प्रतीक्षा ...



मिलोगे तुम मुझे अब ?
जाने कितने अरसे बाद....
लगता है सदियाँ बीत गयीं,
बात कल की नही है,
मानों किसी 
पिछले जन्म का किस्सा था.
जाने कैसे पहचानूंगी तुम्हें
तुम भी कैसे जानोगे
कि ये मैं ही हूँ ??
जिन्हें तुम झील सी 
शरबती आँखें कहते थे,
अब पथरा सी गयीं है,
गुलाब की पंखुरी सामान अधर
सूख के पपड़ा गए हैं
इनमें बस
भूले भटके ही 
आती है कोई
पोपली सी,खोखली सी हंसी !!
रेशमी जुल्फों के साये खोजने निकलोगे,
तो चंद चांदी के तारों में
उलझ कर ज़ख़्मी हो जाओगे...
स्निग्ध गालों की लालिमा
महीन झुर्रियों में लुप्त हो गयी है
मगर ये सब तो होना ही था,
तुम होते या ना होते !!
परिवर्तन तो अवश्यम्भावी है..
बस फर्क इतना होता कि
तुम साथ होते तो
मेरी आँखें पथराती नहीं,
उन पनीली आँखों में
तुम देख पाते अपना अक्स
और हम देखते 
गुज़रते हुए वक्त को 
इन्ही सब सहज बदलावों के साथ
कितना आसान होता यूँ 
साथ साथ बुढा जाना..


-अनु 

Comments

  1. बहुत ही मार्मिक । सचमुच किसी शून्य को जीते हुए जीना जमीन को अनछुए ही गुजर जाने जैसा लगता है । फिर भी भाव तो कभी मरते नही न ।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर...बुढ़ापा तक के साथ की सुंदर कामना...सुंदर अभिव्यक्ति !!

    ReplyDelete
  3. आपकी यह बेहतरीन रचना बुधवार 30/01/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    ReplyDelete
  4. आपकी यह बेहतरीन रचना बुधवार 30/01/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी एडवांस बुकिंग के लिए शुक्रिया

      Delete
  5. भावनात्मक सरिता के प्रबाह सी सुंदर कविता.

    आपको गणतंत्र दिवस की बधाइयाँ और शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  6. आया है मुझे फिर याद वो ज़ालिम , गुजरा ज़माना ---
    उम्र के साथ बदलाव तो निश्चित है। लेकिन जीवन के सब उपवन जब मुरझा जाएँ, तब किसी का साथ ही नैया पार लगता है।
    आपकी यह रचना पढ़कर अपनी ही लिखी एक हास्य कविता याद आ गई।

    ReplyDelete
  7. विरह वेदना उन दो मानव-प्राणियों की जो केवल भाव-जगत में एक-दूसरे के लिए होते हैं।

    ReplyDelete

  8. मिलोगे तुम मुझे अब ?
    जाने कितने अरसे बाद....
    लगता है सदियाँ बीत गयीं,
    बात कल की नही है,
    मानों किसी
    पिछले जन्म का किस्सा था.
    जाने कैसे पहचानूंगी तुम्हें
    तुम भी कैसे जानोगे
    कि ये मैं ही हूँ ??
    जिन्हें तुम झील सी
    शरबती आँखें कहते थे,
    अब पथरा सी गयीं है,
    गुलाब की पंखुरी सामान अधर
    सूख के पपड़ा गए हैं
    इनमें बस
    भूले भटके ही
    आती है कोई
    पोपली सी,खोखली सी हंसी !!
    रेशमी जुल्फों के साये खोजने निकलोगे,
    बहुत ही गहन भाव समेटे एक उत्कृष्ट कविता |

    ReplyDelete
  9. साथ बिताया हर पल नेमत होता है ...फिर चाहे जिस अवस्था में गुज़रे ...है न ...:)
    बहुत प्यारी लगी तुम्हारी रचना अनु ...
    प्यार से सराबोर ...:)

    ReplyDelete
  10. बहुत खूब दीदी


    सादर

    ReplyDelete
  11. वाकई .....
    अद्भुत रचना ...
    शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  12. शुभकामनायें आदरेया |
    प्रभावी प्रस्तुति ||

    ReplyDelete
  13. इनमें बस
    भूले भटके ही
    आती है कोई
    पोपली सी,खोखली सी हंसी !!

    बहुत ही मार्मिक ---


    -मे बुढा होना नहीं चाहता हू
    बुढा होने से पहले मृत्यु का वरण चाहता हू |

    ReplyDelete
  14. चाँद अब भी निकलता है
    और कई ख्याल दे जाता है
    तुमसे जुड़े - तुम्हारे लिए

    ReplyDelete
  15. कथ्य प्रभावित करता है और भाव अनुपम .बस एक खटका सा लगा तो सोचा स्पष्ट कर लूं , आंखे, झील सी गहरी सुनी है, झील सी शरबती नहीं सुनी . मुझे जहाँ तक पता है , शरबती होने का मतलब हलकी गुलाबी या हलके लाल रंग के द्रव जैसे रंग का होने से है . हो सकता है ये मेरा अल्पज्ञान हो .

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप तो ज्ञानी हो आशीष जी....और हम है कवियित्री...मगर ये मोहब्बत करने वाले अल्पज्ञानी हैं...प्यार में जाने क्या क्या उपमाएं दिए जाते हैं..कुछ भी न...माफ़ कर दें अपन इन्हें :-)

      Delete
  16. बहुत सुंदर रचना प्रभावी अभिव्यक्ति,,,

    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाए,,,
    recent post: गुलामी का असर,,,

    ReplyDelete
  17. भावुक कर गई आपकी ये रचना । अत्यन्त सुन्दर व मार्मिक ।

    ReplyDelete
  18. सही कहा आपने वक़्त के साथ साथी की कमी और खटकने लगती है। सालों का साथ से हम एक दूसरे की जरूरतों को यूँ समझने लगते हैं कि अचानक किसी के चले जाने से अपना अस्तित्व अधूरा लगने लगता है।

    ReplyDelete
  19. सुन्दर...कोमल भावों की अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  20. इन्ही सब सहज बदलावों के साथ
    कितना आसान होता यूँ
    साथ साथ बुढा जाना..

    ...बिल्कुल सच....बहुत भावपूर्ण और संवेदनशील प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  21. उन पनीली आँखों में
    तुम देख पाते अपना अक्स
    और हम देखते
    गुज़रते हुए वक्त को
    बहुत सुन्दर!
    सादर!
    http://voice-brijesh.blogspot.com

    ReplyDelete
  22. काश!ऐसा हो पाता....
    शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  23. बहुत बढ़िया ..कोमल भावों की सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  24. भावपूर्ण और संवेदनशील रचना .............

    ReplyDelete
  25. गणतंत्र दिवस २६/०१/२०१३ विशेष ब्लॉग बुलेटिन ब्लॉग बुलेटिन टीम की ओर से आप सब को गणतंत्र दिवस की बहुत बहुत हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनाएं ! आज की ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. ह्रदय से आभारी हूँ....

      Delete
  26. अनु जी ..कितना सही लिखा है आपने ...किसी अपने के पास होने पर उम्र तो बढ़ती है...पर अहसास बूढ़े नहीं होते ,,बेहद भावप्रवण रचना!

    ReplyDelete
  27. बहुत मुश्किल से खुला है यह ब्लॉग.. इसलिए अनु बहन, आज कोई गलती नहीं निकालूँगा.. बस इतना ही कहूँगा कि कविता में जितनी गहराई से इंतज़ार के भाव को रेखांकित किया है वह प्रभावशाली है..
    आज फिर से वही भूली हुई कहानी याद आ गयी.. तकषी शिवशंकर पिल्लै की!! :)
    बहुत सुन्दर!

    ReplyDelete
  28. तुम साथ होते तो
    मेरी आँखें पथराती नहीं....
    ---------------------
    अश्कों को दामन देते शब्द ....

    ReplyDelete
  29. उम्दा प्रस्तुति के लिए बहुत बहुत बधाई...६४वें गणतंत्र दिवस पर शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
  30. हृदय के अंतर सी निकली सुंदर और भावपूर्ण प्रस्तुति |

    ReplyDelete
  31. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति. सच में परिवर्तन के घुमते पहिये पर कौन शै स्थावर हो के टिक पाया है. जीवन तो एक उन्मादी नदी है जिसे बहना आता है. वो हमे मंज़ूर हो या नहीं.

    ReplyDelete
  32. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    वन्देमातरम् !
    गणतन्त्र दिवस की शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  33. awesome ....

    superb one ..... loved it ..

    have a natural flow <3

    ReplyDelete
  34. बहुत प्यारी रचना ...

    ReplyDelete
  35. भूले भटके ही
    आती है कोई
    पोपली सी,खोखली सी हंसी !!
    वाकई अपने दादा-दादी को साथ देखकर लगता है कि कितना प्यारा होता होगा उम्र के इस पड़ाव का प्यार |
    हमेशा की तरह बहुत सुन्दर प्रस्तुति |

    सादर

    ReplyDelete
  36. जीवन की गहरी अनुभूति-----सुंदर रचना
    बधाई

    ReplyDelete
  37. bahut khoob anu di.......saath saath budhane mey hi maza hai

    ReplyDelete
  38. hii i am auther of blog http://differentstroks.blogspot.in/
    hereby nominate you to LIEBSTER BLOGERS AWARD.
    further details can be seen on blog posthttp://differentstroks.blogspot.in/2013/01/normal-0-false-false-false-en-us-x-none.html#links
    await your comment thanks

    ReplyDelete
  39. बहुत सुन्दर....बहुत प्यारी रचना ...बधाई

    ReplyDelete
  40. हमसफ़र हमेशा सफ़र को आसां बना देता है
    सुन्दर भाव !

    ReplyDelete
  41. अत्यंत भावप्रबल ....गहन रचना ......!!
    शुभकामनायें अनु ....

    ReplyDelete
  42. <3 <3
    speechless...मोहब्‍बत करने वाले दिल को खूब पहचानती हैं आप :) :)
    can feel each n every word <3

    ReplyDelete
  43. ...bahut hi sundar...hameshaa ki tarah, Anu!

    ReplyDelete
  44. excellent anu ji...
    beautifully written.

    ReplyDelete
  45. bahut sundar likhti hain aap! meri bhi ek hi khwahish hai, apne priytam ke saath Sath "Budhi hona" aur aakhiri saans unke saaye me lete hue....purn santosh ke sath........dheere se ye duniya chhod dena.....!
    Aameen!!

    ReplyDelete
  46. हम तो अब इसी दूर से गुज़र रहे हैं .... सच कहा साथ रहते हुये ये बदलाव महसूस नहीं होते ... सुंदर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  47. बहुत ही भावपूर्ण प्रस्तुति..
    मिलोगे तुम मुझे अब ?
    जाने कितने अरसे बाद....
    बहुत दिनों के बाद आपकी ये कविता पढ़ी..लगा लम्बा अरसा गुजर गया था..एकदम दिल को छू गयी..अति उत्तम.

    ReplyDelete
  48. और हम देखते
    गुजरते हुए वक्त को
    इन्ही सब सहज बदलावों के साथ
    कितना आसान होता यूँ
    साथ साथ बुढा जाना..

    यथार्थ से कल्पना की ओर झांकती अच्छी रचना।

    ReplyDelete
  49. और हम देखते
    गुज़रते हुए वक्त को
    इन्ही सब सहज बदलावों के साथ
    कितना आसान होता यूँ
    साथ साथ बुढा जाना..

    Adbhut ! mai mugdh ho gayi hun itni sundar bhavpurn rachna padh kar.... Anu aap bahut hi achcha likhti hain... dil ko chhoo jata hai.....

    ReplyDelete
  50. बढ़िया रचना अनु,
    प्रकाशित रचना के लिए बधाई !

    ReplyDelete
  51. साथ साथ सब कुछ हो जाना ... सच में प्रेम में जीवन हो जाना होता है ...
    लाजवाब रचना ...

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

प्रेमपत्र

मेरी लिखी कहानी "स्नेहा" - 92.7 big fm पर नीलेश मिश्रा की जादुई आवाज़ में................

दैनिक जागरण के राष्ट्रीय संस्करण में मेरी किताब "इश्क तुम्हें हो जाएगा " की समीक्षा...............