इन्होने पढ़ा है मेरा जीवन...सो अब उसका हिस्सा हैं........

Thursday, October 3, 2013

सिंदूर

किसी ढलती शाम को
सूरज की एक किरण खींच कर
मांग में रख देने भर से
पुरुष पा जाता है स्त्री पर सम्पूर्ण अधिकार |
पसीने के साथ बह आता है सिंदूरी रंग स्त्री की आँखों तक
और तुम्हें लगता है वो दृष्टिहीन हो गयी |
मांग का टीका गर्व से धारण कर
वो ढँक लेती है अपने माथे की लकीरें
हरी लाल चूड़ियों से कलाई को भरने वाली  स्त्रियाँ
इन्हें हथकड़ी नहीं समझतीं ,
बल्कि इसकी खनक के आगे
अनसुना कर देती हैं अपने भीतर की हर आवाज़ को....
वे उतार नहीं फेंकती
तलुओं पर चुभते बिछुए ,
भागते पैरों पर
पहन लेती हैं घुंघरु वाली मोटी पायलें
वो नहीं देती किसी को अधिकार
इन्हें बेड़ियाँ कहने का |

यूँ ही करती हैं ये स्त्रियाँ
अपने समर्पण का ,अपने प्रेम का,अपने जूनून  का
उन्मुक्त प्रदर्शन !!

प्रेम की कोई तय परिभाषा नहीं होती |

-अनुलता-


62 comments:

  1. इस कविता को मनीषा पांडे की फेसबुक वाल पर चिपका दें :) फिर वह आपको स्त्री स्वतंत्रता पर भाषण देंगी :):) वैसे कविता पर आते हुए, अनुलता का दूसरा नाम प्रेम है। लिखती रहें...

    ReplyDelete
  2. sahi kaha di......aur hamesha karti rahengi.......shringar bedi nahi balki gehna hai hamara....hamare pyar ka...superb ...

    ReplyDelete
  3. बहुत भावपूर्ण रचना ...

    ReplyDelete
  4. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (04-10-2013) को " लोग जान जायेंगे (चर्चा -1388)
    "
    पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया.

      Delete
  5. एकदम सही ...वाकई प्रेम की कोई तय परिभाषा नहीं होती। वह तो कुछ वैसा ही होता है जैसे
    "जाकी रही भावना जैसे, प्रभू मूरत देखी तिन तैसी" बहुत ही सुंदर भाव संयोजन से सजी भावपूर्ण अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  6. दीदी
    अच्छी रचना
    कोई और परिभाषा खोजूँ क्या
    शायद
    प्रेम की कोई तय परिभाषा नहीं होती |
    आप सच कहती हैं
    सादर

    ReplyDelete
  7. गनीमत प्रतिक्रिया पर केप्चा का ग्रहण नहीं लगा है

    ReplyDelete
  8. हां ये जेवर कहीं न कहीं औरतों के लिए बनाये गये बंधेज हो सकते हैं, पर ये समर्पण और प्रेम के भाव हीं हैं जो औरत इन्हें आभूषण मानकर स्वीकार करतीं हैं.. बहुत सुन्दर लिखा है अनु जी।

    ReplyDelete
  9. m borrowing these words with due respect .. अनुलता का दूसरा नाम प्रेम है। :)
    Bahut pyari kavita :)

    ReplyDelete
  10. सुन्दर प्रस्तुति -
    शुभकामनायें आदरणीया-

    ReplyDelete
  11. कल 04/10/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया यशवंत !

      Delete
  12. kya khub kahi hai apne....shabd hi nhi baya kar dun....ati sundar

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल - शुक्रवार - 04/10/2013 को
    कण कण में बसी है माँ
    - हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः29
    पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें, सादर .... Darshan jangra


    ReplyDelete
  14. So heart felt and soulful thoughts :)

    ReplyDelete
  15. बहुत सही कहा .....
    प्रेम की कोई तय परिभाषा नहीं होती.
    बहुत सुन्दर .
    नई पोस्ट : भारतीय संस्कृति और कमल
    नई पोस्ट : पुरानी डायरी के फटे पन्ने

    ReplyDelete
  16. यूँ ही करती हैं ये स्त्रियाँ
    अपने समर्पण का ,अपने प्रेम का,अपने जूनून का
    उन्मुक्त प्रदर्शन !!
    लेकिन पुरुष इसे कभी न समझ पाया ...इसे सदा वर्चस्व का ही नाम दिया

    ReplyDelete
  17. Dil ko chhoo lene waali rachanaa....satya kaa anaavaran...atulneey ..Badhaaee..!

    ReplyDelete
  18. प्रेम सिक्त रचना . बहुत सुन्दर .

    ReplyDelete
  19. बहुत सुन्दर ........

    ReplyDelete
  20. प्रेम एहसास है ,इसे शब्दों में बाँधा नहीं जा सकता -बहुत सटीक अभिव्यक्ति !
    नवीनतम पोस्ट मिट्टी का खिलौना !
    नई पोस्ट साधू या शैतान

    ReplyDelete
  21. प्रेम की कोई तय परिभाषा नहीं होती | आपने सच कहा !

    RECENT POST : मर्ज जो अच्छा नहीं होता.

    ReplyDelete
  22. प्रेम या द्वंद.......... ?

    ReplyDelete
  23. ..उफ्फ! आसानी से नहीं मिलता यह एक चुटकी सिंदूर भी!!

    ReplyDelete
  24. प्रेम की कोई तय परिभाषा नहीं होती |
    बहुत सशक्त अभिव्यक्ति ....!!
    सुंदर रचना अनु ...!!

    ReplyDelete
  25. मन के भावो को खुबसूरत शब्द दिए है अपने...

    ReplyDelete
  26. बल्कि इसकी खनक के आगे
    अनसुना कर देती हैं अपने भीतर की हर आवाज़ को....

    ReplyDelete
  27. बहुत सुंदर नाज़ुक अभिव्यक्ति ..

    ReplyDelete
  28. प्रेम बोझ तो कतई नहीं हो सकता...हाँ समर्पण ज़रूर है...पर दोनों तरफ से...

    ReplyDelete
  29. Waah....aapne aurat ko kitne sunder rup mai prastut kiya hai...badhaiya :)

    ReplyDelete
  30. बहुत सुंदर प्रस्तुति।

    पर क्या ये प्रदर्शन हमेशा उन्मुक्त होता है कई बार परंपरा का निर्वाह भी तो होता है।

    ReplyDelete
  31. अभिव्यक्ति का जबाब नही |
    "न आँखों से कभी ढले आंसू न चेहरे पे शिकस्ती के निशान उभरे
    मैं इस सलीके से रोया हूँ , पूरी उम्र भर , हंस हंस कर ."
    “अजेय-असीम{Unlimited Potential}”

    ReplyDelete
  32. मांग का टीका गर्व से धारण कर
    वो ढँक लेती है अपने माथे की लकीरें
    हरी लाल चूड़ियों से कलाई को भरने वाली स्त्रियाँ
    इन्हें हथकड़ी नहीं समझतीं ,
    बल्कि इसकी खनक के आगे
    अनसुना कर देती हैं अपने भीतर की हर आवाज़ को....

    दिल को छू गया नारी का यह समर्पण यह प्रेम !!!

    ReplyDelete
  33. दो व्यक्तियों के बीच प्रेम की परिभाषा सिर्फ वे दो इंसान ही तय कर सकते हैं , जो उस समय प्रेम में हैं। उसे अपनी सुविधा से दकियानूसी या प्रगतिशील निर्धारित करना संभव ही नहीं है।

    क्या कमाल है , कल ही लिखा यह स्टेटस।

    ReplyDelete
  34. प्रेम की कोई तय परिभाषा नहीं होती |
    बहुत सुन्दर लिखा है अनु जी

    ReplyDelete
  35. प्रशंसनीय रचना - बधाई
    शब्दों की मुस्कुराहट पर ....क्योंकि हम भी डरते है :)

    ReplyDelete
  36. ये सब तो श्रृंगार है भारतीय नारी के..
    इन्हें बेड़ियाँ कैसे कहने दे सकती है..
    बहुत ही सुन्दर रचना...
    :-)

    ReplyDelete
  37. बहुत ही खूबसूरत रचना.

    रामराम.

    ReplyDelete
  38. "अनसुना कर देती हैं अपने भीतर की हर आवाज़ को....
    वे उतार नहीं फेंकती
    तलुओं पर चुभते बिछुए ,
    भागते पैरों पर
    पहन लेती हैं घुंघरु वाली मोटी पायलें
    वो नहीं देती किसी को अधिकार
    इन्हें बेड़ियाँ कहने का |"
    -
    -
    -
    बेहतरीन / उत्कृष्ट रचना
    बहुत अनुपम लेखन

    आभार

    ReplyDelete
  39. बहा ले गयी आप..

    ReplyDelete
  40. बहुत खूबसूरत भावों को सरलता एवं प्रभावपूर्ण ढंग से अभिव्यक्त किया है .

    ReplyDelete

  41. यूँ ही करती हैं ये स्त्रियाँ
    अपने समर्पण का ,अपने प्रेम का,अपने जूनून का
    उन्मुक्त प्रदर्शन !!.....................खूबसूरत /उत्कृष्ट रचना

    ReplyDelete
  42. भावपूर्ण खूबसूरत रचना ...

    ReplyDelete
  43. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    हैल्थ इज वैल्थ
    पर पधारेँ।

    ReplyDelete
  44. क्‍या बात है ... हमेशा की तरह जबरदस्‍त लिख्‍खा है

    ReplyDelete
  45. बहुत खूब .... प्रेम की कोई तय परिभाषा नहीं होती ... पर इन भौतिक बातों एमिन भी प्रेम कहाँ होता है ..
    गहरे परिपेक्ष में लिखी रचना ...

    ReplyDelete
  46. यूँ ही करती हैं ये स्त्रियाँ
    अपने समर्पण का ,अपने प्रेम का,अपने जूनून का
    उन्मुक्त प्रदर्शन !!

    प्रेम की कोई तय परिभाषा नहीं होती |
    . सही कहा आपने ...
    स्त्री और पुरुष के लिए प्रेम के मायने एक होकर भी एक न होना मन में हरदम एक कसक जगाता है ..

    ReplyDelete
  47. तभी तो तुम अतुलनीय हो
    सृजक हो, संस्कारों,
    मूल्यों और सृष्टि का
    अमूल्य उपहार हो ...

    ReplyDelete
  48. स्त्रियाँ इसी तरह भ्रम में जीती हैं ...

    ReplyDelete
  49. बड़ी बेबाक तस्वीर खींच दी ........ सस्नेह :)

    ReplyDelete
  50. :) ... जो भी मान लो ..

    ReplyDelete
  51. बहुत सुंदर रचना है...मेरे ब्लॉग पर भी आपका स्वागत है.
    http://iwillrocknow.blogspot.in/

    ReplyDelete

नए पुराने मौसम

मौसम अपने संक्रमण काल में है|धीरे धीरे बादलों में पानी जमा हो रहा है पर बरसने को तैयार नहीं...शायद उनकी आसमान से यारी छूट नहीं रही ! मोह...