इन्होने पढ़ा है मेरा जीवन...सो अब उसका हिस्सा हैं........

Sunday, March 17, 2013

डायरी का एक और सीला पन्ना....

सफ़र में होंगे कांटें भी
इस बात से बेखबर न थे
मगर
खबर न थी
के चुभेंगे इस कदर
कि तय न हो सकेंगी
ये लम्बी दूरियां कभी.....

(या कौन जाने ,कोई चुनता रहा हो कांटे मेरी राह के अब तक.... पैरों तले मखमली एहसास  यूँ ही तो नहीं था अब तक.......
यकायक मंजिल दूर चली गयी हो जैसे....)




अनु

38 comments:

  1. पैरों तले मखमली एहसास ................. आभार मित्रवर..... धन्यवाद

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर अहसास...अनु

    ReplyDelete
  3. स्नेह जो अब तलक अतिरिक्त था,
    न रहा अब और सब रिक्त कर गया ।

    यही प्रकृति है ।

    ReplyDelete
  4. जैसे दो छोटी कवितायेँ , एक '()' के अंदर और दूसरी बाहर |
    सुन्दर

    सादर

    ReplyDelete
  5. वाह! बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  6. हकीक़त से रु ब रु होने के नाते .... मुझे ये रचना एक बेटी के जज्बात लगे ....
    पिता से विछुड़ने की अभिव्यक्ति दिल को छू रही है ....
    शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  7. वो भी एक एहसास, ये भी एक एहसास -अंतर समय का बता दिया एहसासों का अंतर -आभार
    latest postऋण उतार!

    ReplyDelete
  8. यकायक मंजिल दूर चली गयी हो जैसे..
    ---------------
    समझ सकता हूँ ....

    ReplyDelete
  9. जी सफर में काटें तो मिलते ही है,सुन्दर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  10. दोनों ही बातें एक दूसरे की पूरक हैं. शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  11. शब्दों का इतना सुन्दर शिल्प आपकी कलात्मकता का परिचय देता आप को जब भी पड़ती हूँ हमेशा ही ये दीखता है बधाई की पात्र हैं

    ReplyDelete
  12. मखमली अहसास
    देता है , अपनों का साथ।

    दिल के सच्चे उदगार।

    ReplyDelete
  13. सहजता से कही गयी मन की अनुभूति
    बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  14. आज की ब्लॉग बुलेटिन ताकि आपको याद रहे - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  15. sometimes things doesn't turn out the way we think..
    u beautifully expressed that thought

    ReplyDelete
  16. एकदम सटीक और सार्थक प्रस्तुति आभार

    बहुत सुद्नर आभार अपने अपने अंतर मन भाव को शब्दों में ढाल दिया
    आज की मेरी नई रचना आपके विचारो के इंतजार में
    एक शाम तो उधार दो

    आप भी मेरे ब्लाग का अनुसरण करे

    ReplyDelete
  17. ~वो मखमली एहसास ना भूलेगा कभी....
    जब-जब चुभेंगे काँटे.. याद आयेगा..और भी...~
    तुम्हारे दुख का बहुत दुख है... अनु!
    <3

    ReplyDelete
  18. aapki lekhni me dusron ko mahsoos karaa dene ki kshamta hai.......!!!

    ReplyDelete
  19. बहुत खूब!
    इस यथार्थ एवं भावपूर्ण रचना के लिए सादर बधाई।

    ReplyDelete
  20. कौन तय कर सका है ये लम्बी दूरियां अनु जी... उनका आशीर्वाद और प्यार हमेशा आपके साथ रहेगा... शुभकामनायें

    ReplyDelete
  21. Shayad Khud ko samjhaane bhar ka tarika ho sakta hai ye pr zindagi ki yahi sachhayi hai...

    Namskar :)

    ReplyDelete
  22. बहुत उम्दा. दो भिन्न भाव में बहुत सहजता से घुमाव लेती हुई रचना.

    ReplyDelete
  23. यही यथार्थ है और इसी के साथ जीना होता है...

    ReplyDelete
  24. इस बात से बेखबर न थे
    मगर
    खबर न थी
    के चुभेंगे इस कदर
    सच ... मन को छूते शब्‍द

    ReplyDelete
  25. काँटों के साथ जीवा पड़ता है ... हर समय तो कोई नहीं रहता कांटे दूर करने को ...
    गहरा एहसास लिए ...

    ReplyDelete
  26. ऊपर की पंक्तियों का उत्तर स्वयं आपने ही दे दिया है
    वो भी बड़ी खूबसूरती से ...बहुत सुन्दर ..

    ReplyDelete
  27. sundar eahsaas anu ji pahale ki bhi post padhi acchi lagi sabhi ke liye badhai

    ReplyDelete
  28. बहुत गहरी अभिव्यक्ति ...

    ReplyDelete
  29. हर सफर का फ़साना है .... बहुत खूब अनु!

    ReplyDelete

नए पुराने मौसम

मौसम अपने संक्रमण काल में है|धीरे धीरे बादलों में पानी जमा हो रहा है पर बरसने को तैयार नहीं...शायद उनकी आसमान से यारी छूट नहीं रही ! मोह...