इन्होने पढ़ा है मेरा जीवन...सो अब उसका हिस्सा हैं........

Thursday, March 21, 2013

लोरी

ये मेरी डायरी का वो पन्ना है जिसे मैं शायद फिर कभी न पढना चाहूँ.....दिल बेशक गुनगुनाता रहेगा !!!
(कविता दिवस पर -कुछ पंक्तियाँ उन्हें समर्पित जिन्होंने उँगलियाँ पकड़ कर लिखना सिखाया ...)

बचपन से सुनती आयी थी
वो अटपटी सी कविता
न अर्थ जानती थी
न सुर समझती....
कविता थी या गीत ???
मचलती आवाज़ से लेकर
खरखराती ,कांपती आवाज़ तक
जाने कितनी बार सुना
लफ्ज़ रटे हुए थे...
जब जब कहती
तब तब वो बेहिचक सुनाने लगते
और मैं खूब हंसती...
बस अपने बाबा की बच्ची बन जाती....

बरसों बाद...
उस रोज़
उस जीर्ण काया के सिरहाने खडी
अचानक वही गीत गाने लगी..
अनायास ही
लगा कि वो मुस्कुराए...
कस के हाथ थामे खडी गुनगुनाती रही....
अटपटे बेमानी से शब्द,
जो सुना था वही दुहराती रही....

वही मुस्कान चेहरे पर लिए
पिता के दिल ने
आख़री बार हरकत की
और फिर शान्ति...
मानो गहरी नींद में चले गए हों...

एक कौतुहल जागा मन में...
और जाने पहले ये ख़याल क्यूँ नहीं आया था ...
खोजबीन की तो पता लगा 
वो अटपटा गीत,जिसके अर्थ से अनजान थी
वो एक लोरी थी.....जो गुनगुनाया करते थे पापा.....

और जब मैंने गुनगुनाया तो वे सचमुच सो गए
शायद सुख सपनों में कहीं खो गए.

अनु 
ये मेरी पापा के साथ आख़री तस्वीर है....उनके जन्मदिन की.उनके जाने के बस  17 दिन पहले.
जिस गीत का ज़िक्र किया है मैंने वो एक लोरी है जो मलयालम में पापा गाया करते थे.....उनके जाने के बाद गूगल पर देखा तो जाना कि वो एक लोरी है जिसे केरल के राजा "स्वाति थिरूनल" को सुलाने के लिए गाया जाता था .इसको प्रसिद्द कवि "इरवि वर्मन थम्पी" 1783-1856 A.D. ने लिखा था....एक और संयोग है कि पापा भी स्वाति नक्षत्र में जन्में थे....और हमारे लिए किसी राजा से कम न थे.
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~







56 comments:

  1. बहुत भावपूर्ण रचना ..रचना कहना गलत होगा शायद बीएस ये प्रेम है आपका अपने पिता के लिए जो शब्द बनकर पन्नो पे उभर आया है ...एक रिश्ता जो कभी ख़तम नहीं हो सकता ..मेरे पास कोई शब्द नहीं है इस रचना के लिए ....
    भावभीनी श्रद्धांजलि ...

    ReplyDelete
  2. ये जो लोरियां होती हैं न
    ये ऐसे ही घूमती हैं विराट में
    कभी सोती नहीं हैं ये
    बस सुलाती हैं
    बिटियों को छोटी छोटी और
    पिताओं को लम्बी नींद

    I wish you recall of all sweet memories of your dad !!

    ReplyDelete
  3. तब तब वो बेहिचक सुनाने लगते
    और मैं खूब हंसती...
    बस अपने बाबा की बच्ची बन जाती....
    --------------------------------------
    अपने बाबा की सोन चिरैया ....

    ReplyDelete
  4. padh kar aankhe nam ho gayi ...yahi kuch baaten hai jo dil kabhi bhul nahi paata hai ..mujhe bhi apni maa ki gaayi lori ke rup mein bacchan ji ki kavita jo beet gayi so baat gayi ..kaanon mein ab bhi unki awaz mein gunj jati hai ...

    ReplyDelete
  5. smritio ke zarokhe se jhankta bachpan aur yade

    ReplyDelete
  6. पिताजी को नमन....हमेशा यादों में रहेंगे ।

    ReplyDelete
  7. सचमुच अनु जी कुछ अनमोल क्षण अविस्मरणीय होते हैं और हर क्षण एक कसक के रूप में हमारे साथ ही रहते हैं...
    आपके हृदयस्पर्शी शब्दों ने भावुक कर दिया।
    शुभकामनाएं
    सादर

    ReplyDelete
  8. पिता का साथ छूट जाना बहुत अखरता है, जैसे जीवन थम सा गया हो, लेकिन उनकी यादें और बातें सदा जेहन में रची बसी रहती है, बहुत मार्मिक और भाव पूर्ण रचना.

    रामराम.

    ReplyDelete
  9. पिता का साथ छूट जाना बहुत अखरता है, जैसे जीवन थम सा गया हो, लेकिन उनकी यादें और बातें सदा जेहन में रची बसी रहती है, बहुत मार्मिक और भाव पूर्ण रचना.

    रामराम.

    ReplyDelete
  10. अश्रुपूरित श्रद्धांजलि
    बस अब उनकी ये यादें ही सहारा हैं ,जो दिल को सुकून देंगी

    ReplyDelete
  11. पता नहीं क्यों पर पापा के जाने के बाद उनके बोल हर क्षणांश में समा कर हमको शांत करते से लगते हैं ....... सस्नेह !

    ReplyDelete
  12. भावभीनी श्रद्धांजलि,,,बस उनकी यादें ही सहारा रह गई,,,

    RecentPOST: रंगों के दोहे ,

    ReplyDelete
  13. पिताजी को नमन और भावभीनी श्रद्धांजलि ....
    एक एक पंक्ति सिहरन पैदा करती है ....
    सिसकी रुकती नहीं ....
    शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  14. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति,पिताजी को भावभीनी श्रद्धांजलि.
    "स्वस्थ जीवन पर-त्वचा की देखभाल"

    ReplyDelete
  15. लोरी - जीवनयात्रा का प्रथम संगीत, जो आजीवन मन-हृदय में गूंजता रहता है।
    पिताजी को भावपूर्ण श्रद्धांजलि !

    ReplyDelete
  16. di aaj fir apne rula diya apne shabdo say......aur kuch likhne ki himmat nahi ho rahi....janti hu kaisa feel hota hai....shardangli

    ReplyDelete
  17. भावभीनी श्रद्धांजलि पिताजी को!!

    बहुत सुन्दर ...
    पधारें "चाँद से करती हूँ बातें "

    ReplyDelete
  18. इन लोरी की यादों को हमेशा संजोय रखना ....
    ये पापा का आशीर्वाद है ...
    खुश रहिये !

    ReplyDelete
  19. निर्वाण से पहले लोरी , भाग्यवान ही सुन पाते होगे. महाप्राण को मेरी पुष्पांजलि .

    ReplyDelete
  20. आखिरी लम्हात की जो तस्वीर आपने खींची है कुछ ऐसी ही तस्वीर से मैं भी गुजरी थी कभी जो आज भी यादों में ज़िन्दा है । और कुछ नही कह सकती ………भावभीनी श्रद्धांजलि

    ReplyDelete
  21. बस यादें ही रह जाती हैं।
    कभी दिल दुखाती हैं , कभी दिल बहलाती हैं।

    ReplyDelete
  22. अनु उम्र के जिस पड़ाव पर हम हैं ..वहां से अपने बुजुर्गों को बस जाता हुआ ही देखना है ..काश उन्हें रोकना हमारे बस में होता ......कोरों पर आकर रुक गयी तुम्हारी रचना

    ReplyDelete
  23. हृदयस्पर्शी शब्द... भाग्यशाली हैं आप अंतिम समय उनका सानिंध्य पा सके...जाने वाले कभी नहीं आते लेकिन हमारी यादों में जीते हैं सदा के लिए...

    ReplyDelete
  24. निशब्द हूँ ....
    भावभीनी श्रद्धांजलि ...!!

    ReplyDelete
  25. very nice..kudos
    plz .visit :
    http://swapnilsaundarya.blogspot.in/2013/03/blog-post_21.html

    ReplyDelete
  26. आज टहलते-टहलते आपके ब्लॉग पर आना हुआ ...आपके पिताजी को मेरी श्रधांजली आर्पित है ......
    उनको याद करके आपने जो भी लिखा हृदय को छू गया ....पिता से संतान का सम्बन्ध ही कुछ ऐसा है ...मन को भावुक होने से कौन रोक सकता .....
    शुभ-कामनायें

    ReplyDelete
  27. आज टहलते-टहलते आपके ब्लॉग पर आना हुआ ...आपके पिताजी को मेरी श्रधांजली आर्पित है ......
    उनको याद करके आपने जो भी लिखा हृदय को छू गया ....पिता से संतान का सम्बन्ध ही कुछ ऐसा है ...मन को भावुक होने से कौन रोक सकता .....
    शुभ-कामनायें

    ReplyDelete
  28. मन को अभिभूत करने वाली पोस्ट |माँ और पिता स्मृतिशेष होने पर भी पल -पल स्मृतियों में विराजमान रहते हैं |

    ReplyDelete
  29. माता-पिता का स्नेह और प्यारी यादें. इस फानी दुनिया में यही रह जाता है हमें संबल देने के लिए.

    ReplyDelete
  30. हृदयस्पर्शी एवं भावपूर्ण स्मृतियाँ ...विनम्र नमन

    ReplyDelete
  31. हृदयस्पर्शी एवं भावपूर्ण स्मृतियाँ ...विनम्र नमन

    ReplyDelete
  32. निशब्द हूँ। आपकी रचना पढने के बाद एक कंपकंपी सी दौड़ गयी ह्रदय में। बहुत सुन्दर रचना।

    ReplyDelete
  33. अक्सर पेन पेन्सिल लेकर
    माँ कैसी थी ?चित्र बनाते,
    पापा इतना याद न आते
    पर जब आते, खूब रुलाते !
    उनके गले में,बाहें डाले,खूब झूलते , मेरे गीत !
    पिता की उंगली पकडे पकडे,चलाना सीखे मेरे गीत !

    ReplyDelete
  34. पिता का स्थान जीवन में कोई नहीं ले सकता | पिता हमेशा बरगद का साया बन हमारे साथ बने रहते हैं | जब वो साथ थे तब सजीव रूप में उनका हाथ सर पर था आज वो ब्रह्मलीन हैं तब भी उनका अदृश्य स्नेह भरा करुनामय हाथ सदा उनकी यादों के रूप में सर पर बना रहता है | मैं इससे ज्यादा और कुछ नहीं कह पाउँगा इस कविता के बारे में | बहुत मर्म लिए कोमल भावपूर्ण अभिव्यक्ति | बहुत बहुत आभार |

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    ReplyDelete
  35. भावुक प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
  36. અનુંજી :बहुत विशिष्ट स्मृति, विशिष्ट रचना.

    ReplyDelete
  37. पिता के लिए सच्ची श्रद्धांजलि ..बेहद मर्मस्पर्शी!

    ReplyDelete
  38. क्या कहूँ बस पढ़कर मौन हूँ कुछ कहते नहीं बन रहा है आज !

    ReplyDelete
  39. आज की ब्लॉग बुलेटिन चटगांव विद्रोह के नायक - "मास्टर दा" - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  40. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (24-03-2013) के चर्चा मंच 1193 पर भी होगी. सूचनार्थ

    ReplyDelete
  41. भावभीनी रचना

    ReplyDelete
  42. अनु जी आपकी ये दिल छू लेने वाली रचना ,
    आँखे नम कर गई ,चित्र सा खीच दिया हो जैसे
    आपने ,पिताश्री को मेरे श्रध्हा-सुमन.....

    ReplyDelete
  43. आँखें भर आईं... अनु.....
    और कुछ कहने को शब्द नहीं बचे..... :(
    <3

    ReplyDelete
  44. प्रभावशाली ,
    जारी रहें।

    शुभकामना !!!

    आर्यावर्त

    आर्यावर्त में समाचार और आलेख प्रकाशन के लिए सीधे संपादक को editor.aaryaavart@gmail.com पर मेल करें।

    ReplyDelete
  45. मार्मिक ... सुख की गहरी नींद वाले जागते नहीं ...
    बस यादें दे जाते हैं ...

    ReplyDelete
  46. बहुत मर्मस्पर्शी...आँखें नम कर गयी आपकी अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  47. मन के किसी कोने में ये शब्‍द हमेशा अपने रहेंगे ...
    भावमय करती प्रस्‍तुति

    सादर

    ReplyDelete
  48. केरल की संस्कृति और पिता जी की स्मृति को नमन!!
    यह लोरी सीधा दिल में उतर गयी!!

    ReplyDelete
  49. अनु दी

    नमस्ते !!

    जब जब कहती
    तब तब वो बेहिचक सुनाने लगते
    और मैं खूब हंसती...
    बस अपने बाबा की बच्ची बन जाती....

    सच्ची श्रद्धांजलि दी है आपने ,अपने बाबा को


    ReplyDelete
  50. नमन एवं श्रद्धांजलि

    ReplyDelete
  51. itna bhi acha na likha karo ki har bar ansoo thamne ka naam hi nahi lete.luv u

    ReplyDelete

नए पुराने मौसम

मौसम अपने संक्रमण काल में है|धीरे धीरे बादलों में पानी जमा हो रहा है पर बरसने को तैयार नहीं...शायद उनकी आसमान से यारी छूट नहीं रही ! मोह...