इन्होने पढ़ा है मेरा जीवन...सो अब उसका हिस्सा हैं........

Friday, July 5, 2013

स्पर्श.........................

चेहरे पर पड़ती बूँदें बारिश की
मानों एक बोसा
संग हवा के सरसराता
छू कर निकला हो गालों को....
और उस रेशमी स्पर्श ने
बेवक्त ही
खोल दिया पिटारा खुरदुरी यादों का
जिन्हें समेटते सहेजते छिले जाते हैं
पोर मेरी उँगलियों के..

बूँदे चाहे बादलों से टपकी हों
या मन के घावों से रिसी हों,
अपने पास रखती हैं चोर चाभी
यादों की संदूकची की.....

(जाने हम क्यूँ सहेजे रखते हैं इन पिटारोंको/संदूकों को...और हर पल डरते हैं उनके खोले जाने से...मेरे ख़याल से कुछ एहसास ऐसे होते हैं जिनसे दिल कभी पूरी तरह आज़ाद नहीं हो सकता या शायद होना ही नहीं चाहता.....)
~अनु ~


64 comments:

  1. बहुत बढ़िया भाव-
    सुन्दर प्रवाह-
    सादर-

    ReplyDelete
  2. चेहरे पर पड़ती बूँदें बारिश की
    मानों एक बोसा
    संग हवा के सरसराता
    छू कर निकला हो गालों को....
    और उस रेशमी स्पर्श ने
    बेवक्त ही
    खोल दिया पिटारा खुरदुरी यादों का
    जिन्हें समेटते सहेजते छिले जाते हैं
    पोर मेरी उँगलियों के..
    लाजवाब

    ReplyDelete
  3. बूँदे चाहे बादलों से टपकी हों
    या मन के घावों से रिसी हों,
    अपने पास रखती हैं चोर चाभी
    यादों की संदूकची की.....

    शायद यही होता है कि हम कुछ यादों को जाने अनजाने सीने में जिंदा रखते हैं. या ये भी हो सकता है कि वो यादें हमारा पीछा नही छोडती हों. बहुत ही बेहतरीन अभिव्यक्ति.

    रामराम.

    ReplyDelete

  4. बुँदे बन जाती है बोसा..........बहुत खूब !!

    ReplyDelete
  5. लाजवाब रचना है अनुजी

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (06-07-2013) को <a href="http://charchamanch.blogspot.in/ चर्चा मंच <a href=" पर भी होगी!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  7. मखमली अहसास !
    फिर कुछ उदासी सी।
    जिंदगी का मिला जुला रूप।

    ReplyDelete
  8. बहुत नाज़ुक ..........

    ReplyDelete
  9. वाह ..... मर्म को छूती बात

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर..आपकी हर कविता याद कर लेने को जी चाहता है...

    ReplyDelete
  11. ये तो मनुष्य की प्रवृति है अपने कुछ अहसासों को अपने ही अंदर संजोए रखना चहता है..कोमल भाव .शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  12. बहुत ख़ूबसूरती से मन के भावों को शब्दों का जामा पहनाया है...अनु जी.

    ReplyDelete
  13. बहुत ख़ूबसूरती से मन के भावों को शब्दों का जामा पहनाया है...अनु जी.

    ReplyDelete
  14. कुछ एहसास दिल से निकाले भी नही निकलते , शुभकामनाये , यहाँ भी पधारे


    http://shoryamalik.blogspot.in/2013/07/blog-post_5.html

    ReplyDelete
  15. अनु जी : बहुत खूबसूरत. आप की भावुकता लम्हों को चुम्बक की तरह पकड़ लेती है और आप की सृजनता उन लम्हों को रचना में स्थानातारिंत करती है.

    ReplyDelete
  16. अनु जी : बहुत खूबसूरत. आप की भावुकता लम्हों को चुम्बक की तरह पकड़ लेती है और आप की सृजनता उन लम्हों को रचना में स्थानातारिंत करती है.

    ReplyDelete
  17. शुभ प्रभात दीदी
    बोसा

    ReplyDelete
  18. स्पर्श किसी का भी हो.... या तो खुरदरी यादें या मखमली यादें.... याद तो करा ही जाती है... अच्छी रचना !!

    ReplyDelete
  19. बूँदे चाहे बादलों से टपकी हों
    या मन के घावों से रिसी हों,
    अपने पास रखती हैं चोर चाभी
    यादों की संदूकची की.....
    बहुत सुंदर..

    ReplyDelete

  20. बूँदे चाहे बादलों से टपकी हों
    या मन के घावों से रिसी हों,
    अपने पास रखती हैं चोर चाभी
    यादों की संदूकची की.....

    वाकई इस को खोलते सभी डरते हैं

    ReplyDelete
  21. बूँदे चाहे बादलों से टपकी हों
    या मन के घावों से रिसी हों,
    अपने पास रखती हैं चोर चाभी
    यादों की संदूकची की.....

    बहुत सुन्दर!!
    सच ही कहा है आपने...कुछ एहसास ऐसे ही होते हैं, जिनसे दिल कभी पूरी तरह आज़ाद शायद नहीं हो सकता!!

    ReplyDelete
  22. बहुत खूबसूरत अंदाज़ में पेश की गई है पोस्ट...... शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  23. कुछ निजी एहसास जिसे दिल सार्वजनिक नहीं करना चाहता है -बढ़िया अभिव्यक्ति !
    latest post मेरी माँ ने कहा !
    latest post झुमझुम कर तू बरस जा बादल।।(बाल कविता )

    ReplyDelete
  24. बहुत खूबसूरती से बयां करती है आप अपने मन के भाव को दीदी .... ये पंक्तियाँ विशेष रूप से अच्छी लगी बूँदे चाहे बादलों से टपकी हों
    या मन के घावों से रिसी हों,
    अपने पास रखती हैं चोर चाभी
    यादों की संदूकची की.....
    सादर
    --पारुल'पंखुरी'

    ReplyDelete
  25. बूँदे चाहे बादलों से या मन के घावों से.....
    नाज़ुक मर्म....

    ReplyDelete
  26. हम यादों को कब याद रखते हैं....
    यादें भी कब हमें भूलती हैं...

    बहुत सुंदर अनु!
    <3

    ReplyDelete
  27. हमेशा की तरह निरुत्तर करती हुई ....

    ReplyDelete
  28. बहुत ही खूबसूरती से बांधा है भावों को..

    ReplyDelete
  29. बहुत ही सुन्दर और सार्थक प्रस्तुती,अभार।

    ReplyDelete
  30. बहुत ही सुन्दर और सार्थक प्रस्तुती,अभार।

    ReplyDelete
  31. आदरणीया अनु जी नमस्कार ,
    ये सच ही है कि कुछ एहसास ऐसे होते है जिनसे दिल आजाद नही होना चाहता लेकिन ये भी कुछ हद तक सच लगता है कि कुछ एहसासों से चाहकर भी हम आजाद नही हो पाते , शायद वो हमारी हार्ड डिस्क में इस प्रकार सेव हो गये हैं कि बिना हार्ड डिस्क बदले वो डिलिट नही हो सकते !
    आपकी अच्छी प्रस्तुति की बधाई !

    ReplyDelete
  32. कोमल भावपूर्ण रचना...
    मन को छू लेनेवाली..
    :-)

    ReplyDelete
  33. यादें कभी पीछा नही छोडती ....वफा क्या होती है ..कोई इनसे सीखे !
    खुश रहें!

    ReplyDelete
  34. सहेजे रखते हैं- और एक बार पलट कर वक़्त में पीछे झाँक-कर मुस्कुरा लेते हैं ..
    सुन्दर पंक्तियाँ अनु दी।
    सादर
    मधुरेश

    ReplyDelete
  35. बूँदें रखती है चोर चाबी ...
    और खुलते जाते हैं यादों के पिटारे ...
    बहुत खूब !

    ReplyDelete
  36. लाजबाब ...बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
  37. बूँदे चाहे बादलों से टपकी हों
    या मन के घावों से रिसी हों,
    अपने पास रखती हैं चोर चाभी
    यादों की संदूकची की.....

    बहुत खूब ।

    ReplyDelete
  38. वाह, क्या कल्पना है !

    ReplyDelete
  39. बहुत सुंदर रचना
    क्या कहने


    (आप बहुत दिनों बाद दिखाई दे रही हैं)

    ReplyDelete
  40. सुन्दर रचना ह्रदय को स्पर्श करती हुई .

    ReplyDelete
  41. सुन्दर रचना ह्रदय को स्पर्श करती हुई .

    ReplyDelete
  42. 'बूँदे चाहे बादलों से टपकी हों
    या मन के घावों से रिसी हों,
    अपने पास रखती हैं चोर चाभी
    यादों की संदूकची की.....'

    Deeply felt words!

    ReplyDelete
  43. प्रेम के बहुत से एहसास बस अकेले में मन को गुदगुदाने के लिए होते हैं ....
    बूंदों में निलक आते हैं ये और बात है ...

    ReplyDelete
  44. यादें और अहसास कभी ख़त्म नहीं होती बस सो जाती हैं कुछ देर के लिए
    और कोई न कोई आकर उसे जग जाता है कभी कभी
    सुन्दर

    ReplyDelete
  45. यादों का खूबसूरत पिटारा ...कोई अच्छी और कुछ बुरी भी

    ReplyDelete
  46. बहुत नाजुक और कोमल अहसास लिए आपकी ये शानदार कविता ..अनु जी इतना पास प्रकृति को महसूस वो ही कर सकता है जिसके विचार प्रकृति से ही मखमली और खुबसूरत हो ..बधाईया

    ReplyDelete
  47. बूँदे चाहे बादलों से टपकी हों
    या मन के घावों से रिसी हों,
    अपने पास रखती हैं चोर चाभी
    यादों की संदूकची की.....
    सच बड़ी ही छुपी रुस्तम होती हैं यह बुँदे
    इसलिए शायद खुशी और ग़म दोनों में छलक जाती है
    और जब तक खुल ही जाती है यादों की संदूकची...

    ReplyDelete
  48. बेहतरीन ह्रदय स्पर्शी रचना....

    ReplyDelete
  49. वाह अनु जी बहुत ही भावपूर्ण मार्मिक रचना है ।

    ReplyDelete
  50. बूँदे चाहे बादलों से टपकी हों
    या मन के घावों से रिसी हों,
    अपने पास रखती हैं चोर चाभी

    bs mn ko chho gyee ....aabhar anu ji

    ReplyDelete
  51. hello Anu ji
    kasii hain....

    jaanti hain..aapke yahaan aati to aksr hun...pr bheed aur halchal se drti hun...so chupchaap aapko dekh ke hli jaati hun...............
    aaj bhi sochaa....aapse baat vaat kr ke aayun..pr dekhaa 58 comments....sochaa ptaa nhi...aapki nazr meri baat pe pregi bhi ki...nhi...........fir sochaa...khat aapko bhi psnd hain..so ik khat daale aati hun...kyaa ptaa aap bhi aadatan postbox dekh leti hon..so chayd ye dikh jaaye...aur haan..aapkaa dil ..bahut sneh ke sath rahegaa.....salt analysis ki kyaa zarurat jab qualitativly hi ptaa chal rhaa ....:)....
    aapkaa prempatr...mere bahut psndidaa he...akr prne aati hun..use.......
    yuhin likti rhe...aur muskuraahate failaati raheen....
    aur haan..ik bdi pyaari baatlgi aapke prichay se...ki aap do bachchon ki maa hain.:d...LGTI NHI HAIN.....aur jis style se likhaa he naa...aapne..subhaan allah........vaise..meri bhii trkkki ho gyi he........lol........main bhi ik bachche ki maa bn chuki ab..ha ha.......
    dono anu byproducts ko dher sara pyaar..
    take care

    ReplyDelete
    Replies
    1. जोया............
      जाने कितने बाद कोई ख़त मिला है <3 शुक्रिया.....
      कितने भी comments हों,हम कभी एक भी अनदेखा नहीं करते...मोहब्बत की बेहद कद्र करते हैं हम.तुम्हारा आना और इतनी प्यारी बातें कहने का शुक्रिया.
      यूँ ही महकती रहो..महकाती रहो...
      प्यार-
      अनु

      Delete
  52. सुन्दर रचना ह्रदय को स्पर्श करती हुई

    ReplyDelete
  53. बहुत सुन्दर ...

    ReplyDelete

नए पुराने मौसम

मौसम अपने संक्रमण काल में है|धीरे धीरे बादलों में पानी जमा हो रहा है पर बरसने को तैयार नहीं...शायद उनकी आसमान से यारी छूट नहीं रही ! मोह...