इन्होने पढ़ा है मेरा जीवन...सो अब उसका हिस्सा हैं........

Monday, December 24, 2012

सर्दी



पश्मीना शाल लपेटे 
कार में 
काँच बंद
हीटर ऑन किये
ठिठुर रही थी मैं
उस सर्द और सूनी रात... 
नज़र पड़ी फुटपाथ पर,
एक नन्ही सी बच्ची
चंद चीथड़ों में लिपटी
अपनी माँ के सीने से लगी 
सो रही  थी सुकून से...
ज़ेहन में ख़याल आया
जाने कैसे उन्हें नींद आती होगी ??
सर्दी नहीं सताती होगी ??
शायद नहीं सताती.
उनके  पास
एक दूसरे के
प्यार की गरमाहट जो है....

मेरी सर्द उंगलियां 
कस गयीं स्टीयरिंग व्हील पर
आँखों पर धुंध सी छा गयी.
रात ठिठुरते,करवटें बदलते गुज़री...
-अनु 

48 comments:

  1. प्यार की गर्माहट से मौसम की ठंड
    भी खत्म हो गयी....
    कोमल भाव लिए संवेदनशील रचना....

    ReplyDelete
  2. SUNDAR ABHIVYAKTI BHAV PURN PRASTUTI जाने कैसे उन्हें नींद आती होगी ??
    सर्दी नहीं सताती होगी ??
    शायद नहीं सताती.
    उनके पास
    एक दूसरे के
    प्यार की गरमाहट जो है....

    ReplyDelete
  3. माँ की गोद ..वो करे कमाल
    जो न करे ..पश्मीने की शाल .....

    शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  5. माँ का प्यार - दुलार सर्दी क्या जीवन की हर तकलीफ को दूर कर देता है... शुभकामनायें

    ReplyDelete
  6. सुंदर भावपूर्ण अभिव्यक्ति .....अनु ॰

    ReplyDelete
  7. जब तक माँ का सानिध्य रहता है चैन ही चैन :)सुन्दर कविता.

    ReplyDelete
  8. हेमंत ऋतु का सुन्दरता के साथ वर्णन किया है बधाई

    ReplyDelete
  9. उनके पास
    एक दूसरे के
    प्यार की गरमाहट जो है....
    नाज़ुक से एहसास

    लिये अनुपम प्रस्‍तुति

    ReplyDelete
  10. ...वाक़ई, रिश्तों में जो गर्माहट का विकल्प नहीं है !

    ReplyDelete
  11. ममता की गर्माहट सर्दी को भी दूर कर देती है ... सुंदर रचना

    ReplyDelete
  12. दिल को छूती पंक्तियाँ..

    ReplyDelete
  13. दिल को छूती पंक्तियाँ..

    ReplyDelete
  14. जाने कैसे उन्हें नींद आती होगी
    सर्दी नहीं सताती होगी...
    -----------------------------
    वाह.. बहुत सुन्दर लिखा आपने...

    ReplyDelete
  15. जीवन की स्टीयरिंग व्हील इसी तरह हमारे नियंत्रण के बिना चलती है, सुन्‍दर प्रयास.

    आरंभ : चोर ले मोटरा उतियइल

    ReplyDelete
  16. सुन्दर भावमय कविता ।

    ReplyDelete
  17. मातृत्व को समर्पित सुन्दर रचना ।

    ReplyDelete
  18. प्यार की उष्णता महसूस कराते शब्द . सुन्दर .

    ReplyDelete
  19. किसी का साथ ... सर्द रातों में ... वो भी माँ का ...
    महसूस करने पे ही उष्मा आ जाती है ...

    ReplyDelete
  20. गहरी अनुभूति अनु जी .....सचमुच उनके पास प्यार की गरमाहट के अलावा है ही क्या । लाजबाब रचना के लिए आभार ।

    ReplyDelete
  21. जहां ममता से भरा आँचल हो वहां सर्दी क्या हर कष्ट दूर हो जाते है,,,,

    recent post : समाधान समस्याओं का,

    ReplyDelete
  22. फुटपाथ पर सोने वालों की चिंता इस मौसम मे शायद ही किसी को होगी।
    बेहतरीन रचना ।


    सादर

    ReplyDelete
  23. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगल वार 25/12/12 को चर्चाकारा राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी आपका स्वागत है ।

    ReplyDelete
  24. सर्जन के हाथ फूल से कोमल -- मजदूर के हाथों में डील ।
    एडेप्टेशन !

    ReplyDelete
  25. उनके पास
    एक दूसरे के
    प्यार की गरमाहट जो है...
    प्रेम से उष्ण कुछ हो ही नहीं सकता

    ReplyDelete
  26. सुन्दर प्रयास , बहुत बहुत बधाईयाँ ..सार्थक सकारात्मक सृजन मित्र ..

    ReplyDelete
  27. उनके पास
    एक दूसरे के
    प्यार की गरमाहट जो है....sahi kaha bahut badhiya pyaar ka ehsaas aur ek bebasi si rachna mein khub ubhar kar aaye hain ..

    ReplyDelete
  28. सबके अपने अपने सलीब हैं

    ReplyDelete
  29. sach pyar ki garmahat aisi hi hoti hai...par ye lines hame ye bhi sandesh deti hai ki hame un logo ki madat karni chahiyee...very nice lines di

    ReplyDelete
  30. जाने कैसे उन्हें नींद आती होगी ??
    सर्दी नहीं सताती होगी ??
    शायद नहीं सताती.
    उनके पास
    एक दूसरे के
    प्यार की गरमाहट जो है....

    ...बिल्कुल सच कहा है, प्यार की गर्मी हो तो सर्दी का क्या डर..बहुत मर्मस्पर्शी और भावपूर्ण रचना..

    ReplyDelete
  31. मर्मस्पर्शी लेखन ... संस्मरण को बहुत ही कलात्मकता से कम शब्दों से भावना को अलंकरित किया .. वाह ! बहुत खूब ! ..

    ReplyDelete
  32. आज हर बच्ची ठिठुर रही है। जो खुले में है,वही नहीं,जो चाकचौबंद सुरक्षा में है,वह भी।

    ReplyDelete
  33. प्यार की गर्मी पशमीने की मोहताज नहीं होती

    ReplyDelete
  34. सहज और सुन्दर अभिव्यक्ति। मार्मिक चित्रण।
    ईश्वर ने सबको कुछ न कुछ अवश्य दिया है
    किसी को हीटर तो किसी को सहनशक्ति की
    ऊर्जा। मन-भावन रचना।

    आनन्द विश्वास

    ReplyDelete
  35. bahut hi khubsurat rachna! :)

    http://bhukjonhi.blogspot.in/

    ReplyDelete
  36. आपकी यह कविता मन को आंदोलित कर गई । मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  37. व्यवस्था और समाज के ऊपर आपने सटीक व्यंग्य किया है।

    ReplyDelete
  38. प्यार की गर्माहट हर सर्दी को भगाने में कामयाब रहेगी. लेकिन उस व्यवस्था पर आश्चर्य होना स्वाभाविक है जो किसी को फुटपाथ पर भी सोने के लिये मजबूर कर देता है.

    अनु जी आपको व आपके परिवार को नूतन वर्षाभिनंदन.

    ReplyDelete
  39. प्यार की गर्मी हर सर्दी से बचाने में सक्षम है...
    बहुत सुंदर संवेदनशील रचना।।।

    ReplyDelete
  40. प्यार की गर्मी हर सर्दी से बचाने में सक्षम है...
    सुंदर, संवेदनशील रचना।।।

    ReplyDelete
  41. सुन्दर अभिव्यक्ति, मार्मिक चित्रण
    बहुत संवेदनशील रचना

    ReplyDelete
  42. नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ... आशा है नया वर्ष न्याय वर्ष नव युग के रूप में जाना जायेगा।

    ब्लॉग: गुलाबी कोंपलें - जाते रहना...

    ReplyDelete
  43. सही कहा, कुछ अजीब ही है ये दुनिया

    ReplyDelete
  44. ...bahut sundar aur bilkul sach!!

    ReplyDelete
  45. एक दूसरे का साथ और प्यार की गर्माहट , फिर क्या फिकर , जो होगा देखा जायेगा |
    अच्छी कविता |

    सादर

    ReplyDelete

नए पुराने मौसम

मौसम अपने संक्रमण काल में है|धीरे धीरे बादलों में पानी जमा हो रहा है पर बरसने को तैयार नहीं...शायद उनकी आसमान से यारी छूट नहीं रही ! मोह...