स्मृतियाँ

मेरी इस कविता को सुन्दर स्वर दिए हैं दीपक सिंह जी ने ...आप भी सुनिए..सराहिये......
https://soundcloud.com/topgundeepak/smritiyaan

तुम्हारी स्मृतियाँ पल रही हैं 
मेरे मन  की
घनी अमराई में |
कुछ उम्मीद भरी बातें अक्सर 
झाँकने लगतीं है
जैसे
बूढ़े पीपल की कोटर से झांकते हों
काली कोयल के बच्चे !!

इन स्मृतियाँ ने यात्रा की है
नंगे पांव
मौसम दर मौसम 
सूखे से सावन तक 
बचपन से यौवन तक |

और कुछ स्मृतियाँ तुम्हारी 
छिपी हैं कहीं भीतर
और आपस में स्नेहिल संवाद करती हैं,
जैसे हम छिपते थे दरख्तों के पीछे
अपने सपनों की अदला बदली करने को |

तुम नहीं 
पर स्मृतियाँ अब भी मेरे साथ हैं 
वे नहीं गयीं तेरे साथ शहर !!

मुझे स्मरण है अब भी तेरी हर बात,
तेरा प्रेम,तेरी हंसी,तेरी ठिठोली
और जामुन के बहाने से,
खिलाई थी तूने जो निम्बोली !!

अब तक जुबां पर
जस का तस रक्खा है
वो कड़वा  स्वाद 
अतीत की स्मृतियों का !!

-अनुलता-

Comments

  1. Bohot hi adbhut :)
    Hindi ki poems hamesha se meri favorite rahi he. maza aagya padh kar ise :)

    http://simplysaid22.blogspot.in/

    ReplyDelete
  2. क्या बात है .....बढ़िया ...सुन्दर ...

    ReplyDelete
  3. आपकी यह पोस्ट आज के (२८ अक्टूबर , २०१३) ब्लॉग बुलेटिन - कौन निभाता किसका साथ - पर प्रस्तुत की जा रही है | बधाई

    ReplyDelete
  4. और जामुन के बहाने से,
    खिलाई थी तूने जो निम्बोली !!...................................................
    बहुत खूब |

    ReplyDelete
  5. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार २९ /१० /१३ को राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी आपका वहाँ हार्दिक स्वागत है ।

    ReplyDelete
  6. जैसे हम छुपते थे दरख्तों के पीछे
    अपने सपनों कि अदला बदली करने
    यादों कि स्मृतियों की खूबसूरत यात्रा ...... सुंदर रचना .

    ReplyDelete
  7. अनुभूतिओं के झरोखों से झांकती खूबशूरत रचना , अपनी नजर नवाज़े मेरी नई पोस्ट पर "अश्रु मेरे दृग तेरे हैं "

    ReplyDelete
  8. तुम नहीं
    पर स्मृतियाँ अब भी मेरे साथ हैं
    वे नहीं गयीं तेरे साथ शहर !! .... सुबह उठकर आँख मलते मेरे आगे खड़ी रहती हैं
    रात सिरहाने लग निहारती हैं मुझे
    किचेन में भी रहती हैं साथ
    कोई आता है - तब भी वो अपनी तरफ खींचती हैं

    ReplyDelete
  9. सच कडुआ स्वाद ज्यादा देर तक टिका रहता है |
    नई पोस्ट सपना और मैं (नायिका )

    ReplyDelete
  10. भावपूर्ण अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  11. अरे तुमको निंबोली का स्वाद कड़वा लगा ...... प्यार से खिलाया था तो मीठा लगना था न ....

    रहती हैं यादें जेहन में जस की तस ,न जाने कौन कौन से कोटर से निकल कर आ जाती है सामने ... ...खूबसूरत रचना

    ReplyDelete
  12. खूबसूरत अभिव्यक्ति
    हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  13. सपनों के सिराहने तले...कड़वी स्वाद के मीठे एहसास....सुन्दर .....

    ReplyDelete
  14. अब तक जुबां पर
    जस का तस रक्खा है
    वो कड़वा स्वाद
    अतीत की स्मृतियों का !
    अक्सर ये स्मृतियाँ बहुत मनोबल प्रदान करतीं हैं | आदरणीय ..सुंदर रचना |

    ReplyDelete
  15. बेहतरीन रचना है यह अनु ! बधाई !!

    ReplyDelete
  16. स्मरण शक्ति तेज है :)
    सुंदर .......
    भावपूर्ण!!

    ReplyDelete
  17. यादें सुकून देती है न अनु जी ...?
    जब न कोई सुने तुम्हारी
    तब निबाहें सिर्फ ये यारी .......
    स्वस्थ रहें!

    ReplyDelete
  18. अतीत की स्मृतियाँ से तो कडुवाहट निकल जाती है बस रीस रह जाती है मन में ... जो सकूं देना शुरू कर देती हैं ...

    ReplyDelete
  19. क्या बात.....बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  20. Smritiyon ko itni gaharaayi se, kintu itni sahajta ke saath ki sachmuch asar karti hai yah kavita.
    Bahut sundar!!

    ReplyDelete
  21. गाँव की स्मृतियाँ पीछा नहीं छोड़तीं कभी । शहर गाँव हो नहीं सकता किंतु स्मृतियों के झरोखे से अतीत में झाँककर गाँव की ज़िन्दगी के कुछ क्षणों को जिया तो जा ही सकता है। मुझे लगता है कि अनु को बस्तर के जंगल आज भी याद आते हैं ...बड़ी शिद्दत से ....। तभी तो इतनी ख़ूबसूरत ..नाज़ुक सी और अल्हड़ सी कविता लिखने को मचल गयीं। शुक्रिया अनु ! इस कविता के माध्यम से बस्तर के जंगलों और खेतों को याद करने के लिये ।

    ReplyDelete
  22. कुछ उम्मीद भरी बातें अक्सर
    झाँकने लगतीं है
    जैसे
    बूढ़े पीपल की कोटर से झांकते हों
    काली कोयल के बच्चे !!
    बहुत सुन्दर लगी यह पंक्तियाँ !

    ReplyDelete
    Replies
    1. कविता मे कोयल शब्द स्त्री लिंग होकर अद्भुत सौंदर्य से मण्डित हो जाता है, इसीतरह कविता में पीपल की कोटर कोयल के बच्चों पलना, सीधुवाद!

      Delete
    2. कविता मे कोयल शब्द स्त्री लिंग होकर अद्भुत सौंदर्य से मण्डित हो जाता है, इसीतरह कविता में पीपल की कोटर कोयल के बच्चों पलना, सीधुवाद!

      Delete
  23. मुझे स्मरण है अब भी तेरी हर बात,
    तेरा प्रेम,तेरी हंसी,तेरी ठिठोली
    और जामुन के बहाने से,
    खिलाई थी तूने जो निम्बोली !!
    जामुन के बहाने निम्बोली का खिलाना पता नहीं प्यार में कड़वापन भी
    मीठा सा स्वाद देता है :) बहुत सुन्दर रचना अनुं,

    ReplyDelete
  24. स्मूतियां कड़वी भी और मीठी भी ... याद में रहती है ....

    ReplyDelete
  25. गांव की माटी की सोंधी सोंधी सी सुगंध फैलाती सुन्दर रचना .

    ReplyDelete
  26. 'स्मृतियों' में भी आपके कदम बहुत नपे-तुले होते हैं । प्रायः स्मृतियों में लोग भँवर में फंस जाते हैं और लड़खड़ाई हुई बातें कह पाते हैं परन्तु आपने हमेशा 'यादों की धरोहर' को बहुत अच्छे से संजोया है ।
    उत्कृष्ट रचना ।

    ReplyDelete
  27. अतीत की तो कडवी स्मृतियां भी जबरन एक मुस्कान ले आती हैं होठों पर। पर स्मृतियों के वन में विचरने का मज़ा ही कुछ और है।

    ReplyDelete
  28. बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  29. कुछ खट्टी -मीठी यादों का सफर ...बहुत खूब

    ReplyDelete
  30. स्मृतियां अटल रूप से मन पर अंकित रहती हैं, बहुत सुंदर.

    रामराम.

    ReplyDelete
  31. Bahut sundar pharmaish Anu Ji ! Happy Diwali to you and family. May this Diwali bring you lots of peace and prosperity and may you enjoy good health and happiness.

    ReplyDelete
  32. आपकी इस उत्तम रचना कोhttp://hindibloggerscaupala.blogspot.in/ के शुक्रवारीय अंक १/११/१३ में शामिल किया गया हैं कृपया अवलोकन के लिय पधारे शुक्रिया

    ReplyDelete
  33. सुन्दर रचना .

    ReplyDelete
  34. वाह...उत्तम लेखन ...दीपावली की शुभकामनाएं.....

    ReplyDelete
  35. स्मृतियों का सुन्दर ताना बाना .. सुन्दर प्रस्तुति .... दिवाली की हार्दिक शुभकामनाएं ..

    ReplyDelete
  36. बहुत सुन्दर रचना...
    दीपावली कि हार्दिक शुभकामनाएँ ...
    :-)

    ReplyDelete
  37. दीपावली के पावन पर्व की बधाई ओर शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  38. अरे गजब ...मज़ा आगया यह पढ़कर ....

    ReplyDelete
  39. वाह .... बेहतरीन अभिव्‍यक्ति
    आभार

    ReplyDelete
  40. स्मृतियों की परतें चढ़ती जाती हैं, मगर वो सदा पारदर्शी होती हैं
    साभार !

    ReplyDelete
  41. अनु जी ,बहुत ही खूबसूरत और ताजगी भरी कविता । यादों को इतना सुन्दर जामा पहनाया है । उपमान और बिम्ब देखने लायक हैं । लेकिन अतीत की वे यादें कडवी कैसे जो एक सुन्दर रचना की प्रेरणा बनी हैं ।

    ReplyDelete
  42. बहुत सुंदर लघु कथा .बहुत अच्छा लिखा है शुभकामनायें .....!!

    ReplyDelete
  43. प्यारी लगी यह कविता। ..बधाई।

    ReplyDelete
  44. बहुत सजीव लेखन है ... बधायी ...

    ReplyDelete
  45. अब तक जुबां पर
    जस का तस रक्खा है
    वो कड़वा स्वाद
    अतीत की स्मृतियों का !

    wah bahut khoob .......badhai .

    ReplyDelete
  46. खूबसूरत .रचना ....यादों को फिर छेड़ दिया क्यूँ भला :)
    न मिठास ने साथ छोड़ा है
    न कडुवा जुबां से जाता है
    यादों का सिलसिला ....
    पल-पल मुझे सताता है

    ReplyDelete
  47. अति उत्तम एवं प्रशंसनीय . बधाई
    हमारे ब्लॉग्स एवं ई - पत्रिका पर आपका स्वागत है . एक बार विसिट अवश्य करें :
    http://www.swapnilsaundaryaezine.blogspot.in/2013/11/vol-01-issue-03-nov-dec-2013.html

    Website : www.swapnilsaundaryaezine.hpage.com

    Blog : www.swapnilsaundaryaezine.blogspot.com

    ReplyDelete
  48. सुंदर शब्द .बेह्तरीन अभिव्यक्ति ...!!शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  49. पिछले २ सालों की तरह इस साल भी ब्लॉग बुलेटिन पर रश्मि प्रभा जी प्रस्तुत कर रही है अवलोकन २०१३ !!
    कई भागो में छपने वाली इस ख़ास बुलेटिन के अंतर्गत आपको सन २०१३ की कुछ चुनिन्दा पोस्टो को दोबारा पढने का मौका मिलेगा !
    ब्लॉग बुलेटिन के इस खास संस्करण के अंतर्गत आज की बुलेटिन प्रतिभाओं की कमी नहीं 2013 (10) मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  50. ati sunder lekhni hai ....padhte jaaiye ...bas imnandaree se !!

    ReplyDelete
  51. aati sunder rachna ....bas padhte jaaiye imandaree se ....sunder lekhni BADHAIYAN

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

प्रेमपत्र

मेरी लिखी कहानी "स्नेहा" - 92.7 big fm पर नीलेश मिश्रा की जादुई आवाज़ में................

दैनिक जागरण के राष्ट्रीय संस्करण में मेरी किताब "इश्क तुम्हें हो जाएगा " की समीक्षा...............