प्रेम/तलाश/अँधेरा



मैंने बोया था उस रोज़
कुछ,
बहुत गहरे, मिट्टी में
तुम्हारे प्रेम का बीज समझ कर.
और सींचा था अपने प्रेम से
जतन से पाला था.
देखो !
उग आयी है एक नागफनी...

कहो!तुम्हें कुछ कहना है क्या??

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~``


परेशां हूँ
जाने कहाँ खो सी गयी हूँ...
खोजती हूँ खुद को
यहाँ/वहां/खुद में/तुम में
हैरां हूँ..
तुम्हारे भीतर भी नहीं हूँ?
रात तुम्हारी नींद को भी टटोला....
नहीं !!!
तुम्हारे ख़्वाबों में भी नहीं

आखिर कहाँ गुम हुई मैं, तुम्हें पाने के बाद...
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

अंधेरे को मैंने
कस कर लपेट लिया
आगोश में
भींच लिया सीने से इस कदर
कि उसकी सूरत दिखलाई न पड़े.
पीछे खडी
कसमसाई सी रौशनी
तकती थी मुझे

अँधेरे से जल गयी लगती है रोशनी !!
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
अनु

Comments

  1. आखिर कहाँ गुम हुई मैं ......
    ----------------------------
    प्रेम की तलाश में ...जहाँ अँधेरा है ...
    बहुत ही खुबसूरत ....

    ReplyDelete
  2. Replies
    1. bahut khoob anu ji , itne dino se blog ko miss kiya , yah net bebafa koi site hi open nahi kar raha tha , sukun mila dil ko padh kar aaj blog a, sundar abhivu=yakti

      Delete
  3. कभी कभी प्रेम में फूल के बदले नागफनी भी मिलते है,बहुत ही सुन्दर और भावपूर्ण प्रस्तुति,आभार.

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर रचना है
    क्या कहने

    ReplyDelete
  5. अँधेरे से जल गयी लगती है रोशनी !!
    बहुत खूब
    सादर

    ReplyDelete
  6. आखिर कहाँ गुम हुई मैं, तुम्हें पाने के बाद...

    यही जबाब तो नहीं मिलता....सुन्दर क्षणिकाएं

    ReplyDelete
  7. प्रेम में अक्सर महसूस होते हैं नागफनी जैसे दंश लेकिन न भूलो कि नागफनी पर भी फूल खिलते हैं .....जब पा ही लिया है उसको तो कहाँ रहा तुम्हारा खुद का वजूद ? खोना तो था ही .... और जलन न हो यह तो हो नहीं सकता .... अंधेरे को इतना करीब लाओगी तो रोशनी जल ही तो उठेगी :):) बहुत गहरे एहसास ...

    ReplyDelete
  8. बहुत खूबसूरत अनु... दिल को छू गयी.....
    <3

    ReplyDelete
  9. itni khoobsurat panktiyan....! vakai bahut sundar hain, khaaskar dusra bhaag, gazab....hai, man kar raha hai inhe bhej dun unhe, jinhe paane k baad kho gayi mai bhi jane kahan??????????

    ReplyDelete
  10. pichhla comment delete ho gaya shayad, fir se usi baat ko dusre shabdon me likh rahi hun, ki aap ki kavitaon me apni bhavnaon ka aksha dikhayi de raha hai..............!!

    ReplyDelete
  11. mujhe to teeni bhi bahut bahut sundar lagi yah rachnaaye ..kalpna hi kmaal ki hai ..bahut badhiya abhiwyakti

    ReplyDelete
  12. यहाँ/वहां/खुद में/तुम में
    हैरां हूँ..
    तुम्हारे भीतर भी नहीं हूँ?
    jb khud men nahi to kahin nahin .....very touching

    ReplyDelete
  13. तुझे पा कर खुद को खोना...
    बस यही तो
    सुन्दर .

    ReplyDelete
  14. सुन्दर और भावपूर्ण प्रस्तुति

    ReplyDelete
  15. अँधेरे से जल गयी लगती है रोशनी !!

    esa likhana har ek ki bas ki baat nhi hoti.
    mere man me aapki badi ijjat hain ..jab bhi mouka milta hai aapka blog padhane baith jata hun .. bas bada achcha lagta hain.

    salute to you.


    पधारिये :  किसान और सियासत

    ReplyDelete
  16. काँटों में भी फूल खिलते हैं... तीनो क्षणिकाएं बहुत सुन्दर हैं...

    ReplyDelete
  17. बहुत सुन्दर क्षणिकाएं।
    अहसासों की सुन्दर अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  18. वाह अनु जी- !!! पहली रचना में मस्ती/तेवर/शिकायत है.....दूसरी में दहशत.....और तीसरी-में मेजिक रियालिज़म.... क्या बात है...!!!

    ReplyDelete
  19. तीनो क्षणिकाएं बहुत सुन्दर हैं...
    :-)

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    इंजीनियर प्रदीप कुमार साहनी अभी कुछ दिनों के लिए व्यस्त है। इसलिए आज मेरी पसंद के लिंकों में आपका लिंक भी चर्चा मंच पर सम्मिलित किया जा रहा है और आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार (03-04-2013) के “शून्य में संसार है” (चर्चा मंच-1203) पर भी होगी!
    सूचनार्थ...सादर..!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बहुत बहुत शुक्रिया शास्त्री जी.

      Delete
  21. It has a lot of depth, beautiful writing.

    ReplyDelete
  22. अँधेरे में प्रेम की तलाश ....कैसे कोई करेगा एक रौशन दिन में भी . बेहद पसंद आई मोगेम्बो को यह कविता ! बधाई अनु जी !

    ReplyDelete
  23. अँधेरे से जल गयी लगती है रोशनी..
    wow just beautiful expressions..
    all three themes were beautiful n well crafted..

    awesome read !!

    ReplyDelete
  24. बहुत गहरी उड़ान भरती हैं आप....
    शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  25. गहन अनुभूति से उपजी बहुत ही प्यारी कवितायें !

    ReplyDelete
  26. गहन अनुभूति से उपजी बहुत ही प्यारी कवितायें !

    ReplyDelete
  27. Beautiful....awsm wrd play :)

    ReplyDelete
  28. उत्कृष्ट रचना ......क्या कहें । परन्तु अब आप अपने भीतर से बाहर निकालिए और हलके मन से रचना कीजिये । भारी मन को अब तिलांजलि दीजिये ।

    ReplyDelete
  29. देखो !
    उग आयी है एक नागफनी...

    कहो!तुम्हें कुछ कहना है क्या??

    तीनों रचनाएँ बहुत सुन्दर हैं....
    मुझे कुछ कहना ही नहीं है....
    आपके भाव खुद कुछ कह रहे हैं...!!

    ReplyDelete
  30. गहन भावों की अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  31. behad sanvedn sheel aur antr ke bhavon ki abhivuakti ki hai.
    par sonch sakaratmk rkkhen.

    saabhaar

    ReplyDelete
  32. ''Khud ko khokar hi hum shayad kisi khas ke karib ja paate hain''
    Gahre bhao lie hue,sundar rachna...

    Sadar.

    ReplyDelete
  33. very nice di, but i can't express my thoughts like u so nice means the best

    ReplyDelete
  34. तुम्हारे भीतर भी नहीं हूँ?
    रात तुम्हारी नींद को भी टटोला....
    नहीं !!!
    तुम्हारे ख़्वाबों में भी नहीं

    आखिर कहाँ गुम हुई मैं, तुम्हें पाने के बाद...

    bilkul yatharth .....ajkal ke prem me yhi ho rha hai .....marmik rachana ke liye koti koti badhai anu ji .

    ReplyDelete
  35. वाह...रौशनी को जलाने के लिए हौसला होना चाहिए...बहुत सुंदर लिखा|
    सस्नेह

    ReplyDelete
  36. बहुत खूब ... निःशब्द ...
    कभी कभी बस पढ़ा ही जाता है बार बार ... लगता है कितना सही है ...

    ReplyDelete
  37. देखो !
    उग आयी है एक नागफनी...

    कहो!तुम्हें कुछ कहना है क्या??
    :):)
    kitna behtareen likhte ho aap :)

    ReplyDelete
  38. आखिर कहाँ गुम हुई मैं, तुम्हें पाने के बाद...
    .
    .bahut bahut dil ko chhu jane wali lines...

    ReplyDelete
  39. किसी में विलीन हो गए तो फिर वजूद कहाँ... दोनों एक... सपनों में भी अलग नहीं... बहुत भावपूर्ण रचनाएं, बधाई.

    ReplyDelete
  40. बेहतरीन अभिव्यक्तियाँ अनु दी .. तीनो ही - प्रेम, तलाश और अँधेरा ..
    सादर शुभकामनाएं,
    मधुरेश

    ReplyDelete
  41. बेहद खूबसूरत रचनाएं। अंधेरे से जल गई रोशनी, बहुत पसंद आया ये बिंब ।

    ReplyDelete
  42. बहुत सुन्दर कविताएं।

    ReplyDelete
  43. परेशां हूँ
    जाने कहाँ खो सी गयी हूँ...
    खोजती हूँ खुद को
    यहाँ/वहां/खुद में/तुम में
    हैरां हूँ..
    तुम्हारे भीतर भी नहीं हूँ?
    रात तुम्हारी नींद को भी टटोला....
    नहीं !!!
    तुम्हारे ख़्वाबों में भी नहीं

    आखिर कहाँ गुम हुई मैं, तुम्हें पाने के बाद...

    शायद नागफनी में .....:))

    ReplyDelete
  44. पाने के बाद खोने की अच्छी कही !
    बहुत बढ़िया !

    ReplyDelete
  45. क्या लिखते हो आप अनु..सीधा दिल में उतर जाता है ... और निशब्द कर जाता है ..लाजवाब्!

    ReplyDelete
  46. देखो !
    उग आयी है एक नागफनी...

    कहो!तुम्हें कुछ कहना है क्या??
    WAAAH !!!!!!!!!!!!!!!

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

प्रेमपत्र

मेरी लिखी कहानी "स्नेहा" - 92.7 big fm पर नीलेश मिश्रा की जादुई आवाज़ में................

दैनिक जागरण के राष्ट्रीय संस्करण में मेरी किताब "इश्क तुम्हें हो जाएगा " की समीक्षा...............