इन्होने पढ़ा है मेरा जीवन...सो अब उसका हिस्सा हैं........

Wednesday, March 12, 2014

अंगूरी बादल.............

अंगूरी हो रक्खे थे बादल
उस रोज़,
गहरे नीले आकाश में
गुच्छा गुच्छा छितरे
जमुनी गुलाबी रंगत लिए
धूसर बादल....

तुमने कहा
ये बादल
तुम्हारे आंसुओं की वाष्प से बने हैं !
मैंने मान लिया था उस रोज़
कि तुम दुनिया की
सबसे दुखी लडकी थी |

वो बड़ी स्याह रात थी
तूफानी,
खूब बरसे थे वो बादल
गुलाबी जमुनी रंगत वाले
काले बादल....

तुम्हारा कहा परखने को
चखी थी मैंने
कुछ बूँदें...
सचमुच खारी थीं|

तुमने सही कहा था
कि मैं दुनिया का सबसे बुरा आदमी हूँ !
मैंने मान लिया था उस रोज़
बिना ख़ुद को परखे हुए !
~अनुलता ~






21 comments:

  1. चखना नहीं था उन बूंदो को??

    ReplyDelete
    Replies
    1. न......
      चखना याने परखना....परखने से कोई अपना नहीं रहता !!!

      Delete
  2. परख लिया ज़माने को
    न बचा,कोई आज़माने को ..
    --अशोक'अकेला'
    स्वस्थ रहें!

    ReplyDelete
  3. ओह .. परख ही लिया आखिर ..

    ReplyDelete
  4. परखने में छिन जाने का भय जो छुपा होता है । प्यारी सी रचना ,हमेशा की तरह ।

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बृहस्पतिवार (13-03-2014) को "फिर से होली आई" चर्चा- 1550 "अद्यतन लिंक" पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर. कभी कभी खुद को परखना भी अच्छा रहता है.
    नई पोस्ट : होली : अतीत से वर्तमान तक

    ReplyDelete
  7. आजकल कविताओं मे विज्ञान का असर दिखने लगा है :)
    बेहतरीन तो आप लिखते ही हो :)

    ReplyDelete
  8. बिना खुद को परखे हुए मान लेना ... ये प्रेम की शिद्दत है ... बुरा भला तो प्रेम में सब भला ही है ...
    गहरी बात को सहज कहना ही कविता है ...

    ReplyDelete
  9. मनोभावों का सुन्दर चित्रण...

    ReplyDelete
  10. बहुत प्यारी सी बात .... प्रेम से भरी गहरी बात
    वाह

    ReplyDelete
  11. angoori baadal- sundar khayal hai :-)

    Dr.Bashir Badra sahab ki ek gazal yaad aa rahi hai

    Parakhna mat parakhne mein koi apna nahin rahta
    Kisi bhi aine mein der tak chehra nahin rahta

    ReplyDelete
    Replies
    1. सुन्दर ग़ज़ल है.....नज़्म लिखते वक्त हमारे ज़ेहन में भी आयी थी :-)

      Delete
  12. वाह ........ बहुत खूब
    बेहतरीन अभिव्‍यक्ति

    ReplyDelete
  13. परखना रिश्तों में दीमक होती है , उसने आंसुओं का स्वाद चखा न होता तो खारे भी न रहे होते !
    अंगूरी बादल पढना अच्छा लगा !

    ReplyDelete
  14. रिश्तों में परख कैसी, तुमने कहा और मैंने मान लिया … बहुत खूबसूरत भाव

    ReplyDelete
  15. सुन्दर रचना हमेशा की तरह, कल पढ़कर गयी थी
    पर टिप्पणी नहीं कर पायी !

    ReplyDelete
  16. कुछ उलझे उलझे से भाव लिए ... पढ़ कर भाव भूमि तलाश कर रही हूँ . कि किस भूमि पर खींची हैं लकीरें :)

    ReplyDelete

नए पुराने मौसम

मौसम अपने संक्रमण काल में है|धीरे धीरे बादलों में पानी जमा हो रहा है पर बरसने को तैयार नहीं...शायद उनकी आसमान से यारी छूट नहीं रही ! मोह...