रूह

तुम्हारी गुलामी मैंने स्वीकारी
क्यूंकि तुम्हारी ख़ुशी इसी में थी....
और इसमें मेरा कुछ जाता नहीं था
बेशक बेड़ियों ने मुझे जकड़ रखा था मगर
रूह आज़ाद थी मेरी
और वक्त भी आज़ाद था...

पीछे छूट रहा था वक्त और आगे बढ़ती जा रही थी मैं
बीच में तुम खड़े थे स्थिर ,गतिहीन,संतुष्ट
बेड़ियों में जकड़े मेरे शरीर को देखते !!

ज़ाहिर है
इस कहानी में प्रेम ने कोई किरदार नहीं निभाया !!
~अनु ~

Comments

  1. बहुत बढिय प्रस्तुति..अनु ..

    ReplyDelete
    Replies
    1. SUNDAR BHAV UKERE HAI AAPNE ,YAHI KATU SATY HAI JEEVAN KAA

      Delete
  2. ज़ाहिर है
    इस कहानी में प्रेम ने कोई किरदार नहीं निभाया !!..........सही बहुत खूब ..प्रेम कैसे आता जब मंजिल और रस्ते ही अलग मायने में थे ..बेहतरीन अभिव्यक्ति अनु


    ReplyDelete
  3. अगर प्रेम साथ होता थी बेड़ियों का अहसास ही नहीं आता मन में

    ReplyDelete
  4. रूह आज़ाद... बेड़ियों से युक्त शरीर... और उसे देख संतुष्ट 'तुम'
    इस विरोधाभास में प्रेम कहाँ...!

    निश्चित ही
    'इस कहानी में प्रेम ने कोई किरदार नहीं निभाया !!'

    ReplyDelete
  5. बहुत बढिय प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  6. बहुत बढिय प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  7. sundar rachna....jakadna prem nahi....unmukut kar dena prem hai......

    ReplyDelete
  8. आपने लिखा....हमने पढ़ा....
    और लोग भी पढ़ें; ...इसलिए शनिवार 20/07/2013 को
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    पर लिंक की जाएगी.... आप भी देख लीजिएगा एक नज़र
    लिंक में आपका स्वागत है ..........धन्यवाद!

    ReplyDelete
  9. बस समझौता ही बन कर रह गयी ज़िंदगी ..... संवेदनशील प्रस्तुति

    ReplyDelete
  10. समझौता...जाहिर है इसमें प्रेम कहीं नहीं है.
    बढ़िया लिखा है अनु

    ReplyDelete
  11. अगर प्रेम होता तो वहाँ बेड़ियों की कभी कोई बात ही नहीं आती

    ReplyDelete
  12. वाह ! अनु जी ..आह निकाल दिया..

    ReplyDelete
  13. बिलकुल ठीक ऐसी कहानियों में अक्सर किरदार खुद ही गुम हो जाया करते हैं...
    बेहतरीन भावभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  14. बहुत सही लिखा है आपने .

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर ..............प्रेम होता तो रूह बेचैन नहीं होती ................

    ReplyDelete
  16. जाहिर है इस कहानी में
    प्रेम ने कोई किरदार
    नहीं निभाया...
    बहुत प्रभावपूर्ण रचना।

    ReplyDelete
  17. जाहिर है इस कहानी में
    प्रेम ने कोई किरदार
    नहीं निभाया...
    बहुत प्रभावपूर्ण रचना।

    ReplyDelete
  18. bahut hi lajawab prastuti.............

    ReplyDelete
  19. पीछे छूट रहा था वक्त और आगे बढ़ती जा रही थी मैं
    बीच में तुम खड़े थे स्थिर ,गतिहीन,संतुष्ट
    बेड़ियों में जकड़े मेरे शरीर को देखते !!

    ज़ाहिर है
    इस कहानी में प्रेम ने कोई किरदार नहीं निभाया !!

    बहुत ही प्रभावशाली रचना.

    रामराम.

    ReplyDelete
  20. बेहतरीन भावभिव्यक्ति... प्रभावपूर्ण!

    ReplyDelete
  21. Amazingly written as if coming from the as deep as ocean...
    WOW!!!

    ReplyDelete
  22. ऐसी लाइने आज़ाद रूह ही रखने वाली लिखने की हिम्मत
    कर सकती है अनु जी...
    बधाई !

    ReplyDelete
  23. संजीदा प्रेम की पेंचिंदगी , बढ़िया है.

    ReplyDelete
  24. क्या खूबसूरत रचना लिखी... बधाई !!

    ReplyDelete
  25. रूह की लिखी ... रूह ने महसूस की...
    बहुत सुंदर रचना अनु!
    <3

    ReplyDelete
  26. बहुत उम्दा,रूहानी प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  27. प्रेम बंधने को विवश तो कर सकता है पर रुकने को नहीं
    बेहतरीन
    साभार

    ReplyDelete
  28. जहां प्रेम न हो वहाँ रूह ठहरती भी कैसे? बहुत सुन्दर रचना, बधाई.

    ReplyDelete
  29. बड़ियाँ भी और प्रेम का किरदार भी नहीं तो जिंदगी जी कहाँ .....?
    बस काटी न .....?

    ReplyDelete
  30. जिंदगी निरंतर आगे बढ़ते रहने का नाम है। जो थम गए तो कुछ नहीं। बढ़िया रचना ।

    ReplyDelete
  31. सच कहा है । छोटी कविता में बडे विस्तृत भाव ।

    ReplyDelete
  32. क्या बात, बहुत सुंदर
    बहुत सुंदर


    मेरी कोशिश होती है कि टीवी की दुनिया की असल तस्वीर आपके सामने रहे। मेरे ब्लाग TV स्टेशन पर जरूर पढिए।
    MEDIA : अब तो हद हो गई !
    http://tvstationlive.blogspot.in/2013/07/media.html#comment-form

    ReplyDelete
  33. ज़ाहिर है....
    रूह को आजाद होना ही चाहिए..प्रेम में भी ...प्रेम से परे भी....
    मेरा नया ब्लॉग अब ये है ...

    rahulkmukul.blogspot.com

    ReplyDelete
  34. वाह ! शानदार प्रस्तुति . एक - एक शब्द का चयन बहुत ही खूबसूरती से किया गया है .बधाई .

    मेरा ब्लॉग स्वप्निल सौंदर्य अब ई-ज़ीन के रुप में भी उपलब्ध है ..एक बार विसिट अवश्य करें और आपकी महत्वपूर्ण टिप्पणियों व सलाहों का स्वागत है .आभार !

    website : www.swapnilsaundaryaezine.hpage.com

    blog : www.swapnilsaundaryaezine.blogspot.com

    -स्वप्निल शुक्ला

    ReplyDelete
  35. बहुत ही गहरे और सुन्दर भावो को रचना में सजाया है आपने.....

    ReplyDelete
  36. the fight between mind, body and soul..
    it just goes on and on

    ReplyDelete
  37. बहुत अच्छी रचना, बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  38. ज़ाहिर है
    इस कहानी में प्रेम ने कोई किरदार नहीं निभाया !!

    एकदम - था कहाँ वह निष्ठुर प्रेम ?

    ReplyDelete
  39. एक मृग-मरीचिका, के पीछे भागते, अपने ही तर्कों के सहारे खुद को सही ठहराते....केवल बाहरी आवरण देख आकर्षित हो रहे या फिर बड़े-बड़े भारी-भरकम शब्दों के जाल में उलझकर उसी को सच मान बैठे हैं----------- कोई किसी को जबर्दस्ती तो गुलाम नहीं बना लेता और ना ही कोई ऐसा सोच भी सकता है, अगर उसकी खुशी का ख्याल था तो दिल से भी अपनाना था, अगर कोई इंसान भावुक और संवेदनशील ना हो तो, नहीं महसूस कर सकता की जीवन और उसकी सच्चाई यही नहीं जो हम जिये जा रहे हैं ... भौतिकतावादी सोच के साथ केवल अपने अहम और उसकी संतुष्टि के जीना, कभी पसंद नहीं किया मैंने, समर्पित प्रेम की परिभाषा में तो ऐसे विचार आ ही नहीं सकते जैसे कि उक्त कविता में दर्शाये गए हैं ... फिर भी किसी को पसंद हो तो कोई कुछ नहीं कर सकता है, समय .... जी हाँ समय ... समय किसी के लिए नहीं रुकता है, लोग आते हैं और जाते हैं, किसी के भी रहने और ना रहने से कोई फर्क नहीं पड़ता है, ....ये पूरा का पूरा ब्रह्मांड मेरे लिए एक सपने से ज्यादा कुछ नहीं........ कोई दुःख या रंज नहीं...मुझे अहसास है कि नश्वर है शरीर ....परमात्मा एक विशाल प्रकाश पुंज है, और आत्मा उसका बहुत ही छोटा सा अंश मात्र.... !! हरि ॐ तत्सत !!

    ReplyDelete
  40. Your comment will be visible after approval......... सच ये भी कि मेरा कमेन्ट पब्लिश हो संभावना एक परसेंट ही है !!!! जीवन कहीं भी ठहरता नहीं है ... चलते जाना ही ज़िंदगी ......... "

    ReplyDelete
  41. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  42. जीवन के कई सत्य में से एक ये भी है ....
    बहुत मार्मिक

    ReplyDelete
  43. उनके पास ताकत होती तो वो रूह भी कैद कर लेते, एक कहानी बचपन में सुनते थे। राक्षस के पास राजकुमारी है लेकिन उसकी रूह राजकुमार के पास है।

    ReplyDelete
  44. क्या बात है...बहुत उम्दा!!

    ReplyDelete
  45. बहुत सुंदर
    यहाँ भी पधारे ,

    हसरते नादानी में

    http://sagarlamhe.blogspot.in/2013/07/blog-post.html

    ReplyDelete
  46. स्मृतियों का भावपूर्ण कैनवाश
    बहुत गहन और सुंदर अनुभूति
    उत्कृष्ट प्रस्तुति-----

    सादर

    आग्रह है
    केक्ट्स में तभी तो खिलेंगे--------

    ReplyDelete
  47. कभी कभी सपना लगता है, कभी ये सब अपना लगता है ..... मैंने कभी भी पूरी तरह से काल्पनिक कुछ भी नहीं लिखा .... और ना ही ऐसा पढ़ना पसंद करता हूँ जिसमे लिखने वाले इंसान की विचारधारा और उसके स्वभाव की झलक ना दिखे .... ये आभासीय दुनियाँ है यहाँ केवल दो परसेंट इंसान ही ऐसे लोग होते हैं जो बिलकुल खुले दिल के होते हैं और अपने बारे में कुछ भी नहीं छिपाते हैं और ना ही चैटिंग को एक बुराई के रूप में लेते हैं खुले दिल के होते हैं .... मुझे भी कुछ ऐसे लोग मिले फेसबुक पर जिन्होने अपने अच्छे व्यवहार से मेरा दिल जीत लिया .... मुझे भी सुखद एहसास हुआ कि वर्चुअल दुनियाँ में भी अच्छे इंसान हैं .... "
    धन्यवाद आपका अनु जी, आपने मेरी आशंका को गलत साबित किया है, मेरे कमेंट्स प्रकाशित करके, एक बात कहें आपसे, दोस्त वही जो हमारे मन की बात और हमारी भावनाओं का ख्याल रखे, और हम उसकी भावनाओं को पूरा सम्मान दें, गलती इंसान से ना चाहते हुए भी हो जाती है, और ये कोई अपराध भी नहीं है, अगर हमसे कोई गलती किसी के प्रति होती है तो हम कभी नहीं हिचकते अपनी गलती स्वीकार कर लेते हैं.... जय श्री कृष्ण !!!!!
    शुभ-रात्रि !!!!!!

    ReplyDelete
  48. बहुत ही सुन्दर रचना, शानदार प्रस्तुति!
    स्नील शेखर

    ReplyDelete
  49. बहुत सुंदर !
    ़़़़़़

    वैसे भी आदमी तो सम्भलता नहीं रूह को कौन संभाले बबाल अपने लिये मोल लेना भी नहीं चाहिये (अन्यथा ना लिया जाय अपने लिये ये है क्योंकि अपनी कैमिस्ट्री ऎसी ही है :)

    ReplyDelete
  50. अनु , गुरु पूर्णिमा की शुभ-कामनाएँ आपको ... जो अब के सतगुरु मिले, सब दुःख आँखों रोये | चरणों ऊपर सिस धर, कहो जो कहना होए ||

    ReplyDelete
  51. अनु जी ... शुभ-संध्या !!!!!! अब हम आपकी पिछली सभी रचनाओं को एक-एक करके पढ़ेंगे, जब भी समय मिलेगा और आपकी लिखी हर पंक्ति की आलोचना और समालोचना, लिखेंगे, आपने मेरा हौसला बढ़ाया है, मेरे कमेंट्स पब्लिश करके .... जय श्री कृष्ण !!!!!

    ReplyDelete
  52. बहुत सुंदर,

    यहाँ भी पधारे
    गुरु को समर्पित
    http://shoryamalik.blogspot.in/2013/07/blog-post_22.html

    ReplyDelete
  53. बढिय प्रस्तुति.अनु ..सुंदर अनुभूतिसुंदर अनुभूति.

    ReplyDelete
  54. बेड़ियों मे बेशक
    छूट रहा वक्त शुभ-कामनाएँ लिए.

    ReplyDelete
  55. प्रेम का कोई किरदार नहीं था ... ये प्रेम ही प्रेम था हर जगह ...
    या शायद किसी एक जगह तो था ही ...

    ReplyDelete
  56. bhavon ki aviral bahati hui saras salil dhara si anubhuti......atyant sunder avam nischal....

    ReplyDelete
  57. बेहतरीन अभिव्यक्ति...हमेशा की तरह

    ReplyDelete
  58. kai jindgi kat li jati hai prem ke bina .....katu satya .....sidhe shabdon men ...

    ReplyDelete
  59. देह जकडी लेकिन रूह आजाद ......
    कितनी स्त्रियां कर पाती हैं ये ।

    ReplyDelete
  60. mere shabdon se pare hai iski tarif karna .....chhu gaye shabd dil ko

    ReplyDelete
  61. बहुत अच्छी रचना!

    ReplyDelete
  62. बार बार पड़ने को मन कर रहा है इसे ...

    ReplyDelete
  63. Bohot pasand aayi mujhe aapki kavitaye ma'am :)

    http://simplysaid22.blogspot.in/

    ReplyDelete
  64. स्त्री का समर्पण
    पुरूष की उदासीनता
    सम्बन्धों में प्रेम का अभाव
    बहुत बढि़या प्रस्तुति

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

प्रेमपत्र

मेरी लिखी कहानी "स्नेहा" - 92.7 big fm पर नीलेश मिश्रा की जादुई आवाज़ में................

दैनिक जागरण के राष्ट्रीय संस्करण में मेरी किताब "इश्क तुम्हें हो जाएगा " की समीक्षा...............