहाँ है ?.....

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया राहुल.....
      चॉकलेट भेजी है...दिल से दिल तक कुरियर किया है :-)

      Delete
  17. एक साल में आपकी बहुत बड़ी उपलब्धि है .बहुत बहुत बधाई
    latest postमेरे विचार मेरी अनुभूति: मेरी और उनकी बातें

    ReplyDelete
  18. बहुत...बहुत..बहुत..बहुत... ढेर सारी बधाई और शुभकामनाएँ.... अनु! :-)
    तुम्हारी लेखनी दिनों-दिन निखरती और ऐसे ही खूबसूरत फूल बिखेरती रहे...! हमने कहा था ना...कि फूल जहाँ भी होते आस-पास खुशियाँ और मुस्कुराहट बिखेरते हैं... :-) बिल्कुल वैसे ही तुम्हारे शब्द.... :)
    Wish you All the Very Best !!!:-)
    With Lots of Love! <3
    ~अनिता

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया अनिता..
      तुम्हारा स्नेह भरा प्रोत्साहन मेरे लिए अनमोल है.
      दिल से आभारी हूँ .

      Delete

  19. बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएं !!
    ऐसे ही ब्लॉग का बड्डे मानता रहे और हमें नायाब रचनाएं मिलती रहें, पढने को.

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया रश्मि....
      सब आपका स्नेह है.

      Delete
  20. आपको आपके इस ब्लॉग की पहली वर्षगांठ पर आपको बहुत-बहुत बधाई....| आपके ब्लॉग पर मैं पहली बार आया हूँ...और आपका ब्लॉग मुझे बहुत आकर्षक लगा...आगे भी आता रहूँगा....
    धन्यवाद

    रीतेश...आगरा..से..
    www.safarhainsuhana.blogspot.in

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया रितेश जी..
      आभारी हूँ.

      Delete
  21. एकदम फिल्म फेयर अवार्ड टाइप स्पीच रही :).
    बहुत बहुत बधाई अनु ! तुम्हारा ब्लॉग यूँ ही दिन दूनी रात चौगनी उन्नति करे.

    ReplyDelete
    Replies
    1. हाँ शिखा ..तैयारी भी वैसे ही की थी :-)
      बस कमी रही तो एक अवार्ड की!!!
      शुक्रिया!!

      Delete
  22. Replies
    1. शुक्रिया तुषार जी.

      Delete
  23. एक साल में इतनी सारी उपलब्धियों के लिए मेरी और से बहुत२ बधाई और शुभकामनाए,,,,अनु जी,,,

    Recent post: गरीबी रेखा की खोज

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभारी हूँ धीरेन्द्र जी....मेरी कोई रचना आपकी टिपण्णी के बिना नहीं है.शुक्रिया दिल से.

      Delete
  24. भविष्‍य के लिए अनेकों शुभकामनाएं और मंगलकामनाएं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत शुक्रिया विकेश जी...
      आपकी विशेष टिप्पणियाँ उत्साहित करती हैं.

      Delete
    2. टिप्‍पणियों की विशेषताएं आपकी कविताओं से उत्‍पन्‍न होती हैं। आपकी कविताएं वास्‍तव में आकर्षित करती हैं। निरन्‍तर अपने अनुभवों को कविता में ढालते रहिए।

      Delete
  25. एक वर्ष की आयु में इतने कीर्तिमान । वाह , बधाई और शुभकामनायें और यह आपके अद्भुत लेखन शैली का ही परिणाम है जो आपको लोगों से इतना स्नेह मिल रहा है । एक बात और ,मैं तो पूरी पोस्ट पढ़े बिना बस अपना नाम ढूंढ रहा था कि आपकी 'विक्ट्री स्पीच' में हम हैं भी कि नहीं !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी आपको तो जोड़े से याद किया है....भूलने का प्रश्न ही नहीं और "विक्ट्री स्पीच" ??? ह्म्म्मम्म.....
      शुक्रिया तहे दिल से.

      Delete
  26. बहुत बढिया, आपकी कामयाबी की सीढी देखकर वाकई अच्छा लगा।
    शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  27. हमारी भी शुभकामनाएं कुबूल हो..

    ReplyDelete
    Replies
    1. क़ुबूल है :-)
      शुक्रिया अमृता जी.

      Delete
  28. बधाई अनु !
    जो भी काम करोगी, जहाँ भी उपस्थिति होगी वहां अपनी जगह बनाने में समर्थ हो...
    मंगलकामनाएं !

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया सतीश जी...
      आपकी प्यारी शुभकामना और स्नेह के लिए आभार.

      Delete
  29. समय उड़ चला ...... पर कितने सारे अपनत्व दे गया कहने-सुनने की . यूँ ही सफ़र जारी रहे

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया रश्मि दी....
      सच ,आपसा कोई अपना पाया ये बड़ी उपलब्धि है.

      Delete
  30. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (24-02-2013) के चर्चा मंच-1165 पर भी होगी. सूचनार्थ

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया अरुण.
      आभार,

      Delete
  31. अरे अनु...आज एक साल की हो गई, पता ही नहीं चला...हैप्पी हैप्पी बर्थ डे !!
    केक और मिठाइयाँ मैं खिलाती हूँ...बस यूँ ही सफर चलता रहे...बधाई और शुभकामनाएँ!!
    हाँ...शुभाशीष भी दे देती हूँ...बड़ी हूँ न :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया ऋता जी...
      गद्गद हूँ आपका स्नेह देख कर ...
      आभार तहे दिल से.

      Delete
  32. देखते ही देखते समय कैसे उड़ जाता है पर जाते जाते कितना कुछ देजाता है..ये सफर यूँ ही गतिमान रहे.बहुत बहुत शुभकामनाओ सहित हार्दिक बधाई..अनु..

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया महेश्वरी दी...
      मार्गदर्शन मिलता रहे.
      आभार.

      Delete
  33. बधाई अनु जी।
    आपकी रचनाओं में हमें अपनी मनपसंद रचनाकारों की छवि नज़र आती है।
    एक वर्ष में यह उपलब्धि अभूतपूर्व है।
    लेकिन आपने अकेले हमें जीरहित क्यों छोड़ दिया। :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया डॉक्टर साहब....
      दरअसल डॉक्टर दराल जी लिखती तो ऐसा लगता कोई वैद्य जी है :-) डॉक्टर खुद ही सम्मान सूचक शब्द है सर.
      आभार

      Delete
  34. इस गरिमामय उपलब्धि के लिये हार्दिक बधाईयां, स्वस्थ और सतत लेखन का पुरस्कार अवश्य मिलता है, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार आपका...
      स्नेह बना रहे.

      Delete
  35. एक साल पूरा करने पर हार्दिक बधाई.................हमारी भी शुभकामनाएं अनु जी......

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया संध्या जी.

      Delete
  36. अथक प्रेम ....प्रबल आत्म विश्वास ....शब्दों और भावनाओं का खज़ाना ....यही है हमारी अनु की पहचान...
    अभी तो सफर की शुरुआत ही है ....अभी तो बहुत आगे जाना है ....
    बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनायें ....!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपके सुन्दर शब्दों का शुक्रिया अनुपमा जी.
      स्नेह बनाये रखें.
      आभार.

      Delete
  37. बधाई व ढेर सारी शुभकामनाएं अनुजी ... यूँ ही बढ़ता रहे कारवां सालों साल...

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया संध्या जी.

      Delete
  38. HARDIK BADHAYEE,PRATHAM VRSH KE SAFAL ABHIYAN KE LIYE

    ReplyDelete
  39. बहुत-बहुत बधाई ब्लॉग के सालगिरह के लिए :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. विभा जी
      आभारी हूँ आपके स्नेह की.
      शुक्रिया.

      Delete
  40. आज तुम्हारे ब्लॉग के पहली वर्ष गाँठ की पोस्ट पढ़ कर बस एक ही दुआ देना चाहूंगी ,तुम्हारे दिल का बच्चा और अभिव्यक्ति ,बोले तो expression ,की परिपक्वता बनी रहे ..सस्नेह :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया निवेदिता....
      प्यार बनाये रखना,दिल बच्चा बना रहेगा सदा.
      आभार.

      Delete
  41. ब्लॉग वर्षगांठ की बधाई और शुभकामनाएं! रचनात्मकता बनी रहे, बढ़ती रहे!

    ReplyDelete
  42. एक सफल वर्ष के पूर्ण होने पर बहुत बधाई हो आपको !
    ऐसे कई वर्षों के लिए अनंत शुभकामनायें !

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया वाणी जी.
      स्नेह बनाये रखें.

      Delete
  43. ब्लॉग की सालगिरह और ब्लॉग लेखन में नए कीर्तिमान स्थापित करने पर बहुत बहुत मुबारकबाद.

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया रचना जी.
      आपकी नियमित उपस्थिति उत्साहवर्धन करती है.

      Delete
  44. अनु जी आपको बहुत बहुत बधाई आपके ब्लाग के एक वर्ष पूर्ण होने पर
    सच में सदा से ही आपके ब्लाग पर आना मेरे लिए बहुत सुखद रहा है सच में वो दर्द वो पसन वो समानता है आपके लेखनी में और वही लेखनी हमें आपके ब्लाग पर आने के लिए मजबूर करती है
    मेरी नई रचना
    खुशबू
    प्रेमविरह

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया दिनेश....
      आपके स्नेहिल शब्दों को पढ़ कर खुशी हुई.
      आभार आपका.

      Delete
  45. पता नहीं तुम्हे याद हो न हो ...एक सुर्ख लाल गुलाब था जिससे मुझे प्यार हो गया था ...वह मेरी हर कविता ..मेरे हर अहसास का साक्षी रहता..मुझे सराहता...मेरी हिम्मत मेरा आत्मा विश्वास बढ़ाता ..फिर एक दिन वह खो गया ..उसे बहुत ढूँढा ...कई बार उस तक पैगाम भी पहुँचाना चाहा ...लेकिन सब व्यर्थ ...फिर एक दिन उस सुर्ख लाल गुलाब ने मुझसे कहा ...मैं खोया नहीं था ...बस छिप गया था
    आज फिर आ गया हूँ ...बस उस सुर्ख लाल गुलाब ने इन्द्रधनुषी रंगों का आवरण पहन लिया है ..आत्मा वही है ....आज उसी इन्द्रधनुष को मेरा ढेर सार प्यार और शुभकामनाएं

    ReplyDelete
    Replies
    1. सरस जी.....
      कितनी भी लुका छिपी खेलें...खिले सूरज में रिमझिम बरसात हो तो इन्द्रधनुष निकलेगा ही...आपकी सरस बातें मन में मिठास घोलती हैं....
      स्नेह और मार्गदशन बनाये रखिये.
      सादर.

      Delete
  46. आशा है आपके अंदर चॉकलेट जैसी चाह रखने वाला एक बच्चा हमेशा जीवित रहे। हमेशा अच्छा और शुभ लिखें। ब्लाग की वर्षगांठ पर बहुत सी शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया सौरभ जी.
      स्नेह बनाये रखिये.
      आभार.

      Delete

  47. बधाई .सफर ये तुम्हारा बढे यूं ही आगे से आगे .....और आगे

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार वीरू भाई...आशीर्वाद बनाये रखिये.

      Delete

  48. बधाई .सफर ये तुम्हारा बढे यूं ही आगे से आगे .....और आगे

    ReplyDelete
  49. बहुत बहुत बधाई अनु,
    रचनाएँ लिखते लिखते रचना ही नहीं सधती बल्कि रचनाकार भी सध जाता है !
    ऐसे ही लिखती रहना तब तक कि, यह शब्दों का खेल भी व्यर्थ लगने लगे एक दिन,
    फिर वो लिखना केवल विचारों का फ्रस्टेशन नहीं असली सृजन होगा !
    फिर से बधाई ...आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया सुमन जी...
      मार्गदर्शन मिलता रहे...अपेक्षाओं पर खरी उतरूँ ऐसा प्रयास रहेगा सदा.
      आभार.

      Delete
  50. बहुत बधाई अनु जी....लेखन से स्‍वयं की पहचान होती है...वि‍चार के नि‍त नए दरवाजे खुलते हैं....ऐसा मेरा मानना है। आपकी यात्रा जारी रहे...शुभकामनाएं

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया रश्मि जी..
      आपकी शुभकामनाओं के लिए आभारी हूँ.

      Delete
  51. ब्लॉग जगत में साल भर भी निरंतरता बनाए रखना बड़ी बात है। ब्लॉग के साल गिरह की शुभकामनाएं एवं बधाईयाँ।

    ReplyDelete
  52. ईश्वर से यही प्रार्थना है कि आपकी यह यात्रा अनवरत जारी रहे ... शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया शालिनी जी.

      Delete
  53. itne kam samay me itna bada mukam hasil karna, 334 followers banana /indirank 82 ka hona.. apne aap me ye batata hai ki aapka Blog hit hai..

    badhai/shubhkamnayen......

    ReplyDelete
    Replies
    1. hit है क्या???
      शुक्रिया :-)
      स्नेह बना रहे.

      Delete
    2. jab blogs par 30-40 average comments bahut hote hain, aise me 118 comments bata raha, ki HIT kya hai :D...

      waise mera blog agle 31 may ko 5 saal pure karega.. ab compare kar ke dekhiye.. aap kahan pahuch gayeen...

      bahut aage jaoge aap :)

      Delete
  54. आपको ढेर सारी शुभकामनाएँ. हमलोग ब्लॉग के कारण इस्त्नी दूर होने पर भी कितने करीब आ जाते हैं. एक-दूसरे से अपनी हर बात शेयर करने लगते हैं, एक परिवार के सदस्य की तरह.

    ReplyDelete
    Replies
    1. बिलकुल आराधना.....शब्द रिश्ते जोड़ लेते हैं..
      शुक्रिया तुम्हारे स्नेह का.

      Delete
  55. एक सफल वर्ष के पूर्ण होने पर बहुत बधाई हो आपको !
    ऐसे कई वर्षों के लिए अनंत शुभकामनायें !

    अनु दी !! इस छोटी से पंछी को भी अपना आशीष जरुर दीजियेगा

    मेरी नई पोस्ट

    रूहानी प्यार का अटूट विश्वास

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया नन्हीं चिड़िया...
      अपना नाम तो बताओ.....
      हमारा आशीष सदा आपके साथ है.

      Delete
  56. बहुत खूब ...उस ईश्वर की कृपा बनी रहें

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया अंजू जी.

      Delete
  57. बहुत बधाई! अनु ऐसे ही सबके दिलों मे जगह बनाती चलो ...ईश्वर हमेशा तुम्हें सफ़ल करे ...

    ReplyDelete
  58. अनंत बधाईयां.....:)

    ReplyDelete

नए पुराने मौसम

मौसम अपने संक्रमण काल में है|धीरे धीरे बादलों में पानी जमा हो रहा है पर बरसने को तैयार नहीं...शायद उनकी आसमान से यारी छूट नहीं रही ! मोह...