इन्होने पढ़ा है मेरा जीवन...सो अब उसका हिस्सा हैं........

Friday, December 7, 2012

नज़्म से प्रेम तक.....

एक नज़्म पढ़ी
मेरी हँसी पर उसने....
मैं हँस पड़ी
वो बोला-
लो फिर एक नज़्म हुई....

मुझे छेड़ कर उसने 
एक शेर कहा
मैं गज़ल हुई....

दो लफ्ज़ रखे
अधरों पर उसने
मैं गीत हुई....

नगमें  गाये
मेरी आँखों पर
मैं भीग गयी....

कुछ छंद लिखे
मेरी बातों पर
मैं कविता हुई....

वो मौन हुआ 
बस छू कर गुज़रा
मैं प्रेम हुई......
-अनु

61 comments:

  1. अलग रंग -ढंग से सजी सुन्दर कविता बधाई अनु जी |

    ReplyDelete
  2. नगमें गाये
    मेरी आँखों पर
    मैं भीग गयी....

    कुछ छंद लिखे
    मेरी बातों पर
    मैं कविता हुई....


    बहुत ही खूबसूरत


    सादर

    ReplyDelete
  3. उसने मुझे जिया, मै ज़िन्दगी हुई... :)

    ReplyDelete
  4. उसने मुझे जिया, मैं ज़िन्दगी हुई... :)

    ReplyDelete
  5. लाजवाब

    ReplyDelete
  6. कुछ छंद लिखे
    मेरी बातों पर
    मैं कविता हुई....waah bahut khub ..sundar kaha

    ReplyDelete
  7. वाह जवाब नहीं इस पंक्ति का लाजवाब
    अरुन शर्मा
    www.arunsblog.in

    कुछ छंद लिखे
    मेरी बातों पर
    मैं कविता हुई.

    ReplyDelete
  8. प्रेम की सुंदर अभिव्यक्ति .....
    सुंदर रचना ...अनु .

    ReplyDelete
  9. कुछ छंद लिखे
    मेरी बातों पर
    मैं कविता हुई....
    वाह ....क्‍या बात है लाजवाब प्रस्‍तुति

    ReplyDelete
  10. khud ke prem hone ke baa kuchh bacha kyaa?

    ReplyDelete
  11. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (8-12-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  12. बेहतरीन ढंग से सजी बहुत ही खूबसूरत
    कविता ...................

    ReplyDelete
  13. एक रचना इश्कजादी....!! वाह अनु जी ----मज़ा आ गया..... :)

    ReplyDelete
  14. कुछ छँद लिखे
    मेरी बातोँ पर
    मैँ कविता हुई...
    बहुत सुन्दर शब्द रचना ।

    ReplyDelete
  15. कुछ छँद लिखे
    मेरी बातोँ पर
    मैँ कविता हुई...
    बहुत सुन्दर शब्द रचना ।

    ReplyDelete
  16. वो मौन हुआ
    बस छू कर गुज़रा
    मैं प्रेम हुई....

    वाह क्या कहने ...अनु जी

    ReplyDelete
  17. prem ke diye ko prajwalit karti rahe,jindgi kud b khud sawar jaygi

    ReplyDelete
  18. बहुत बढ़िया!!!

    ReplyDelete
  19. अद्भुत !
    कम शब्दों में बड़ी बड़ी बातें लिखना भी एक कला है.

    ReplyDelete
  20. सुंदर रचनाः)
    सस्नेह

    ReplyDelete
  21. एक नज़्म पढ़ी
    मेरी हँसी पर उसने....
    मैं हँस पड़ी
    वो बोला-
    लो फिर एक नज़्म हुई....

    सहज और सादगी से कही बात मन तक पहुँची.सुंदर शैली.

    ReplyDelete
  22. वो मौन हुआ
    बस छू कर गुज़रा
    मैं प्रेम हुई

    बहुत खूब , सुंदर !

    ReplyDelete
  23. वाह..क्‍या बात है लाजवाब प्रस्‍तुति,,

    recent post: बात न करो,

    ReplyDelete
  24. कुछ छँद लिखे
    मेरी बातोँ पर
    मैँ कविता हुई...

    वाह,,,बहुत सुन्दर शब्दों की अभिव्यक्ति,,,

    ReplyDelete
  25. आपके द्वारा लिखी गई हर पंक्तियाँ बेहद खूबसूरत होती हैं....... आपकी समस्त रचनाओं को लिये आपको नमन .....

    कृ्पा कर एक बार यहाँ भी आएं ......

    www.swapnilsaundarya.blogspot.com
    www.swapniljewels.blogspot.com
    www.swapnilsworldofwords.blogspot.com
    &
    www.entrepreneursadda.blogspot.com

    ReplyDelete
  26. इतनी कोमल कविता और इतने नाज़ुक भाव.. ऐसा लग रहा है कि सर्दियों की नर्म में धूप में कोई खरगोश आँखें मूंदे हरी घास पर लेटा हुआ हो!!

    ReplyDelete
  27. बहुत खुबसूरत रचना अभिवयक्ति.........

    ReplyDelete
  28. एक सच्ची बात बताऊँ, आपके ब्लॉग पर बहुत बार आता हूँ... सोचता हूँ कुछ कमेन्ट करूँ... लेकिन जब आता हूँ तब तक इतने कमेन्ट हो चुके होते हैं की लगता है जो मुझे कहंता था वो तो लोगों ने कह दिया है पहले ही... फिर मैं चुपचाप पूरी कविता पढता हूँ... मन ही मन खुश होकर वापस लौट जाता हूँ...

    ReplyDelete
  29. बहुत खूबसूरत सुंदर भाव, सुंदर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  30. निर्लिप्त भाव से रची गई सुन्दर रचना!

    ReplyDelete
  31. wah di....dil ko chune wali pyari rachna....luv u for such lovely lines

    ReplyDelete
  32. प्रेम मयी सुंदर प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  33. बेहद लाजवाब |

    "तुम शीर्षक हुए मैं कहानी हुई "

    ReplyDelete
  34. anu ji aapki kvitaen behad komal bhavon ke sath komal prabhav ke sath ubharti hain

    ReplyDelete
  35. बहुत लाजवाब ... निर्मल प्रेम को कम से कम शब्दों में बाँधा है ... ओर आकाश जितना फैला दिया ...
    लाजवाब ...

    ReplyDelete
  36. वाह, मैं अवाक हूँ

    ReplyDelete
  37. Hi Anu!
    Please read this here: http://amitaag.blogspot.in/2012/12/blog-post.html
    Thanks and regards...amit

    ReplyDelete
  38. वो मौन हुआ
    बस छू कर गुज़रा
    मैं प्रेम हुई......
    sundar ...

    ReplyDelete
  39. दो लफ्ज़ रखे
    अधरों पर उसने
    मैं गीत हुई....

    बेहतरीन । बहुत अच्छी रचना है यह अनु जी। मेरी बधाई स्वीकार करें।

    ReplyDelete
  40. आपकी कविता मैं कभी कविता के लिए नहीं पढता हूँ , वो तो बहुत लोग करते हैं | आपकी कविता पढ़ने का असली मकसद वो एहसास महसूस करना होता है जो शायद रोजमर्रा की जिंदगी में होकर भी अनछुआ रह जाता है |
    इस बार भी वो एहसास भरपूर मिला है |

    सादर

    ReplyDelete
  41. नज़्म का सफर पहले गज़ल, फिर गीत और कविता एवं अंत में प्रेम में तब्दील होना बहुत सुंदर लगा.

    बधाई अनुलता जी.

    ReplyDelete
  42. प्रेम के विभिन्न सोपानो से गुजरती हुई नज़्म का जन्म बधाई के काबिल है . स्वीकार करें .

    ReplyDelete
  43. wah, kya bat hai. prem ke har seedhi par ek rachna, kawita gaZal, sher ,chand, aur kya kya. bahut khoobsurat.

    ReplyDelete
  44. सुन्दर व् सार्थक प्रस्तुति . हार्दिक आभार हम हिंदी चिट्ठाकार हैं

    ReplyDelete
  45. सुन्दर व् सार्थक प्रस्तुति . हार्दिक आभार हम हिंदी चिट्ठाकार हैं

    ReplyDelete
  46. आपकी यह बेहतरीन रचना बुधवार 12/12/2012 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    ReplyDelete
  47. read it one time, then again, then again , this is real love.wow di beautiful lines.

    ReplyDelete
  48. koi kaise itna khoobsurat likhta hai!!!! this is the best i have read in recent time. kai baar padha. baar baar padha.

    ReplyDelete
  49. और इस तरह मैं 'मुकम्मल' हुई ...

    ReplyDelete
  50. नारी से प्रेम बनाने का प्यारा सफर!

    ReplyDelete


  51. ☆★☆★☆


    एक नज़्म पढ़ी मेरी हंसी पर उसने....
    मैं हंस पड़ी
    वो बोला- लो फिर एक नज़्म हुई....
    मुझे छेड़ कर उसने एक शेर कहा
    मैं गज़ल हुई....

    दो लफ्ज़ रखे अधरों पर उसने
    मैं गीत हुई....

    नगमे गाए मेरी आंखों पर
    मैं भीग गई....
    कुछ छंद लिखे मेरी बातों पर
    मैं कविता हुई....

    वो मौन हुआ
    बस छू कर गुज़रा
    मैं प्रेम हुई......


    इतनी ख़ूबसूरत कविता !
    वाह ! वाऽह…! और... वाऽहऽऽ…!

    आदरणीया अनुलता जी
    आपकी कुछ कविताएं वाकई दिल को बहुत भा जाती है...
    सुंदर सृजन यूं ही जारी रहे...


    हार्दिक बधाई और शुभकामनाओं-मंगलकामनाओं सहित...
    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete

नए पुराने मौसम

मौसम अपने संक्रमण काल में है|धीरे धीरे बादलों में पानी जमा हो रहा है पर बरसने को तैयार नहीं...शायद उनकी आसमान से यारी छूट नहीं रही ! मोह...