बावली नदी


 नदी हूँ मैं 

नदिया के जैसी ही  

चाहत मेरी है... 

समंदर! तू कितना खारा है 

फिर भी मुझे जान से प्यारा है....


इतराती,इठलाती
मेरी हर मस्ती पर तू
रोक लगा देता है
ठहरा देता है मुझे...
पर मेरा मन तो तेरे लिए बावरा है
समंदर ! तू मुझे जान से प्यारा है...

तुझ में मिल कर
मैं भी खारी हो जाती
नदी,नदी न रहती
वो भी समंदर हो जाती..
मुझे मेरा अस्तित्व खोना भी गवारा है
तू मुझे जान से जो प्यारा है...

अब न कोई फूल खिले मुझमें 
न प्यास बुझे प्यासे की
मुझ जैसी जाने कितनी को
तूने खुद में उतारा है
मैंने  ये स सहर्ष स्वीकारा है
क्यूँकि एक तू ही मुझे जान से प्यारा है... 

-अनु 


Comments

  1. अच्छी लगी मीठे से खारे हो जाने की यात्रा...! प्रेम "दोऊ मिलकर एक बरन" हो जाने का नाम है.. और यही है एक नदी की तरह बहने और पा लेने का नाम!! लाली देखन मैं चली-मैं भी हो गयी लाल!!

    ReplyDelete
  2. नदी हूँ मैं
    नदिया के जैसी ही
    चाहत मेरी है...
    समंदर! तू कितना खारा है
    फिर भी मुझे जान से प्यारा है....
    बहुत ही सुन्दर और सहज शब्दों से रची गयी कविता बधाई अनु जी |

    ReplyDelete
    Replies
    1. तुझ में मिल कर
      मैं भी खारी हो जाती
      नदी,नदी न रहती
      वो भी समंदर हो जाती..
      मुझे मेरा अस्तित्व खोना भी गवारा है
      तू मुझे जान से जो प्यारा है... .anu ji bahut hi sundar prem mayi rachna , dil ko bahut hi pasand aa gayi , prem ke sabhi bhavo ko dikha gayi samarpan ka bhav hai yah asli prem darsha gayi , hardik badhai sundar srajan ke liye

      Delete
  3. प्रेम में समर्पण की सुन्दर अभिव्यक्ति...
    :-)

    ReplyDelete
  4. बढ़िया नदी बहाव है, निर्मल भाव समान |
    सदा सर्वदा जल रहे, करे जगत कल्याण ||

    ReplyDelete
  5. सुंदर सहज शब्दों की उत्कृष्ट रचना,,,,

    recent post : प्यार न भूले,,,

    ReplyDelete
  6. वाह!!बहुत सुंदर व्याख्या समर्पण की
    उत्कृष्ट अभिव्यक्ति!!
    सस्नेह

    ReplyDelete
  7. किसी के सीसे में उतर जाने की यातना है या मुक्ति प्राप्ति का सुख यह तो ्न की धारणा मात्र है। पर हर यात्रा का वास्तविक स्वरूप यही होता है।स्वयं के अस्तित्व से मुक्ति,किसी के अस्तित्व में ही पूर्ण समर्पण ही शायद यथार्थ का सुख है।
    सादर-

    मेरी नयी पोस्ट - विचार बनायें जीवन.....

    ReplyDelete
  8. बेहतरीन कविता अनुलता जी। नदी और समंदर के रिश्ते की बेहतरीन पड़ताल की है आपने। नदी को वाकई समंदर जान से प्यारा है। इसीलिए वह अपना अस्तित्व खोकर भी उस तक तमाम रास्तों से भटकते हुए उस तक पहुंचना चाहती है। लेकिन यह नदी का एकतरफा समर्पण है। समंदर के नदी से प्रेम की भावना और सिद्दत का एहसास भावों को एकतरफा और अधूरा सा छोड़ देता है। सुंदर कविता का स्वागत है।

    ReplyDelete
  9. वाह, बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  10. नदिया से दरिया....
    दरिया से सागर.....
    बस यही क्रम....
    जन्म-जन्मांतर......

    ReplyDelete
  11. प्रेम सच ही बावरा कर देता है तभी न नदिया भी खारी हो कर भी खुश है .... सुंदर रचना ।

    ReplyDelete
  12. अब न कोई फूल खिले मुझमें
    न प्यास बुझे प्यासे की
    मुझ जैसी जाने कितनी को
    तूने खुद में उतारा है
    मैंने ये सच सहर्ष स्वीकारा है
    क्यूँकि एक तू ही मुझे जान से प्यारा है....

    बेहतरीन ख़याल अनु जी.
    सादर,
    निहार

    ReplyDelete
  13. वाह ! रिश्ते को एक अलग नज़र से देखने का यह अंदाज़ भी बहुत बढ़िया रहा.

    ReplyDelete
  14. समंदर खारा भी तो इसी कारण हुआ है कि नदियाँ थोड़ी थोड़ी नमक लाती हैं अपने साथ ... और जब बादल बनके उड़ जाती हैं, तो शेष बस नमक ही रहता है समंदर के पास!! और सदियों से इसी नमक के बोझ ने उसे खारा बना दिया है .. क्या करे वो?? अपनी विशालता, शांत-चित्तता में सबकुछ स्वीकारा है उसने ... सब किसीका! :)

    (sorry thodi scientific philosophy ho gayi is comment mein :P )

    Saadar
    Madhuresh

    ReplyDelete
    Replies
    1. मधुरेश भाई आपके "वैज्ञानिक दर्शन" को थोडा सा और आगे करते हुए ये कह दूं कि कण कण लवण समेटते हुए पराकाष्ठा यहाँ तक जा पहुंची की मृत सागर में गुरुत्वाकर्षण के नियम भी झूठे हो गए :)

      Delete


  15. कल 26/11/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  16. मेरा मन तो तेरे लिए बावरा है ,समंदर तू मुझे जान से प्यारा ।बहुत अच्छा अनु जी ...नदी और समंदर के रिश्ते के बहाने आपने बहुत कुछ लिख दिया

    ReplyDelete
  17. मेरा मन तो तेरे लिए बावरा है ,समंदर तू मुझे जान से प्यारा ।बहुत अच्छा अनु जी ...नदी और समंदर के रिश्ते के बहाने आपने बहुत कुछ लिख दिया

    ReplyDelete
  18. बेहद सुन्दर भावपूर्ण रचना
    अरुन शर्मा
    www.arunsblog.in

    नदी हूँ मैं
    नदिया के जैसी ही
    चाहत मेरी है...
    समंदर! तू कितना खारा है
    फिर भी मुझे जान से प्यारा है....

    ReplyDelete
  19. सुन्दर समर्पण नदी का और सम्यक शब्दों का मुक्त प्रवाह

    ReplyDelete
  20. बावली ,मिलने को उतावली | यही तो प्रेम है और यही समर्पण |

    ReplyDelete
  21. वो गिरना तुंग शिखरों से
    अज़ब का दौड़ मैदानी
    फ़ना होना समंदर में
    गज़ब का प्रेम हैरानी

    ये गहरी झील की नावें
    नदी का प्यार क्या जानें!

    ReplyDelete
  22. प्यार हो सच्चा.... तो समर्पण खुद-ब-खुद हो जाता है... ~ खट्टे-मीठे से इक़रार का इज़हार.. :-)
    ~ <3

    ReplyDelete
  23. समय के समंदर! कहा तूने जो भी, सुना! पर न समझे
    जवानी की नदी में था तेज़ पानी, ज़रा फिर से कहना......

    ReplyDelete
  24. इमली से खट्टे और अंगूर के मीठे नशे सा रूप .... क्या यही प्यार है ......?????

    ReplyDelete
  25. बहुत सुंदर मन के भाव ...
    प्रभावित करती रचना .

    ReplyDelete
  26. तुझ में मिल कर
    मैं भी खारी हो जाती
    नदी,नदी न रहती
    वो भी समंदर हो जाती..
    मुझे मेरा अस्तित्व खोना भी गवारा है
    तू मुझे जान से जो प्यारा है...

    ....बहुत खूब! सम्पूर्ण समर्पण की एक उत्क्रष्ट अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  27. बहुत सुन्दर रचना..

    ReplyDelete
  28. तुझ में मिल कर
    मैं भी खारी हो जाती
    नदी,नदी न रहती
    वो भी समंदर हो जाती..
    वाह !म बहुत शानदार रचना , लाजवाब

    ReplyDelete
  29. अब न कोई फूल खिले मुझमें
    न प्यास बुझे प्यासे की
    मुझ जैसी जाने कितनी को
    तूने खुद में उतारा है
    मैंने ये सच सहर्ष स्वीकारा है
    क्यूँकि एक तू ही मुझे जान से प्यारा है... !!!

    Speechless anu di...

    ReplyDelete
  30. समर्पण से आगे कुछ नहीं ....सुंदर भाव ...!!

    ReplyDelete
  31. नदी और सागर की यह अन्यतम परम कथा बहुत अच्छी लगी अनु जी ! सम्पूर्ण आत्मोत्सर्जन एवँ समर्पण का इससे बढ़िया उदाहरण और क्या होगा ! बहुत खूब !

    ReplyDelete
  32. हम खुद ही चुनते हैं अपने ओपशंस ..और दिल को तसल्ली दे लेते हैं ...हैं न .....:)

    ReplyDelete
  33. pyar aisa hi hota hai...har hal may khush chahe khud ko kho diya tho bhi.........bahut bhaut sundar di...

    ReplyDelete
  34. मैंने ये सच सहर्ष स्वीकारा है
    क्यूँकि एक तू ही मुझे जान से प्यारा है...
    बिल्‍क‍ुल सच कहा आपने ... बेहतरीन भावों का संगम

    ReplyDelete
  35. समर्पण भी एक खूबसूरत भाव है ......सादर

    ReplyDelete
  36. punjabi me heer ranjhe ki story hai,

    jisme heer ranjhe se kehti hai

    meri jaise lakh heer hongi tere liye, phir main kis ginti me aati hun.

    yahi bta rahi hai aapki kavita sacha smarpan

    मुझ जैसी जाने कितनी को
    तूने खुद में उतारा है
    मैंने ये सच सहर्ष स्वीकारा है
    क्यूँकि एक तू ही मुझे जान से प्यारा है...


    ReplyDelete
  37. Lovely lines. Bahut khubsurat likhti hain aap Anu:)

    ReplyDelete
  38. beautiful words enchanting the mind...u express well..GOD<3U

    ReplyDelete
  39. अब न कोई फूल खिले मुझमें
    न प्यास बुझे प्यासे की
    मुझ जैसी जाने कितनी को
    तूने खुद में उतारा है
    मैंने ये सच सहर्ष स्वीकारा है
    क्यूँकि एक तू ही मुझे जान से प्यारा है... !!!

    बहुत अच्छा लगा। समर्पण का भाव सर्वदा प्रशंसनीय होता है। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  40. नदी ने समंदर के खारेपन का राज़ जान लिया है . कितनी नदी के आंसुओं को उसने खुद में छिपाया है !!

    ReplyDelete
  41. तुझ में मिल कर
    मैं भी खारी हो जाती
    नदी,नदी न रहती
    वो भी समंदर हो जाती..
    मुझे मेरा अस्तित्व खोना भी गवारा है
    तू मुझे जान से जो प्यारा है...

    लाजवाब रचना...बधाई.

    नीरज

    ReplyDelete
  42. इतराती,इठलाती
    मेरी हर मस्ती पर तू
    रोक लगा देता है
    ठहरा देता है मुझे...
    पर मेरा मन तो तेरे लिए बावरा है
    समंदर ! तू मुझे जान से प्यारा है...

    ReplyDelete
  43. समर्पण गीत.

    ReplyDelete
  44. समर्पण ही तो जीवन है ...

    ReplyDelete
  45. आपकी चंद तुकबंदी वाली रचनाओं में से एक |
    अच्छे भाव

    सादर

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

प्रेमपत्र

मेरी लिखी कहानी "स्नेहा" - 92.7 big fm पर नीलेश मिश्रा की जादुई आवाज़ में................

दैनिक जागरण के राष्ट्रीय संस्करण में मेरी किताब "इश्क तुम्हें हो जाएगा " की समीक्षा...............