उदासी

उदासियाँ घर कर लेती हैं मन के कोनों में बिना शोर शराबे के..
उदासियों की आमद होती है बड़े चुपके से,क्यूंकि इनके पैरों की आहट नहीं होती.
उदासियाँ अपने पैरों पर चिपका लेती हैं मोहब्बत के पंख,मोहब्बत के मर जाने के बाद.....
अपने नर्म पंजों के भीतर छिपाए रखती हैं कई दंश,ये उदासियाँ.....
उदासियों को आदत होती है बिन बुलाये आने की और अनाधिकृत कब्ज़ा जमाने की.....एक बार आने के बाद ये पैर पसारती हैं और फैल जाती हैं हर जगह...दीवारों पर टंगी सुन्दर तस्वीरों में,बारिश की बूंदों में,बिस्तर की सलवटों पर,संगीत की धुनों पर और डायरियों के पन्नों पर भी....
उदासी छा जाती है आसमान पर कुहासा बन कर....चेहरे पर झुर्रियाँ बन कर....रिश्तों की दरारों में भर जाती हैं उदासियाँ......
तन्हाई और उदासियों में बड़ी यारियां हैं...
उदासियाँ बात नहीं करतीं.....उदासियाँ अपने साथ लाती हैं खामोशियाँ !!!

उदासियाँ बन जाती हैं , कुछ न लिख पाने की वजह और कभी अनवरत लिखते जाने की...................
~अनु ~

Comments

  1. Kabhi kabhi udaasi itni khaas hoti hai ki dil ke paas hoti hai

    ReplyDelete
  2. उदासियाँ बन जाती हैं , कुछ न लिख पाने की वजह और कभी अनवरत लिखते जाने की......
    this last line was just awesome...
    regards
    aparna

    ReplyDelete
    Replies
    1. बेहद सुन्दर प्रस्तुति ....!
      आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा कल बुधवार (26-06-2013) के धरा की तड़प ..... कितना सहूँ मै .....! खुदा जाने ....!१२८८ ....! चर्चा मंच अंक-1288 पर भी होगी!
      सादर...!
      शशि पुरवार

      Delete
  3. हां, अक्सर उदासियां ऐसा ही करती हैं. इन उदासियों में कई कालजयी रचनाएं भी लिखी गई हैं. पर इन्हें अपने ऊपर हावी नही होने देना चाहिये. उदासियों पर हम हावी हो जायें तो ये कभी पलट कर भी नही देखती हमारी तरफ़.

    बहुत ही सुंदर रचना, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  4. उदासी तो एक दलदल सी होती है :(

    ReplyDelete
  5. आपने लिखा....
    हमने पढ़ा....
    और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए शनिवार 22/06/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    पर लिंक की जाएगी.
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया यशोदा.

      Delete
  6. udasiya baat nahi karti khamoshiya lati hai............kya baat hai..........

    ReplyDelete
  7. हाँ उदासियाँ बन जाती हैं वजह कुछ न कुछ लिखते जाने की.

    ReplyDelete
  8. उदासी से बेहतरीन नशा मात्र जिंदगी ही हो सकती है

    ReplyDelete
  9. ऊ दासियां ? कौन सी दासियाँ ? :-) बाहर कीजिये सभी को !

    ReplyDelete
  10. उदासी छा जाती है आसमान पर कुहासा बन कर....चेहरे पर झुर्रियाँ बन कर....रिश्तों की दरारों में भर जाती हैं उदासियाँ......
    तन्हाई और उदासियों में बड़ी यारियां हैं...sach kaha ik sikke ke do pahloo ....

    ReplyDelete
  11. उदासी भी जरूरी है कभी कभी... धुप के साथ छांव कभी कभी ज्यों जरूरी होती है .. उदासी लिखने की वजह भी बन जाती है.

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा कल शुक्रवार (21-06-2013) के "उसकी बात वह ही जाने" (शुक्रवारीय चर्चा मंचःअंक-1282) पर भी होगी!
    --
    रविकर जी अभी व्यस्त हैं, इसलिए शुक्रवार की चर्चा मैंने ही लगाई है।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया शास्त्री जी...

      Delete
  13. सच में ...जीवन से कितना जुड़ी सी रहती हैं उदासियाँ

    ReplyDelete
  14. उदासियों का सकारात्मक उपयोग है यह रचना
    बहुत बढ़िया उकेरा है अनु,

    ReplyDelete
  15. उदासी वज़ह बन जाती है कुछ न लिखने और बहुत कुछ लिखने की... गहरे भाव.

    ReplyDelete
  16. उदासी में कभी कभी बहुत कुछ लिखा जाता है और कभी कभी कुछ भी नहीं ॥बस निष्क्रिय से हो कर रह जाते हैं ...

    ReplyDelete
  17. उदासियाँ बन जाती हैं , कुछ न लिख पाने की वजह और कभी अनवरत लिखते जाने की...................

    हर लेखक के मन का सत्य ....!!

    ReplyDelete
  18. Wow.. loved it

    pain and enigma just have a way of shaking us up..
    leave us confused, vulnerable but mature at times.

    ReplyDelete
  19. उदासियाँ बन जाती हैं , कुछ न लिख पाने की वजह और कभी अनवरत लिखते जाने की................सटीक अभिव्यक्ति, शुभकामनाये

    ReplyDelete
  20. उदासियाँ बन जाती हैं , कुछ न लिख पाने की वजह और कभी अनवरत लिखते जाने की..................

    ....बिल्कुल सच....बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  21. हंसमुख चेहरे से उदासियाँ भी डरती हैं।
    इसलिए सदा मुस्कराता हूँ मैं।

    बहुत सुन्दर रचना।

    ReplyDelete
  22. उदासियाँ अपने साथ लाती हैं खामोशियाँ...
    सुन्दर सच..

    ReplyDelete
  23. उदासियाँ बात नहीं करतीं.....उदासियाँ अपने साथ लाती हैं खामोशियाँ !!!--
    यही होता है सबके साथ

    latest post परिणय की ४0 वीं वर्षगाँठ !

    ReplyDelete
  24. "तन्हाई और उदासियों में बड़ी यारियां हैं...
    उदासियाँ बात नहीं करतीं.....उदासियाँ अपने साथ लाती हैं खामोशियाँ !!!
    उदासियाँ बन जाती हैं , कुछ न लिख पाने की वजह और कभी अनवरत लिखते जाने की..."
    सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  25. अपने नर्म पंजों के भीतर छिपाए रखती हैं कई दंश,ये उदासियाँ.....

    ReplyDelete
  26. सच...कभी कभी उदासियाँ बहुत अपनी सी लगती हैं...एक बहुत करीबी दोस्त सी ....जो दुखों को बाँट लेती है...

    ReplyDelete
  27. उदास मन या तो बिलकुल रिक्त होता है या फिर पूरी तरह भरा ....
    साभार !

    ReplyDelete
  28. बढ़िया कहा है..

    ReplyDelete
  29. उदासियों को आदत होती है
    बिन बुलाये आने की
    अनाधिकृत कब्ज़ा जमाने की

    Bahut Badiya Likha aapne

    ReplyDelete
  30. इस उदासी ने कितनों को खामोश कर दिया है सदा सदा के लिये.

    अत्यंत मार्मिक.

    ReplyDelete
  31. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  32. उदासियां ! आह

    सारी उदासियों के बीच एक ख़ुशी की खबर .........आब आपका प्रोज़ कविता हो गया है . मैं इस तरल,बहती भाषा से अभी एक तन्द्रा में हूँ .बधाई !

    ReplyDelete
  33. उदासी पर लिखी गई यह बिल्कुल नई तरह की रचना है । सुन्दर प्रयोगों के साथ ।

    ReplyDelete
  34. बहुत गहन और सुन्दर रचना.बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  35. उदासियां बने सबब अनवरत लिखते जाने की ताकि ये तबदील हों खुशियों में ।
    बेहद सुंदर लिखा है अनु जी ।

    ReplyDelete
  36. उदासियाँ लिखती भी है कभी तो कभी चुप रह जाती हैं !

    ReplyDelete
  37. कहीं गहराई में उतार देती हैं उदासियाँ !

    ReplyDelete
  38. ye udaasi har baat ki wajah ban sakti hai :)

    ReplyDelete
  39. उदासियाँ घेर लेती हैं मन को तो जाती नहीं आसानी से ....
    ले जाती हैं अंदां दिशा में कभी न लौटने के लिए ...

    ReplyDelete
  40. एकदम गहराई में पहुंचा दिया इन उदासियों ने..
    बेहद गहन भाव लिए रचना...

    ReplyDelete
  41. उदासियाँ छंट जाएँ ..
    मंगलकामनाएं !

    ReplyDelete
  42. बिल्कुल सही कहा. यह उदासी बड़ी अजीब चीज़ है

    ReplyDelete
  43. बेहद सुंदर लिखा है

    ReplyDelete
  44. udasi ko bahut achhe se decribe kar diya di aapne ..udasi apne sath laati hain khamoshiyaan kitna sach hai ..aur wo rishto ki dararo mei bhar jati hain udasiyan i love ths expression ...kash ..mai bhi aap ki tarah soch pau kisi roj..love :-)

    मेरी नयी रचना Os ki boond: लव लैटर ...

    ReplyDelete
  45. कितना सही कहा है आपने -- "उदासियाँ बन जाती हैं , कुछ न लिख पाने की वजह और कभी अनवरत लिखते जाने की...."

    ReplyDelete
  46. उदासी मन और दिल को शून्य कर देती है
    पर कभी कभी सृजन की तरफ प्रेरित भी करती है
    बहुत नये संदर्भ की रचना
    बहुत खूब
    सादर


    जीवन बचा हुआ है अभी---------

    ReplyDelete
  47. बहुत सुंदर....
    कभी कभी प्यार का एक हिस्सा लगती है उदासियाँ....

    ReplyDelete
  48. उदासियाँ बन जाती हैं , कुछ न लिख पाने की वजह और कभी अनवरत लिखते जाने की.
    ये अंत की पंक्तियाँ भा गयीं। बिलकुल येही भावनाएं बह रही थीं कई रोज़ से ..

    ReplyDelete
  49. 'उदासियाँ बन जाती हैं , कुछ न लिख पाने की वजह और कभी अनवरत लिखते जाने की................... '

    अनुभूत सत्य!

    ReplyDelete
  50. गज़ब ...:) एकदम सटीक बात कह दी.

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

प्रेमपत्र

मेरी लिखी कहानी "स्नेहा" - 92.7 big fm पर नीलेश मिश्रा की जादुई आवाज़ में................

दैनिक जागरण के राष्ट्रीय संस्करण में मेरी किताब "इश्क तुम्हें हो जाएगा " की समीक्षा...............