अकेलापन

अकेली राह मुश्किल नहीं
खुद का बोझ ढोना जायज़ है,
ज़रुरत है...
जब मौका मिला किसी पेड़ के नीचे सुस्ता लिए
खुद को अपने से परे रख कर !

ज़ख्मों को ख़ुद सीना सीख जाते हैं हम
यूँ अकेली राह में ज़ख्मों की गुन्जाइश कम होती है...
राह में कोई ठंडे पानी का सोता मिलता ही है ज़ख्म धोने को
प्यास बुझाने को.....

जीने की कोई वजह खोजने का वक्त नहीं मिलता
अकेलपन की अपनी मसरूफ़ियत है
और कट जाती है जिंदगियाँ यूँ ही अक्सर, बिना जिए ही.
धूप खुशबू हवाएं मिल ही जाती हैं सबको अपने अपने हिस्से की.....

(आप जब अकेले होते हैं तब ख्यालों की भीड़ लग जाती है,ऐसे ही....... )
~अनु ~

Comments

  1. "और कट जाती है जिंदगियाँ यूँ ही अक्सर, बिना जिए ही.
    धूप खुशबू हवाएं मिल ही जाती हैं सबको अपने अपने हिस्से की....."

    सच बयान करती कविता।


    सादर

    ReplyDelete
  2. हर ख्याल अपना सा ...:)

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी का लिंक कल रविवार (18-08-2013) को "नाग ने आदमी को डसा" (रविवासरीय चर्चा-अंकः1341) पर भी होगा!
    स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. ह्रदय से आभार शास्त्री जी.

      Delete
  4. राह में कोई ठंडे पानी का सोता मिलता ही है ज़ख्म धोने को
    प्यास बुझाने को.....
    ***
    ऐसा ही एक सोता है आपका यह पता!

    ReplyDelete
  5. कभी कभी अकेलापन और तन्हाई दोनों अच्छे होते हैं
    वैसे देखा जाए तो चलना खुद अकेले ही है,,,,,

    ReplyDelete
  6. बहुत ही खूबसूरती से यथार्थ को अभिव्यक्त किया है आपने, बहुत शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  7. सच, अकेलापन भी आदमी झेल ही लेता है

    ReplyDelete
  8. बेहतरीन, गहन भाव

    ReplyDelete
  9. वाह! अकेलापन घटता है .कटता है
    यादों की भीड़ में जब ये बटता है ......
    शुभकामनायें

    ReplyDelete
  10. जीने की कोई वजह खोजने का वक्त नहीं मिलता
    अकेलपन की अपनी मसरूफ़ियत है,,,

    वाह !!! बहुत सुंदर रचना,,,

    RECENT POST: आज़ादी की वर्षगांठ.

    ReplyDelete
  11. अकेलपन की अपनी मसरूफ़ियत है

    bahut sahi kaha...

    ReplyDelete
  12. जीने का एक नायाब तरीका...बहुत सुन्दर और प्रभावी रचना..

    ReplyDelete
  13. एकला चलो एकला चलो ...........का याद दिल दिया आपने -बहुत अच्छी
    latest os मैं हूँ भारतवासी।
    latest post नेता उवाच !!!

    ReplyDelete
  14. अकेली राह मुश्किल नहीं
    खुद का बोझ ढोना जायज़ है,
    गहन भाव,बहुत सुन्दर............

    ReplyDelete

  15. जीने की कोई वजह खोजने का वक्त नहीं मिलता
    अकेलपन की अपनी मसरूफ़ियत है


    सच कहा

    ReplyDelete
  16. धूप खुशबू हवाए मिल ही जाती हैं सबको अपने अपने हिस्से की....... बहुत खूब
    बेहतरीन गहन भाव लिए रचना ....

    ReplyDelete
  17. अकेलापन ऐसा ही होता है । परन्तु कभी कभी भीड़ में खो जाने से भी अधिक खतरनाक हो जाता है अकेलेपन में खुद का खो जाना , क्योंकि फिर ढूँढने वाला कोई नहीं होता ,वहां ।

    ReplyDelete
  18. गहन अभिवयक्ति......

    ReplyDelete
  19. यथार्थ से परिचय कराती रचना ,सुंदर

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर और गहन भाव..

    ReplyDelete
  21. ब्लॉग बुलेटिन की ६०० वीं बुलेटिन कभी खुशी - कभी ग़म: 600 वीं ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया सलिल दादा <3

      Delete
  22. तन्हाई में तो खुद के लिए फुर्सत होती है...
    गहन भाव लिए सुन्दर रचना....
    :-)

    ReplyDelete
  23. लाजबाब :) अकेलापन एक ऐसी चीज़ है जो गर दूसरों द्वारा दिया जाये तो उससे बड़ा कोई अभिषाप नहीं है लेकिन खुद के द्वारा खुशी से चुना जाय तो इससे बड़ा कोई वरदान नहीं है...बेहतरीन प्रस्तुति।।।

    ReplyDelete

  24. (आप जब अकेले होते हैं तब ख्यालों की भीड़ लग जाती है,ऐसे ही....... )
    sach hai anu ji ..
    har bar ki tarah sundar rachna
    !!

    ReplyDelete
  25. धूप खुशबू और हवाएँ मिल ही जाती है सबको अपने-अपने हिस्से की सच शायद इसी का नाम ज़िंदगी है। बेहतरीन भावभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  26. हाँ ....जी तो लिया ही जाता है
    जीना कैसे होता है ...जाने बिना
    खूबसूरत मंथन ....अकेलेपन में अकसर पहचान पाता है

    ReplyDelete
  27. वही पुरानी बात पूछूं..
    अंतर है न कुछ अकेलेपन और एकांत में...

    ReplyDelete
    Replies
    1. दुःख और सुख जैसा अंतर है.......

      Delete
  28. जब मौका मिला किसी पेड़ के नीचे सुस्ता लिए
    खुद को अपने से परे रख कर

    भई वाह..

    ReplyDelete
  29. जिस प्रकार खामोशी और सन्नाटे में अन्तर है उसी प्रकार तन्हाई और अकेलेपन में भी अन्तर है! और इन दोनो का सीधा सम्बन्द्य हमारे दिल से है ! सुन्दर !

    ReplyDelete
  30. और कट जाती है जिंदगियाँ यूँ ही अक्सर, बिना जिए ही.
    धूप खुशबू हवाएं मिल ही जाती हैं सबको अपने अपने हिस्से की
    बहुत सुंदर रचना .

    ReplyDelete
  31. जब मौका मिला किसी पेड़ के नीचे सुस्ता लिए
    खुद को अपने से परे रख कर
    ... क्‍या बात है
    बहुत ही बढिया

    ReplyDelete
  32. ज़रुरत है...
    जब मौका मिला किसी पेड़ के नीचे सुस्ता लिए
    खुद को अपने से परे रख कर ...

    बढ़िया अभिव्यक्ति --

    ReplyDelete
  33. जीने की वजह खोजने का समय मिले न मिले ... जीना तो पड़ता ही है ... ओर यूं ही सफर चलता रहता है ...

    ReplyDelete
  34. अकेलापन तो हम सब के जीने का एक हिस्सा बन चूका है .. एक प्यारी सी नज़्म


    दिल से बधाई स्वीकार करे.

    विजय कुमार
    मेरे कहानी का ब्लॉग है : storiesbyvijay.blogspot.com

    मेरी कविताओ का ब्लॉग है : poemsofvijay.blogspot.com

    ReplyDelete
  35. हाँ अकेले होने पर ऐसे ऐसे कितने ही ख्याल मन में आते हैं!!!

    ReplyDelete
  36. जीने की कोई वजह खोजने का वक्त नहीं मिलता
    अकेलपन की अपनी मसरूफ़ियत है !

    आप जब अकेले होते हैं तब ख्यालों की भीड़ लग जाती है...!!

    है न.....

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

प्रेमपत्र

मेरी लिखी कहानी "स्नेहा" - 92.7 big fm पर नीलेश मिश्रा की जादुई आवाज़ में................

दैनिक जागरण के राष्ट्रीय संस्करण में मेरी किताब "इश्क तुम्हें हो जाएगा " की समीक्षा...............